भारत अभी भी स्वच्छ भारत क्यों नहीं है?...


user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर रहे थे और जो दसवां व्यक्ति था उसको यह नहीं पता था कि बाकी लोग एक्टिंग कर रहे हैं तो 1 आदमी भारी से बैग लेकर अंदर घुसता है और नीचे उसके हाथ से नीचे गिर जाता है वैसे एक्टिंग करते हैं जैसे कि उन्हें कोई फर्क ही नहीं पड़ता इनवेरिएबली जो बनता है वह भी वही बता दिखाता है यह पेमेंट जब अकेले में किया जाता है तो 3 में से एक व्यक्ति फौरन मदद करता है स्वच्छता अभियान का भी कुछ ऐसा ही रिएक्शन है दूसरों को देखकर हर कोई यही सोचता है कि मेरे एक अकेले से क्या फर्क पड़ता करना लोंग चॉकलेट के रहर में करें तो 10 आदमी कहता मेरे उठाने से बिना फेंकने से क्या फर्क पड़ता है चलो मैं भी फेंक देता हूं कि मेरे ना फेंकने से अखिलेश थोड़ा से सफाई रहेगी इस वजह से देश की यह हाल है जब तक हर भारतीय देश को अपना घर नहीं मानता भारत का जो स्वच्छ अभियान हो सकता फुल नहीं हो सकता स्वच्छ भारत अभियान है इसके नसीब करने के और भी कारण यह है कि गवर्नमेंट कापूस चूहे टॉयलेट बनाने में था 9 करोड़ से ज्यादा टॉयलेट घरों और पब्लिक प्लेसिस ने बनाई गई है लेकिन शोर नहीं किया गया कि पानी का सप्लाई तथा सफाई सही तरह से हो जाए उसमें तो अब आधे से ज्यादा जो टॉयलेट्स है पिछले 3 साल से खाली पड़े हैं अन्य न्यूज़ पड़े हैं दूसरों की मैनेजमेंट नहीं किया जा रहा सही तरीके से कलेक्शन अभी भी उसी पुल उल्टे सीधे तरीके से किया जा रहा है जहां क्रिएशन नहीं होता छटाई नहीं होती की साईकिल के नाम पर जो जाती है वह थोड़ी बहुत दस परसेंट रीसायकल होते हैं वेस्ट प्रोसेसिंग के लिए फंक्शन नहीं है हजार्ड मैनेजमेंट नहीं ठीक से होता जैसे गाजीपुर जैसी इंसीडेंट होती रहती है और जब तक कि अवेयरनेस नहीं क्रिएट होता स्वच्छ भारत नहीं हो सकता और जब तक हर एक भारतीय अपने आप अंदर से उसमें स्वच्छता कि वह नहीं आती तब तक

experiment kiya gaya jisme ek kamre mein 10 logo ko bithaya kya unmen se 9 log acting kar rahe the aur jo dasvan vyakti tha usko yah nahi pata tha ki baki log acting kar rahe hain toh 1 aadmi bhari se bag lekar andar ghuste hai aur niche uske hath se niche gir jata hai waise acting karte hain jaise ki unhe koi fark hi nahi padta inaveriebali jo baata hai vaah bhi wahi bata dikhaata hai yah payment jab akele mein kiya jata hai toh 3 mein se ek vyakti phauran madad karta hai swachhta abhiyan ka bhi kuch aisa hi reaction hai dusro ko dekhkar har koi yahi sochta hai ki mere ek akele se kya fark padta karna long chocolate ke rahar mein kare toh 10 aadmi kahata mere uthane se bina fenkne se kya fark padta hai chalo main bhi fenk deta hoon ki mere na fenkne se akhilesh thoda se safaai rahegi is wajah se desh ki yah haal hai jab tak har bharatiya desh ko apna ghar nahi manata bharat ka jo swachh abhiyan ho sakta full nahi ho sakta swachh bharat abhiyan hai iske nasib karne ke aur bhi karan yah hai ki government kapus chuhe toilet banane mein tha 9 crore se zyada toilet gharon aur public plesis ne banai gayi hai lekin shor nahi kiya gaya ki paani ka supply tatha safaai sahi tarah se ho jaaye usme toh ab aadhe se zyada jo toilets hai pichle 3 saal se khaali pade hain anya news pade hain dusro ki management nahi kiya ja raha sahi tarike se collection abhi bhi usi pool ulte sidhe tarike se kiya ja raha hai jaha creation nahi hota chatai nahi hoti ki cycle ke naam par jo jaati hai vaah thodi bahut das percent risayakal hote hain west processing ke liye function nahi hai hajard management nahi theek se hota jaise gazipur jaisi insident hoti rehti hai aur jab tak ki awareness nahi create hota swachh bharat nahi ho sakta aur jab tak har ek bharatiya apne aap andar se usme swachhta ki vaah nahi aati tab tak

एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  945
WhatsApp_icon
28 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ashok Kumar

Journalist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो यह स्वच्छ भारत नहीं है इसलिए क्योंकि यह आम पब्लिक ही बात है आम पब्लिक जब तक नहीं करेगी तब तक तब तक सारे लोग मिलकर इस को स्वच्छता अभियान को उसको चलाएंगे सारे लोग अपनी जिम्मेदारी समझेंगे तोता के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझेंगे वेतन

yah toh yah swachh bharat nahi hai isliye kyonki yah aam public hi baat hai aam public jab tak nahi karegi tab tak tab tak saare log milkar is ko swachhta abhiyan ko usko chalayenge saare log apni jimmedari samjhenge tota ke prati apni jimmedari samjhenge vetan

यह तो यह स्वच्छ भारत नहीं है इसलिए क्योंकि यह आम पब्लिक ही बात है आम पब्लिक जब तक नहीं करे

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वच्छ भारत मिशन है वह उसमें सबसे बड़ी जो बाधा है लोगों के अंदर अभिनीत की कमी है जागरूकता की कमी है जो तेल और लोगों को जागरूकता आएगी तो स्वच्छ भारत मिशन अपने हंड्रेड परसेंट सौ परसेंट लक्ष्य को प्राप्त करेगा अगर यूरोपियन कंट्रीज को देखा जाए जो यूरोप के देश हैं तो वहां के लोगों के अंदर सिविक सेंस हमारे यहां पर बहुत अधिक है इसलिए वहां स्वच्छता और इन सब चीजों को लेकर काफी लोग अवेयर हैं उनको लगता है कि यह हमारा देश है हमारा शहर है हमारा मोहल्ला है कैसे साफ रखना भारत में यह नहीं है भारत में थोड़ा सा लोगों के अंदर जागरूकता भी है वह अपना घर तो साफ रखते हैं लेकिन गली में कूड़ा और गंदगी है तो सबसे पहला काम ही गवर्नमेंट के लेबल पर और नॉन गवर्नमेंट एजेंसीज के माध्यम से एनजीओ के माध्यम से दूसरे तरीकों के माध्यम से सारे चाहिए तो लेकिन लोगों को जागरूक करना लोगों के अंदर इस तरह का सिविक सेंस नागरिकता बहुत बोलते हैं शायद तो नागरिकता बोल पैदा करना ज्यादा जरूरी है

swatch bharat mission hai vaah usme sabse badi jo badha hai logo ke andar abhinit ki kami hai jagrukta ki kami hai jo tel aur logo ko jagrukta aayegi toh swachh bharat mission apne hundred percent sau percent lakshya ko prapt karega agar european countries ko dekha jaaye jo europe ke desh hain toh wahan ke logo ke andar civic sense hamare yahan par bahut adhik hai isliye wahan swachhta aur in sab chijon ko lekar kaafi log aveyar hain unko lagta hai ki yah hamara desh hai hamara shehar hai hamara mohalla hai kaise saaf rakhna bharat mein yah nahi hai bharat mein thoda sa logo ke andar jagrukta bhi hai vaah apna ghar toh saaf rakhte hain lekin gali mein kooda aur gandagi hai toh sabse pehla kaam hi government ke lebal par aur non government agencies ke madhyam se ngo ke madhyam se dusre trikon ke madhyam se saare chahiye toh lekin logo ko jagruk karna logo ke andar is tarah ka civic sense nagarikta bahut bolte hain shayad toh nagarikta bol paida karna zyada zaroori hai

स्वच्छ भारत मिशन है वह उसमें सबसे बड़ी जो बाधा है लोगों के अंदर अभिनीत की कमी है जागरूकता

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  334
WhatsApp_icon
user
0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि फिल्म भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है यह कहना अतिशयोक्ति होगा लेकिन क्योंकि किसी ने पहले से जो बिगड़ मंत्री जी के द्वारा या किसी के द्वारा संदेश देते हैं उसे आम जनता नहीं कर सकती ऐसे में हम सभी को एक साथ स्वच्छ भारत के निर्माण के लिए समानता का निर्गुण करना जरूरी होता है

kyonki film bharat abhi bhi swachh bharat nahi hai yah kehna atishayokti hoga lekin kyonki kisi ne pehle se jo bigad mantri ji ke dwara ya kisi ke dwara sandesh dete hain use aam janta nahi kar sakti aise mein hum sabhi ko ek saath swachh bharat ke nirmaan ke liye samanata ka nirgun karna zaroori hota hai

क्योंकि फिल्म भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है यह कहना अतिशयोक्ति होगा लेकिन क्योंकि किसी न

