आधार धर्म पवित्र और साधारण में भेद किसने की धर्म के आधार पर?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धर्म शब्द का अर्थ बहुत व्यापक धर्म वाले के धारण किया जाए जो हमें समाज के नियमों को पालन करने के लिए दिशा निर्देश मिलते हैं और वह समाज हमेशा चक्कर में पड़ सकता है समाज में हमारे लिए कोई नियम बनाए हैं जो हमारे संस्कार और संस्कृत को जागरूक करता है और उनको विकास की दिशा में ले जाता है तो धर्म और धैर्य करने के लिए है यह आजकल के जो हमारे धर्मावलंबी लोग हैं जो अपने को श्रेष्ठ बताते हैं और हर धर्म के विशेषताओं को अलग कर दिया है यह बिलकुल अमान्य है और सच को स्वीकार करने योग्य नहीं है उन सभी धर्मों का ईश्वर एक है सब धर्मों की शिक्षाएं हैं सबसे बड़ा धर्म आजकल मानवता की सेवा है जो भी मानवता की सेवा नहीं कर सकता माता पिता की सेवा नहीं कर सकता बुजुर्गों का सम्मान नहीं कर सकता गरीबों का पक्ष नहीं ले सकता बीमारों को दवा नहीं दे सकता और दलित और गिरे हुए हैं जो किसी कार्य लायक नहीं उनके मदद नहीं कर सकता वह धर्म के विपरीत है और आजकल के सारे कार्य के कोई धर्म नहीं कर रहा है सिर्फ धर्म जो है फायदा कैसा पैदा करने का साधन बन गया है धर्म के नाम पर लोग धर्म क्या है धर्म जो अपने को तथाकथित पंडितों और उनके आकाओं ने भी धर्म को नहीं बताया

dharm shabd ka arth bahut vyapak dharm waale ke dharan kiya jaaye jo hamein samaj ke niyamon ko palan karne ke liye disha nirdesh milte hain aur vaah samaj hamesha chakkar me pad sakta hai samaj me hamare liye koi niyam banaye hain jo hamare sanskar aur sanskrit ko jagruk karta hai aur unko vikas ki disha me le jata hai toh dharm aur dhairya karne ke liye hai yah aajkal ke jo hamare dharmavalambi log hain jo apne ko shreshtha batatey hain aur har dharm ke visheshtaon ko alag kar diya hai yah bilkul amanya hai aur sach ko sweekar karne yogya nahi hai un sabhi dharmon ka ishwar ek hai sab dharmon ki sikshayen hain sabse bada dharm aajkal manavta ki seva hai jo bhi manavta ki seva nahi kar sakta mata pita ki seva nahi kar sakta bujurgon ka sammaan nahi kar sakta garibon ka paksh nahi le sakta bimaron ko dawa nahi de sakta aur dalit aur gire hue hain jo kisi karya layak nahi unke madad nahi kar sakta vaah dharm ke viprit hai aur aajkal ke saare karya ke koi dharm nahi kar raha hai sirf dharm jo hai fayda kaisa paida karne ka sadhan ban gaya hai dharm ke naam par log dharm kya hai dharm jo apne ko tathakathit pandito aur unke akaon ne bhi dharm ko nahi bataya

धर्म शब्द का अर्थ बहुत व्यापक धर्म वाले के धारण किया जाए जो हमें समाज के नियमों को पालन कर

Romanized Version
Likes  189  Dislikes    views  2701
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!