भारत में लोग किसान को किस दृष्टि से देखते हैं बताइए?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में किसानों को सम्मान की दृष्टि कोचिंग नहीं देखा जाता जो एक अच्छा संकेत नहीं है जो उत्पादन करता देने का काम करता है जिसके कारण नहीं रख सकता जिन्होंने पूरे देश को भोजन देने का काम किया उनको कुछ सरकारी अधिकारी भी कर सकते हैं या कुछ अज्ञान अधिकारी कर सकते हैं उनके साथ न्याय नहीं करते उनके वस्तु को उनके द्वारा उत्पादित वस्तु का मूल्य बहुत कम लगाया जाता है उनके लिए सरकार जो भी व्यवस्था कर कर रही है कि किसानों को अधिक से अधिक मूल्य मिले वास्तविकता कुछ और हो जाता है उसके नाम पर बड़े-बड़े लोग खरीदारी करते गेहूं धान की मकई की किंतु उसे उस मूल्य का लाभ नहीं मिलता यह उनकी सबसे बड़ी कमजोरी क्यों सरकार को चाहिए कि किसान के प्रति खड़क सजग रहें उन्हें आवश्यक लाभ मिले इसे किसान आत्महत्या नहीं करें भूख से जो मर रहे हैं किसान इनके फसल किसी वस्तु को छूते किसी वस्तु को चुनते हैं किसी वक्त बाढ़ का शिकार हो जाता किसी को सुखाल का शिकार हो जाता किसी और महंगाई का शिकार हो जाता है इसके कारण उनके साथ जो अन्याय होता है उस पर एक विशेष योजना के तहत लाभ प्रदान करने का काम करें जिससे अधिकांश लोग जो किसान को देखते हैं एक सरल और सीधा साधा लोगों के रूप में उन पर अंकुश लगे उनके काम को करने में विलंब ना हो उनके साथ भी न्याय हो उसके नजरिया को बदले उन्हें अधिक से अधिक लाभ देने के बाद अधिकांश कृषि कर्म करें यदि कृषि को रिमूव किया करेंगे तो किसी के उत्पादन में कई प्रकार के सुधार होंगे लोग वृक्षारोपण कार्यक्रम पर बल देंगे जिससे वातावरण अनुकूल हो सकेगी प्रदूषण को दूर करने में एक अच्छी भूमिका अदा होगी

bharat me kisano ko sammaan ki drishti coaching nahi dekha jata jo ek accha sanket nahi hai jo utpadan karta dene ka kaam karta hai jiske karan nahi rakh sakta jinhone poore desh ko bhojan dene ka kaam kiya unko kuch sarkari adhikari bhi kar sakte hain ya kuch agyan adhikari kar sakte hain unke saath nyay nahi karte unke vastu ko unke dwara utpadit vastu ka mulya bahut kam lagaya jata hai unke liye sarkar jo bhi vyavastha kar kar rahi hai ki kisano ko adhik se adhik mulya mile vastavikta kuch aur ho jata hai uske naam par bade bade log kharidari karte gehun dhaan ki makaii ki kintu use us mulya ka labh nahi milta yah unki sabse badi kamzori kyon sarkar ko chahiye ki kisan ke prati khadak sajag rahein unhe aavashyak labh mile ise kisan atmahatya nahi kare bhukh se jo mar rahe hain kisan inke fasal kisi vastu ko chhute kisi vastu ko chunte hain kisi waqt baadh ka shikaar ho jata kisi ko sukhal ka shikaar ho jata kisi aur mahangai ka shikaar ho jata hai iske karan unke saath jo anyay hota hai us par ek vishesh yojana ke tahat labh pradan karne ka kaam kare jisse adhikaansh log jo kisan ko dekhte hain ek saral aur seedha saadha logo ke roop me un par ankush lage unke kaam ko karne me vilamb na ho unke saath bhi nyay ho uske najariya ko badle unhe adhik se adhik labh dene ke baad adhikaansh krishi karm kare yadi krishi ko remove kiya karenge toh kisi ke utpadan me kai prakar ke sudhaar honge log vriksharopan karyakram par bal denge jisse vatavaran anukul ho sakegi pradushan ko dur karne me ek achi bhumika ada hogi

भारत में किसानों को सम्मान की दृष्टि कोचिंग नहीं देखा जाता जो एक अच्छा संकेत नहीं है जो उत

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  199
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!