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user

Satish Purohit

Journalist

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जेटली ने किस गांव में जो शिक्षा शिक्षा और रोजगार शिक्षा और रोजगार और सड़क वाली काली मैया का जो है वह सब पीरा जो कजरा कजरा कजरा कजरा करने का मतलब के दूसरे अप्रैल को कैसे किया जाता है कि को जलाना है कि उसको संसाधन है वह जितना चाहिए स्वच्छता तो बहुत कुछ तो सफल हो रही है चित्र में कुछ मुझे कुछ क्षेत्रों में तो यह भी धीरे-धीरे अगर इतने करे लगातार में लगे रहे तो स्वच्छता सफल हो जाएगा कुछ भारत का जो अभियान है यह एक बड़ा एक दिन में बहुत विदेशी जो भी है वह अपना चीज है थोड़ा सा और अच्छा गुप्ता का बनता है देख यह सब अपने नागरिकों की जवाबदारी है बबीता की बातें

jaitley ne kis gaon mein jo shiksha shiksha aur rojgar shiksha aur rojgar aur sadak wali kali maiya ka jo hai vaah sab pira jo kajra kajra kajra kajra karne ka matlab ke dusre april ko kaise kiya jata hai ki ko jalaana hai ki usko sansadhan hai vaah jitna chahiye swachhta toh bahut kuch toh safal ho rahi hai chitra mein kuch mujhe kuch kshetro mein toh yah bhi dhire dhire agar itne kare lagatar mein lage rahe toh swachhta safal ho jaega kuch bharat ka jo abhiyan hai yah ek bada ek din mein bahut videshi jo bhi hai vaah apna cheez hai thoda sa aur accha gupta ka baata hai dekh yah sab apne nagriko ki javabdari hai Babita ki batein

जेटली ने किस गांव में जो शिक्षा शिक्षा और रोजगार शिक्षा और रोजगार और सड़क वाली काली मैया क

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user

Manoj Aligadi

Freelance Photo Journalist

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किस देश की सरकार अरबों रुपए खर्च कर गई हो पब्लिक तक भेजने के लिए पुलक सागर करोड़ों अरबों रुपए खर्च कर रही है क्या आप टॉयलेट में जाकर प्रेस को कैसे रखा जा सकता बहुत प्रयास तो हुआ है रोकथाम तो हुई है लेकिन आप तो बिल्कुल नहीं करेंगे और क्या अरबों करोड़ों रुपए पब्लिक भेजने में

kis desh ki sarkar araboon rupaye kharch kar gayi ho public tak bhejne ke liye pulak sagar karodo araboon rupaye kharch kar rahi hai kya aap toilet mein jaakar press ko kaise rakha ja sakta bahut prayas toh hua hai roktham toh hui hai lekin aap toh bilkul nahi karenge aur kya araboon karodo rupaye public bhejne mein

किस देश की सरकार अरबों रुपए खर्च कर गई हो पब्लिक तक भेजने के लिए पुलक सागर करोड़ों अरबों

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत अभी भी स्वच्छ नहीं है उसकी शुरुआत में मेरे खुद से करूंगा क्योंकि हमारी एक तो ऐसी एक आदत रही है कहीं भी हमने तो कुछ लिया या फिर भी 10 दिन पड़ा है फिर भी यह हम नहीं करेंगे जैसे ही हुआ था खुद अपने हाथ साफ कर के कागज का छोटा का टुकड़ा अपनी जेब में रख लेते हैं यही हमारी पुरानी होती है खुद पूरी करनी होगी जब तक रहने वाले लोग काम शुरू नहीं करेंगे तब तक तो स्वच्छ हमारा घर जो है हमें सोच रखना होता है उसी तरह यह बताओ

bharat abhi bhi swacch nahi hai uski shuruat mein mere khud se karunga kyonki hamari ek toh aisi ek aadat rahi hai kahin bhi humne toh kuch liya ya phir bhi 10 din pada hai phir bhi yeh hum nahi karenge jaise hi hua tha khud apne hath saaf kar ke kagaz ka chota ka tukda apni jeb mein rakh lete hain yahi hamari purani hoti hai khud puri karni hogi jab tak rehne wale log kaam shuru nahi karenge tab tak toh swacch hamara ghar jo hai humein soch rakhna hota hai usi tarah yeh batao

भारत अभी भी स्वच्छ नहीं है उसकी शुरुआत में मेरे खुद से करूंगा क्योंकि हमारी एक तो ऐसी एक आ

