भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनावग्रस्त क्यों हैं?...


user

Srikanth Pandey

Journalist

3:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनाव क्यों हैं भारत और चीन के बीच तनाव ग्रस्त संबंध जब भारत 1947 और चाइना 1949 के आसपास से जब आजाद हुआ है तब से चाइना की विस्तार वादी नीचे आ रही है वह अपना जनसंख्या का विस्तार भी करता रहा है और योगी का विस्तार भी करता रहे और अपने क्षेत्रफल का विस्तार करता रहा है इसीलिए कोरियर पैनइस्कोला से लेकर दक्षिणी भोपाल सागर तक किया फिर आपका है जापान के आसपास के पूरे इलाके पर यह कोरिया के आसपास ताइवान के आसपास और भारतीय उपमहाद्वीप में लगातार चाइना जो है अपना विस्तार करता रहा है तो यह चाइना की हॉबी है चाइना का यह कैसे आपका सकता उसका कल्चर है और जब दूसरी चीज है कि आप जब अपना विस्तार करेंगे और किसी दूसरे की टेरिटरी में घुस आएंगे खास वर्ष 1962 के बाद जवाब दूसरे की टेरिटरी में कोचिंग तो दूसरों को तो प्रॉब्लम होगी ना तो इसीलिए भारत का 1962 से चाइना के साथ थोड़ा आप कह सकते हैं कोल्ड वार की स्थिति में है और कोल्ड वॉर ही हो रहा है जो सामने तो नहीं हो रहा क्योंकि आर्थिक दृष्टि से भारत और चाइना के बीच बहुत बड़ा व्यापार व्यापार होता है और लगातार व्यापारी बनी हुई है अगर आप देखे तो $200 के आसपास का ट्रेड ट्रेड अलग चीज है लेकिन विस्तार वादी चीज दिया जो जो थॉट है वह अलग है इसीलिए मेरा मानना है कि भारत और चीन के बीच यह सारी चीजें लगातार चलते रहेंगे जब तक सीपीसी जो वन बेल्ट जो रूट है जो चाइना बना रहा है इसमें गिलगित बलूचिस्तान भारतीयों के और चाबहार बंदरगाह पाकिस्तानी स्थित है यह सारा जो उसका महत्व कांची परियोजना है जिसने लगातार भारत कहता रहा है कि आप भी हमारे साथ इस परियोजना में शामिल हो जो चीजें हो नहीं पा रही क्योंकि भारत उन सारी चीजों पर साथ नहीं है क्योंकि कहीं ना कहीं क्षेत्रीय दृष्टि से और अर्थव्यवस्था की दृष्टि से भारत विश्व गुरु बन जाते हैं देश के इसीलिए जब तक सीपीसी बंद नहीं होगा और चाइना का जो इकोनॉमिक्स डिक्टेटरशिप पूरे विश्व से भारत के वर्तमान अध्यक्ष इन देशों में और भारत के आसपास भारतीय उपमहाद्वीप के देशों में ट्रेड को लेकर या फिर विस्तार वादी नीतियों को लेकर जब तक चाइना खामोश नहीं होगा शांत नहीं होगा और आप उसको डिफीट सिर्फ ट्रेड में कर सकते हैं अगर आप चाइना को रिपीट करना चाहते हैं तो ट्रेन में कर सकते हैं जिसमें अंतरराष्ट्रीय तमाम देश आपके साथ होने चाहिए और वह वर्तमान एजेंडे में क्या बीमारी है यह वहान और करना वायरस इसके का नहीं पूरे विश्व जो है वह चाइना से परेशान हैं और चाइना चाइना को एक तरफ आइसोलेटेड कर रहा है इस वक्त सही समय है कि आप चाइना के भी पर कतर सकते हैं और डिप्लोमेसी से सारी बातें अपने हिसाब से मनवा भी सकते हैं और यह एक बहुत बड़ा बेहतर और अच्छा रास्ता रहेगा चाइना से तनाव कम करने

