अकबर राजा कितने उम्र में बना था?...


user

PKS

Assistant Professor, Dept Of History

5:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों प्रश्न है अकबर राजा कितने उम्र में बना था दोस्तों आप जानते हैं कि अकबर महान शासक मुगल वंश का सर्वाधिक महान शासकों में अकबर की गिनती होती है और अकबर आपको जानकार आश्चर्य होगा कि सिर्फ 13 वर्ष 4 महीने की अवस्था में अकबर मुगल बना था तो इसको आप विस्तार से घर जाने में या इसको जानने के लिए अकबर के प्रारंभिक जीवन का अध्ययन करेंगे पता चलेगा कि अकबर का जन्म अमरकोट सिंध में अमरकोट में 15 अक्टूबर 1542 को हुआ था उस समय उसका पिता हुमायूं अमरकोट के शासक राजा वीर साल का अतिथि था और अकबर की माता का नाम हमीदा बानो था और जब अकबर का जन्म हुआ उस समय हुमायूं अमरकोट से दूर एक पहाड़ी स्थान पर अपना कैंप लगाए हुए था वही उसे पुत्र का जन्म होने के शुभ समाचार मिला तब उसके पास कस्तूरी की फलियों के अलावा कस्तूरी मेरे के नाभि बनाता है तो कस्तूरी की फलियों के अलावा कुछ नहीं था उन्हीं फलियों को कार्यक्रम उसने अपने साथियों में बांटा था और उसी समय उसने यह घोषणा की थी कि जिस तरह कस्तूरी की महक चारों ओर फैल जाती है उसी तरह मेरे नवजात पुत्र की कीर्ति भी चारों ओर फैले की और ऐसा ही हुआ दोस्तों आप जानते ही हैं कि 1540 में भाई को भाई को शेरशाह ने पराजित कर दिया था और इसलिए शेरशाह हुमायूं ईरान जाना था तो रास्ते में अमरकोट में अकबर के अकबर का जन्म हुआ था तो 5 वर्ष की अवस्था में अकबर की शिक्षा दीक्षा शुरू हुई लेकिन अखबार को पढ़ने लिखने में मन नहीं लगता था लेकिन घुड़सवारी तलवार चलाने तथा विभिन्न युद्ध कला में उसने अच्छी शिक्षा प्राप्त की और फिर जब 1555 में हुमायूं ले सुबह पुणे दिल्ली की गद्दी पर बैठा तो उसने अकबर को मुगल राज्य का युवराज घोषित किया और दिल्ली विजय के कुछ समय बाद अकबर लाहौर का सूबेदार नियुक्त किया गया बैरम खां के संरक्षण में और दुबई की मृत्यु 27 जनवरी 1556 को ही उस समय अकबर पंजाब में स्थित कलानौर में था और कलानौर अब गानों को पराजित करने में व्यस्त था लेकिन अकबर की मृत्यु की सूचना कुछ दिनों तक सॉरी माफ करेंगे कुमार की मृत्यु की सूचना कुछ दिनों तक गुप्त रखी गई थी और इसका कारण यह था कि राजगद्दी के अंदर में दारू के खड़े होने तथा अब गानों के विद्रोह का भय था और चुकी अकबर तो कलानौर में था दिल्ली में नहीं था और सिकंदर सूर्य से लड़ने में व्यस्त था तो जब अकबर के संरक्षक बैरम खां को हुमायूं की मृत्यु का समाचार मिला तब उसने 16 फरवरी 1556 को अकबर को मुगल बादशाह घोषित किया और दोस्तों उस समय उसकी अवस्था केवल 13 वर्ष 4 महीने की थी तो अकबर ने भ्रम का को खानखाना खानखाना की उपाधि से विभूषित किया था तो यह आप समझ गए कि जिस समय अकबर मुगल बादशाह घोषित हुआ उस समय उसकी उम्र 13 वर्ष 4 महीने की थी और फिर आप जानते ही हैं कि 5 नवंबर को 256 को पानीपत के द्वितीय द्वितीय लड़ाई में अकबर ने हेमू को पराजित कर मुगल समराज कपड़े स्थापन किया दिल्ली गद्दी पर बैठा और इस तरह से उसके बाद अकबर ने सो सो 5 ईस्वी तक शासन किया 1605 में अकबर की मृत्यु हो गई थी दोस्तों अगर आपको यह जवाब पसंद आया तो आपका वेट भी कर सकते हैं और मेरे प्रोफाइल में मेरा मोबाइल नंबर है वही व्हाट्सएप नंबर भी है उसे भी आप संपर्क कर सकते हैं ना

