क्या लोगों में मानवता नहीं बची है?...


play
user

Ram Kumar Anil Prajapati

Civil Aspirant | Career Counsellor

2:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखिए आपका पेशेंट है क्या लोगों में मानवता नहीं बची मुझे मेरे विद्वान साथियों मैं आपको बताना चाहूंगा अमूमन व्यक्तियों में देखा जाता है कि मानवता नष्ट होती जा रही है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन अभी भी भारत में 10% ऐसे व्यक्ति हैं जिनमें मानवता कूट-कूट कर भरी हुई है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन इसका इतनी तेजी गति से 1 तरीके से चरण हो रहा है कि कुछ कहा नहीं जा सकता है बहुत तेजी से इसका तरीके से क्षरण होता दिखाई दे रहा है वर्तमान समाज के व्यक्तियों में अब सिर्फ मानवता का जुगाड़ आप देख सकते हैं वह जो हमारी 30 से 30 से जो ज्यादा उम्र के व्यक्ति हैं उन्हीं में उन्हीं व्यक्तियों में मानवता का कुल 10% रहा है एंड युवा पीढ़ी इतनी किससे कहा जा सकता है मानव सभ्यता जो थी उसको भूल ही गई है युवा पीढ़ी के लगभग 5 वर्षों में मानव सभ्यता बरकरार है ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि युवा पीढ़ी में भी मानवता है वह नहीं है ऐसा कहना भी इसे अनुचित ठहराया जा सकता है कि बहुत से मैंने भी एक तरीके से युवा पीढ़ी के बंदे देखे हैं जिनमें मानवता का इतना कूट-कूट कर भरे हुए हैं और वह तरीके से ऐसे व्यक्ति समाज में है लेकिन यह तरीके से स्वार्थ कुछ लोगों की गलत स्वार्थ की वजह से उन्हें करिए से बुरा लगता है और वह करके से किसी भी व्यक्ति की भलाई करने के लिए बंद कर देते हैं एक उदाहरण से अगर आप समझना चाहे तो बहुत सारे उदाहरण आपको मिल जाएंगे लेकिन यह नहीं कहा जा सकता है कि भारत में मानवता खत्म हो गई है हां यह कह सकते हैं कि खत्म होने की कगार की ओर अग्रसर हो रहा है मानव यह जरूर कहा जा सकता है थैंक यू आपका दिन शुभ हो बहुत-बहुत धन्यवाद

likhiye aapka patient hai kya logo me manavta nahi bachi mujhe mere vidhwaan sathiyo main aapko batana chahunga amuman vyaktiyon me dekha jata hai ki manavta nasht hoti ja rahi hai isme koi do rai nahi hai lekin abhi bhi bharat me 10 aise vyakti hain jinmein manavta kut kut kar bhari hui hai isme koi do rai nahi hai lekin iska itni teji gati se 1 tarike se charan ho raha hai ki kuch kaha nahi ja sakta hai bahut teji se iska tarike se ksharan hota dikhai de raha hai vartaman samaj ke vyaktiyon me ab sirf manavta ka jugaad aap dekh sakte hain vaah jo hamari 30 se 30 se jo zyada umar ke vyakti hain unhi me unhi vyaktiyon me manavta ka kul 10 raha hai and yuva peedhi itni kisse kaha ja sakta hai manav sabhyata jo thi usko bhool hi gayi hai yuva peedhi ke lagbhag 5 varshon me manav sabhyata barkaraar hai aisa nahi kaha ja sakta hai ki yuva peedhi me bhi manavta hai vaah nahi hai aisa kehna bhi ise anuchit thehraya ja sakta hai ki bahut se maine bhi ek tarike se yuva peedhi ke bande dekhe hain jinmein manavta ka itna kut kut kar bhare hue hain aur vaah tarike se aise vyakti samaj me hai lekin yah tarike se swarth kuch logo ki galat swarth ki wajah se unhe kariye se bura lagta hai aur vaah karke se kisi bhi vyakti ki bhalai karne ke liye band kar dete hain ek udaharan se agar aap samajhna chahen toh bahut saare udaharan aapko mil jaenge lekin yah nahi kaha ja sakta hai ki bharat me manavta khatam ho gayi hai haan yah keh sakte hain ki khatam hone ki kagar ki aur agrasar ho raha hai manav yah zaroor kaha ja sakta hai thank you aapka din shubha ho bahut bahut dhanyavad

लिखिए आपका पेशेंट है क्या लोगों में मानवता नहीं बची मुझे मेरे विद्वान साथियों मैं आपको बता

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1176
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!