अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचें?...


user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नियमित रूप से योगदान और कपालभाति क्रिया अनुलोम विलोम के बारे में जानकारी

niyamit roop se yogdan aur kapalbhati kriya anulom vilom ke bare me jaankari

नियमित रूप से योगदान और कपालभाति क्रिया अनुलोम विलोम के बारे में जानकारी

Romanized Version
Likes  366  Dislikes    views  3071
WhatsApp_icon
17 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes  222  Dislikes    views  2812
WhatsApp_icon
user
9:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचें यह बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न है हम सभी के सामने खासकर यह जो कोरोनावायरस विश्व वैश्विक आपदा जो आपके सामने हैं उसके बाद तो अवसाद से बचने के लिए अवसाद को थोड़ा सा समझना जरूरी है एक मनोचिकित्सक के नाते अवसाद को समझाने के लिए उस समय चाहिए लेकिन संक्षेप में अगर कहे तो अवसाद यानी के डिप्रेशन व मानसिक अवस्था है जिसमें ज्यादातर वक्त ग्रसित मनुष्य सोचने समझने और व्यवहार करने की क्षमता की कमी आ जाती है वह जाकर वक्त उदास रहता है जिन कामों में पहले मन लगता था उसका आता था वह नहीं कर पाता निर्णय लेने की क्षमता कम हो जाती है भूख लगना और निद्रा वजन कम होना इसमें शामिल है चिड़चिड़ा हाट होना आत्महत्या के मन में विचार आना यह सभी इस बीमारी के लक्षण तो आप यह देखेंगे कि अवसाद के कारण भी क्या है अगर यह कारण समझ में आ जाए तो हम बचने की एक प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं तो पिछले 50 साल से अवसाद के बारे में जो मनोवैज्ञानिक सोच रहे हैं समझ रहे हैं उन्हें मुख्यतः चार प्रकार के कारण समझ में आए हैं वह कौन-कौन से एक तो शारीरिक मतलब शारीरिक बीमारियों की वजह से डिप्रेशन होना जो भी दीर्घकालीन बीमारियां हैं जैसे कि ब्लड प्रेशर डायबिटीज कैंसर और कुछ शारीरिक विकलांगता है जिसे अस्थि भंग होना करण भंग होना आंखों का कोई प्रॉब्लम या लंबे समय तक कोई बीमार है यह सारी अवस्था है और इनसे इन में होने वाली औषधि उपचार एक डिप्रेशन को जन्म देती है शारीरिक कारण जो है उसे हम अगर समय रहते जान लें और दीर्घकालीन बीमारी अगर ना होने दें तो यह भी डिप्रेशन से एक रोकथाम हो सकती है फिर दूसरा है मुख्य रूप से मानसिक कारण मानसिक कारण अनेक प्रकार से डिप्रेशन को या अवसाद को जन्म देते हैं इसके बारे में मैं विस्तारपूर्वक थोड़ी देर के बाद में बात करूंगा फिर आते हैं सामाजिक कारण और अब आर्थिक कारण अभी के परिवेश में आपको ज्यादा से ज्यादा समझ में आएगा कि एक कहावत के तौर पर आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपैया अभी फिलहाल 2 महीने से तो आमदनी सुनने और खर्चा रुपैया हो रहा है तो यह सारी जो चीजें हो रही हैं यह मानसिक अवसाद को बढ़ाने की बातें हो रही है इनसे बचने के लिए एक व्यक्ति क्या कर सकता है सबसे पहले यह बात मन में गांठ बांध ले स्वस्थ शरीर ही स्वस्थ मन को रख सकता है ऐसा नहीं है कि शरीर अस्वस्थ हैं और फिर भी मन प्रफुल्लित रहें तू स्वस्थ शरीर के अंदर ही स्वस्थ मन का वास हो सकता है यह करने के लिए शारीरिक स्वास्थ्य के ऊपर आप पुरजोर प्रयत्न करें एक नियमित समय पर आप सोए नियमित समय पर आप उठे लेकिन रेगुलर नियमित आहार लें अपनी पाचन क्षमता को और अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखें जिससे आपका मन भी निरोगी रहेगा तो यह बहुत बड़ा