क्या यह सत्य है की अनुशासन ही देश को महान बनाता है, यदि ये सत्य है तो लोग अनुशासन में क्यों नहीं रहना कहते?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अनुशासन हमारे जीवन के हर क्षेत्र में होना चाहिए एक आदत के रूप में हमारे मन में हमारे दिमाग में हमारी व्यवहार में अनुशासन होना चाहिए और अनुशासन हम बचपन से सीखते हैं अपने परिवार में अपने माता पिता के द्वारा जब हम उठते हैं सुबह जब हम टाइम पर नाश्ता करते हैं टिफिन लेकर स्कूल जाते हैं तो इस स्कूल में भी हम अनुशासन से ही रहते हैं वक्त पर सारे कार्यों को करना और वक्त पर हर कार्य को करना भी अनुशासन है और यह अनुशासन हमें बचपन से सिखाया जाता है लेकिन कुछ लोग अनुशासन को अपने जीवन में नहीं आती है जो कार्य जरूरी भक्ति करने होते हैं जो वक्त पर ही होते हैं उन्हें तो वह वक्त पर कर लेते हैं क्योंकि उसकी समय-सीमा बंधी होती है जो कार्य वह अपनी मर्जी से कर सकते हैं और वक्त से इधर-उधर हो कर कर सकते हैं और मैं वह थोड़ा आलस कर जाते हैं अपने आप को थोड़ा ढीला कर देते हैं और इसीलिए वहां अनुशासन खत्म हो जाता है तू अनुशासन हमें अपनी मां के कार्यों में भी रखना चाहिए अगर हम अनुशासन रखेंगे तो हमें सही राह पर चलेंगे एक सही समय पर चलेंगे और एक सही वक्त पर हैं कुछ भी अच्छी करेंगे जैसे मिलिट्री में आर्मी में अनुशासन होता है और वह अनुशासन उन लोगों को कठोर बनाने के साथ ही साथ जिम्मेदारी नहीं देता है कि उन्हें वक्त पर यह सारे कार्य करने हैं और यही जिम्मेदारी यही अनुशासन आपको आगे बढ़ने के लिए भी प्रेरित करता है और अनुशासन आपको हमेशा सही करने की प्रेरणा देता है हमने कहीं रास्ते खुल जाते हैं और आप कुछ गलत करने के लिए भी

anushasan hamare jeevan ke har kshetra mein hona chahiye ek aadat ke roop mein hamare man mein hamare dimag mein hamari vyavhar mein anushasan hona chahiye aur anushasan hum bachpan se sikhate hain apne parivar mein apne mata pita ke dwara jab hum uthte hain subah jab hum time par nashta karte hain tiffin lekar school jaate hain toh is school mein bhi hum anushasan se hi rehte hain waqt par saare karyo ko karna aur waqt par har karya ko karna bhi anushasan hai aur yah anushasan hamein bachpan se sikhaya jata hai lekin kuch log anushasan ko apne jeevan mein nahi aati hai jo karya zaroori bhakti karne hote hain jo waqt par hi hote hain unhe toh vaah waqt par kar lete hain kyonki uski samay seema bandhi hoti hai jo karya vaah apni marji se kar sakte hain aur waqt se idhar udhar ho kar kar sakte hain aur main vaah thoda aalas kar jaate hain apne aap ko thoda dheela kar dete hain aur isliye wahan anushasan khatam ho jata hai tu anushasan hamein apni maa ke karyo mein bhi rakhna chahiye agar hum anushasan rakhenge toh hamein sahi raah par chalenge ek sahi samay par chalenge aur ek sahi waqt par hain kuch bhi achi karenge jaise miltary mein army mein anushasan hota hai aur vaah anushasan un logo ko kathor banne saath hi saath jimmedari nahi deta hai ki unhe waqt par yah saare karya karne hain aur yahi jimmedari yahi anushasan aapko aage badhne ke liye bhi prerit karta hai aur anushasan aapko hamesha sahi karne ki prerna deta hai humne kahin raste khul jaate hain aur aap kuch galat karne ke liye bhi

अनुशासन हमारे जीवन के हर क्षेत्र में होना चाहिए एक आदत के रूप में हमारे मन में हमारे दिमाग

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!