भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनावग्रस्त क्यों हैं?...


user

Srikanth Pandey

Journalist

3:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनाव क्यों हैं भारत और चीन के बीच तनाव ग्रस्त संबंध जब भारत 1947 और चाइना 1949 के आसपास से जब आजाद हुआ है तब से चाइना की विस्तार वादी नीचे आ रही है वह अपना जनसंख्या का विस्तार भी करता रहा है और योगी का विस्तार भी करता रहे और अपने क्षेत्रफल का विस्तार करता रहा है इसीलिए कोरियर पैनइस्कोला से लेकर दक्षिणी भोपाल सागर तक किया फिर आपका है जापान के आसपास के पूरे इलाके पर यह कोरिया के आसपास ताइवान के आसपास और भारतीय उपमहाद्वीप में लगातार चाइना जो है अपना विस्तार करता रहा है तो यह चाइना की हॉबी है चाइना का यह कैसे आपका सकता उसका कल्चर है और जब दूसरी चीज है कि आप जब अपना विस्तार करेंगे और किसी दूसरे की टेरिटरी में घुस आएंगे खास वर्ष 1962 के बाद जवाब दूसरे की टेरिटरी में कोचिंग तो दूसरों को तो प्रॉब्लम होगी ना तो इसीलिए भारत का 1962 से चाइना के साथ थोड़ा आप कह सकते हैं कोल्ड वार की स्थिति में है और कोल्ड वॉर ही हो रहा है जो सामने तो नहीं हो रहा क्योंकि आर्थिक दृष्टि से भारत और चाइना के बीच बहुत बड़ा व्यापार व्यापार होता है और लगातार व्यापारी बनी हुई है अगर आप देखे तो $200 के आसपास का ट्रेड ट्रेड अलग चीज है लेकिन विस्तार वादी चीज दिया जो जो थॉट है वह अलग है इसीलिए मेरा मानना है कि भारत और चीन के बीच यह सारी चीजें लगातार चलते रहेंगे जब तक सीपीसी जो वन बेल्ट जो रूट है जो चाइना बना रहा है इसमें गिलगित बलूचिस्तान भारतीयों के और चाबहार बंदरगाह पाकिस्तानी स्थित है यह सारा जो उसका महत्व कांची परियोजना है जिसने लगातार भारत कहता रहा है कि आप भी हमारे साथ इस परियोजना में शामिल हो जो चीजें हो नहीं पा रही क्योंकि भारत उन सारी चीजों पर साथ नहीं है क्योंकि कहीं ना कहीं क्षेत्रीय दृष्टि से और अर्थव्यवस्था की दृष्टि से भारत विश्व गुरु बन जाते हैं देश के इसीलिए जब तक सीपीसी बंद नहीं होगा और चाइना का जो इकोनॉमिक्स डिक्टेटरशिप पूरे विश्व से भारत के वर्तमान अध्यक्ष इन देशों में और भारत के आसपास भारतीय उपमहाद्वीप के देशों में ट्रेड को लेकर या फिर विस्तार वादी नीतियों को लेकर जब तक चाइना खामोश नहीं होगा शांत नहीं होगा और आप उसको डिफीट सिर्फ ट्रेड में कर सकते हैं अगर आप चाइना को रिपीट करना चाहते हैं तो ट्रेन में कर सकते हैं जिसमें अंतरराष्ट्रीय तमाम देश आपके साथ होने चाहिए और वह वर्तमान एजेंडे में क्या बीमारी है यह वहान और करना वायरस इसके का नहीं पूरे विश्व जो है वह चाइना से परेशान हैं और चाइना चाइना को एक तरफ आइसोलेटेड कर रहा है इस वक्त सही समय है कि आप चाइना के भी पर कतर सकते हैं और डिप्लोमेसी से सारी बातें अपने हिसाब से मनवा भी सकते हैं और यह एक बहुत बड़ा बेहतर और अच्छा रास्ता रहेगा चाइना से तनाव कम करने

bharat aur china ke beech sambandh itne tanaav kyon hain bharat aur china ke beech tanaav grast sambandh jab bharat 1947 aur china 1949 ke aaspass se jab azad hua hai tab se china ki vistaar wadi niche aa rahi hai vaah apna jansankhya ka vistaar bhi karta raha hai aur yogi ka vistaar bhi karta rahe aur apne kshetrafal ka vistaar karta raha hai isliye courier painaiskola se lekar dakshini bhopal sagar tak kiya phir aapka hai japan ke aaspass ke poore ilaake par yah korea ke aaspass Taiwan ke aaspass aur bharatiya upamahadweep me lagatar china jo hai apna vistaar karta raha hai toh yah china ki hobby hai china ka yah kaise aapka sakta uska culture hai aur jab dusri cheez hai ki aap jab apna vistaar karenge aur kisi dusre ki Territory me ghus aayenge khas varsh 1962 ke baad jawab dusre ki Territory me coaching toh dusro ko toh problem hogi na toh isliye bharat ka 1962 se china ke saath thoda aap keh sakte hain cold war ki sthiti me hai aur cold war hi ho raha hai jo saamne toh nahi ho raha kyonki aarthik drishti se bharat aur china ke beech bahut bada vyapar vyapar hota hai aur lagatar vyapaari bani hui hai agar aap dekhe toh 200 ke aaspass ka trade trade alag cheez hai lekin vistaar wadi cheez diya jo jo thought hai vaah alag hai isliye mera manana hai ki bharat aur china ke beech yah saari cheezen lagatar chalte rahenge jab tak CPC jo van belt jo root hai jo china bana raha hai isme gilgit baluchistan bharatiyon ke aur chabahar bandargah pakistani sthit hai yah saara jo uska mahatva kanchi pariyojana hai jisne lagatar bharat kahata raha hai ki aap bhi hamare saath is pariyojana me shaamil ho jo cheezen ho nahi paa rahi kyonki bharat un saari chijon par saath nahi hai kyonki kahin na kahin kshetriya drishti se aur arthavyavastha ki drishti se bharat vishwa guru ban jaate hain desh ke isliye jab tak CPC band nahi hoga aur china ka jo economics dictatorship poore vishwa se bharat ke vartaman adhyaksh in deshon me aur bharat ke aaspass bharatiya upamahadweep ke deshon me trade ko lekar ya phir vistaar wadi nitiyon ko lekar jab tak china khamosh nahi hoga shaant nahi hoga aur aap usko defeat sirf trade me kar sakte hain agar aap china ko repeat karna chahte hain toh train me kar sakte hain jisme antararashtriya tamaam desh aapke saath hone chahiye aur vaah vartaman agent me kya bimari hai yah vahan aur karna virus iske ka nahi poore vishwa jo hai vaah china se pareshan hain aur china china ko ek taraf isolated kar raha hai is waqt sahi samay hai ki aap china ke bhi par katar sakte hain aur diplomacy se saari batein apne hisab se manva bhi sakte hain aur yah ek bahut bada behtar aur accha rasta rahega china se tanaav kam karne

भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनाव क्यों हैं भारत और चीन के बीच तनाव ग्रस्त संबंध जब भारत

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  550
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!