IPC की धारा 384 501 में क्या होता है?...


user

Mohit

Legal Expert/ Career Guide/ Motivational Speaker/Enterpreneur Coach

5:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड मॉर्निंग फ्रेंड मैं मोहित आपके फिर 19 के सवाल का जवाब देने आए हुए आईपीसी की धारा 384 और 501 के बारे में अपने पूछा है इसका आंसर बहुत लंबा होता है और रिकॉर्डिंग में 10 मिनट बाद में मिलते हैं मेराल मैं कोशिश करूंगा इतने टाइम में इसको कवर कर लो और हिंदी में देखे समझाना थोड़ा सा मेरे लिए मुश्किल हो जाता है और वह कोशिश करुंगा पूरी तरह से जितने शब्दों में हिंदी में बता सकूं बाकी क्योंकि मीडियम इंग्लिश ही रहा है तो उसके शुरू करते हम लोग पहले तो मैं आपको बताता है कि कोई भी मानहानि अगर कोई व्यक्ति कोई ऐसा मैटर प्रिंट करवाता है या कहीं करवाता है खुद माता है खुला के लिख पाता है यह ड्रॉ करवाता है जिसको वह जानता है कि इसे किसी व्यक्ति की मानहानि होगी किसी व्यक्ति की बेज्जती होगी ऐसे व्यक्ति को जो है वेतन 2 साल तक की सजा है इसमें या फिर फाइन लगाया जा सकता है या फिर दोनों ही हो सकते हैं यह तो आपका 501 में बात करता हूं 384 की थी कि 384 जैपनीस एंटी एक्सटॉर्शन की रोशनी को हिंदी में कहते हैं और जबरन वसूली तो इसकी उसकी सगाई इंटेंसली मतलब जानबूझकर कोई व्यक्ति यह है बी है माली जैसे करके समझाता हूं यह है जानबूझकर भी को ऐसा डर देता है कि भी को लगता है कि अरे मुझे चोट लग जाएगी कुछ इस प्रकार का मुझे बहुत नुकसान हो जाएगा या फिर मेरे परिवार में से किसी को बहुत नुकसान हो जाएगा इस तरह का जब डर उसके अंदर जानबूझकर बनाया जाता है डर बनाने का रीजन क्या है कि उस घर में आकर के बीजो है अपनी कोई प्रॉपर्टी या कोई ऐसी चीज मूवेबल मूवेबल कैसी होती है नाम पर कर दे दे सिक्योरिटी क्या होती है रात में तो उसमें आप देख लीजिएगा वैल्यू सिक्योरिटीज मैं आपको बता देता हूं जो है वह भी कहता है कि भाई तुम यह चीजें मुझे इतना पैसे तो नहीं तो मैं तुम्हारे नाम पर नहीं है प्रेस में लिख कर दूंगा यह बात तो है वचन काया ने जबरन वसूली का क्राइम करा है तो उसको सजा मिलेगी दूसरा अगर ए जो है माली जी बी के किसी बच्चे को अपने पास रख लेता है और कहता है कि भाई मुझे उन कागजों पर साइन करके दो प्रॉपर्टी कागज पर साइन करके दो तब मैं तुमको तुम्हारा बेटा गणेश कुमार दूंगा इंजरी का टोटका