bharat aur china ke beech sambandh itne tanaav kyon hain bharat aur china ke beech tanaav grast sambandh jab bharat 1947 aur china 1949 ke aaspass se jab azad hua hai tab se china ki vistaar wadi niche aa rahi hai vaah apna jansankhya ka vistaar bhi karta raha hai aur yogi ka vistaar bhi karta rahe aur apne kshetrafal ka vistaar karta raha hai isliye courier painaiskola se lekar dakshini bhopal sagar tak kiya phir aapka hai japan ke aaspass ke poore ilaake par yah korea ke aaspass Taiwan ke aaspass aur bharatiya upamahadweep me lagatar china jo hai apna vistaar karta raha hai toh yah china ki hobby hai china ka yah kaise aapka sakta uska culture hai aur jab dusri cheez hai ki aap jab apna vistaar karenge aur kisi dusre ki Territory me ghus aayenge khas varsh 1962 ke baad jawab dusre ki Territory me coaching toh dusro ko toh problem hogi na toh isliye bharat ka 1962 se china ke saath thoda aap keh sakte hain cold war ki sthiti me hai aur cold war hi ho raha hai jo saamne toh nahi ho raha kyonki aarthik drishti se bharat aur china ke beech bahut bada vyapar vyapar hota hai aur lagatar vyapaari bani hui hai agar aap dekhe toh 200 ke aaspass ka trade trade alag cheez hai lekin vistaar wadi cheez diya jo jo thought hai vaah alag hai isliye mera manana hai ki bharat aur china ke beech yah saari cheezen lagatar chalte rahenge jab tak CPC jo van belt jo root hai jo china bana raha hai isme gilgit baluchistan bharatiyon ke aur chabahar bandargah pakistani sthit hai yah saara jo uska mahatva kanchi pariyojana hai jisne lagatar bharat kahata raha hai ki aap bhi hamare saath is pariyojana me shaamil ho jo cheezen ho nahi paa rahi kyonki bharat un saari chijon par saath nahi hai kyonki kahin na kahin kshetriya drishti se aur arthavyavastha ki drishti se bharat vishwa guru ban jaate hain desh ke isliye jab tak CPC band nahi hoga aur china ka jo economics dictatorship poore vishwa se bharat ke vartaman adhyaksh in deshon me aur bharat ke aaspass bharatiya upamahadweep ke deshon me trade ko lekar ya phir vistaar wadi nitiyon ko lekar jab tak china khamosh nahi hoga shaant nahi hoga aur aap usko defeat sirf trade me kar sakte hain agar aap china ko repeat karna chahte hain toh train me kar sakte hain jisme antararashtriya tamaam desh aapke saath hone chahiye aur vaah vartaman agent me kya bimari hai yah vahan aur karna virus iske ka nahi poore vishwa jo hai vaah china se pareshan hain aur china china ko ek taraf isolated kar raha hai is waqt sahi samay hai ki aap china ke bhi par katar sakte hain aur diplomacy se saari batein apne hisab se manva bhi sakte hain aur yah ek bahut bada behtar aur accha rasta rahega china se tanaav kam karne

भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनाव क्यों हैं भारत और चीन के बीच तनाव ग्रस्त संबंध जब भारत

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  548
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Adv Chetan Sharma

Adversary in Law

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चाइना का तनाव हिंदुस्तान के साथ में चाइना का तनाव अपने आसपास अपने साथ लगती सीमा वाले 8 देशों के साथ उनकी नीति और रुचि हमेशा मुस्कान बाजी रहे हैं 1962 से कैलाश मानसरोवर पर उन्होंने कब्जा कर लिया था अब तक की सरकार में उसका फोन नहीं लगता है यह किधर का अभिवादन यह चाइना के तनाव के सबसे बड़े राजा

china ka tanaav Hindustan ke saath me china ka tanaav apne aaspass apne saath lagti seema waale 8 deshon ke saath unki niti aur ruchi hamesha muskaan baazi rahe hain 1962 se kailash maansarovar par unhone kabza kar liya tha ab tak ki sarkar me uska phone nahi lagta hai yah kidhar ka abhivadan yah china ke tanaav ke sabse bade raja

