मेरा शादी हो चुका है मेरा दो बच्चे हैं मैं किसी और से प्यार करता हूँ उसके 1 बच्चे हैं मेरे बीवी बहुत नाराज़ है?...


user

अनिल शास्त्री

शिक्षक,संपादक, सामाजिक कार्यकर्ता

4:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपकी बताई की स्थिति के अनुसार आप शादीशुदा हैं दो बच्चे भी आपकी हैं और आप किसी दूसरी स्त्री से प्रेम करते हैं जिसको एक बच्चा है जिससे आपकी पत्नी बहुत नाराज है तो इस स्थिति में एक पंक्ति में यदि में कहूं तो निश्चित रूप से पूरी तरह आप गलती पर हैं शादीशुदा होते हुए किसी दूसरी स्त्री के साथ प्रेम संबंध रखना किसी भी रूप में उचित नहीं है पत्नी के नाराज होने की जो बात आपने कही है तो वह बिल्कुल सही है कोई भी पत्नी अपने पति के दूसरी स्त्री के साथ संबंधों को कतई बर्दाश्त नहीं कर सकती है और मैं तो यह कहूंगा कि वह बहुत ही धैर्य बांध है अन्यथा तो और कोई पत्नी हो तो वह बखेड़ा भी खड़ा कर सकती है इसको लेकर के निश्चित ही परिवार में खड़े का कारण बन सकता है आपके रिश्तेदारों के बीच और समाज के बीच यदि आपकी पत्नी आपके संबंधों को उजागर करे तो सोची कैसा लगेगा ऐसे में आपका वैवाहिक जीवन प्रभावित होगा ही साथ ही पारिवारिक प्रतिष्ठा भी धूमिल हो सकती है समाज में आपका जो मान सम्मान है वह निश्चित रूप से गिरेगा और परिवार टूटने की स्थिति में इसका असर आपके प्रेम संबंधों पर होगा आपके वैवाहिक जीवन पर होगा और आपके बच्चे भी इससे प्रभावित होंगे आज आपके छोटे बच्चे हैं उनको अच्छे लालन-पालन की आवश्यकता है उनकी अच्छी शिक्षा दीक्षा की आवश्यकता है जिसके लिए आप मनोयोग से ही उनके लिए जुड़ेंगे तो आप उन बच्चों का भविष्य संवर जाएगा और आपका पारिवारिक जीवन जो है वह सुख में बनेगा इसलिए तुरंत प्रभाव से मैं कहूंगा कि आप कोशिश थी से अपने संबंधों को बिल्कुल निश्चय पूर्वक छोड़े क्योंकि दूसरी स्त्री के साथ संपर्क करके आप कहीं भी सुख प्राप्त नहीं कर सकती स्त्री अपना घर-परिवार छोड़कर के कभी भी आपके साथ नहीं हो सकती है और होती है तो भी आपका जो वैवाहिक जीवन है वह सुख में नहीं रहेगा इस बात को आप सुनिश्चित समझने समझदारी से काम लें और अपनी इस भावना को आप यहीं पर तिलांजलि देकर के अपने परिवार सुख में बनाने के लिए अपने बच्चों के भविष्य के लिए अपनी पत्नी से प्रेम करें उन्हें दोबारा से विश्वास जगाएं और उनको इस बात का पूरा भरोसा दिलाएं कि मैं अब कभी भी उस दूसरी स्त्री से संबंध नहीं रखूंगा तो आपके वैवाहिक संबंध स्थाई रह सकेंगे आपका पारिवारिक जीवन सुखमय होगा और सबसे बड़ी बात कि आप गंभीरता को समझें कि आपके बच्चों का भविष्य भी कभी सुख में हो सकेगा अन्यथा तो बहुत सारी परेशानियां निश्चित रूप से आ सकती है वह शायद दूसरी स्त्री के प्रेम में अंधे होने के कारण आप जिन को नहीं समझ पा रहे हैं नहीं देख पा रहे हैं तो आप दूसरों की आंखों से देखने का प्रयास करें परिवार के लोगों में जिनमें आपका विश्वास है जो आपके शुभचिंतक हैं यदि आप चाहे तो उनसे भी परामर्श ले सकते हैं और मैं समझता हूं कोई भी समझदार व्यक्ति आपको इस प्रकार से दूसरी स्त्री से संबंध बनाए रखने का समर्थन नहीं करेगा इसलिए आपको समाज में परिवार में और खुद के आपके वैवाहिक जीवन को स्थापित करने के लिए अपने बच्चों की भाभी भविष्य व सुख में बनाने की भावना के साथ यदि आप विचार करेंगे चिंतन करेंगे तो आपको आपकी से बुरे विचारों को त्यागना पड़ेगा आपको उस दूसरी स्त्री के साथ जो आपके संपर्क हैं उन्हें तुरंत प्रभाव से आपको छोड़ना पड़ेगा तभी आपका सुख में जीवन हो सकेगा वैवाहिक जीवन आपका सुंदर बनेगा आपके बच्चों का भविष्य अच्छा होगा परिवार में आपका मान सम्मान बना रहे समाज में आप की स्थिति अच्छी बने इसके लिए आपको दृढ़ निश्चय ही बन कर के अपनी पत्नी के साथ संबंध रखने होंगे अपनी पत्नी को आश्वासन देना होगा उन्हें आपके अपने प्रेम से संतुष्ट करना होगा और अपने बच्चों के बीच आप खुशी से अपने पारिवारिक जीवन को जी ऐसी भावना के साथ कल्याणमस्तु