डर अपने अपने परिवार के लिए भी को होता है तो वह तुरंत पैसे टाइम करके देता है आप कोई भी सिक्योरिटी चीज जो है प्रॉमिससरी नोट वगैरह साइन करके तो वह आपका एक्सटॉर्शन आता है इसमें देखिए जरूरी चीज क्या है जरूरी चीज यह है कि जानबूझकर काम किया जाना चाहिए गलती वाले चीज़ इसमें नहीं आती अगर यह ने जानबूझकर के बी को एक डर या चोट का डर बैठा है अपने लिए या अपने परिवार के लिए तो एनी टाइम करें दूसरी बात क्या होती हो सकती है यह गलत तरीके से गलत तरीके से जो यह डर बैठाया गया उधर बिठाने का दिखी इंटेंशन यह था कि बीजू है अपनी प्रॉपर्टी या कोई ऐसी सिक्योरिटी आनी चाहिए मतलब सोना चांदी रुपया पैसा कुछ भी हो सकता है कोई भी ऐसी चीज जिसकी कोई वैल्यू होती है इसमें देखना पड़ेगा वह तो तो वह उसके ए के नाम पर कर दिया एगो दे दे ऐसे में जो है वह रोशन का क्राइम अमित करता है और 384 जो है धारा 384 में उसकी पनिशमेंट है पुलिस लगाती हो 384 लगाती है यदि पुलिस में जॉब प्लेसमेंट वाली धारा बताती है 383 में आपको एस्ट्रोजन का इन्हीं जबरन वसूली का आपको कंसेप्ट मिल जाएगा कि जबरन वसूली क्या होती है अब रोशन की जो पनिशमेंट है देख लीजिए और 3 साल तक या केवल इसमें फाइन भी पड़ सकता है क्या इसमें यह दोनों ही चीज हो सकती है देखिए सब कुछ निर्भर करता है कि जो क्राइम हुआ है वह किस लेवल का है तो इसमें आपकी संपत्ति जो है चल अचल संपत्ति दोनों आ जाती है मूवेबल ओर इमूवेबल कोई भी किसी भी तरह की प्रॉपर्टी लेकिन डर बैठा करके और अपने नाम पर करवा देते तो आपका एक्सटॉर्शन याने की जबरन वसूली होती है इसमें देखिए एक एक चीज और भी थी कि अगर जबरदस्ती किसी अंगूठा लगवा लिया गया मालिनी को पकड़कर के जबरदस्ती उसका अंगूठा प्रॉपर्टी पर लगवा लिया तो वह इस धारा के अंदर नहीं होगा जबरदस्ती काम करवाना और डर बैठा करके काम करवाने में बड़ा फर्क होता है अगर चोट का डर बैठा करते तब उस व्यक्ति से काम करवाया गया वह आएगा जबरन वसूली आनी एक्सप्रेशन बाकी गलत अंगूठा लगवा लिया काम करवा लिया क्राइम तो वह भी है लेकिन उसके लिए आईपीसी में धारा हैं सारी अलग-अलग है सबप्राइम अलग-अलग डिस्ट्रीब्यूटर है उसी हिसाब से तो इस संबंध में आपका कुछ और भी अगर सवाल हो तो आप बिल्कुल मुझसे पूछ सकते हैं मेरा व्हाट्सएप नंबर इसमें है उस पर आप मुझे व्हाट्सएप मैसेज कर सकते या आप मुझे ईमेल भी कर सकते हैं थैंक यू