प्रोटेक्टिव पर आपके पास है जिनको शारीरिक दुर्बलता है या शारीरिक बीमारियां है उनमें मानसिक अवसाद होने के लक्षण जाना है तो आप जानो से आना समय आपके शरीर को स्वस्थ बनाने में लगे और उसे मेंटेन करें दूसरे बताते हैं मानसिक मानसिक क्या कारण है जो अवसाद को जन्म देते हैं उसी में मानसिक अवसाद से बचने का तरीका है आप देखेंगे कि हर अवस्था में उसने कुछ मानसिक विघ्न उत्पन्न होते हैं मानसिक प्लेस उत्पन्न होता है और मानसिक दुविधा उत्पन्न होती है इससे बच्चों में देखा जाए तो पढ़ाई का तनाव रहता है या घर में भाइयों से बहनों से कुछ झगड़ा हो रहा है कुछ अभाव है उसकी वजह से मानसिक तान होता है या पाल पालक का ज्यादा परेशान है कि भैया इतने ही नंबर लाना है उसका प्रेशर है तब भी मानसिक अवसाद हो सकता है तो चाहिए हमें कि हम रियलिस्टिकली सोचे और एक जो हमारे हद के अंदर चीजें हैं वही करने का हम प्रयास करें जिससे मानसिक द्वंद परेशानियां पैदा हो और हम अवसाद में जाने से बचे की बहुत ही छोटे इसमें मैं बात कर रहा हूं क्योंकि यह बहुत बड़ा टॉपिक है इसलिए मैं छोटे इसमें बोल रहा हूं आप मानसिक द्वंद मानसिक उलझनों से बचें अगर कुछ परेशानी हो रही हो तो किसी बड़े से सलाह लें अपना हमराज रखें अपनी मन की बातें कुंती और उसे समय-समय पर मित्रों के साथ शेयर करें जिससे आप मानसिक द्वंद से बच सकते हैं फिर आती है सामाजिक कई बार रहता है कि समाज के दबाव से हमें कई कार्य करने पड़ते हैं जो हमारे मन के अनुकूल नहीं होते और उसके वजह से मनुष्य मानसिक पास में आ जाता है और धीरे-धीरे वह मानसिक त्रास अवसाद में बदल जाता है एक बहुत ही चर्चित मैगजीन है सरिता जो हिंदी मासिक है उसमें हमारी बेड़ियां करके एक कॉलम आता है आप उसे पड़ी है तो हमारे को समझ में आएगा कि हर गली नुक्कड़ और हर समाज के पक्के में कुछ न कुछ सामाजिक बढ़िया है और उसकी वजह से मानसिक तान हो रहा है तो जरूरत है हम वह चीजों को समझने और समाज के लिए करना ही पड़ेगा उस दबाव में ना आए जिससे हम अवसाद से भर सकें अब आता है आर्थिक आर्थिक दबाव भी आज की तारीख में सबसे सर्वोपरि हो गया है मानसिक अवसाद के लिए तो चाहते हैं हम हमारे बुजुर्गों की कहावत याद करें कि जितनी चादर है उतने ही पैर पसारे मतलब हमारी जरूरतों को हम अपने वश में रखें जरूरतों के अधीन होकर समय पैसानो खर्चा करें और हम चाहते हैं कि एक जिम्मेदार व्यक्ति जिस प्रकार से रह रहा है वह जिम्मेदारियों को सहन करते हुए समझते हुए आप है नहीं तो क्या होता है कि दिखावे की जिंदगी में आदमी चले जाता है और आर्थिक रूप से कमजोर हो जाता है और यह जो आर्थिक कमजोरी है यह एक मरुस्थल की तरह है जो आपको अपने आवेश में लेकर इतना ज्यादा प्रताड़ित करती है कि मनुष्य वही बार आर्थिक तंगी के रूप में सिर्फ आत्महत्या ही उस अवसाद से निकलने का कारण दिखती है मेरे पास कहीं रॉकी आए हैं जो आर्थिक रूप से इतने ज्यादा तकलीफ में है और वह चाहते हैं कि हमें कैसे भी करके अब पैसे कैसे कमाए उसकी निजात बता दे मतलब तरीका बता दी जिससे हम यह मानसिक अवसाद से निकल जाए उसके लिए उन्हें बस एक ही तरीका सोचता है कि कैसे भी करके हम इस तकलीफ से निकल जाए तो आर्थिक नियोजन भी एक बहुत बड़ा कारण है अवसाद में जाने का तो अगर आप यह चारों चीजें मतलब शारीरिक मानसिक सामाजिक और आर्थिक दृष्टि से आप सजग रहेंगे इन चारों में सामान्य स्थापित करते रहेंगे तो आप निश्चित ही अवसाद से कोसों दूर रहेंगे आशा करता हूं कि मेरा यह जवाब आप को समझने में मदद करेगा धन्यवाद

