शायरी करने का क्या मतलब होता है?...


play
user

Mohammad Bilal

Accountant

2:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है शायरी करने का क्या मतलब होता है तो शायरी का मतलब समझने वाले ही समझ पाते हैं हर कोई नहीं समझ पाता है शायरी मतलब एक शायर जो है वह अपने भाव किसी सब्जेक्ट पर शायरी बनाता है उसने शायरी में शब्द बहुत चुनिंदा रखने होते हैं शायरी उस लेबल की बनानी होती है मैं शब्द बर्ड सेट करने होते हैं ऊपर की जो लाइन है उसका आखिरी वर्ड जो है वह नीचे की लाइन में आखिरी बर्ड बिल्कुल उसी से मिलता जुलता वैसा ही हो तो शायरी अब समझ में आती है शहर खास करके उन बातों का ध्यान रखते हैं क्योंकि शायरी हर कोई नहीं कर सकता हर किसी के बस की बात नहीं है शेर किस टॉपिक पर किस तरह की ग़ज़ल बनी है या बना रहे हैं उस पर शायरी डिपेंड करती है क्योंकि अब उससे क्या मैसेज देना चाहते हैं क्या बताना चाहते हैं एक एक एक शब्द का महत्व होता है शायरी में एक-एक शब्द का बहुत गहरा महत्व होता है इसीलिए शायरी कव्वाली में तो बहुत लोग आ सकते हैं बहुत लोग सुनने जा सकते हैं कव्वाली भी मुश्किल होती है क्योंकि उसमें अल्फ़ाज़ बर्ड जो है वह उर्दू के ज्यादा इस्तेमाल होते हैं तो वह बात अलग है कि कव्वाल और कव्वाली दो है तो दोनों में कंपटीशन होता है तो देखने पब्लिक जा सकती लेकिन सिर्फ शौकीन लोग जिनको समझ में आती है और जो उसका माद्दा रखते हैं समझने का वैसे लोग जाते हैं और शायर भी वैसे ही उस लेबल के ही होते हैं कि जो समझा अपने शब्दों शब्द बोले और समझने वाले समझ जाए तो फिर शायरी पढ़ने में और सुनने में मजा आता है तो शायरी एक का मतलब यही होता है कि अपने विचार और जो है उस टॉपिक पर अपने विचार जो है शायर के वह माहौल को देखते हुए या ने कुल मिलाकर बहुत ज्यादा लोगों की सोच को इकट्ठा शायर करने की कोशिश करता है और वह सुनाता है फिर तो शायरी उसी का नाम है बहुत सारे लोगों की सोच कम से कम उस टॉपिक पर उस सेंटेंस पर वह शायद सुनाने की कोशिश करता है क्योंकि वह इसीलिए सुना रहा है क्योंकि उसको मारता है इतनी हैसियत रखता है कि उस पर शायरी बना ले उस पर ग़ज़ल बना ले और वह मैं सुना सके अपने बेहतरीन अंदाज में ताकि लोगों को समझ में आए शुक्रिया

sawaal hai shaayari karne ka kya matlab hota hai toh shaayari ka matlab samjhne waale hi samajh paate hain har koi nahi samajh pata hai shaayari matlab ek shayar jo hai vaah apne bhav kisi subject par shaayari banata hai usne shaayari me shabd bahut chuninda rakhne hote hain shaayari us lebal ki banani hoti hai main shabd bird set karne hote hain upar ki jo line hai uska aakhiri word jo hai vaah niche ki line me aakhiri bird bilkul usi se milta julataa waisa hi ho toh shaayari ab samajh me aati hai shehar khas karke un baaton ka dhyan rakhte hain kyonki shaayari har koi nahi kar sakta har kisi ke bus ki baat nahi hai sher kis topic par kis tarah ki gazal bani hai ya bana rahe hain us par shaayari depend karti hai kyonki ab usse kya massage dena chahte hain kya batana chahte hain ek ek ek shabd ka mahatva hota hai shaayari me ek ek shabd ka bahut gehra mahatva hota hai isliye shaayari qawwali me toh bahut log aa sakte hain bahut log sunne ja sakte hain qawwali bhi mushkil hoti hai kyonki usme alfaz bird jo hai vaah urdu ke zyada istemal hote hain toh vaah baat alag hai ki kavval aur qawwali do hai toh dono me competition hota hai toh dekhne public ja sakti lekin sirf shaukin log jinako samajh me aati hai aur jo uska madda rakhte hain samjhne ka waise log jaate hain aur shayar bhi waise hi us lebal ke hi hote hain ki jo samjha apne shabdon shabd bole aur samjhne waale samajh jaaye toh phir shaayari padhne me aur sunne me maza aata hai toh shaayari ek ka matlab yahi hota hai ki apne vichar aur jo hai us topic par apne vichar jo hai shayar ke vaah maahaul ko dekhte hue ya ne kul milakar bahut zyada logo ki soch ko ikattha shayar karne ki koshish karta hai aur vaah sunata hai phir toh shaayari usi ka naam hai bahut saare logo ki soch kam se kam us topic par us sentence par vaah shayad sunaane ki koshish karta hai kyonki vaah isliye suna raha hai kyonki usko maarta hai itni haisiyat rakhta hai ki us par shaayari bana le us par gazal bana le aur vaah main suna sake apne behtareen andaaz me taki logo ko samajh me aaye shukriya

सवाल है शायरी करने का क्या मतलब होता है तो शायरी का मतलब समझने वाले ही समझ पाते हैं हर कोई

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1918
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!