राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी अनिवासी भारतीयों को यानी एनआरआई को क्यों लुभा र है हैं? क्या इसका कोई लाभ है?...


play
user

Govind Saraf

Entrepreneur

0:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ना रे वह गाती है जो भारत में कभी वापस नहीं आता रेसिडेंट नहीं है यहां का लेकिन इसलिए लुगाइयों के एन आर आई जो है विदेश की वहां पर सर्विस इसके कारणों के सिक्योरिटी कारण भारत में जॉब करने चले जाते हैं वहीं सेटल हो जाते हैं लेकिन वह इतनी काबिलियत होते हैं कि भारत में सक्सेस कैसे मारता है सर को डिसाइड करेगा कुछ बोलो भी ज्यादा शिक्षित अथवा भी ज्यादा बीमारियां फैल इंटेलिजेंट होते हैं चित्र फिल्म आ रही है दोनों सरकारें

dekhie na ray wah gaatee hai jo bharat mein kabhi wapas nahi aata resident nahi hai yahan ka lekin isliye lugaiyon ke N r I jo hai videsh ki wahan par service iske karanon ke Security kaaran bharat mein job karne chale jaate hai wahi settle ho jaate hai lekin wah itni kabiliyat hote hai ki bharat mein success kaise maarta hai sar ko decide karega kuch bolo bhi zyada shikshit athva bhi zyada bimariyan fail Intelligent hote hai chitra film aa rahi hai dono sarkaren

देखिए ना रे वह गाती है जो भारत में कभी वापस नहीं आता रेसिडेंट नहीं है यहां का लेकिन इसलिए

Romanized Version
Likes  182  Dislikes    views  8365
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस प्रश्न में राहुल राहुल गांधी को जोड़ना मुझे लगता है प्रासंगिक है कहीं कोई रेलीवेंस नहीं है उनका एक अप्रवासी भारतीयों के साथ हां मोदी जी की बात करें तो मोदी जी पूरे विश्व में मैं 55 देशों की यात्रा करके और वहां सभी देशों में गए और अप्रवासी भारतीयों के साथ मन संवाद किया बातचीत किया कैसा भारत वह चाहते हैं उसका एक नक्शा उन्होंने खींचा और उनको आमंत्रित किया अपने देश में आने का और आज वह भारत की सांस्कृतिक राजदूत के रूप में दुनिया के सभी देशों में प्रवासी भारतीय काम कर रहे हैं और आप देख सकते हैं कि आज पूरे विश्व में भारत का जो सम्मान है वह बहुत बड़ा है भारत को देखने का नजरिया दुनिया के देशों का बदला है चाहे वह इस्लामिक मुल्कों चाय यूरोप हो या फिर रसिया हो जवान हो मेरी का हो सभी देशों में सम्मान भारत का बहुत बड़ा है आपने देखा होगा कि अभी अभी कुंभ का आयोजन हुआ था उस कुंभ के आयोजन में 70 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया वो आए और देखें और 40 किलोमीटर में फैले विश्व के सबसे बड़े इस मानव महाकुंभ को सांस्कृतिक संदेश है वह पुरुष विश्व विश्व में पहुंचाने में भारत कामयाब हुआ यह अपने आप में बहुत बड़ी ताकत है और जब किसी व्यक्ति का सम्मान किसी के प्रति बढ़ता है तो वह हर दृष्टि से उसके साथ जोड़ने का प्रयास करता है आज अप्रवासी भारतीय आर्थिक रूप से भी बहुत बड़ी महाशक्ति है भारत के विकास में उनका बहुत बड़ा योगदान हो सकता है यही कारण है कि भारत के अंदर उनका निवेश भी बढ़ रहा है और जो भारत से चले गए लोगों पुनः भारत की तरफ रुख करने के लिए तैयार हो रहे हैं यह अपने आप में बहुत सकारात्मक संदेश है और मुझे लगता है कि जो पीड़ा होती अपने घर को छोड़ने की वो सदैव बनी रहती है चाहे जबरदस्ती किसी को घर से हटाया जाए या फिर विकास की तलाश में कोई व्यक्ति बाहर जाए अपने आप पर हमेशा अपनी

is prashna mein rahul rahul gandhi ko jodna mujhe lagta hai prasangik hai kahin koi relivens nahi hai unka ek apravasi bharatiyon ke saath haan modi ji ki baat karein toh modi ji poore vishwa mein main 55 deshon ki yatra karke aur wahan sabhi deshon mein gaye aur apravasi bharatiyon ke saath man sanvaad kiya batchit kiya kaisa bharat wah chahte hain uska ek naksha unhone khicha aur unko aamantrit kiya apne desh mein aane ka aur aaj wah bharat ki sanskritik rajdut ke roop mein duniya ke sabhi deshon mein pravasi bharatiya kaam kar rahe hain aur aap dekh sakte hain ki aaj poore vishwa mein bharat ka jo sammaan hai wah bahut bada hai bharat ko dekhne ka najariya duniya ke deshon ka badla hai chahe wah islamic mulko chai europe ho ya phir rasiya ho jawaan ho meri ka ho sabhi deshon mein sammaan bharat ka bahut bada hai aapne dekha hoga ki abhi abhi kumbh ka aayojan hua tha us kumbh ke aayojan mein 70 deshon ke pratinidhiyo ne hissa liya vo aaye aur dekhen aur 40 kilometre mein faile vishwa ke sabse bade is manav mahakumbh ko sanskritik sandesh hai wah purush vishwa vishwa mein pahunchane mein bharat kamyab hua yeh apne aap mein bahut badi takat hai aur jab kisi vyakti ka sammaan kisi ke prati badhta hai toh wah har drishti se uske saath jodne ka prayas karta hai aaj apravasi bharatiya aarthik roop se bhi bahut badi mahashakti hai bharat ke vikas mein unka bahut bada yogdan ho sakta hai yahi kaaran hai ki bharat ke andar unka nivesh bhi badh raha hai aur jo bharat se chale gaye logo punh bharat ki taraf rukh karne ke liye taiyaar ho rahe hain yeh apne aap mein bahut sakaratmak sandesh hai aur mujhe lagta hai ki jo peeda hoti apne ghar ko chodane ki vo sadaiv bani rehti hai chahe jabardasti kisi ko ghar se hataya jaye ya phir vikas ki talash mein koi vyakti bahar jaye apne aap par hamesha apni

इस प्रश्न में राहुल राहुल गांधी को जोड़ना मुझे लगता है प्रासंगिक है कहीं कोई रेलीवेंस नहीं

Romanized Version
Likes  365  Dislikes    views  4565
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!