apne jeevan me avsad se kaise bache yah bahut hi mahatvapurna prashna hai hum sabhi ke saamne khaskar yah jo coronavirus vishwa vaishvik aapda jo aapke saamne hain uske baad toh avsad se bachne ke liye avsad ko thoda sa samajhna zaroori hai ek manochikitsak ke naate avsad ko samjhane ke liye us samay chahiye lekin sankshep me agar kahe toh avsad yani ke depression va mansik avastha hai jisme jyadatar waqt grasit manushya sochne samjhne aur vyavhar karne ki kshamta ki kami aa jaati hai vaah jaakar waqt udaas rehta hai jin kaamo me pehle man lagta tha uska aata tha vaah nahi kar pata nirnay lene ki kshamta kam ho jaati hai bhukh lagna aur nidra wajan kam hona isme shaamil hai chidchida haate hona atmahatya ke man me vichar aana yah sabhi is bimari ke lakshan toh aap yah dekhenge ki avsad ke karan bhi kya hai agar yah karan samajh me aa jaaye toh hum bachne ki ek prakriya shuru kar sakte hain toh pichle 50 saal se avsad ke bare me jo manovaigyanik soch rahe hain samajh rahe hain unhe mukhyata char prakar ke karan samajh me aaye hain vaah kaun kaun se ek toh sharirik matlab sharirik bimariyon ki wajah se depression hona jo bhi dirghakalin bimariyan hain jaise ki blood pressure diabetes cancer aur kuch sharirik vikalaangata hai jise asthi bhang hona karan bhang hona aakhon ka koi problem ya lambe samay tak koi bimar hai yah saari avastha hai aur inse in me hone wali aushadhi upchaar ek depression ko janam deti hai sharirik karan jo hai use hum agar samay rehte jaan le aur dirghakalin bimari agar na hone de toh yah bhi depression se ek roktham ho sakti hai phir doosra hai mukhya roop se mansik karan mansik karan anek prakar se depression ko ya avsad ko janam dete hain iske bare me main vistarapurvak thodi der ke baad me baat karunga phir aate hain samajik karan aur ab aarthik karan abhi ke parivesh me aapko zyada se zyada samajh me aayega ki ek kahaavat ke taur par aamdani athanni aur kharcha rupaiya abhi filhal 2 mahine se toh aamdani sunne aur kharcha rupaiya ho raha hai toh yah saari jo cheezen ho rahi hain yah mansik avsad ko badhane ki batein ho rahi hai inse bachne ke liye ek vyakti kya kar sakta hai sabse pehle yah baat man me ganth bandh le swasth sharir hi swasth man ko rakh sakta hai aisa nahi hai ki sharir aswasth hain aur phir bhi man prafullit rahein tu swasth sharir ke andar hi swasth man ka was ho sakta hai yah karne ke liye sharirik swasthya ke upar aap purjor prayatn kare ek niyamit samay par aap soye niyamit samay par aap uthe lekin regular niyamit aahaar le apni pachan kshamta ko aur apni pratirodhak kshamta ko banaye rakhen jisse aapka man bhi nirogee rahega toh yah bahut bada Protective par aapke paas hai jinako sharirik durbalata hai ya sharirik bimariyan hai unmen mansik avsad hone ke lakshan jana hai toh aap jano se aana samay aapke sharir ko swasth banane me lage aur use maintain kare dusre batatey hain mansik mansik kya karan hai jo avsad ko janam dete hain usi me mansik avsad se bachne ka tarika hai aap dekhenge ki har avastha me usne kuch mansik vighn utpann hote hain mansik place utpann hota hai aur mansik duvidha utpann hoti hai isse baccho me dekha jaaye toh padhai ka tanaav rehta hai ya ghar me bhaiyo se bahnon se kuch jhagda ho raha hai kuch abhaav hai uski wajah se mansik taan hota hai ya pal paalak ka zyada pareshan hai ki bhaiya itne hi number lana hai uska pressure hai tab bhi mansik avsad ho sakta hai toh chahiye hamein ki hum realistically soche aur ek jo hamare had ke andar cheezen hain wahi karne ka hum prayas kare jisse mansik dwand pareshaniya paida ho aur hum avsad me jaane se bache ki bahut hi chote isme main baat kar raha hoon kyonki yah bahut bada topic hai isliye main chote isme bol raha hoon aap mansik dwand mansik ulazanon se bache agar kuch pareshani ho rahi ho toh kisi bade se salah le apna hamraj rakhen apni man ki batein kuntee aur use samay samay par mitron ke saath share kare jisse aap mansik dwand se bach sakte hain phir aati hai samajik kai baar rehta hai ki samaj ke dabaav se hamein kai karya karne padate hain jo hamare man ke anukul nahi hote aur uske wajah se manushya mansik paas me aa jata hai aur dhire dhire vaah mansik tras avsad me badal jata hai ek bahut hi charchit magazine hai sarita jo hindi maasik hai usme hamari bediyan karke ek column aata hai aap use padi hai toh hamare ko samajh me aayega ki har gali nukkad aur har samaj ke pakke me kuch na kuch samajik badhiya hai aur uski wajah se mansik taan ho raha hai toh zarurat hai hum vaah chijon ko samjhne aur samaj ke liye karna hi padega us dabaav me na aaye jisse hum avsad se bhar sake ab aata hai aarthik aarthik dabaav bhi aaj ki tarikh me sabse sarvopari ho gaya hai mansik avsad ke liye toh chahte hain hum hamare bujurgon ki kahaavat yaad kare ki jitni chadar hai utne hi pair pasare matlab hamari jaruraton ko hum apne vash me rakhen jaruraton ke adheen hokar samay paisano kharcha kare aur hum chahte hain ki ek zimmedar vyakti jis prakar se reh raha hai vaah jimmedariyon ko sahan karte hue samajhte hue aap hai nahi toh kya hota hai ki dikhaave ki zindagi me aadmi chale jata hai aur aarthik roop se kamjor ho jata hai aur yah jo aarthik kamzori hai yah ek marusthal ki tarah hai jo aapko apne aavesh me lekar itna zyada pratarit karti hai ki manushya wahi baar aarthik tangi ke roop me sirf atmahatya hi us avsad se nikalne ka karan dikhti hai mere paas kahin rocky aaye hain jo aarthik roop se itne zyada takleef me hai aur vaah chahte hain ki hamein kaise bhi karke ab paise kaise kamaye uski nijat bata de matlab tarika bata di jisse hum yah mansik avsad se nikal jaaye uske liye unhe bus ek hi tarika sochta hai ki kaise bhi karke hum is takleef se nikal jaaye toh aarthik niyojan bhi ek bahut bada karan hai avsad me jaane ka toh agar aap yah charo cheezen matlab sharirik mansik samajik aur aarthik drishti se aap sajag rahenge in charo me samanya sthapit karte rahenge toh aap nishchit hi avsad se koson dur rahenge asha karta hoon ki mera yah jawab aap ko samjhne me madad karega dhanyavad

अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचें यह बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न है हम सभी के सामने खासकर यह

Romanized Version
Likes  529  Dislikes    views  4166
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचे अब से बचने का सीधा असर बहुत सामान्य से तरीका है कि आप अपने आप को फिजिकली एंड मेंटली बिजी कर दे या तो आप पुस्तकें पढ़ें पूजन कीजिए आप घूमे फिरे सब विचारों को सादर साहित्य आप पढ़े और जब आपको ज्यादा कहीं लगता है तो आप भजन-कीर्तन भी कर सकते हैं आजकल वर्तमान समय में जगह-जगह भजन कीर्तन मंडली में बनी हुई है सत्संग हो रहा है टीवी पर भी सत्संग देख सकते हैं और सुंदर सु मधुर भजन सुन सकते हैं आज से आपसे आपका अब आप बहुत अधिक आता का आपका अच्छा समाप्त हो सकता है

apne jeevan me avsad se kaise bache ab se bachne ka seedha asar bahut samanya se tarika hai ki aap apne aap ko physically and mentally busy kar de ya toh aap pustakein padhen pujan kijiye aap ghume fire sab vicharon ko sadar sahitya aap padhe aur jab aapko zyada kahin lagta hai toh aap bhajan kirtan bhi kar sakte hain aajkal vartaman samay me jagah jagah bhajan kirtan mandali me bani hui hai satsang ho raha hai TV par bhi satsang dekh sakte hain aur sundar su madhur bhajan sun sakte hain aaj se aapse aapka ab aap bahut adhik aata ka aapka accha samapt ho sakta hai

अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचे अब से बचने का सीधा असर बहुत सामान्य से तरीका है कि आप अपने

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  204
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने जीवन में और सांप से कैसे बचें मेरा घर से निकलने के लिए अपने कामों की लिस्ट में नए लोगों से मिले उन्हें उनके विषय में समझाएं नियम और शर्तें और अपनी पक्षी के अनुसार मनीष ठाकुर करें लोगों से मिलकर रखनी है जो विधान को और दूसरों की दुआएं को बातें उनकी समस्याओं को हल करें उनके जीवन में इतनी उम्मीद है उन को सहारा दे और उनसे जीवन में आगे बढ़ने की मीठे रस से निश्चय ही हमें जीवन में अपाचे बांध करने का मौका मिलेगा

apne jeevan me aur saap se kaise bache mera ghar se nikalne ke liye apne kaamo ki list me naye logo se mile unhe unke vishay me samjhaye niyam aur sharten aur apni pakshi ke anusaar manish thakur kare logo se milkar rakhni hai jo vidhan ko aur dusro ki duaen ko batein unki samasyaon ko hal kare unke jeevan me itni ummid hai un ko sahara de aur unse jeevan me aage badhne ki meethe ras se nishchay hi hamein jeevan me apache bandh karne ka mauka milega

अपने जीवन में और सांप से कैसे बचें मेरा घर से निकलने के लिए अपने कामों की लिस्ट में नए लोग

Romanized Version
Likes  438  Dislikes    views  4203
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  124  Dislikes    views  2776
WhatsApp_icon
user

YogaChary Ajay Makwana

Founder & Director - Om Divine Yoga Foundation

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में अवसाद से बचने के लिए जरूरी है योगाभ्यास अच्छी जीवनशैली हर दिन पूरे 7 से 8 घंटे की गली के पोस्टिक आहार लीजिए फ्रूट सुका मेवा का सेवन कीजिए आमला से विटामिन पी लीजिए और हर दिन एक से डेढ़ घंटा आसन प्राणायाम ध्यान योगनिद्रा का अभ्यास कीजिए हर दिन कुछ अच्छा म्यूजिक सुने और हर दिन अपने जो शौक है वह भी है उसको उसको अप्लाई ए जिससे अवसाद से हम बच सकते हैं ओम नमः शिवाय

jeevan me avsad se bachne ke liye zaroori hai yogabhayas achi jeevan shaili har din poore 7 se 8 ghante ki gali ke paustik aahaar lijiye fruit suka mewa ka seven kijiye amla se vitamin p lijiye aur har din ek se dedh ghanta aasan pranayaam dhyan yognidra ka abhyas kijiye har din kuch accha music sune aur har din apne jo shauk hai vaah bhi hai usko usko apply a jisse avsad se hum bach sakte hain om namah shivay