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1126
WhatsApp_icon
user

Vipin Giri

Journalist

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी भी देश को स्वच्छ बनाने में उस देश की जनता का बहुत बड़ा योगदान रहता है सरकार चाहे कुछ भी प्रयास कर ले लेकिन जब तक देश की जनता नहीं चाहेगी तब तक देश की जनता यह नहीं सोचेगी कि अगर मैं गंदगी फैला लूंगा तो उससे मुझे ही नुकसान है जब तक हर कोई व्यक्ति जागरूक नहीं होगा तब तक किसी भी देश को अच्छा नहीं बनाया जा सकता स्वस्थ नहीं बनाया जाता स्वच्छ नहीं बनाया जा सकता इसलिए आप लोगों को सभी को समझना होगा कि कोई भी देश को अगर स्वच्छ बनाना है तो वहां की जनता का सहयोग होता है इस पत्र के उदाहरण आपको तमाम कई देशों में मिल जाएंगे जहां पर लोग इतने जागरूक हैं कि अगर कहीं कोई कचरा मिलता भी है इस वक्त पर पड़ा हुआ मिलता है तो उसको स्वयं उठाकर वह डस्टबिन में डालते हैं तो इस तरह की कई देश है जो स्वच्छता के मानकों पर खरे उतरते हैं

kisi bhi desh ko swachh banane mein us desh ki janta ka bahut bada yogdan rehta hai sarkar chahen kuch bhi prayas kar le lekin jab tak desh ki janta nahi chahegi tab tak desh ki janta yah nahi sochegi ki agar main gandagi faila lunga toh usse mujhe hi nuksan hai jab tak har koi vyakti jagruk nahi hoga tab tak kisi bhi desh ko accha nahi banaya ja sakta swasthya nahi banaya jata swachh nahi banaya ja sakta isliye aap logo ko sabhi ko samajhna hoga ki koi bhi desh ko agar swachh banana hai toh wahan ki janta ka sahyog hota hai is patra ke udaharan aapko tamaam kai deshon mein mil jaenge jaha par log itne jagruk hain ki agar kahin koi kachra milta bhi hai is waqt par pada hua milta hai toh usko swayam uthaakar vaah dustbin mein daalte hain toh is tarah ki kai desh hai jo swachhta ke maankon par khare utarate hain

किसी भी देश को स्वच्छ बनाने में उस देश की जनता का बहुत बड़ा योगदान रहता है सरकार चाहे कुछ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user

KRISHNA KUMAR SINGH

Social Activist

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चेंज कर देंगे या उसकी फेसबुक को पूरा करेंगे सबसे बड़ी बात यह है कि अभी आप कभी भी बिहार में सफर करेंगे अमित बेंगलुरु का बेटी है ना बिहार के रूप में सफर करेंगे तो एक फैजाबाद जगह है फिरोजाबाद हापुर रेलवे पर अभी भी मिलेंगे लोग मतलब की लैट्रिन करते हुए तो सरकार की व्यवस्था कर रही है उन्होंने जमीन कर पाएंगे इसलिए इतना जल्दी मीट मत रखिए अभियान चलता रहेगा काम होती रहेगी धीरे-धीरे अपना समाप्त होगा जब लोगों को अपनी जागीर की आई है मैं सोच रहा हूं आगे बताइए

change kar denge ya uski facebook ko pura karenge sabse badi baat yah hai ki abhi aap kabhi bhi bihar mein safar karenge amit bengaluru ka beti hai na bihar ke roop mein safar karenge toh ek faizabad jagah hai firozabad Hapur railway par abhi bhi milenge log matlab ki latrine karte hue toh sarkar ki vyavastha kar rahi hai unhone jameen kar payenge isliye itna jaldi meat mat rakhiye abhiyan chalta rahega kaam hoti rahegi dhire dhire apna samapt hoga jab logo ko apni jagir ki I hai soch raha hoon aage bataiye

चेंज कर देंगे या उसकी फेसबुक को पूरा करेंगे सबसे बड़ी बात यह है कि अभी आप कभी भी बिहार में

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  2628
WhatsApp_icon
user
0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब तुम संपूर्ण भारतवासी स्वच्छता की ओर ध्यान नहीं देंगे तब तक भारत पूरी तरह से सच नहीं हो सकता है सभी का सहयोग से ही भारत पूर्ण रूप से स्वस्थ हो सकता

jab tum sampurna bharatvasi swachhta ki aur dhyan nahi denge tab tak bharat puri tarah se sach nahi ho sakta hai sabhi ka sahyog se hi bharat purn roop se swasth ho sakta

जब तुम संपूर्ण भारतवासी स्वच्छता की ओर ध्यान नहीं देंगे तब तक भारत पूरी तरह से सच नहीं हो