चाइना का तनाव हिंदुस्तान के साथ में चाइना का तनाव अपने आसपास अपने साथ लगती सीमा वाले 8 देश

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  1189
WhatsApp_icon
play
user

Umesh sharma

Soft Skill & European Language Expert

2:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्वेश्चन है भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनावग्रस्त क्यों है तो पहली बात दो चीजें समझ में नहीं आता है पहली बात जो क्वेश्चन है वह यह कि तनावग्रस्त क्यों है तनावग्रस्त बिकॉज लैंड डिस्प्यूट जो कि हमारी उसकी हिस्ट्री गई है बहुत पहले से ठीक है सीटू का जो हुआ था वह भी इसी वजह से हुआ था इसी की वजह से वीएस मी डोंट लाइक हम दोनों कंट्रीज इंडिया और चाइना एक दूसरे को एक दूसरे को पसंद नहीं करते बिकॉज वे हैव यू ट्राइड उसके अलावा आज के समय में हमें 2019 चल रहा है अभी उसके सिनेरियो में चाइना देखे आप तो चाइना की जो ग्रोथ रेट वगैरह देखो चाइना जो एक रोमी देखो ट्रेन टाइम्स बिगर क्रिमिनल इंडिया और चाइना और इंडिया का एरिया आफ कंपैरिजन करोगे तो इंडिया इकनॉमिक कहीं पर भी सेंड नहीं करता एशिया में एशिया के अंदर कोई कंट्री अधिक कंफर्म कर सकती है चाइना को है इंडिया अलर्ट एंड इकोनामी की तरफ देखोगे तो तो है यीशु यह है कि चाइना इस लिटिल इनसिक्योर अबाउट क्योंकि अभी जैसे आपने सुना होगा कि इन इंडिया कितना काम करना है कितना नहीं करना ही अलग पॉइंट है बट एक इंटरनैशनल लेवल पर जब उसको एक किया जा रहा है तो इस वजह से क्यों नहीं चीज को लेकर डोकलाम का जो हुआ था एंड गवर्नमेंट रिलेटेड कोई भी यह सोचता है कि इंडिया हमारे जो कंट्री में जितने भी लोग हैं जो भी यह सोचता है कि इंडिया कहां स्टैंड करता है वह भी असली इंडिया इन कंपैरिजन टू चाइना ऐसा नहीं है कि मां पर का बिल्कुल बनता हूं कोई कंपटीशन नहीं बनता बट ई कैन कंट्रीब्यूट विद रिस्पेक्ट टो प्रे आंसर योर क्वेश्चंस

question hai bharat aur china ke beech sambandh itne tanaavgrast kyon hai toh pehli baat do cheezen samajh mein nahi aata hai pehli baat jo question hai vaah yah ki tanaavgrast kyon hai tanaavgrast because land dispute jo ki hamari uski history gayi hai bahut pehle se theek hai citu ka jo hua tha vaah bhi isi wajah se hua tha isi ki wajah se vs me dont like hum dono countries india aur china ek dusre ko ek dusre ko pasand nahi karte because ve have you tried uske alava aaj ke samay mein hamein 2019 chal raha hai abhi uske sineriyo mein china dekhe aap toh china ki jo growth rate vagera dekho china jo ek rommi dekho train times bigger criminal india aur china aur india ka area of kampairijan karoge toh india economic kahin par bhi send nahi karta asia mein asia ke andar koi country adhik confirm kar sakti hai china ko hai india alert and economy ki taraf dekhoge toh toh hai yeshu yah hai ki china is little inasikyor about kyonki abhi jaise aapne suna hoga ki in india kitna kaam karna hai kitna nahi karna hi alag point hai but ek intaranaishanal level par jab usko ek kiya ja raha hai toh is wajah se kyon nahi cheez ko lekar Doklam ka jo hua tha and government related koi bhi yah sochta hai ki india hamare jo country mein jitne bhi log hai jo bhi yah sochta hai ki india kahaan stand karta hai vaah bhi asli india in kampairijan to china aisa nahi hai ki maa par ka bilkul banta hoon koi competition nahi banta but ee can kantribyut with respect toe prey answer your questions