जीवन में अवसाद से बचने के लिए जरूरी है योगाभ्यास अच्छी जीवनशैली हर दिन पूरे 7 से 8 घंटे की

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  1999
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:46
Play

Likes  180  Dislikes    views  5997
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचें अवसाद से बचने के लिए आपको चाहिए कि आप अपने दोस्तों अपने रिश्तेदारों अपने ऑफिस में खुश रहे हमेशा मस्त रहने की कोशिश करें कि किस डेट में रहे हैं जिसमें कि आप पसंद हो आप हमेशा दिन में चार बार भगवान को धन्यवाद दे ईश्वर आपने मुझे यह जीवन मैं आपका कर्जदार हूं आप मुझे स्वस्थ रखे प्रसन्न रखे आपकी कृपा से में प्रसन्न हो जीवन में आनंद ही आनंद है और इस इस तरीके से आप जीवन अवसाद से भर सकते हैं किसी भी तरह की कोई भी लड़ाई झगड़े से बचें मन बताओ से बचें घर में शांति रखें घर में किसी तरह का विवाद ना करें यूपी बेसिक जब भी हमारे जीवन में कोई विवाद होता है या फिर किसी भी तरह की अनएक्सपेक्टेडली होती तो आप सदा जाता है लेकिन जीवन ही अनेक लड़कियों का नाम है जिसका नाम है ऐसा कोई भी जीवन ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जिसके जीवन में हर्डल्स नहीं आते परेशानियां नहीं आती अब परेशानी आए तो आप उसके लिए अपने दिमाग को प्रिपेयर रखें परेशानियां तो आएंगी हैं उसके लिए आप अनुलोम विलोम प्राणायाम प्राणायाम करें और उससे निश्चित ही लाभ मिलेगा

namaskar apne jeevan me avsad se kaise bache avsad se bachne ke liye aapko chahiye ki aap apne doston apne rishtedaron apne office me khush rahe hamesha mast rehne ki koshish kare ki kis date me rahe hain jisme ki aap pasand ho aap hamesha din me char baar bhagwan ko dhanyavad de ishwar aapne mujhe yah jeevan main aapka karzdar hoon aap mujhe swasth rakhe prasann rakhe aapki kripa se me prasann ho jeevan me anand hi anand hai aur is is tarike se aap jeevan avsad se bhar sakte hain kisi bhi tarah ki koi bhi ladai jhagde se bache man batao se bache ghar me shanti rakhen ghar me kisi tarah ka vivaad na kare up basic jab bhi hamare jeevan me koi vivaad hota hai ya phir kisi bhi tarah ki anaeksapektedali hoti toh aap sada jata hai lekin jeevan hi anek ladkiyon ka naam hai jiska naam hai aisa koi bhi jeevan aisa koi bhi vyakti nahi hai jiske jeevan me hurdles nahi aate pareshaniya nahi aati ab pareshani aaye toh aap uske liye apne dimag ko prepare rakhen pareshaniya toh aayengi hain uske liye aap anulom vilom pranayaam pranayaam kare aur usse nishchit hi labh milega

नमस्कार अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचें अवसाद से बचने के लिए आपको चाहिए कि आप अपने दोस्तो

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  220
WhatsApp_icon
user

Suruchi Sharma

Professional Psycho Social / Health / Career Counsellor

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने जीवन में अच्छा से बचने के लिए आवश्यक है कि आप अपने सभी ऐसे विषय पर कार्य करें जिनसे किया एक खुशी एक आनंद का अनुभव करते हैं जैसे संगीत सुन सकते हैं इकरा के द्वारा भी आप अपने अपराध से बच सकते हैं साथ ही अपनी बातों को अपने सन अपनी समस्याओं को अपने परिवार अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले जिससे कि इस चीज में कमी आती और आप अवसाद ग्रस्त होने से अपने आप को बचा सकते हैं अपने आप को मुक्त रख सकते हैं

apne jeevan mein accha se bachne ke liye aavashyak hai ki aap apne sabhi aise vishay par karya kare jinse kiya ek khushi ek anand ka anubhav karte hain jaise sangeet sun sakte hain iqra ke dwara bhi aap apne apradh se bach sakte hain saath hi apni baaton ko apne san apni samasyaon ko apne parivar apne doston ke saath share karna na bhule jisse ki is cheez mein kami aati aur aap avsad grast hone se apne aap ko bacha sakte hain apne aap ko mukt rakh sakte hain

