user
3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आज का सवाल है आईपीसी भारतीय दंड संहिता धारा 324 और 326 के अंतर्गत क्या दिया गया है भारतीय दंड संहिता धारा 324 के अंतर्गत दिया गया है कि यदि कोई व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को जानते पूछते भी मामूली चोट पहुंचाने की कोशिश करता है किसी ऐसे यंत्र या हथियार से जो कि मारने घूमने या फिर अथवा काटने के काम आ सकता है या फिर वह किसी ऐसे यंत्र का इस्तेमाल हथियार का इस्तेमाल करता है जो कि अपराध के वक्त इस्तेमाल किया जा सके और जिससे मृत्यु की आशंका हो या फिर वह किसी आग से या फिर जले हुए पदार्थ से दूसरे व्यक्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है या फिर वह किसी शहर से अथवा किसी फटने वाले यंत्र से जैसे बम बगैरा का इस्तेमाल करता है जो कि इंसानी शरीर के संपर्क में आने से भले ही में सांस के साथ के जरिए हो या फिर चटकने के जरिए हो मुंह के जरिए हो या फिर उसके खून में डाला जाए तो उन सभी स्थितियों में यह व्यक्ति दंड का भागी होगा और को 3 साल तक की सजा एवं जुर्माना धनराशि का जुर्माना भुगतना पड़ सकता है या फिर कारावास की सजा अथवा धनराशि का दंड दोनों ही भुगतने पड़ सकते हैं हम चलते हैं धारा 326 की ओर 326 के अंतर्गत भी यही दिया गया है यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को गहरी चोट पहुंचाने की कोशिश करता है जिससे वह अपंग हो सके किसी ऐसे यंत्र प्यार से जो कि मारने गोपनीय काटने के काम आता है अथवा उससे संतुष्ट इंसानी शरीर को नुकसान पहुंच सकता है या फिर वह किसी आग का यह जले हुए धातु का इस्तेमाल करता है या फिर वह कैसे ऐसे यंत्र और हथियार का इस्तेमाल करता है जो कि अपराध में इस्तेमाल किया जा सके जिससे मृत्यु की आशंका हो या फिर वह किसी शहर का इस्तेमाल करता है अथवा किसी फटने वाले यंत्र का इस्तेमाल करता है जो कि शारीरिक संपर्क में आने पर इंसानी शरीर के संपर्क में आने पर भले ही वह सांस के जरिए हो उसके खाने के जरिए हो या फिर अथवा उसकी खून में डाला जाए उन सभी स्थितियों में जब मैं शारीरिक शरीर को नुकसान पहुंचाता है तो उसको आजीवन कारावास की सजा या फिर कम से कम 10 साल की सजा या फिर जुर्माना या फिर दोनों भी भुगतने पड़ सकते हैं धारा 324 और 326 के अंतर्गत दादा कोई अलग चीज नहीं दी गई परंतु अपराध जघन्य अपराध और मामूली चोट को दर्शाया गया है धारा 324 के अंदर मामूली अपराध या मामूली चोट के बारे में सजा का प्रावधान है और 326 के अंदर गहरी चोट जो कि अपन कर सके दूसरे को उस सजा का प्रावधान है धन्यवाद

namaskar doston aaj ka sawaal hai ipc bharatiya dand sanhita dhara 324 aur 326 ke antargat kya diya gaya hai bharatiya dand sanhita dhara 324 ke antargat diya gaya hai ki yadi koi vyakti dusre vyakti ko jante poochhte bhi mamuli chot pahunchane ki koshish karta hai kisi aise yantra ya hathiyar se jo ki maarne ghoomne ya phir athva katne ke kaam aa sakta hai ya phir vaah kisi aise yantra ka istemal hathiyar ka istemal karta hai jo ki apradh ke waqt istemal kiya ja sake aur jisse mrityu ki ashanka ho ya phir vaah kisi aag se ya phir jale hue padarth se dusre vyakti ko nuksan pahunchane ki koshish karta hai ya phir vaah kisi shehar se athva kisi fatne waale yantra se jaise bomb bagaira ka istemal karta hai jo ki insani sharir ke sampark me aane se bhale hi me saans ke saath ke jariye ho ya phir chatkane ke jariye ho mooh ke jariye ho ya phir uske khoon me dala jaaye toh un sabhi sthitiyo me yah vyakti dand ka bhaagi hoga aur ko 3 saal tak ki saza evam jurmana dhanrashi ka jurmana bhugatna pad sakta hai ya phir karavas ki saza athva dhanrashi ka dand dono hi bhugatane pad sakte hain hum chalte hain dhara 326 ki aur 326 ke antargat bhi yahi diya gaya hai yadi koi vyakti kisi dusre vyakti ko gehri chot pahunchane ki koshish karta hai jisse vaah apang ho sake kisi aise yantra pyar se jo ki maarne gopaniya katne ke kaam aata hai athva usse santusht insani sharir ko nuksan pohch sakta hai ya phir vaah kisi aag ka yah jale hue dhatu ka istemal karta hai ya phir vaah kaise aise yantra aur hathiyar ka istemal karta hai jo ki apradh me istemal kiya ja sake jisse mrityu ki ashanka ho ya phir vaah kisi shehar ka istemal karta hai athva kisi fatne waale yantra ka istemal karta hai jo ki sharirik sampark me aane par insani sharir ke sampark me aane par bhale hi vaah saans ke jariye ho uske khane ke jariye ho ya phir athva uski khoon me dala jaaye un sabhi sthitiyo me jab main sharirik sharir ko nuksan pohchta hai toh usko aajivan karavas ki saza ya phir kam se kam 10 saal ki saza ya phir jurmana ya phir dono bhi bhugatane pad sakte hain dhara 324 aur 326 ke antargat dada koi alag cheez nahi di gayi parantu apradh jaghanya apradh aur mamuli chot ko darshaya gaya hai dhara 324 ke andar mamuli apradh ya mamuli chot ke bare me saza ka pravadhan hai aur 326 ke andar gehri chot jo ki apan kar sake dusre ko us saza ka pravadhan hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों आज का सवाल है आईपीसी भारतीय दंड संहिता धारा 324 और 326 के अंतर्गत क्या दि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  80
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!