सामाजिक संगठन चलाने के लिए अध्यक्ष और सचिव के बीच में क्या अंतर होता क्या अधिकार है?...


user

अशोक वशिष्ठ

Author, Retired Principal

3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि सामाजिक संगठन चलाने के लिए अध्यक्ष और सचिव के बीच में क्या अंतर होता है और क्या अधिकार हैं लेकिन सामाजिक संगठन चलाने के लिए एक कार्यकारिणी का गठन करना पड़ता है यह कार्यकारिणी की सदस्य संख्या और संगठन के विस्तार के आधार पर हो सकती है जो पांच सदस्य साथ जहां तक मैं समझता हूं आ क्योंकि हमने अभी एक संस्था व सामाजिक संस्था रिस्टल कराई है 7 सदस्य कार्यकारिणी में होते हैं और तो इनमें से एक अध्यक्ष होता है एक सच्चे बल होता है और एक कोषाध्यक्ष होता है और सही सदस्य होते हैं और नगर भोपाल संस्था के पदाधिकारी है उचित समझते हैं तो किसी को उपाध्यक्ष उपसचिव साईं सच्चे वगैरह बना सकते हैं लेकिन यह तीन प्रमुख पद होते हैं अब मुख्य बात है किसी भी संस्था के संचालन में आर्थिक व्यवहार व्यवहार तो वित्त व्यवहार करने के लिए किन्हीं दो सदस्यों इन 3 पदाधिकारियों में से अध्यक्ष सचिव और कोषाध्यक्ष इन तीन पदाधिकारियों पदाधिकारियों में से किन्ही दो सदस्यों के हस्ताक्षर होना अनिवार्य है चेक पर किसी भी आर्थिक व्यवहार पर बैंक के साथ किसी भी आर्थिक व्यवहार पर चाहे वह चेक करना हो या क्राफ्ट बनवाना हो या कोई और हो तो इस पर 3 में से 2 सदस्यों के सिग्नेचर होना जरूरी है और जिनमें से 3 पद हैं अध्यक्ष सचिव और कोषाध्यक्ष इनमें से किन्हीं दो सदस्यों के हस्ताक्षर होना जरूरी है कोई कोई संगठन उसमें ऐसा भी प्रावधान करते हैं कि कोषाध्यक्ष के सिग्नेचर अनिवार्य कर देते हैं और अध्यक्ष या सचिवों में से किसी एक के सिग्नेचर अनिवार्य रहते हैं तो न्यूनतम दो सदस्यों के सिग्नेचर होना चेक पर जरूरी होता है यह तो आर्थिक व्यवहार हो गया अब नहीं बात की संस्था के सचिव और अध्यक्ष में कार्य विभाजन क्या है तो देखिए अध्यक्ष होता है वह पदेन सभापति होता है किसी भी इस संस्था का जिस कोई भी संस्था जो सामाजिक संस्था है जिसका रजिस्ट्रेशन हो गया हो चैरिटी कमिश्नर के यहां से तो जितनी भी सभाएं होंगी जितनी भी मीटिंग होती है और चाहे वह त्रैमासिक मीटिंग हो वार्षिक हो साधारण सभा हो विशेष सभा हो उनकी वह अध्यक्षता करता है अध्यक्ष और अध्यक्षीय भाषण होता है और वह अध्यक्षता करता है अब रही बात है कि सचिव के कार्य क्या है तो सचिव के कार्य हैं संस्था की समस्त कार्यवाही के संचालन का रिकॉर्ड रखना मीटिंग्स में सचिव ही संस्था के जितने भी कर क्रियाकलाप हैं उनकी प्रस्तुति देता है सचिव को मीटिंग बुलाने का अधिकार होता है अध्यक्ष की अनुमति से सचिव पत्र व्यवहार करता है सदस्यों के साथ या विभिन्न संस्थाओं के साथ संस्था के बिहाव पर तो सचिव बहुत महत्वपूर्ण पद है अध्यक्ष की अनुपस्थिति में उसकी महत्ता और बढ़ जाती है यदि किन्हीं कारणों से अध्यक्ष उपस्थित ना हो सभा में तो ऐसे में सचिन की महक का महत्व और अधिक बढ़ जाता है