क्वेश्चन है भारत और चीन के बीच संबंध इतने तनावग्रस्त क्यों है तो पहली बात दो चीजें समझ में

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Rani Silotia

Indian Politician

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ऐसी कोई बात नहीं है कि भारत का साथ दे रहा है

nahi aisi koi baat nahi hai ki bharat ka saath de raha hai

नहीं ऐसी कोई बात नहीं है कि भारत का साथ दे रहा है

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  515
WhatsApp_icon
user

Vimal Srivastav

Journalist

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन उसने हमेशा अपने तो महाशक्ति मारने की जरूरत तो ठान लिया है उसको हमारी उन्नति या हमसे कुछ कर पा रहे हैं हम न एक्सपेरिमेंट करते जा रहे हैं हम यहां पर युद्ध हमारा विरोध करता हूं पाकिस्तान

lekin usne hamesha apne toh mahashakti maarne ki zarurat toh than liya hai usko hamari unnati ya humse kuch kar pa rahe hain hum na experiment karte ja rahe hain hum yahan par yudh hamara virodh karta hoon pakistan

लेकिन उसने हमेशा अपने तो महाशक्ति मारने की जरूरत तो ठान लिया है उसको हमारी उन्नति या हमसे

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  635
WhatsApp_icon
user

Anil Dubey

Journalist

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एप टो चीन और भारत में 4:00 बज गई आपस में कितने आगे निकल जाऊंगा उस दिन काफी आगे अभी तो पार्टी तो क्या है कि मार देना चाहते हैं और उल्लू काफी अच्छी खासी मतलब भारत से आए हैं मतलब क्षेत्र में मार्केटिंग क्षेत्र में काफी चीजों का सपोर्ट करते इंडिया में चाइना की आइटम आने से अपना इंडियन जो भी मतलब उद्योग है वह काफी मतलब हिसाब से चाइना का आर्थिक रूप से भी मजबूत होता जा रहा है आज भारत को भी जिस प्रकार से चाइना ने प्रोग्रेस की बीवी तत्वों पर चलकर हम लोगों को भी बदलाव के बीच लड़ाई

app toe china aur bharat mein 4 00 baj gayi aapas mein kitne aage nikal jaunga us din kaafi aage abhi toh party toh kya hai ki maar dena chahte hain aur ullu kaafi achi khasee matlab bharat se aaye hain matlab kshetra mein marketing kshetra mein kaafi chijon ka support karte india mein china ki item aane se apna indian jo bhi matlab udyog hai vaah kaafi matlab hisab se china ka aarthik roop se bhi majboot hota ja raha hai aaj bharat ko bhi jis prakar se china ne progress ki biwi tatvon par chalkar hum logo ko bhi badlav ke beech ladai

एप टो चीन और भारत में 4:00 बज गई आपस में कितने आगे निकल जाऊंगा उस दिन काफी आगे अभी तो पार्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वाह चीनी सैनिकों की घुसपैठ और यह जाने के कारण भारत और चीन के बीच संबंध चुनाव व्यवस्था है के उपरांत इस बीच चर्चा में जो वायरस बनाया को चुनाव में फैला कर के और सफेद की आर्थिक रूप से कमजोर कर दिया और अब स्थिति को मजबूत बना दिया इसलिए इस बीच भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ गया है

wah chini sainikon ki ghuspaith aur yah jaane ke karan bharat aur china ke beech sambandh chunav vyavastha hai ke uprant is beech charcha me jo virus banaya ko chunav me faila kar ke aur safed ki aarthik roop se kamjor kar diya aur ab sthiti ko majboot bana diya isliye is beech bharat aur china ke beech tanaav badh gaya hai