dekhiye aapki batai ki sthiti ke anusaar aap shaadishuda hain do bacche bhi aapki hain aur aap kisi dusri stree se prem karte hain jisko ek baccha hai jisse aapki patni bahut naaraj hai toh is sthiti me ek pankti me yadi me kahun toh nishchit roop se puri tarah aap galti par hain shaadishuda hote hue kisi dusri stree ke saath prem sambandh rakhna kisi bhi roop me uchit nahi hai patni ke naaraj hone ki jo baat aapne kahi hai toh vaah bilkul sahi hai koi bhi patni apne pati ke dusri stree ke saath sambandhon ko katai bardaasht nahi kar sakti hai aur main toh yah kahunga ki vaah bahut hi dhairya bandh hai anyatha toh aur koi patni ho toh vaah bakheda bhi khada kar sakti hai isko lekar ke nishchit hi parivar me khade ka karan ban sakta hai aapke rishtedaron ke beech aur samaj ke beech yadi aapki patni aapke sambandhon ko ujagar kare toh sochi kaisa lagega aise me aapka vaivahik jeevan prabhavit hoga hi saath hi parivarik prathishtha bhi dhumil ho sakti hai samaj me aapka jo maan sammaan hai vaah nishchit roop se girega aur parivar tutne ki sthiti me iska asar aapke prem sambandhon par hoga aapke vaivahik jeevan par hoga aur aapke bacche bhi isse prabhavit honge aaj aapke chote bacche hain unko acche lalan palan ki avashyakta hai unki achi shiksha diksha ki avashyakta hai jiske liye aap manoyog se hi unke liye judenge toh aap un baccho ka bhavishya saanvaru jaega aur aapka parivarik jeevan jo hai vaah sukh me banega isliye turant prabhav se main kahunga ki aap koshish thi se apne sambandhon ko bilkul nishchay purvak chode kyonki dusri stree ke saath sampark karke aap kahin bhi sukh prapt nahi kar sakti stree apna ghar parivar chhodkar ke kabhi bhi aapke saath nahi ho sakti hai aur hoti hai toh bhi aapka jo vaivahik jeevan hai vaah sukh me nahi rahega is baat ko aap sunishchit samjhne samajhdari se kaam le aur apni is bhavna ko aap yahin par tilanjali dekar ke apne parivar sukh me banane ke liye apne baccho ke bhavishya ke liye apni patni se prem kare unhe dobara se vishwas jagaen aur unko is baat ka pura bharosa dilaye ki main ab kabhi bhi us dusri stree se sambandh nahi rakhunga toh aapke vaivahik sambandh sthai reh sakenge aapka parivarik jeevan sukhmay hoga aur sabse badi baat ki aap gambhirta ko samajhe ki aapke baccho ka bhavishya bhi kabhi sukh me ho sakega anyatha toh bahut saari pareshaniya nishchit roop se aa sakti hai vaah shayad dusri stree ke prem me andhe hone ke karan aap jin ko nahi samajh paa rahe hain nahi dekh paa rahe hain toh aap dusro ki aakhon se dekhne ka prayas kare parivar ke logo me jinmein aapka vishwas hai jo aapke shubhchintak hain yadi aap chahen toh unse bhi paramarsh le sakte hain aur main samajhata hoon koi bhi samajhdar vyakti aapko is prakar se dusri stree se sambandh banaye rakhne ka samarthan nahi karega isliye aapko samaj me parivar me aur khud ke aapke vaivahik jeevan ko sthapit karne ke liye apne baccho ki bhabhi bhavishya va sukh me banane ki bhavna ke saath yadi aap vichar karenge chintan karenge toh aapko aapki se bure vicharon ko tyagna padega aapko us dusri stree ke saath jo aapke sampark hain unhe turant prabhav se aapko chhodna padega tabhi aapka sukh me jeevan ho sakega vaivahik jeevan aapka sundar banega aapke baccho ka bhavishya accha hoga parivar me aapka maan sammaan bana rahe samaj me aap ki sthiti achi bane iske liye aapko dridh nishchay hi ban kar ke apni patni ke saath sambandh rakhne honge apni patni ko ashwasan dena hoga unhe aapke apne prem se santusht karna hoga aur apne baccho ke beech aap khushi se apne parivarik jeevan ko ji aisi bhavna ke saath kalyanamastu

देखिए आपकी बताई की स्थिति के अनुसार आप शादीशुदा हैं दो बच्चे भी आपकी हैं और आप किसी दूसरी

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  226
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!