भगवान खाते क्या है?...


play
user

Awadhesh Chandravanshi

Motivational Speaker || News Anchor || Journlist

4:39

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही उचित प्रश्न और एक मार्मिक प्रश्न आपने पूछा है भगवान खाते क्या है एक शब्द में अगर मैं कहूं तो भगवान शब्द के उच्चारण से ही आपको यह ज्ञात हो जाएगा कि भगवान भाव के भूखे हैं भगवान हमारा केवल भाव लेते हैं आज के समय में हम जिस प्रकार से भगवान को भोग लगाते हैं उसको जरा आप विचारों से सोचिए अगर हम भगवान को भोग लगाने के लिए कोई भी चीज जो हम भगवान को चढ़ाते हैं देते हैं यह हमारा एक तरह का प्रतीक शास्त्र माना जाता है प्रतीक माना जाता है कि मूर्ति को हम भगवान मानते हैं और उनको हम भोग अर्पण करते हैं लेकिन उसको गरबे ज्ञानिक आधार पर आप देखें आप अगर भगवान के लिए भी निकाल रहे हैं तो वह पहले आपके हाथों में लगते भगवान को अगर आप चंदन लगा रहे हैं तो वह चंदन पहले आप अपने हाथ से स्पर्श करते हैं कुछ भी अगर आप कर रहे हैं जो भगवान के लिए आप कर रहे हैं वह आप से होकर गुजरती है उसमें आपका कितना भाव है उस भाव को ही मात्र भगवान भोग लगाते हैं और बाकी चीजें आपके लिए यथास्थिति बनी रहती है जिस तरह से हम जो भोग लगाते हैं आप सोचते होंगे कि भगवान आकर के खाने हैं भगवान उस रोटी को तोड़ नहीं रहे हैं भगवान दाल को पी नहीं रहे हैं तो भगवान यह सब कुछ नहीं करते उसमें अर्पण जो आप का भाव है किस भाव के साथ आप उनको अर्पिता कर रहे हो उसका भोग लगाते हैं मैंने संतों के मुख से एक कथा सुनी है मैं आपको सुनाता हूं छोटी सी कथा ध्यान पूर्वक सुनिए गा बहुत ही प्रासंगिक विषय है एक व्यक्ति था जैसा कि आज हम हिंदुओं में एक विचारधारा होती है कि हम गणेश जी को भी मानते हैं लक्ष्मी जी को भी मानते हैं तो उसे किसी ने सलाह दिया कि अगर आपको पढ़ाई में पास होना है और तो आप गणेश जी की पूजा करें तो आप पास हो जाएंगे उस व्यक्ति ने पूरे साल गणेश जी की पूजा क्यों फेल हो गया उसने बंद किया भगवान को लपेटा उठा कर रख दिया किसी कोने के कांड में कौन है मैं हल का सचित्र फिर उसको सलाह दिया गया किसी ने कहा कि आप सरस्वती जी के पूजा करिए वह ज्ञान की देवी है आपने गलत किया इसलिए आप फेल हो गए फिर उसने अगले साल से सरस्वती जी की पूजा आरंभ कर दी फिर वह जब दिल्ली में को दिया लगाता अगरबत्ती लगाता तो देखता 1 दिन क्या हुआ की हवा का प्रवाह इस तरह से चल अगरबत्ती तो सरस्वती जी को दिखा रहा था सरस्वती मां को दिखा रहा था लेकिन उसके युद्ध हुआ था वह उड़ करके उस कांड की ओर जा रहा था जहां पर गणेश जी बैठे हुए थे जहां पर गणेश जी की मूर्ति बड़ा तेज क्रोधित हुआ का काम तो मेरा कुछ किया नहीं और धुआं की सौगंध मैं आपको क्यों दूं उसने क्या किया गणेश जी को वहां से उठाया ले जाकर बक्से में बंद किया आज आपने मेरा कोई काम नहीं किया तो आपको मेरे से अगरबत्ती का स्वाद चखने का भी कोई हक नहीं है तो यहां पर संत बताते हैं कि फिर गणेश जी अवतरित हुए उसके उस भाव से प्रसन्न हुए क्यों यहां पर भाव आप समझ जाएगा उस व्यक्ति ने क्लोज दिखाया हालांकि भगवान के ऊपर लेकिन उसका भाव क्या था कि आप वास्तविक में हमारे अगरबत्ती की सुगंध ले रहे हैं तो भगवान को स्वयं वहां पर आना पड़ा ईश्वर को स्वयं वहां पर अवतरित होना पड़ा मुझे नहीं पता जाए कि यह घटना सच्ची है झूठी है क्या लेकिन यहां पर भाव सकते हैं अगर आप का भाव है तो आप ईश्वर का परावर्तित रूप तमाम समय पर कई चीजों में भिन्न-भिन्न रूप में भी देख सकते हैं इस कहानी के भावार्थ में आप इस चीजों को समझ सकते हैं कि भाव ही भोजन भाव नहीं है भगवान हमारा भाव ही अर्पण स्वीकार करते हैं और भाव ही खाते हैं और भाव के भूखे