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  1403
WhatsApp_icon
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की अपार जनसंख्या यहां के हर कार्यक्रम में बाधा है यहां के लोगों की अशिक्षा भी इस तरह के कार्यक्रमों की बाधा है स्वच्छ भारत का अभियान किसी एक दो व्यक्ति के करने से नहीं हो सकता जब तक एक व्यक्ति के मन में स्वच्छता के प्रति आग्रह पैदा नहीं होगा उसके प्रति प्रतिबद्धता नहीं उठ जाएगी तब तक भारत स्वच्छ भारत नहीं हो सकता जो भी जहां है उस स्तर पर स्वच्छता बरतने का अभ्यास करें प्रयास करें निश्चित ही 1 दिन भारत स्वच्छ भारत अभियान सफल होगा

bharat ki apaar jansankhya yahan ke har karyakram mein badha hai yahan ke logo ki asiksha bhi is tarah ke karyakramon ki badha hai swachh bharat ka abhiyan kisi ek do vyakti ke karne se nahi ho sakta jab tak ek vyakti ke man mein swachhta ke prati agrah paida nahi hoga uske prati pratibaddhata nahi uth jayegi tab tak bharat swachh bharat nahi ho sakta jo bhi jaha hai us sthar par swachhta bartane ka abhyas kare prayas kare nishchit hi 1 din bharat swachh bharat abhiyan safal hoga

भारत की अपार जनसंख्या यहां के हर कार्यक्रम में बाधा है यहां के लोगों की अशिक्षा भी इस तरह

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1533
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है भारत अभी भी स्वच्छ क्यों नहीं है तो उसका सबसे बड़ा एक कारण यह है कि यहां हर व्यक्ति यह सोचता है कि सरकार हमारे भारत को स्वच्छ बनाएगी सरकार हमारे लिए सब कुछ करेगी परंतु किसी भी एक व्यक्ति एक संस्था या एक समूह के द्वारा कोई भी कार्य करने से हम उसको अंजाम नहीं दे सकते बेहतर यह है कि हम सभी अपने अपने अधिकारों के साथ-साथ अपने कर्तव्यों का भी निर्वाह करें तो बेहतर होगा जिससे हम अपने समाज को अपने भारत को स्वच्छ बना सकेंगे धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar aapka prashna hai bharat abhi bhi swachh kyon nahi hai toh uska sabse bada ek karan yah hai ki yahan har vyakti yah sochta hai ki sarkar hamare bharat ko swachh banayegi sarkar hamare liye sab kuch karegi parantu kisi bhi ek vyakti ek sanstha ya ek samuh ke dwara koi bhi karya karne se hum usko anjaam nahi de sakte behtar yah hai ki hum sabhi apne apne adhikaaro ke saath saath apne kartavyon ka bhi nirvah kare toh behtar hoga jisse hum apne samaj ko apne bharat ko swachh bana sakenge dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार आपका प्रश्न है भारत अभी भी स्वच्छ क्यों नहीं है तो उसका सबसे बड़ा एक कारण यह है कि

Romanized Version
Likes  165  Dislikes    views  2683
WhatsApp_icon
play
user
0:29

Likes  17  Dislikes    views  225
WhatsApp_icon
user

Manoj Singh

Journalist

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तकिया भारत कभी भी स्वच्छ भारत अभियान सकता है जब एक एक आदमी स्वच्छता पर ध्यान दें किसी दो चार कर्मी और सरकारी करण करने से नहीं होगा हर आदमी को स्वच्छता दिमाग में रखना होगा तभी भारत सोच सकता है

takiya bharat kabhi bhi swachh bharat abhiyan sakta hai jab ek ek aadmi swachhta par dhyan de kisi do char karmi aur sarkari karan karne se nahi hoga har aadmi ko swachhta dimag mein rakhna hoga tabhi bharat soch sakta hai

तकिया भारत कभी भी स्वच्छ भारत अभियान सकता है जब एक एक आदमी स्वच्छता पर ध्यान दें किसी दो च

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  333
WhatsApp_icon
user

Anurag C Chaturvedi

Journalist & motivater

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत सबसे स्वच्छ नहीं बना है इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे कि भारत की जनता भी मुझे नहीं लगता कि कुछ भी चाहती है कि भारत सचिवों ने दिखावे के लिए 2 मिनट के लिए झाड़ू पकड़ लेना उसके बाद मैं अपने घर का सारा का सारा कचरा जाकर रोड भी है नालियों में आसपास डालने पर और स्वच्छता को कम ही करता है पढ़ाता नहीं है हमारे एम सैंड हमारे पीएम हमारे एक्स एक्ट्रेस एक्टर जो भी है वह कर रहे हैं लेकिन उनके घर का कचरा अभी कहां जा रहा है बाहर ही ना उनके जो नौकर है वह सब कहां फेंक रहे हैं बाहर ही ना तो हम उस सब चीजों पर ध्यान देना पड़ेगा भारत को स्वच्छ बनाना आसान नहीं है 135 करोड़ की जनसंख्या में स्वच्छता लागू करने को छोटी मोटी बात नहीं है शहर को स्वच्छ बनाना है सबको मेहनत करना होगा

bharat sabse swachh nahi bana hai iske peeche kai karan ho sakte hain jaise ki bharat ki janta bhi mujhe nahi lagta ki kuch bhi chahti hai ki bharat sachivon ne dikhaave ke liye 2 minute ke liye jhadu pakad lena uske baad main apne ghar ka saara ka saara kachra jaakar road bhi hai naliyon mein aaspass dalne par aur swachhta ko kam hi karta hai padhata nahi hai hamare M sand hamare pm hamare x actress actor jo bhi hai vaah kar rahe hain lekin unke ghar ka kachra abhi kaha ja raha hai bahar hi na unke jo naukar hai vaah sab kaha fenk rahe hain bahar hi na toh hum us sab chijon par dhyan dena padega bharat ko swachh banana aasaan nahi hai 135 crore ki jansankhya mein swachhta laagu karne ko choti moti baat nahi hai shehar ko swachh banana hai sabko mehnat karna hoga

