किसान को लोग किस दृष्टि से देखते हैं?...


play
user

Govihnsingh

कृषि

1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसान को लोग किस दृष्टि से देखते हैं जो लोग घमंडी यानी कि शहरी और नौकरी वाले किसान किसान है वह तो अपने आप को समझते हैं कि हम बहुत मेहनत करते हैं बाकी जो दूसरे लोग रहते हैं शहरों में वह लोग जो मजदूर है वह तो फिर भी यह समझते हैं कि किसान अच्छे सन होते बल्कि शहरों में बनी है और इत्यादि नौकरी वाले आदि लोग तो यह सोचते हैं कि किसान को देखते ही अच्छा व्यवहार करते हैं कि ताकि किसान ही मेहनत करेगा तभी तो संसार चलेगा जो लोग नहीं सोचते इस बात को कि किसान अगर मेहनत नहीं करेगा किसान भी हमारी तरह आराम का काम करने लग जाएगा तू हम क्या खाएंगे वह लोग तो अच्छी दृष्टि से देखते हैं उनका मान सम्मान करते हैं बाकी मुझसे ऐसे भी होते हैं जो किसान को देखकर जो किसान को देखकर चिड़चिड़ापन और उनसे से बात भी नहीं करते ज्यादा अमीर बनिए ऐसा ही करते हैं यह ज्यादा नौकरी वाले जो घमंडी लोग होते हैं वह किसान को सही सलामत बात करने से भी नफरत करते हैं उन लोगों को यह है कि किसान की कोई वैल्यू टीआई इमेज नहीं है किशन बीके नया 2000 क्योंकि किसान भीगे नया दो ऐसे ही होता है क्यों उसे मिट्टी में ही काम करना पड़ता है मजदूरों की तरह अपने खेतों में काम करना पड़ता है अगर वह जाएगा वैसा ही चलेगा कि तुम से ही फिर क्योंकि उसे पता होता है कि हम डीजे नए दो ही शेर जा रहे हैं फिर आके हमें वैसा ही खेतों का काम करना है घमंडी लोग देते सम्मान किसान को आज भी

kisan ko log kis drishti se dekhte hain jo log ghamandi yani ki shahri aur naukri waale kisan kisan hai vaah toh apne aap ko samajhte hain ki hum bahut mehnat karte hain baki jo dusre log rehte hain shaharon me vaah log jo majdur hai vaah toh phir bhi yah samajhte hain ki kisan acche san hote balki shaharon me bani hai aur ityadi naukri waale aadi log toh yah sochte hain ki kisan ko dekhte hi accha vyavhar karte hain ki taki kisan hi mehnat karega tabhi toh sansar chalega jo log nahi sochte is baat ko ki kisan agar mehnat nahi karega kisan bhi hamari tarah aaram ka kaam karne lag jaega tu hum kya khayenge vaah log toh achi drishti se dekhte hain unka maan sammaan karte hain baki mujhse aise bhi hote hain jo kisan ko dekhkar jo kisan ko dekhkar chidchidapan aur unse se baat bhi nahi karte zyada amir baniye aisa hi karte hain yah zyada naukri waale jo ghamandi log hote hain vaah kisan ko sahi salamat baat karne se bhi nafrat karte hain un logo ko yah hai ki kisan ki koi value TI image nahi hai kishan BK naya 2000 kyonki kisan bhige naya do aise hi hota hai kyon use mitti me hi kaam karna padta hai majduro ki tarah apne kheton me kaam karna padta hai agar vaah jaega waisa hi chalega ki tum se hi phir kyonki use pata hota hai ki hum DJ naye do hi sher ja rahe hain phir aake hamein waisa hi kheton ka kaam karna hai ghamandi log dete sammaan kisan ko aaj bhi

किसान को लोग किस दृष्टि से देखते हैं जो लोग घमंडी यानी कि शहरी और नौकरी वाले किसान किसान ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  63
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!