good morning friend main mohit aapke phir 19 ke sawaal ka jawab dene aaye hue ipc ki dhara 384 aur 501 ke bare me apne poocha hai iska answer bahut lamba hota hai aur recording me 10 minute baad me milte hain meral main koshish karunga itne time me isko cover kar lo aur hindi me dekhe samajhana thoda sa mere liye mushkil ho jata hai aur vaah koshish karunga puri tarah se jitne shabdon me hindi me bata sakun baki kyonki medium english hi raha hai toh uske shuru karte hum log pehle toh main aapko batata hai ki koi bhi manhani agar koi vyakti koi aisa matter print karwata hai ya kahin karwata hai khud mata hai khula ke likh pata hai yah draw karwata hai jisko vaah jaanta hai ki ise kisi vyakti ki manhani hogi kisi vyakti ki beijjati hogi aise vyakti ko jo hai vetan 2 saal tak ki saza hai isme ya phir fine lagaya ja sakta hai ya phir dono hi ho sakte hain yah toh aapka 501 me baat karta hoon 384 ki thi ki 384 jaipnis anti eksatarshan ki roshni ko hindi me kehte hain aur jabran vasuli toh iski uski sagaai intensali matlab janbujhkar koi vyakti yah hai be hai maali jaise karke samajhaata hoon yah hai janbujhkar bhi ko aisa dar deta hai ki bhi ko lagta hai ki are mujhe chot lag jayegi kuch is prakar ka mujhe bahut nuksan ho jaega ya phir mere parivar me se kisi ko bahut nuksan ho jaega is tarah ka jab dar uske andar janbujhkar banaya jata hai dar banane ka reason kya hai ki us ghar me aakar ke beejo hai apni koi property ya koi aisi cheez movable movable kaisi hoti hai naam par kar de de Security kya hoti hai raat me toh usme aap dekh lijiega value sikyoritij main aapko bata deta hoon jo hai vaah bhi kahata hai ki bhai tum yah cheezen mujhe itna paise toh nahi toh main tumhare naam par nahi hai press me likh kar dunga yah baat toh hai vachan kaaya ne jabran vasuli ka crime kara hai toh usko saza milegi doosra agar a jo hai maali ji be ke kisi bacche ko apne paas rakh leta hai aur kahata hai ki bhai mujhe un kagazo par sign karke do property kagaz par sign karke do tab main tumko tumhara beta ganesh kumar dunga injury ka totaka dar apne apne parivar ke liye bhi ko hota hai toh vaah turant paise time karke deta hai aap koi bhi Security cheez jo hai pramisasari note vagera sign karke toh vaah aapka eksatarshan aata hai isme dekhiye zaroori cheez kya hai zaroori cheez yah hai ki janbujhkar kaam kiya jana chahiye galti waale cheez isme nahi aati agar yah ne janbujhkar ke be ko ek dar ya chot ka dar baitha hai apne liye ya apne parivar ke liye toh any time kare dusri baat kya hoti ho sakti hai yah galat tarike se galat tarike se jo yah dar baithaya gaya udhar bitane ka dikhi intention yah tha ki biju hai apni property ya koi aisi Security aani chahiye matlab sona chaandi rupya paisa kuch bhi ho sakta hai koi bhi aisi cheez jiski koi value hoti hai isme dekhna padega vaah toh toh vaah uske a ke naam par kar diya ego de de aise me jo hai vaah roshan ka crime amit karta hai aur 384 jo hai dhara 384 me uski punishment hai police lagati ho 384 lagati hai yadi police me job placement wali dhara batati hai 383 me aapko estrogen ka inhin jabran vasuli ka aapko concept mil jaega ki jabran vasuli kya hoti hai ab roshan ki jo punishment hai dekh lijiye aur 3 saal tak ya keval isme fine bhi pad sakta hai kya isme yah dono hi cheez ho sakti hai dekhiye sab kuch nirbhar karta hai ki jo crime hua hai vaah kis level ka hai toh isme aapki sampatti jo hai chal achal sampatti dono aa jaati hai movable aur imuvebal koi bhi kisi bhi tarah ki property lekin dar baitha karke aur apne naam par karva dete toh aapka eksatarshan yane ki jabran vasuli hoti hai isme dekhiye ek ek cheez aur bhi thi ki agar jabardasti kisi angootha lagwa liya gaya malini ko pakadakar ke jabardasti uska angootha property par lagwa liya toh vaah is dhara ke andar nahi hoga jabardasti kaam karwana aur dar baitha karke kaam karwane me bada fark hota hai agar chot ka dar baitha karte tab us vyakti se kaam karvaya gaya vaah aayega jabran vasuli aani expression baki galat angootha lagwa liya kaam karva liya crime toh vaah bhi hai lekin uske liye ipc me dhara hain saari alag alag hai subprime alag alag distributor hai usi hisab se toh is sambandh me aapka kuch aur bhi agar sawaal ho toh aap bilkul mujhse puch sakte hain mera whatsapp number isme hai us par aap mujhe whatsapp massage kar sakte ya aap mujhe email bhi kar sakte hain thank you

गुड मॉर्निंग फ्रेंड मैं मोहित आपके फिर 19 के सवाल का जवाब देने आए हुए आईपीसी की धारा 384 औ

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  484
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!