user

Luckypandey

Yoga Trainer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानसिक बीमारी के कई कारण हो सकते हैं या तो आपके पिछले समय कुछ समय सिर में चोट लगी है और दूसरा एक कारण यह हो सकता है कि आप किसी बात को अपने मस्तिष्क के इस ज्ञान के चक्षु में अगर आप हमेशा सूचना पूर्ण रूप से बहुत लंबा गहरा सोचना और उस पर हमेशा चिंतन करना गलत ना कर आत्म चिंतन जिससे आपको मानसिक खा लिया और सारी रेखा ने भी होती है अगर जब हमारा चित्र जो है कि महर्षि पतंजलि कहते चित्त वृत्ति निरोध चित्त की वृत्तियों का निरोध हो जाना योग है तो योग का मतलब हमारे जो मन बुद्धि अहंकार यह जो है वह अगर शांत हो जाए आप शुद्ध हो जाए तो हमारी बीमारियां तो वैसे ही जाने वाले हमारी मन की चंचलता है उसको स्थिर करना चंचलता को आपको जो भी बार-बार स्पर्श करते हैं मन बुद्धि अहंकार में आने का कोशिश करते हैं लेकिन हमारा मन भ्रमित हो जाता है तभी उसी को ही बनने के लिए उसी का गिरता को प्राप्त करने के लिए हमेशा आपको जहान के साथ योग में जीवन को जीना होगा तो आपके जीवन में दिव्यता आ जाएगी आपके अंदर कुछ चलता आ जाएगी आपके अंदर जो ज्ञान की पराकाष्ठा है उसमें जागृत हो जाएगी उस पर आंख पराकाष्ठा से आपके अंदर जो होने वाली बीमारियों का प्रवेश होने वालों से दूर हो जाएगा तो बीमारियों को एक ही कारण है कि आप बहुत अच्छा जीवन को लाइव स्टार अच्छा जी

mansik bimari ke kai kaaran ho sakte hain ya toh aapke pichle samay kuch samay sir mein chot lagi hai aur doosra ek kaaran yeh ho sakta hai ki aap kisi baat ko apne mastishk ke is gyaan ke chakshu mein agar aap hamesha suchana poorn roop se bahut lamba gehra sochna aur us par hamesha chintan karna galat na kar aatm chintan jisse aapko mansik kha liya aur saree rekha ne bhi hoti hai agar jab hamara chitra jo hai ki maharshi patanjali kehte chitt vriti nirodh chitt ki vritiyon ka nirodh ho jana yog hai toh yog ka matlab hamare jo man buddhi ahankar yeh jo hai wah agar shaant ho jaye aap shudh ho jaye toh hamari bimariyan toh waise hi jaane wale hamari man ki chanchalata hai usko sthir karna chanchalata ko aapko jo bhi baar baar sparsh karte hain man buddhi ahankar mein aane ka koshish karte hain lekin hamara man bharmit ho jata hai tabhi usi ko hi banne ke liye usi ka girta ko prapt karne ke liye hamesha aapko jaha ke saath yog mein jeevan ko jeena hoga toh aapke jeevan mein diwieta aa jayegi aapke andar kuch chalta aa jayegi aapke andar jo gyaan ki parakashtha hai usme jaagarrit ho jayegi us par aankh parakashtha se aapke andar jo hone wali bimariyon ka pravesh hone walon se dur ho jayega toh bimariyon ko ek hi kaaran hai ki aap bahut accha jeevan ko live star accha ji

मानसिक बीमारी के कई कारण हो सकते हैं या तो आपके पिछले समय कुछ समय सिर में चोट लगी है और दू

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  1762
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!