भारत अभी भी स्वच्छ भारत क्यों नहीं है?...


user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर रहे थे और जो दसवां व्यक्ति था उसको यह नहीं पता था कि बाकी लोग एक्टिंग कर रहे हैं तो 1 आदमी भारी से बैग लेकर अंदर घुसता है और नीचे उसके हाथ से नीचे गिर जाता है वैसे एक्टिंग करते हैं जैसे कि उन्हें कोई फर्क ही नहीं पड़ता इनवेरिएबली जो बनता है वह भी वही बता दिखाता है यह पेमेंट जब अकेले में किया जाता है तो 3 में से एक व्यक्ति फौरन मदद करता है स्वच्छता अभियान का भी कुछ ऐसा ही रिएक्शन है दूसरों को देखकर हर कोई यही सोचता है कि मेरे एक अकेले से क्या फर्क पड़ता करना लोंग चॉकलेट के रहर में करें तो 10 आदमी कहता मेरे उठाने से बिना फेंकने से क्या फर्क पड़ता है चलो मैं भी फेंक देता हूं कि मेरे ना फेंकने से अखिलेश थोड़ा से सफाई रहेगी इस वजह से देश की यह हाल है जब तक हर भारतीय देश को अपना घर नहीं मानता भारत का जो स्वच्छ अभियान हो सकता फुल नहीं हो सकता स्वच्छ भारत अभियान है इसके नसीब करने के और भी कारण यह है कि गवर्नमेंट कापूस चूहे टॉयलेट बनाने में था 9 करोड़ से ज्यादा टॉयलेट घरों और पब्लिक प्लेसिस ने बनाई गई है लेकिन शोर नहीं किया गया कि पानी का सप्लाई तथा सफाई सही तरह से हो जाए उसमें तो अब आधे से ज्यादा जो टॉयलेट्स है पिछले 3 साल से खाली पड़े हैं अन्य न्यूज़ पड़े हैं दूसरों की मैनेजमेंट नहीं किया जा रहा सही तरीके से कलेक्शन अभी भी उसी पुल उल्टे सीधे तरीके से किया जा रहा है जहां क्रिएशन नहीं होता छटाई नहीं होती की साईकिल के नाम पर जो जाती है वह थोड़ी बहुत दस परसेंट रीसायकल होते हैं वेस्ट प्रोसेसिंग के लिए फंक्शन नहीं है हजार्ड मैनेजमेंट नहीं ठीक से होता जैसे गाजीपुर जैसी इंसीडेंट होती रहती है और जब तक कि अवेयरनेस नहीं क्रिएट होता स्वच्छ भारत नहीं हो सकता और जब तक हर एक भारतीय अपने आप अंदर से उसमें स्वच्छता कि वह नहीं आती तब तक

experiment kiya gaya jisme ek kamre mein 10 logo ko bithaya kya unmen se 9 log acting kar rahe the aur jo dasvan vyakti tha usko yah nahi pata tha ki baki log acting kar rahe hain toh 1 aadmi bhari se bag lekar andar ghuste hai aur niche uske hath se niche gir jata hai waise acting karte hain jaise ki unhe koi fark hi nahi padta inaveriebali jo baata hai vaah bhi wahi bata dikhaata hai yah payment jab akele mein kiya jata hai toh 3 mein se ek vyakti phauran madad karta hai swachhta abhiyan ka bhi kuch aisa hi reaction hai dusro ko dekhkar har koi yahi sochta hai ki mere ek akele se kya fark padta karna long chocolate ke rahar mein kare toh 10 aadmi kahata mere uthane se bina fenkne se kya fark padta hai chalo main bhi fenk deta hoon ki mere na fenkne se akhilesh thoda se safaai rahegi is wajah se desh ki yah haal hai jab tak har bharatiya desh ko apna ghar nahi manata bharat ka jo swachh abhiyan ho sakta full nahi ho sakta swachh bharat abhiyan hai iske nasib karne ke aur bhi karan yah hai ki government kapus chuhe toilet banane mein tha 9 crore se zyada toilet gharon aur public plesis ne banai gayi hai lekin shor nahi kiya gaya ki paani ka supply tatha safaai sahi tarah se ho jaaye usme toh ab aadhe se zyada jo toilets hai pichle 3 saal se khaali pade hain anya news pade hain dusro ki management nahi kiya ja raha sahi tarike se collection abhi bhi usi pool ulte sidhe tarike se kiya ja raha hai jaha creation nahi hota chatai nahi hoti ki cycle ke naam par jo jaati hai vaah thodi bahut das percent risayakal hote hain west processing ke liye function nahi hai hajard management nahi theek se hota jaise gazipur jaisi insident hoti rehti hai aur jab tak ki awareness nahi create hota swachh bharat nahi ho sakta aur jab tak har ek bharatiya apne aap andar se usme swachhta ki vaah nahi aati tab tak

एक्सपेरिमेंट किया गया जिसमें एक कमरे में 10 लोगों को बिठाया क्या उनमें से 9 लोग एक्टिंग कर

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  945
KooApp_icon
WhatsApp_icon
28 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!