मुक्ति यज्ञ के रचयिता कौन है?...


play
user
0:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुक्तक सुमित्रानंदन पंत जी की रचना है मुक्ति यज्ञ में उस समय के भारत का इतिहास है जब देश में क्रांति की आग सुलग रही थी और हर तरफ हलचल मची हुई थी विशेष यह थी तुम मुक्ति यज्ञ प्रसंग लोकायतन का ही एक अंश है प्रांत अंश होते हुए भी वह अपने आप में पूर्ण हैं लोकेशन एक लक्ष्य प्रधान भविष्य में मुख्य काव्य

muktakt sumitranandan pant ji ki rachna hai mukti yagya me us samay ke bharat ka itihas hai jab desh me kranti ki aag sulag rahi thi aur har taraf hulchul machi hui thi vishesh yah thi tum mukti yagya prasang lokayatan ka hi ek ansh hai prant ansh hote hue bhi vaah apne aap me purn hain location ek lakshya pradhan bhavishya me mukhya kavya

मुक्तक सुमित्रानंदन पंत जी की रचना है मुक्ति यज्ञ में उस समय के भारत का इतिहास है जब देश म

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  72
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!