doston prashna hai akbar raja kitne umar me bana tha doston aap jante hain ki akbar mahaan shasak mughal vansh ka sarvadhik mahaan shaasakon me akbar ki ginti hoti hai aur akbar aapko janakar aashcharya hoga ki sirf 13 varsh 4 mahine ki avastha me akbar mughal bana tha toh isko aap vistaar se ghar jaane me ya isko jaanne ke liye akbar ke prarambhik jeevan ka adhyayan karenge pata chalega ki akbar ka janam amarakot sindh me amarakot me 15 october 1542 ko hua tha us samay uska pita humayun amarakot ke shasak raja veer saal ka atithi tha aur akbar ki mata ka naam hamida bano tha aur jab akbar ka janam hua us samay humayun amarakot se dur ek pahadi sthan par apna camp lagaye hue tha wahi use putra ka janam hone ke shubha samachar mila tab uske paas kasturi ki faliyon ke alava kasturi mere ke nabhi banata hai toh kasturi ki faliyon ke alava kuch nahi tha unhi faliyon ko karyakram usne apne sathiyo me baata tha aur usi samay usne yah ghoshana ki thi ki jis tarah kasturi ki mahak charo aur fail jaati hai usi tarah mere navjat putra ki kirti bhi charo aur failen ki aur aisa hi hua doston aap jante hi hain ki 1540 me bhai ko bhai ko shershah ne parajit kar diya tha aur isliye shershah humayun iran jana tha toh raste me amarakot me akbar ke akbar ka janam hua tha toh 5 varsh ki avastha me akbar ki shiksha diksha shuru hui lekin akhbaar ko padhne likhne me man nahi lagta tha lekin ghudsavaari talwar chalane tatha vibhinn yudh kala me usne achi shiksha prapt ki aur phir jab 1555 me humayun le subah pune delhi ki gaddi par baitha toh usne akbar ko mughal rajya ka yuvraj ghoshit kiya aur delhi vijay ke kuch samay baad akbar lahore ka subedar niyukt kiya gaya bairam Khan ke sanrakshan me aur dubai ki mrityu 27 january 1556 ko hi us samay akbar punjab me sthit kalanaur me tha aur kalanaur ab gaano ko parajit karne me vyast tha lekin akbar ki mrityu ki soochna kuch dino tak sorry maaf karenge kumar ki mrityu ki soochna kuch dino tak gupt rakhi gayi thi aur iska karan yah tha ki rajagaddi ke andar me daaru ke khade hone tatha ab gaano ke vidroh ka bhay tha aur chuki akbar toh kalanaur me tha delhi me nahi tha aur sikandar surya se ladane me vyast tha toh jab akbar ke sanrakshak bairam Khan ko humayun ki mrityu ka samachar mila tab usne 16 february 1556 ko akbar ko mughal badshah ghoshit kiya aur doston us samay uski avastha keval 13 varsh 4 mahine ki thi toh akbar ne bharam ka ko khankhana khankhana ki upadhi se vibhushit kiya tha toh yah aap samajh gaye ki jis samay akbar mughal badshah ghoshit hua us samay uski umar 13 varsh 4 mahine ki thi aur phir aap jante hi hain ki 5 november ko 256 ko panipat ke dwitiya dwitiya ladai me akbar ne hemu ko parajit kar mughal samraj kapde sthapan kiya delhi gaddi par baitha aur is tarah se uske baad akbar ne so so 5 isvi tak shasan kiya 1605 me akbar ki mrityu ho gayi thi doston agar aapko yah jawab pasand aaya toh aapka wait bhi kar sakte hain aur mere profile me mera mobile number hai wahi whatsapp number bhi hai use bhi aap sampark kar sakte hain na

दोस्तों प्रश्न है अकबर राजा कितने उम्र में बना था दोस्तों आप जानते हैं कि अकबर महान शासक म

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  278
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!