मेरे बारे में लोग पहली बात तो बोलते नहीं है, अगर कभी बोलेंगे तो बुरा ही बोलेंगे, सिर्फ इसलिए कि में सच बोल देता हूँ । मुझे क्या करना चाहिए?...


play
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपका जो सच है वह आप की सोच है हो सकता है कि वह दूसरों के लिए सच ना हो अगर वह किसी ने आप से कुछ कहा और आपने उसको उगल दिया तो डेकोरेट थी वह आप पर भरोसा नहीं करेंगे और वह आप को उस नजर से नहीं रखेंगे और आपको ट्रस्ट नहीं करेंगे और आप आपसे दोस्ती भी नहीं करेंगे और आप के बारे में कहेंगे कि आप ट्रस्ट वर्दी नहीं है तो अगर आप एक सच्चे इंसान हैं और आपको यह चीजें पसंद नहीं है कि लोग आपको किसी के बारे में बात करें तो पहले बात आप ऐसी बातें सुनाइए ना जहां पर आपको कोई सीक्रेट सकने हो या फिर कोई ऐसी चीजें छुपा के रखने हो ऐसी दोस्ती ऐसे रिश्ता ना करें अगर आप एक चैट फॉरवर्ड इंसान है तो और आप आपका जो सच बोलने का तरीका है अगर आप कोई सीक्रेट रख नहीं सकते तो यह भी गलत है कि कुछ बातों को छुपा के रखना जरूरी होता है हर सच को उगलना भी सही नहीं होता इसका मतलब यह होता है कि आप में टॉलरेंस लगन बहुत कम है कुछ सच का बोलना इंपॉर्टेंट है और कुछ सच्ची जो उनका अपने अंदर रखना इंपॉर्टेंट बहुत सच जो काफी कुछ रिप्लाई कर सकता है उस सच को सोच समझकर ही बोलना चाहिए तो क्या सही है क्या गलत है यह डिपेंड करता है कि सिचुएशन क्या है किसी की कही हुई बातों को उगल देना जो है वह भी एक तरह का उनके एक दूसरों के बता दे को सही नहीं होगा अगर आप उनमें से है जो कोई सीक्रेट रख नहीं सकते किसी की तो प्लीज आप जहां पर ऐसी बातों को जब आपको बोल रहा होगा तो आप के लिए उनको बता दीजिए कि आप से कुछ ना कहे क्योंकि आप इसको बाद में किसी उगल देंगे इस सच को तो आप ऐसे चीजों में शामिल ना हो जाए जहां पर आपको कोई सीक्रेट रखना पड़ेगा कोई सच आप को छुपाना पड़े

dekhiye aapka jo sach hai vaah aap ki soch hai ho sakta hai ki vaah dusro ke liye sach na ho agar vaah kisi ne aap se kuch kaha aur aapne usko ugal diya toh decorate thi vaah aap par bharosa nahi karenge aur vaah aap ko us nazar se nahi rakhenge aur aapko trust nahi karenge aur aap aapse dosti bhi nahi karenge aur aap ke bare mein kahenge ki aap trust wardi nahi hai toh agar aap ek sacche insaan hain aur aapko yah cheezen pasand nahi hai ki log aapko kisi ke bare mein baat kare toh pehle baat aap aisi batein sunaiye na jaha par aapko koi secret sakne ho ya phir koi aisi cheezen chupa ke rakhne ho aisi dosti aise rishta na kare agar aap ek chat forward insaan hai toh aur aap aapka jo sach bolne ka tarika hai agar aap koi secret rakh nahi sakte toh yah bhi galat hai ki kuch baaton ko chupa ke rakhna zaroori hota hai har sach ko ugalana bhi sahi nahi hota iska matlab yah hota hai ki aap mein tolerance lagan bahut kam hai kuch sach ka bolna important hai aur kuch sachi jo unka apne andar rakhna important bahut sach jo kaafi kuch reply kar sakta hai us sach ko soch samajhkar hi bolna chahiye toh kya sahi hai kya galat hai yah depend karta hai ki situation kya hai kisi ki kahi hui baaton ko ugal dena jo hai vaah bhi ek tarah ka unke ek dusro ke bata de ko sahi nahi hoga agar aap unmen se hai jo koi secret rakh nahi sakte kisi ki toh please aap jaha par aisi baaton ko jab aapko bol raha hoga toh aap ke liye unko bata dijiye ki aap se kuch na kahe kyonki aap isko baad mein kisi ugal denge is sach ko toh aap aise chijon mein shaamil na ho jaaye jaha par aapko koi secret rakhna padega koi sach aap ko chupana pade

