लोकसभा और राज्यसभा में अधिक मान्यता किसकी रहते हैं?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे संविधान में लोकसभा और राज्यसभा दोनों का अपना-अपना महत्व है राज्यसभा जो है वह स्थाई सदन है जिसके सदस्य 6:00 बज के लिए चुने जाते हैं और एक तिहाई सदस्य हर 2 साल में बदल दिए जाते हैं जबकि लोकसभा के सदस्य 5 साल के लिए चुने जाते हैं लेकिन लोकसभा 5 साल से पहले भी बंद की जा सकती है अब तो आप का प्रश्न है कि इसमें किस की मान्यता अधिक है तो वैसे तो दोनों महत्व अपनी अपनी जगह है लेकिन लोकसभा कुछ महीनों में राज्यसभा से अधिक महत्वपूर्ण है पहला यह कि जो लोकसभा में बहुमत दल का नेता होता है वह प्रधानमंत्री होता है और पूरा मंत्रिमंडल उसके सिफारिश से बनता है अगर प्रधानमंत्री लोकसभा में अपना बहुमत खो देता है तो पूरे मंत्रिमंडल को त्यागपत्र देना पड़ता है इस कारण से लोकसभा अधिक महत्वपूर्ण होती है लेकिन यह जरूरी नहीं है जो प्रधानमंत्री हो वह लोकसभा का सदस्य हो वह रोज राज्यसभा का सदस्य रहते हुए भी लोकसभा में अगर उसका बहुमत उसको सपोर्ट करता है तो प्रधानमंत्री बन सकता है जैसा मनमोहन सिंह की थे वह राज्यसभा के सदस्य थे लेकिन 10 साल तक प्रधानमंत्री रहे दूसरा विशेषाधिकार लोकसभा का होता है बजट का बजट जो होता है वह लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है राज्यसभा में नहीं पेश किया जा सकता और लोकसभा ने अगर उसको पास कर दिया तो 14 दिन के भीतर जो सुझाव देने होते हैं राज्यसभा को देने रहते हैं अगर 14 दिन में राज्यसभा ने कुछ नहीं किया तो बजट अपने आप पास हो जाता है तो बजट के मामले में भी राज्यसभा के पास अधिकार नहीं है बाकी सभी मामलों में दोनों के अधिकार बराबर हैं धन्यवाद

hamare samvidhan me lok sabha aur rajya sabha dono ka apna apna mahatva hai rajya sabha jo hai vaah sthai sadan hai jiske sadasya 6 00 baj ke liye chune jaate hain aur ek tihai sadasya har 2 saal me badal diye jaate hain jabki lok sabha ke sadasya 5 saal ke liye chune jaate hain lekin lok sabha 5 saal se pehle bhi band ki ja sakti hai ab toh aap ka prashna hai ki isme kis ki manyata adhik hai toh waise toh dono mahatva apni apni jagah hai lekin lok sabha kuch mahinon me rajya sabha se adhik mahatvapurna hai pehla yah ki jo lok sabha me bahumat dal ka neta hota hai vaah pradhanmantri hota hai aur pura mantrimandal uske sifarish se banta hai agar pradhanmantri lok sabha me apna bahumat kho deta hai toh poore mantrimandal ko tyagpatra dena padta hai is karan se lok sabha adhik mahatvapurna hoti hai lekin yah zaroori nahi hai jo pradhanmantri ho vaah lok sabha ka sadasya ho vaah roj rajya sabha ka sadasya rehte hue bhi lok sabha me agar uska bahumat usko support karta hai toh pradhanmantri ban sakta hai jaisa manmohan Singh ki the vaah rajya sabha ke sadasya the lekin 10 saal tak pradhanmantri rahe doosra visheshadhikar lok sabha ka hota hai budget ka budget jo hota hai vaah lok sabha me hi pesh kiya ja sakta hai rajya sabha me nahi pesh kiya ja sakta aur lok sabha ne agar usko paas kar diya toh 14 din ke bheetar jo sujhaav dene hote hain rajya sabha ko dene rehte hain agar 14 din me rajya sabha ne kuch nahi kiya toh budget apne aap paas ho jata hai toh budget ke mamle me bhi rajya sabha ke paas adhikaar nahi hai baki sabhi mamlon me dono ke adhikaar barabar hain dhanyavad

हमारे संविधान में लोकसभा और राज्यसभा दोनों का अपना-अपना महत्व है राज्यसभा जो है वह स्थाई स

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  1056
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!