भारत सबसे स्वच्छ नहीं बना है इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे कि भारत की जनता भी मुझे नह

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत स्वच्छता बन सकता है क्या वह हर व्यक्ति जहां का हर नागरिक को अपनी जिम्मेदारी को समझेगा देखिए आप लोग स्वच्छ भारत की नारी बड़ी-बड़ी लगाती है लीडर लोग लगाती है लेकिन क्या होता है कि वह आते हैं पिक्चर में मुंह कैमरा में पक्ष में आते हैं झाड़ू लगाकर तो झाड़ू लगाकर तू अपनी पिक्चर तो जाने के बाद पेपर में टीवी में आते हो तो उसके बाद में का काम का तो मुझे पर क्या कभी सोचा है कि इतना ही बोल दो तामझाम करते हो उसके बाद जो फूलों वह खुद गंदगी फैला कर जाती है कोल्ड ड्रिंक पीते हैं जागो स्नेक्स खाते हैं जिसमें भी बुद्धू बीजूस खाते हो हमारा जो तक फूड गरीब नहीं होता है तो प्लास्टिक कुजूर ज्यादा करते food-grade को दूर नहीं किया जाता है हटाने के लिए डिस्पोजल के लिए और जीतू को स्वच्छ भारता तब हो सकता है अगर हम लोग खुद अपनी इस जिसको समझे हम खुद स्वस्थ अपने घर के आस-पास बचकानी स्वच्छता लाने की कोशिश करें ना कि जो सफाई कर्मचारियों उनको भी के जहां उनकी कंप्लेंट करते रहे नगर पालिका में नगर कौंसिल में नगर कमेटी में हम लोग घर में झाड़ू कम से कम बाहर गली में भी हम लोग

bharat swachhta ban sakta hai kya vaah har vyakti jaha ka har nagarik ko apni jimmedari ko samjhega dekhiye aap log swachh bharat ki nari badi badi lagati hai leader log lagati hai lekin kya hota hai ki vaah aate hain picture mein mooh camera mein paksh mein aate hain jhadu lagakar toh jhadu lagakar tu apni picture toh jaane ke baad paper mein TV mein aate ho toh uske baad mein ka kaam ka toh mujhe par kya kabhi socha hai ki itna hi bol do tamjham karte ho uske baad jo fulo vaah khud gandagi faila kar jaati hai cold drink peete hain jaago snacks khate hain jisme bhi buddhu bijus khate ho hamara jo tak food garib nahi hota hai toh plastic kujur zyada karte food grade ko dur nahi kiya jata hai hatane ke liye disposal ke liye aur jeetu ko swachh bharta tab ho sakta hai agar hum log khud apni is jisko samjhe hum khud swasthya apne ghar ke aas paas bachkani swachhta lane ki koshish kare na ki jo safaai karmachariyon unko bhi ke jaha unki complaint karte rahe nagar palika mein nagar council mein nagar committee mein hum log ghar mein jhadu kam se kam bahar gali mein bhi hum log

भारत स्वच्छता बन सकता है क्या वह हर व्यक्ति जहां का हर नागरिक को अपनी जिम्मेदारी को समझेगा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user
1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के लोग जब तक अपनी सोच अपने विचार अपने मन में स्वच्छता नहीं ले आएंगे तब तक स्वच्छ भारत की कल्पना करना बेमानी है माना कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत का नारा दिया लेकिन एक व्यक्ति पूरे भारत में घूम घूम कर झाड़ू लगाकर भारत को स्वच्छ करेंगे या किसी से भी संभव नहीं है इसके लिए भारतवर्ष के लोगों को अपने आप में अपने समाज में बदलाव लाने के लिए खुद के साथ-साथ लोगों को जागरूक करना पड़ेगा निश्चित रूप से भारत आने वाले समय में स्वच्छ और सुंदर होगा

bharat ke log jab tak apni soch apne vichar apne man mein swachhta nahi le aayenge tab tak swachh bharat ki kalpana karna bemani hai mana ki pradhanmantri narendra modi ne swachh bharat ka naara diya lekin ek vyakti poore bharat mein ghum ghum kar jhadu lagakar bharat ko swachh karenge ya kisi se bhi sambhav nahi hai iske liye bharatvarsh ke logo ko apne aap mein apne samaj mein badlav lane ke liye khud ke saath saath logo ko jagruk karna padega nishchit roop se bharat aane waale samay mein swachh aur sundar hoga