देखिए आपका जो सच है वह आप की सोच है हो सकता है कि वह दूसरों के लिए सच ना हो अगर वह किसी ने

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Saurabh Kumar

Biology student

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक दूसरों के बोलने से कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए अपने में आप कैसे हैं आप अपने आप को क्या समझते हैं किस तरह से आप अपने आप को व्यक्त करते हैं दूसरों के सामने यह ज्यादा इंपोर्टेंट होता है इंपॉर्टेंट नहीं है कि लोग मेरे बारे में क्या सोचता है आप यह सोचें क्या आप क्या कर रहे हैं सही कर रहे हैं या गलत कर रहे हैं आप को सही करना चाहिए आपका दिल क्या कहता है आपका दिमाग क्या कहता है आप उस पर ध्यान दीजिए लोगों की बातों पर ध्यान नहीं दीजिए क्योंकि लोगों को तो अच्छी बातें भी खराब लग जाती है और जहां तक बात नहीं सच बोलने की तो यह अच्छी बात है आप हमेशा सच बोलिए सच का साथ दीजिए

ek dusro ke bolne se koi fark nahi padhna chahiye apne mein aap kaise hain aap apne aap ko kya samajhte hain kis tarah se aap apne aap ko vyakt karte hain dusro ke saamne yah zyada important hota hai important nahi hai ki log mere bare mein kya sochta hai aap yah sochen kya aap kya kar rahe hain sahi kar rahe hain ya galat kar rahe hain aap ko sahi karna chahiye aapka dil kya kahata hai aapka dimag kya kahata hai aap us par dhyan dijiye logo ki baaton par dhyan nahi dijiye kyonki logo ko toh achi batein bhi kharab lag jaati hai aur jaha tak baat nahi sach bolne ki toh yah achi baat hai aap hamesha sach bolie sach ka saath dijiye

एक दूसरों के बोलने से कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए अपने में आप कैसे हैं आप अपने आप को क्या सम

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  437
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे लगता कि आपको इतना कुछ सोचना चाहिए अगर आप सही है तो सब कुछ सही है देखे काफी लोग आपको ऐसे मिलेंगे जो आपको हमेशा रुकेंगे तो कहीं अगर आप सही भी कर रहे हैं फिर भी तुम मुझे लगता कि आपको लोगों की बातों का असर पड़ना चाहिए क्योंकि अगर आप आज सच बोल रहे हो कल आप अगर झूठ भी बोलोगे तब भी लोग आप पर उंगली उठाएंगे ही उठाएंगे तुम्हें लगता है कि आप बहुत सही काम कर रहे हो आप सच की राह पर चल रहे हो जो हर कोई नहीं कर पाता तो शायद आपको अपने पर गर्व होना चाहिए ना कि आप भी सोच कर परेशान हो कि सामने वाला मजार में क्या बोलता है मेरे बारे में अच्छा नहीं सोचता उनको तो सोचता है बस आपसे ही कर रहे हो यह बात आप इस बात से खुश हो यानी कि डिपेंड करता है और मुझे लगता है आप खुश हो तो आप बिल्कुल ऐसे ही फॉलो करें सच की राह पर ठीक है और अपनी जिंदगी में जो भी उपलब्धियां पाते पाते हैं और आसपास के लोग जो बोलते हैं उनको बोलने दे आपको फर्क नहीं पड़ना चाहिए

vicky mujhe lagta ki aapko itna kuch sochna chahiye agar aap sahi hai toh sab kuch sahi hai dekhe kaafi log aapko aise milenge jo aapko hamesha rokenge toh kahin agar aap sahi bhi kar rahe hain phir bhi tum mujhe lagta ki aapko logo ki baaton ka asar padhna chahiye kyonki agar aap aaj sach bol rahe ho kal aap agar jhuth bhi bologe tab bhi log aap par ungli uthayenge hi uthayenge tumhe lagta hai ki aap bahut sahi kaam kar rahe ho aap sach ki raah par chal rahe ho jo har koi nahi kar pata toh shayad aapko apne par garv hona chahiye na ki aap bhi soch kar pareshan ho ki saamne vala majar mein kya bolta hai mere bare mein accha nahi sochta unko toh sochta hai bus aapse hi kar rahe ho yah baat aap is baat se khush ho yani ki depend karta hai aur mujhe lagta hai aap khush ho toh aap bilkul aise hi follow kare sach ki raah par theek hai aur apni zindagi mein jo bhi upalabdhiyaan paate paate hain aur aaspass ke log jo bolte hain unko bolne de aapko fark nahi padhna chahiye

विकी मुझे लगता कि आपको इतना कुछ सोचना चाहिए अगर आप सही है तो सब कुछ सही है देखे काफी लोग आ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  268
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!