मैं बहुत परेशान हो जाता हूँ, जब लोगों को बेरोज़गार देखता हूँ तो मेरे पास इतना पैसा नहीं की कोई बढ़िया सा बिज़नेस कर के उन्हें रोज़गार दू क्या करूँ?...


user
0:15
Play

Likes  256  Dislikes    views  2086
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Saurabh Kumar

Biology student

1:04

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी भाई यह संसार का नियम है कि जिस से जिस चीज की जरूरत होती है उसके पास वो चीज नहीं होता मुझे अगर खाने की जरूरत है भोजन की आवश्यकता है तेरे पास खाना नहीं होगा ना ही खाने के लिए पैसे होंगे और जिसके पास खाने के लिए पैसे हैं उसके पास भूख नहीं होगी या फिर उसे डॉक्टर खाने के लिए मना कर दिया हमने यह संसार का नियम है आप किसी दूसरे को देखते हैं मजदूर बेरोजगार लाचार औरत उसकी मदद करना चाहते हैं लेकिन आपके पास इतने पैसे नहीं है यह आप उनको कोई रोजगार दे सकते थे कि यह बहुत ही हृदय को छू लेने वाली बात आपने कही है बिल्कुल सही बात है लोगों को ऐसी मंशा होती है लोगों की कि उसकी मदद की जाए लेकिन वह खुद असमर्थ होते हैं जो दूसरों की क्या मदद करें मैं तो बस इतना ही कहना चाहूंगा कि आप सहृदय से मेरा मेरे शहर दे से आपको बहुत-बहुत धन्यवाद कि आपने कम से कम ऐसा सोचा तो ऐसे सोचने वाले लोग हमारे समाज में हो जाए समाज की बहुत सारी परेशानियों का अंत हो जाएगा

vicky bhai yah sansar ka niyam hai ki jis se jis cheez ki zarurat hoti hai uske paas vo cheez nahi hota mujhe agar khane ki zarurat hai bhojan ki avashyakta hai tere paas khana nahi hoga na hi khane ke liye paise honge aur jiske paas khane ke liye paise hai uske paas bhukh nahi hogi ya phir use doctor khane ke liye mana kar diya humne yah sansar ka niyam hai aap kisi dusre ko dekhte hai majdur berozgaar lachar aurat uski madad karna chahte hai lekin aapke paas itne paise nahi hai yah aap unko koi rojgar de sakte the ki yah bahut hi hriday ko chu lene wali baat aapne kahi hai bilkul sahi baat hai logo ko aisi mansha hoti hai logo ki ki uski madad ki jaaye lekin vaah khud asamarth hote hai jo dusro ki kya madad kare main toh bus itna hi kehna chahunga ki aap sahriday se mera mere shehar de se aapko bahut bahut dhanyavad ki aapne kam se kam aisa socha toh aise sochne waale log hamare samaj mein ho jaaye samaj ki bahut saree pareshaniyo ka ant ho jaega

विकी भाई यह संसार का नियम है कि जिस से जिस चीज की जरूरत होती है उसके पास वो चीज नहीं होता

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  500
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप दुकानदार की जेब में पैसा नहीं तो आती है कि आप कुछ काम नहीं कर रहे हैं और बेरोजगार हैं तो परेशानी आना बहुत लाजमी है ठीक है तो उसके लिए अगर आपको बिजनेस करना है तो जरूरी नहीं कि बहुत पैसे की जरूरत है छोटे पैसे से बिजनेस स्टार्ट कर सकता है आपका बिजनेस माइंडेड है तो आप कुछ समय बहुत पैसे कमा सकते हैं बिल्कुल जरूरी नहीं क्या 5000000 रूपय देखी है दुकान खोल कम पैसों में भी और दुकान खोल सकते हैं कि डेडीकेशन सही तरीके सर जी के साथ बिजनेस करे आप जरूर सफल होंगे

aap dukaandar ki jeb mein paisa nahi toh aati hai ki aap kuch kaam nahi kar rahe hain aur berozgaar hain toh pareshani aana bahut lajmi hai theek hai toh uske liye agar aapko business karna hai toh zaroori nahi ki bahut paise ki zarurat hai chote paise se business start kar sakta hai aapka business minded hai toh aap kuch samay bahut paise kama sakte hain bilkul zaroori nahi kya 5000000 rupay dekhi hai dukaan khol kam paison mein bhi aur dukaan khol sakte hain ki dedikeshan sahi tarike sir ji ke saath business kare aap zaroor safal honge

आप दुकानदार की जेब में पैसा नहीं तो आती है कि आप कुछ काम नहीं कर रहे हैं और बेरोजगार हैं त

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  271
WhatsApp_icon
user

sunil Kumar

traveling

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर जी मैं आपका तहे दिल से धन्यवाद करता हूं कि आपने मुझे लाइक किया मगर सोच पैदा किया जा सकता है अगर मैं आज सोच रहा हूं यह जो वो कल ऐप है इसके माध्यम से अगर ये कोई और भी सुनेगा तो वह भी सोच सकता है तो हम लोग क्यों नहीं इसको बढ़ावा करें कि लोग सोचे हेल्प करें हमारा जितना औकात है कि अगर हम किसी का ₹10 से का हेल्प करते हैं हमारा कुछ नहीं बिगड़ता है तो ₹200 का ही करें बट हमें बिजनेस करना चाहिए कि लोग बिजनेस के जरिए उस तो हेल्प मिलेगी मुझे नौकरी नौकरी अगर में करता हूं सरकारी या प्राइवेट तो बस यहीं तक सीमित रह जाऊंगा इसीलिए कोशिश किया जाए कि हमारे यंग युवा जो भी है बिजनेस करें

sir ji main aapka tahe dil se dhanyavad karta hoon ki aapne mujhe like kiya magar soch paida kiya ja sakta hai agar main aaj soch raha hoon yah jo vo kal app hai iske madhyam se agar ye koi aur bhi sunegaa toh vaah bhi soch sakta hai toh hum log kyon nahi isko badhawa kare ki log soche help kare hamara jitna aukat hai ki agar hum kisi ka Rs se ka help karte hain hamara kuch nahi bigadta hai toh Rs ka hi kare but hamein business karna chahiye ki log business ke jariye us toh help milegi mujhe naukri naukri agar mein karta hoon sarkari ya private toh bus yahin tak simit reh jaunga isliye koshish kiya jaaye ki hamare young yuva jo bhi hai business karen

सर जी मैं आपका तहे दिल से धन्यवाद करता हूं कि आपने मुझे लाइक किया मगर सोच पैदा किया जा सकत

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!