अपने जीवन में अच्छा से बचने के लिए आवश्यक है कि आप अपने सभी ऐसे विषय पर कार्य करें जिनसे क

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:03

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत अच्छा प्रश्न अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचे बहुत अच्छी बात है और उससे बचने के लिए क्या करना होगा असर से बचने के लिए आप कुछ टिप्स इसके लिए सबसे पहले हमेशा हंसते रहे दूसरे की खुशी के पल जिले तीसरा है दिल की बात सुने ठीक है तीसरा है आज में जीना सीखें चौथा है मन में नफरत ना रखें छठा है दर्द जीना सीखें सातवा है अपनी तुलना दूसरों से ना करें अथवा है अच्छी संगत में रहे नौमा है आत्मविश्वास पैदा करें और दसवां है लालच ना करें डिप्रेशन से बचने के लिए 10 टिप्स का उपयोग करेंगे तो हम सर आपको कभी डिप्रेशन नहीं होगा और एक आप अच्छे से बेहतर हैप्पी लाइफ जीते लाइफ केयर

bahut accha prashna apne jeevan mein avsad se kaise bache bahut achi baat hai aur usse bachne ke liye kya karna hoga asar se bachne ke liye aap kuch tips iske liye sabse pehle hamesha hansate rahe dusre ki khushi ke pal jile teesra hai dil ki baat sune theek hai teesra hai aaj mein jeena sikhe chautha hai man mein nafrat na rakhen chhata hai dard jeena sikhe satva hai apni tulna dusro se na kare athva hai achi sangat mein rahe nauma hai aatmvishvaas paida kare aur dasvan hai lalach na kare depression se bachne ke liye 10 tips ka upyog karenge toh hum sir aapko kabhi depression nahi hoga aur ek aap acche se behtar happy life jeete life care

बहुत अच्छा प्रश्न अपने जीवन में अवसाद से कैसे बचे बहुत अच्छी बात है और उससे बचने के लिए क्

Romanized Version
Likes  414  Dislikes    views  5178
WhatsApp_icon
user

Priyanka

Psychologist

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अवसाद से बचने के लिए सबसे पहले तो नेटिविटी ढूंढना बंद कीजिए हर चीज को नेगेटिव पॉजिटिव से रिप्लेस करना सीखिए दूसरे मद लाइफ़स्टाइल को चेंज कीजिए एक्सरसाइज सा लिए 8 दिन आपको 30 मिनट सक्सेस आईएस करनी है योगा करना है मेडिटेशन करना है मेडिटेशन के लिए आम गाने चलाकर जैसे कि ओम का उच्चारण से मेडिटेशन कर सकते हैं उस समय न्यूरोट्रांसमीटर होते हैं तो उनका मेडिटेशन कि सिर्फ उसके अलावा आप झूठ तो खा रहे हैं वह जौनपुर से बची अच्छा हेल्दी फूड खाई है कि मुझे टेबल सिखाइए वाला दिखाइए ओम मंत्र खाई है प्रेजेंट स्काई है बहुत अच्छा होता है हमारे लिए तो इन सब तरीके से आप अपने डिप्रेशन से बच सकते हैं

avsad se bachne ke liye sabse pehle toh netiviti dhundhana band kijiye har cheez ko Negative positive se replace karna sikhiye dusre mad lifestyle ko change kijiye exercise sa liye 8 din aapko 30 minute success ias karni hai yoga karna hai meditation karna hai meditation ke liye aam gaane chalakar jaise ki om ka ucharan se meditation kar sakte hain us samay nyurotransamitar hote hain toh unka meditation ki sirf uske alava aap jhuth toh kha rahe hain vaah jaunpur se bachi accha healthy food khai hai ki mujhe table sikhaiye vala dikhaaiye om mantra khai hai present sky hai bahut accha hota hai hamare liye toh in sab tarike se aap apne depression se bach sakte hain

अवसाद से बचने के लिए सबसे पहले तो नेटिविटी ढूंढना बंद कीजिए हर चीज को नेगेटिव पॉजिटिव से र

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  972
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री भट्ट ने जीवन एक साथ से बचना चाहते हैं तो मेहनत कीजिए परीक्षण कीजिए मन में हीन भावना को बल अपने नहीं रहे मन में हमेशा पोस्टेड का रखें हमेशा सकारात्मक कार्य करें हमेशा पुरुषों की जीवनी पानी धार्मिक ग्रंथों को पड़ी जिससे आपको आत्मविश्वास बढ़ेगा बल मिलेगा आप हमेशा अपने लक्ष्य की ओर ध्यान दें मन में दुखी नहीं लगे मन को पॉजिटिव रखें हमेशा सकारात्मक कार्य करें जीवन में आगे बढ़ते हैं भाई साहब करें आप जल्द सफलता प्राप्त करेंगे

shri bhatt ne jeevan ek saath se bachna chahte hain toh mehnat kijiye parikshan kijiye man mein heen bhavna ko bal apne nahi rahe man mein hamesha posted ka rakhen hamesha sakaratmak karya kare hamesha purushon ki jeevni paani dharmik granthon ko padi jisse aapko aatmvishvaas badhega bal milega aap hamesha apne lakshya ki aur dhyan de man mein dukhi nahi lage man ko positive rakhen hamesha sakaratmak karya kare jeevan mein aage badhte hain bhai saheb kare aap jald safalta prapt karenge