भारत के लोग जब तक अपनी सोच अपने विचार अपने मन में स्वच्छता नहीं ले आएंगे तब तक स्वच्छ भारत

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

MonuTiwari

Little Businessman And Motivational Teacher

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है भारत अभी भी स्वच्छ भारत क्यों नहीं है तो अपना भारत एक बहुत ही बड़ा विशाल देश है यहां का जनसंख्या नागरिक बहुत अत्यधिक ज्यादा है अगर सभी लोग सफाई को खाल लेकिन हमें सफाई करना है स्वच्छता रहना है तो अपना घर साफ साफ हो जाएगा किंतु ऐसा नहीं कुछ लोग अभी भी हैं जो भारत को स्वच्छ रखने के प्रति एक कारगर नहीं है लेकिन ऐसा नहीं कि अपना पास तो कुछ नहीं है अपना भारत अभी भी स्वच्छ और सुंदर हैं

aapka prashna hai bharat abhi bhi swachh bharat kyon nahi hai toh apna bharat ek bahut hi bada vishal desh hai yahan ka jansankhya nagarik bahut atyadhik zyada hai agar sabhi log safaai ko khaal lekin hamein safaai karna hai swachhta rehna hai toh apna ghar saaf saaf ho jaega kintu aisa nahi kuch log abhi bhi hain jo bharat ko swachh rakhne ke prati ek kargar nahi hai lekin aisa nahi ki apna paas toh kuch nahi hai apna bharat abhi bhi swachh aur sundar hain

आपका प्रश्न है भारत अभी भी स्वच्छ भारत क्यों नहीं है तो अपना भारत एक बहुत ही बड़ा विशाल दे

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में सबसे अधिक लोगों पर ऐसी मारी माता रानी के भक्ति में स्वच्छता के प्रति जागरूक करने चाहिए मेरी हमें सबसे अधिक हमारे स्टूडेंट विद्यार्थियों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करना होगा तभी हमारे देश भारत

bharat me sabse adhik logo par aisi mari mata rani ke bhakti me swachhta ke prati jagruk karne chahiye meri hamein sabse adhik hamare student vidyarthiyon ko swachhta ke prati jagruk karna hoga tabhi hamare desh bharat

भारत में सबसे अधिक लोगों पर ऐसी मारी माता रानी के भक्ति में स्वच्छता के प्रति जागरूक करने

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

kamlesh Chouhan

मिशन यूपीएससी

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है क्योंकि अकेले मोदी जी कुछ नहीं कर सकते सारे भारतीयों को मिलकर स्वच्छ अभियान में भाग लेना चाहिए और अपने अपने आसपास की सफाई व्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि अगर अपने अपने घरों के आसपास की सारी सफाई खुद करेंगे तो भारत स्वच्छ कैसे नहीं बन सकता सोच बन सकता है

dekhie bharat abhi bhi swacch bharat nahi hai kyonki akele modi ji kuch nahi kar sakte saare bharatiyon ko milkar swacch abhiyan mein bhag lena chahiye aur apne apne aaspass ki safaai vyavastha par dhyan dena chahiye kyonki agar apne apne gharon ke aaspass ki saree safaai khud karenge toh bharat swacch kaise nahi ban sakta soch ban sakta hai

देखिए भारत अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है क्योंकि अकेले मोदी जी कुछ नहीं कर सकते सारे भारतीयों

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
user

Raj Bahadur

Study Please Subscribe On YouTube

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारा देश भारत अभी इसलिए स्वच्छ प्रधान देश नहीं बन पाया है क्योंकि हमारे देश के जो लोग हैं वह अभी स्वच्छता अभियान का ठीक तरह से पालन नहीं कर रहे हैं और केवल पालन करते हैं तो वह दिखावे के लिए करते हैं रियलिटी में स्वच्छता अभियान का पालन करें तो हमारा देश एक स्वच्छ प्रधान देश हो जाएगा

hamara desh bharat abhi isliye swachh pradhan desh nahi ban paya hai kyonki hamare desh ke jo log hain vaah abhi swachhta abhiyan ka theek tarah se palan nahi kar rahe hain aur keval palan karte hain toh vaah dikhaave ke liye karte hain reality mein swachhta abhiyan ka palan kare toh hamara desh ek swachh pradhan desh ho jaega

हमारा देश भारत अभी इसलिए स्वच्छ प्रधान देश नहीं बन पाया है क्योंकि हमारे देश के जो लोग हैं