bahut hi uchit prashna aur ek marmik prashna aapne poocha hai bhagwan khate kya hai ek shabd me agar main kahun toh bhagwan shabd ke ucharan se hi aapko yah gyaat ho jaega ki bhagwan bhav ke bhukhe hain bhagwan hamara keval bhav lete hain aaj ke samay me hum jis prakar se bhagwan ko bhog lagate hain usko zara aap vicharon se sochiye agar hum bhagwan ko bhog lagane ke liye koi bhi cheez jo hum bhagwan ko chadhate hain dete hain yah hamara ek tarah ka prateek shastra mana jata hai prateek mana jata hai ki murti ko hum bhagwan maante hain aur unko hum bhog arpan karte hain lekin usko garabe gyanik aadhar par aap dekhen aap agar bhagwan ke liye bhi nikaal rahe hain toh vaah pehle aapke hathon me lagte bhagwan ko agar aap chandan laga rahe hain toh vaah chandan pehle aap apne hath se sparsh karte hain kuch bhi agar aap kar rahe hain jo bhagwan ke liye aap kar rahe hain vaah aap se hokar gujarati hai usme aapka kitna bhav hai us bhav ko hi matra bhagwan bhog lagate hain aur baki cheezen aapke liye yathasthiti bani rehti hai jis tarah se hum jo bhog lagate hain aap sochte honge ki bhagwan aakar ke khane hain bhagwan us roti ko tod nahi rahe hain bhagwan daal ko p nahi rahe hain toh bhagwan yah sab kuch nahi karte usme arpan jo aap ka bhav hai kis bhav ke saath aap unko arpita kar rahe ho uska bhog lagate hain maine santo ke mukh se ek katha suni hai main aapko sunata hoon choti si katha dhyan purvak suniye jaayega bahut hi prasangik vishay hai ek vyakti tha jaisa ki aaj hum hinduon me ek vichardhara hoti hai ki hum ganesh ji ko bhi maante hain laxmi ji ko bhi maante hain toh use kisi ne salah diya ki agar aapko padhai me paas hona hai aur toh aap ganesh ji ki puja kare toh aap paas ho jaenge us vyakti ne poore saal ganesh ji ki puja kyon fail ho gaya usne band kiya bhagwan ko lapeta utha kar rakh diya kisi kone ke kaand me kaun hai main hal ka sachitr phir usko salah diya gaya kisi ne kaha ki aap saraswati ji ke puja kariye vaah gyaan ki devi hai aapne galat kiya isliye aap fail ho gaye phir usne agle saal se saraswati ji ki puja aarambh kar di phir vaah jab delhi me ko diya lagaata agarbatti lagaata toh dekhta 1 din kya hua ki hawa ka pravah is tarah se chal agarbatti toh saraswati ji ko dikha raha tha saraswati maa ko dikha raha tha lekin uske yudh hua tha vaah ud karke us kaand ki aur ja raha tha jaha par ganesh ji baithe hue the jaha par ganesh ji ki murti bada tez krodhit hua ka kaam toh mera kuch kiya nahi aur dhuan ki saugandh main aapko kyon doon usne kya kiya ganesh ji ko wahan se uthaya le jaakar bakse me band kiya aaj aapne mera koi kaam nahi kiya toh aapko mere se agarbatti ka swaad chakhane ka bhi koi haq nahi hai toh yahan par sant batatey hain ki phir ganesh ji avtarit hue uske us bhav se prasann hue kyon yahan par bhav aap samajh jaega us vyakti ne close dikhaya halaki bhagwan ke upar lekin uska bhav kya tha ki aap vastavik me hamare agarbatti ki sugandh le rahe hain toh bhagwan ko swayam wahan par aana pada ishwar ko swayam wahan par avtarit hona pada mujhe nahi pata jaaye ki yah ghatna sachi hai jhuthi hai kya lekin yahan par bhav sakte hain agar aap ka bhav hai toh aap ishwar ka paravartit roop tamaam samay par kai chijon me bhinn bhinn roop me bhi dekh sakte hain is kahani ke bhavarth me aap is chijon ko samajh sakte hain ki bhav hi bhojan bhav nahi hai bhagwan hamara bhav hi arpan sweekar karte hain aur bhav hi khate hain aur bhav ke bhukhe

बहुत ही उचित प्रश्न और एक मार्मिक प्रश्न आपने पूछा है भगवान खाते क्या है एक शब्द में अगर म

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  118
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!