वाह चीनी सैनिकों की घुसपैठ और यह जाने के कारण भारत और चीन के बीच संबंध चुनाव व्यवस्था है क

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत और चीन के संबंध तनाव ग्रस्त हैं कि चीन ने कोरोनावायरस भारत के लोगों में मीडिया के लोगों के बीच में फैला दिया है जो आतंकवाद से ज्यादा नाम के बीच में प्रसाद कर रहा है और यह किन का छोरा हुआ वायरल आतंकवादियों से ज्यादा चर्चा के में मीडिया की सुर्खियों में बना हुआ है इस वजह से भारत और चीन के संबंध में तनावग्रस्त पैदा है और अगर अन्य किसी कारण है तो सोच संपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएं

bharat aur china ke sambandh tanaav grast hain ki china ne coronavirus bharat ke logo me media ke logo ke beech me faila diya hai jo aatankwad se zyada naam ke beech me prasad kar raha hai aur yah kin ka chhora hua viral aatankwadion se zyada charcha ke me media ki surkhiyon me bana hua hai is wajah se bharat aur china ke sambandh me tanaavgrast paida hai aur agar anya kisi karan hai toh soch sampurna jaankari uplabdh karaye

भारत और चीन के संबंध तनाव ग्रस्त हैं कि चीन ने कोरोनावायरस भारत के लोगों में मीडिया के लोग

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  51
WhatsApp_icon
user

Geet Awadhiya

Aspiring Software Developer

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत और चीन के बीच संबंध काफी ज्यादा तनाव ग्रस्त हैं क्योंकि भारत और चीन दोनों ने एक पड़ोसी देश है दोनों एक दूसरे के बीच में कुछ कुछ जगह ऐसी है कुछ कुछ बॉर्डर ऐसे हैं जहां पर काफी तनाव रहता है जगह के पीछे की कौन सी जगह जिनके पास एक अभी चीन ने भारत पर आक्रमण नहीं करता है लेकिन बॉर्डर पर काफी अंदर तक घुस जाता है कभी-कभी ऐसा पाया गया जिसके बीच में छोटी-छोटी लड़ाईया होती रहती हैं बॉर्डर इलाकों में और यही चीज खतरे का गरबे की चिंता भी बड़ा देश और भारत इस समय विकसित ही हो रहा है त्रिवेदी जी ने किसी भी प्रकार का हमला करता है या वह घुसपैठ करता है तो भारत के लिए काफी तनावपूर्ण की चुनौती होगी लेकिन अभी काफी अच्छे संबंध चल रहा है भारत और चीन के बीच इस प्रकार का कोई माहौल नहीं है

dekhiye bharat aur china ke beech sambandh kaafi zyada tanaav grast hain kyonki bharat aur china dono ne ek padosi desh hai dono ek dusre ke beech mein kuch kuch jagah aisi hai kuch kuch border aise hain jaha par kaafi tanaav rehta hai jagah ke peeche ki kaun si jagah jinke paas ek abhi china ne bharat par aakraman nahi karta hai lekin border par kaafi andar tak ghus jata hai kabhi kabhi aisa paya gaya jiske beech mein choti choti ladaiya hoti rehti hain border ilako mein aur yahi cheez khatre ka garabe ki chinta bhi bada desh aur bharat is samay viksit hi ho raha hai trivedi ji ne kisi bhi prakar ka hamla karta hai ya vaah ghuspaith karta hai toh bharat ke liye kaafi tanavapurn ki chunauti hogi lekin abhi kaafi acche sambandh chal raha hai bharat aur china ke beech is prakar ka koi maahaul nahi hai

देखिए भारत और चीन के बीच संबंध काफी ज्यादा तनाव ग्रस्त हैं क्योंकि भारत और चीन दोनों ने एक

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  461
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!