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  591
WhatsApp_icon
user

Pankaj Soni

Nursing Assitant Ordly In Gtb Hospital

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों हमारा वाला था अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है क्योंकि हम लोग तब तक खुद अपनी तरफ से पहल नहीं करेंगे तब तक हमारा भारत स्वच्छ भारत नहीं बन सकता पानी की बोतल पीते हैं फैक्ट्री कहीं हो रहे हैं कि कल खाते गई हो रहा है बट हम उसके ध्यान नहीं देते हैं और हम अपना पूरा कर इधर-उधर फेंकते हैं इसलिए हमारा स्वच्छ नहीं है

doston hamara vala tha abhi bhi swachh bharat nahi hai kyonki hum log tab tak khud apni taraf se pahal nahi karenge tab tak hamara bharat swachh bharat nahi ban sakta paani ki bottle peete hain factory kahin ho rahe hain ki kal khate gayi ho raha hai but hum uske dhyan nahi dete hain aur hum apna pura kar idhar udhar phenkate hain isliye hamara swachh nahi hai

दोस्तों हमारा वाला था अभी भी स्वच्छ भारत नहीं है क्योंकि हम लोग तब तक खुद अपनी तरफ से पहल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user
0:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत अब तक इसलिए सोचने है क्योंकि भारत में सब लोग एक जैसे नहीं होते हैं एक दिमाग के नहीं होते हैं

bharat ab tak isliye sochne hai kyonki bharat mein sab log ek jaise nahi hote hain ek dimag ke nahi hote hain

भारत अब तक इसलिए सोचने है क्योंकि भारत में सब लोग एक जैसे नहीं होते हैं एक दिमाग के नहीं ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  27
WhatsApp_icon
user

Divya

Assistant Professor

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारा भारत देश अभी भी स्वच्छ भारत इसलिए नहीं है क्योंकि भारत की जनता अभी तक पूरी तरीके से जागरूक नहीं हुई है अभी भी लोगों ने प्लास्टिक और इस तरीके की और चीजें यूज़ करना बंद नहीं किया है आज भी हम रिलीजन के नाम पर काफी ज्यादा गंदगी चलाते हैं जिसके वजह से आज भी हमारा भारत एक स्वच्छ भारत नहीं बनता है आज भी ऐसी बहुत सारी जगह है जहां पर सूखा और गीला कचरा अलग करके नहीं डाला जाता है जिसके वजह से कचरा कचरे को जाम करना उसके ठीक तरीके से इस्तेमाल करना नहीं हो पा रहा है इसके वजह से आज भी हमारा भारत देश स्वच्छता में पीछे हैं

hamara bharat desh abhi bhi swachh bharat isliye nahi hai kyonki bharat ki janta abhi tak puri tarike se jagruk nahi hui hai abhi bhi logo ne plastic aur is tarike ki aur cheezen use karna band nahi kiya hai aaj bhi hum religion ke naam par kaafi zyada gandagi chalte hain jiske wajah se aaj bhi hamara bharat ek swachh bharat nahi baata hai aaj bhi aisi bahut saree jagah hai jaha par sukha aur geela kachra alag karke nahi dala jata hai jiske wajah se kachra kachre ko jam karna uske theek tarike se istemal karna nahi ho paa raha hai iske wajah se aaj bhi hamara bharat desh swachhta mein peeche hain

हमारा भारत देश अभी भी स्वच्छ भारत इसलिए नहीं है क्योंकि भारत की जनता अभी तक पूरी तरीके से

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
user

7272

जर्नलिस्ट

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसके लिए प्रशासन के साथ-साथ आम नागरिक जिम्मेदार हैं क्योंकि प्रशासन भ्रष्टाचार में लिप्त और जनता अपनी जिम्मेदारी से मुक्त होना चाहते हैं

iske liye prashasan ke saath saath aam nagarik zimmedar hain kyonki prashasan bhrashtachar mein lipt aur janta apni jimmedari se mukt hona chahte hain

इसके लिए प्रशासन के साथ-साथ आम नागरिक जिम्मेदार हैं क्योंकि प्रशासन भ्रष्टाचार में लिप्त औ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत अभी इसलिए स्वच्छ नहीं है क्योंकि भारत में बहुत अधिक जनसंख्या जनसंख्या के कारण बहुत यहां पर परेशानी होती है

bharat abhi isliye swachh nahi hai kyonki bharat mein bahut adhik jansankhya jansankhya ke karan bahut yahan par pareshani hoti hai

भारत अभी इसलिए स्वच्छ नहीं है क्योंकि भारत में बहुत अधिक जनसंख्या जनसंख्या के कारण बहुत यह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
play
user

TS Bhanot

Teacher

1:47

Likes  11  Dislikes    views  297
WhatsApp_icon
play
user

Akshansh Tripathy

Bachelor's of Mass Media

0:00

Likes  11  Dislikes    views  309
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!