aapka prashna hai ki samajik sangathan chalane ke liye adhyaksh aur sachiv ke beech me kya antar hota hai aur kya adhikaar hain lekin samajik sangathan chalane ke liye ek karyakarini ka gathan karna padta hai yah karyakarini ki sadasya sankhya aur sangathan ke vistaar ke aadhar par ho sakti hai jo paanch sadasya saath jaha tak main samajhata hoon aa kyonki humne abhi ek sanstha va samajik sanstha ristal karai hai 7 sadasya karyakarini me hote hain aur toh inmein se ek adhyaksh hota hai ek sacche bal hota hai aur ek koshadhyaksh hota hai aur sahi sadasya hote hain aur nagar bhopal sanstha ke padadhikaari hai uchit samajhte hain toh kisi ko upadhyaksh upasachiv sai sacche vagera bana sakte hain lekin yah teen pramukh pad hote hain ab mukhya baat hai kisi bhi sanstha ke sanchalan me aarthik vyavhar vyavhar toh vitt vyavhar karne ke liye kinhi do sadasyon in 3 padadhikariyon me se adhyaksh sachiv aur koshadhyaksh in teen padadhikariyon padadhikariyon me se kinhi do sadasyon ke hastakshar hona anivarya hai check par kisi bhi aarthik vyavhar par bank ke saath kisi bhi aarthik vyavhar par chahen vaah check karna ho ya craft banwana ho ya koi aur ho toh is par 3 me se 2 sadasyon ke signature hona zaroori hai aur jinmein se 3 pad hain adhyaksh sachiv aur koshadhyaksh inmein se kinhi do sadasyon ke hastakshar hona zaroori hai koi koi sangathan usme aisa bhi pravadhan karte hain ki koshadhyaksh ke signature anivarya kar dete hain aur adhyaksh ya sachivon me se kisi ek ke signature anivarya rehte hain toh nyuntam do sadasyon ke signature hona check par zaroori hota hai yah toh aarthik vyavhar ho gaya ab nahi baat ki sanstha ke sachiv aur adhyaksh me karya vibhajan kya hai toh dekhiye adhyaksh hota hai vaah paden sabhapati hota hai kisi bhi is sanstha ka jis koi bhi sanstha jo samajik sanstha hai jiska registration ho gaya ho charity commissioner ke yahan se toh jitni bhi sabhaen hongi jitni bhi meeting hoti hai aur chahen vaah traimasik meeting ho vaarshik ho sadhaaran sabha ho vishesh sabha ho unki vaah adhyakshata karta hai adhyaksh aur adhyakshiya bhashan hota hai aur vaah adhyakshata karta hai ab rahi baat hai ki sachiv ke karya kya hai toh sachiv ke karya hain sanstha ki samast karyavahi ke sanchalan ka record rakhna meetings me sachiv hi sanstha ke jitne bhi kar kriyakalap hain unki prastuti deta hai sachiv ko meeting bulane ka adhikaar hota hai adhyaksh ki anumati se sachiv patra vyavhar karta hai sadasyon ke saath ya vibhinn sasthaon ke saath sanstha ke bihav par toh sachiv bahut mahatvapurna pad hai adhyaksh ki anupsthiti me uski mahatta aur badh jaati hai yadi kinhi karanon se adhyaksh upasthit na ho sabha me toh aise me sachin ki mahak ka mahatva aur adhik badh jata hai

आपका प्रश्न है कि सामाजिक संगठन चलाने के लिए अध्यक्ष और सचिव के बीच में क्या अंतर होता है

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1064
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!