पंचायती राज के बारे में क्या सुझाव है?...


play
user

Shambhu Das

Officer In Maharatna Company | Motivational Coach | Solution Provider

2:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमारे देश में त्रिस्तरीय पंचायती व्यवस्था लागू है पंचायती राज व्यवस्था इसे 1993 में कक्षा कानून संशोधन द्वारा इसे लागू किया गया था और पंचायती राज जो होती है व्यवस्था वह ग्रामीण इलाकों का जो स्थानीय सरकार चलाने का अधिकार देती है ना शहरी इलाकों में जैसे मिनिस पलटी होती है उसे लोकल कमेंट होती है वहां की सरकार होती है उसी तरह ग्रामीण इलाकों में पंचायती राज को सबसे पहले जो शुरू होती है ग्राम स्तर पर ग्राम सभा उसे पाड़ा सभा मोहल्ला सभाएं क्या दिखा सकते हैं उसके आज जो गवर्मेंट होती है वह अति है ब्लॉक लेवल की तो ब्लॉक लेवल की सभा होती है उसके बाद जो होती है वह जिला परिषद होती है वह डिस्ट्रिक्ट लेवल की होती है इसका लाभ कि गांव के लोग भली-भांति समझते हैं कि उनको जरूरत की क्या चीज लोकल goverment.com होने से ग्राम क्यों न थी बहुत अच्छे तरीके से हुई है और बहुत कारगर सिद्ध हुई है जैसे अगर गांव के लोग मिल बैठकर यह फैसला लेते हैं कि उनके गांव में एक तालाब होना चाहिए तो वह जरूरत के अनुसार नीतियां बनाते हैं और उसके अनुसार सरकारें जो है वह जो पैसा अपने गांव के विकास में खर्च करते इस चित्र से ब्लॉक लेवल और डिस्ट्रिक्ट लेवल सभी लेवल पर काम चलता है परंतु इसके थोड़े बहुत अभी देखने में आए हैं कुछ और ऑप्शन वगैरह जिसमें कि जिस पर ऊपर आना जरूरी है कि इसके लाभ बहुत ज्यादा हो रहे हैं तो इसमें कुछ सुधार की जरूरत है अभी भी ऐसा करना हमारा पंचायती राज सिस्टम बहुत अच्छा सिस्टम धन्यवाद

dekhiye hamare desh me tristariye panchayati vyavastha laagu hai panchayati raj vyavastha ise 1993 me kaksha kanoon sanshodhan dwara ise laagu kiya gaya tha aur panchayati raj jo hoti hai vyavastha vaah gramin ilako ka jo sthaniye sarkar chalane ka adhikaar deti hai na shahri ilako me jaise minis palati hoti hai use local comment hoti hai wahan ki sarkar hoti hai usi tarah gramin ilako me panchayati raj ko sabse pehle jo shuru hoti hai gram sthar par gram sabha use pada sabha mohalla sabhaen kya dikha sakte hain uske aaj jo government hoti hai vaah ati hai block level ki toh block level ki sabha hoti hai uske baad jo hoti hai vaah jila parishad hoti hai vaah district level ki hoti hai iska labh ki gaon ke log bhali bhanti samajhte hain ki unko zarurat ki kya cheez local goverment com hone se gram kyon na thi bahut acche tarike se hui hai aur bahut kargar siddh hui hai jaise agar gaon ke log mil baithkar yah faisla lete hain ki unke gaon me ek taalab hona chahiye toh vaah zarurat ke anusaar nitiyan banate hain aur uske anusaar sarkaren jo hai vaah jo paisa apne gaon ke vikas me kharch karte is chitra se block level aur district level sabhi level par kaam chalta hai parantu iske thode bahut abhi dekhne me aaye hain kuch aur option vagera jisme ki jis par upar aana zaroori hai ki iske labh bahut zyada ho rahe hain toh isme kuch sudhaar ki zarurat hai abhi bhi aisa karna hamara panchayati raj system bahut accha system dhanyavad

देखिए हमारे देश में त्रिस्तरीय पंचायती व्यवस्था लागू है पंचायती राज व्यवस्था इसे 1993 में

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  720
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!