श्री भट्ट ने जीवन एक साथ से बचना चाहते हैं तो मेहनत कीजिए परीक्षण कीजिए मन में हीन भावना क

Romanized Version
Likes  183  Dislikes    views  1572
WhatsApp_icon
user

Ryan

(Prepression Of Pcsj) & Owner of R V Hot & Cool Point

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप जीवन में अपने पॉजिटिव सोच के साथ रहते हैं सकारात्मक सोच के साथ अगर आगे बढ़ते हैं तो आप कभी भी अवसाद से ग्रस्त नहीं होंगे आसान से आदमी दिवस कब होता है जब गलत सोचता है नेगेटिव पूछता है ठीक है ना कि करिए कि आपने बिजनेस शुरू किया नुकसान हो गया अपने यार मैं यही करता है यही करता यही करता कुछ भी जॉब करना है क्या वहां से कोई परेशानी हो गई निकल गया छोड़ दिया यार मेरे साथ ऐसा ही होता है भगवान ही ऐसा करता है मैं तो कोई बात नहीं काम करने वालों की कमी नहीं होती मेरा भाई अगर आपको इस पॉजिटिव सोच के साथ अगर आगे बढ़ेंगे ना तो कभी और साथ में आएंगे कि नहीं मेरे भाई ठीक है ना ओके लोग शिकायत करते हैं कि अभी भी उनकी सुनती नहीं है वह भी रियल अरे नहीं सुनती तुम्हारी सुन्नी तुम ही उनकी जाम हो जाता है चौधरी नहीं वह चीज की वह चीज वह प्रॉब्लम कर रही है पूरी गाड़ी चेंज करोगे तो चेंज करोगे अरेंज छोटी-छोटी बातें पूछते हो यार क्या यार छोटी-छोटी बातें मोहब्बत रहो हमेशा सकारात्मक सोच के बताइए बोलोगे बहुत मजा आएगा कभी आसान नहीं होगा ठीक है ना

agar aap jeevan me apne positive soch ke saath rehte hain sakaratmak soch ke saath agar aage badhte hain toh aap kabhi bhi avsad se grast nahi honge aasaan se aadmi divas kab hota hai jab galat sochta hai Negative poochta hai theek hai na ki kariye ki aapne business shuru kiya nuksan ho gaya apne yaar main yahi karta hai yahi karta yahi karta kuch bhi job karna hai kya wahan se koi pareshani ho gayi nikal gaya chhod diya yaar mere saath aisa hi hota hai bhagwan hi aisa karta hai main toh koi baat nahi kaam karne walon ki kami nahi hoti mera bhai agar aapko is positive soch ke saath agar aage badhenge na toh kabhi aur saath me aayenge ki nahi mere bhai theek hai na ok log shikayat karte hain ki abhi bhi unki sunti nahi hai vaah bhi real are nahi sunti tumhari sunni tum hi unki jam ho jata hai choudhary nahi vaah cheez ki vaah cheez vaah problem kar rahi hai puri gaadi change karoge toh change karoge arrange choti choti batein poochhte ho yaar kya yaar choti choti batein mohabbat raho hamesha sakaratmak soch ke bataiye bologe bahut maza aayega kabhi aasaan nahi hoga theek hai na

अगर आप जीवन में अपने पॉजिटिव सोच के साथ रहते हैं सकारात्मक सोच के साथ अगर आगे बढ़ते हैं तो

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Devendra Dwivedi

Business Owner

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके जीवन में अब सत्य कैसे बचाई आपका है क्वेश्चन अब स्वाद कैसा रहता है कोई भी ऐसी लाइफ में कभी कभी प्रॉब्लम आते जिनकी वजह से आदमी टूट जाता है मायूस हो जाता है लेकिन यह सारी चीजें क्षणिक होती है कुछ समय के लिए की कोई चीज पर मन नहीं होता अब जैसे जैसे आगे बढ़ते हैं वैसे वैसे आप कुछ नया करने की कोशिश कीजिए कुछ गलत हो गया तो उसको क्वालिटी प्लीज उससे उबरने की कोशिश कीजिए

aapke jeevan me ab satya kaise bachai aapka hai question ab swaad kaisa rehta hai koi bhi aisi life me kabhi kabhi problem aate jinki wajah se aadmi toot jata hai maayus ho jata hai lekin yah saari cheezen kshanik hoti hai kuch samay ke liye ki koi cheez par man nahi hota ab jaise jaise aage badhte hain waise waise aap kuch naya karne ki koshish kijiye kuch galat ho gaya toh usko quality please usse ubarane ki koshish kijiye

