कुदरत, भगवान के बारे में बताएं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छिति जल पावक गगन समीरा पंच रचित अति अधम शरीरा हमारा शरीर पंच महा भूतों के द्वारा प्राप्त बना और इस पंचमहाभूता में भगवान ने एक आत्मा का समावेश किया है वह आत्मा ईश्वर का अंश है ईश्वर अंश जीव आशीष चेतन अमल सहज सुख राशि वह आत्मा हमारे मन के अंदर जो मैं चेतन शक्ति देती है हमें समझने की शक्ति देती है हमें ज्ञान देती है समाज में हमारे अपने आप को स्थापित करने का देती हम समाज में पलते हैं बड़े होते हैं समाज को समझते हैं और अपनी गरिमा को समझते हैं समाज की रचना को समझते हैं लेकिन प्रभु ने हमारी आत्मा है आत्मा को चेतना शक्ति दी है लेकिन उसको एक मनुष्य को जो काट दिया वह कर्म कैसा करना करते हैं कर्म के हिसाब से आपको फल मिलता है उसी के साथ में फिर आपको अगली को नहीं मिलेगा सत्कर्म करेंगे सकारात्मक सोच होगी मानवता की सेवा करेंगे अगर अच्छे गुण पुण्य कमाएंगे सत कर्मों के द्वारा तो अगले जन्म में वही आपका भाग्य के रूप में आपको मिलेगा वही करना आपको जो है समाज में सम्मान सम्मान मिलेगा और अगर सत्कर्म नहीं करेंगे दुष्कर्म करेंगे तो दुनिया आपको यही समाज आपको सजा देगा एक कानून आपको सजा किस लिए हमेशा सब कर्म करके समाज को एक नई दिशा देना चाहिए

chiti jal pawak gagan samira punch rachit ati adham sharira hamara sharir punch maha bhooton ke dwara prapt bana aur is panchamahabhuta me bhagwan ne ek aatma ka samavesh kiya hai vaah aatma ishwar ka ansh hai ishwar ansh jeev aashish chetan amal sehaz sukh rashi vaah aatma hamare man ke andar jo main chetan shakti deti hai hamein samjhne ki shakti deti hai hamein gyaan deti hai samaj me hamare apne aap ko sthapit karne ka deti hum samaj me palate hain bade hote hain samaj ko samajhte hain aur apni garima ko samajhte hain samaj ki rachna ko samajhte hain lekin prabhu ne hamari aatma hai aatma ko chetna shakti di hai lekin usko ek manushya ko jo kaat diya vaah karm kaisa karna karte hain karm ke hisab se aapko fal milta hai usi ke saath me phir aapko agli ko nahi milega satkarm karenge sakaratmak soch hogi manavta ki seva karenge agar acche gun punya kamayenge sat karmon ke dwara toh agle janam me wahi aapka bhagya ke roop me aapko milega wahi karna aapko jo hai samaj me sammaan sammaan milega aur agar satkarm nahi karenge dushkarm karenge toh duniya aapko yahi samaj aapko saza dega ek kanoon aapko saza kis liye hamesha sab karm karke samaj ko ek nayi disha dena chahiye

छिति जल पावक गगन समीरा पंच रचित अति अधम शरीरा हमारा शरीर पंच महा भूतों के द्वारा प्राप्त ब

Romanized Version
Likes  217  Dislikes    views  2158
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!