आपके जीवन में अब सत्य कैसे बचाई आपका है क्वेश्चन अब स्वाद कैसा रहता है कोई भी ऐसी लाइफ में

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user

Kamlesh Kumar Jay Mata ki

Berojgar Vyavsay Ki Khoj

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय माता दी बहुत ही सुंदर प्रश्न आपने पूछा है कि हम जीवन में अवसादो को कैसे मिटा सकते हैं या खत्म कर सकते हैं कि पैदा ही ना हो तो देखिए आज के युग में हर जगह हर मनुष्य करीब करीब जो धर्म से विचलित हैं वह लोग ज्यादा है अर्थात काम क्रोध लोभ मोह के वश में है अंधा धुंध अपने जीवन को व्यर्थ नष्ट कर रहे हैं इसलिए अगर आप धर्म के जड़ को समझते हो या धर्म के आधीन हो धर्म के अनुसार अपने जीवन को यापन करते हो और अवसाद से दूर रहना चाहते हो तो अपने आप को संभाल लिए अगर आपको आपकी आंखों के सामने ऐसा दृश्य हो जो आपको अच्छा नहीं लगता हो या आपको धर्म को कहीं ना कहीं चोट पहुंचाता हो तो आप अंधे बन जाइए अगर ऐसे शब्द आपको आपके धर्म से भटका आते हैं या वितरित करते हैं तो आप मेरे बन जाइए जहां पर ऐसी वाणी बोली जा रही हो ऐसे शब्द आपको शुभ रहे हो जो धर्म के बिल्कुल विपरीत हो अर्थात आप हर चीज से अपने आप को संभाल कर अपने जीवन के अपने कर्तव्यों को पार करिए यहीं कहीं आपको ऐसा गुस्सा आ रहा हो तो आप चुप्पी साध लीजिए आप गूंगे बन जाइए यही सत्य है और यही इस पाप रूपी गंगा से अपने को पार कर आ सकता है यही हथियार यही ब्रह्मास्त्र है जय माता दी

jai mata di bahut hi sundar prashna aapne poocha hai ki hum jeevan me avasado ko kaise mita sakte hain ya khatam kar sakte hain ki paida hi na ho toh dekhiye aaj ke yug me har jagah har manushya kareeb kareeb jo dharm se vichalit hain vaah log zyada hai arthat kaam krodh lobh moh ke vash me hai andha dhundh apne jeevan ko vyarth nasht kar rahe hain isliye agar aap dharm ke jad ko samajhte ho ya dharm ke adhin ho dharm ke anusaar apne jeevan ko yaapan karte ho aur avsad se dur rehna chahte ho toh apne aap ko sambhaal liye agar aapko aapki aakhon ke saamne aisa drishya ho jo aapko accha nahi lagta ho ya aapko dharm ko kahin na kahin chot pohchta ho toh aap andhe ban jaiye agar aise shabd aapko aapke dharm se bhataka aate hain ya vitrit karte hain toh aap mere ban jaiye jaha par aisi vani boli ja rahi ho aise shabd aapko shubha rahe ho jo dharm ke bilkul viprit ho arthat aap har cheez se apne aap ko sambhaal kar apne jeevan ke apne kartavyon ko par kariye yahin kahin aapko aisa gussa aa raha ho toh aap chuppi saadh lijiye aap gunge ban jaiye yahi satya hai aur yahi is paap rupee ganga se apne ko par kar aa sakta hai yahi hathiyar yahi Brahmastr hai jai mata di

जय माता दी बहुत ही सुंदर प्रश्न आपने पूछा है कि हम जीवन में अवसादो को कैसे मिटा सकते हैं य

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  274
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन से बचना चाहते हैं तो पहली बार आपको यह किस चीज को लेकर डिप्रेशन हो रहा है उसका जो है सलूशन निकाल देंगे या जो भी आपके जाट आलोक जी ने किस ने किसी चीज को छूते हुए पेश हो जाते हैं हमें शाम थी उसके बारे में सोच गलत है कि कभी भी लाइफ में कुछ भी होता है जिसमें सुख दुख जीवन के दो पहलू है तो आपको ज्यादा सुख में इंजॉय देखना चाहिए कि ऑफिस को कैसे बेहतर बनाए और दो आज उनसे गलती ना करें इसकी शुरुआत करें

depression se bachna chahte hain toh pehli baar aapko yah kis cheez ko lekar depression ho raha hai uska jo hai salution nikaal denge ya jo bhi aapke jaat alok ji ne kis ne kisi cheez ko chhute hue pesh ho jaate hain hamein shaam thi uske bare mein soch galat hai ki kabhi bhi life mein kuch bhi hota hai jisme sukh dukh jeevan ke do pahaloo hai toh aapko zyada sukh mein enjoy dekhna chahiye ki office ko kaise behtar banaye aur do aaj unse galti na kare iski shuruat karen

डिप्रेशन से बचना चाहते हैं तो पहली बार आपको यह किस चीज को लेकर डिप्रेशन हो रहा है उसका जो

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  265
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!