ज्वारीय ऊर्जा निम्नलिखित में से किस प्रकार का संसाधन नहीं है?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय फ्रेंड गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी बढ़िया क्वेश्चन किया गया पर मैं यह बता दो कि संसाधनों को दो भागों में बांटा जाता है ऊर्जा के आधार पर एक होता है नवीकरणीय संसाधन है यह पता और नवीकरणीय संसाधन नवीकरणीय संसाधन वह चीज होती है जिसे हम एक बार यूज करने के बाद फिर से पुणे उसे प्राप्त कर सकते हैं और अनवीकरणीय संसाधन वह चीज होती है जिसे एक बार अगर हम उसे खर्च कर दे उस ऊर्जा को तो फिर पुनः प्राप्त नहीं कर सकते जैसे कि मैं आपको एक एग्जांपल के तौर पर बताऊंगा न विज्ञानी संसाधनों को होते हैं जैसे सनलाइट जैसे कि सोलर प्लेट आप चार्ज करते हुए यूज करते हो और फिर दूसरे दिन फिर से चार्ज करके फिर से उसे यूज कर सकते हो यह नवीकरणीय संसाधन का नवीकरणीय संसाधन में जैसे कि कोयला हो गया कोयला से आज बिजली बंद के कोयला कर एक बार चल जाएगी तो फिर वह मुझे प्राप्त नहीं होंगे कि अनवीकरणीय संसाधन अब आपका क्वेश्चन यह की दिवारी ऊर्जा के संसाधन आते हैं जवारी उर्जा बेसिकली नवीकरणीय संसाधन में आते हैं क्योंकि यह समुद्र में उठने वाले लहरों के कारण मोतिहारी एनीटाइम होते रहते हैं पर कुछ समय अंतराल पर थैंक यू

hi friend good morning aapke dwara kaafi badhiya question kiya gaya par main yah bata do ki sansadhano ko do bhaagon me baata jata hai urja ke aadhar par ek hota hai navikarniya sansadhan hai yah pata aur navikarniya sansadhan navikarniya sansadhan vaah cheez hoti hai jise hum ek baar use karne ke baad phir se pune use prapt kar sakte hain aur anveekaraneeya sansadhan vaah cheez hoti hai jise ek baar agar hum use kharch kar de us urja ko toh phir punh prapt nahi kar sakte jaise ki main aapko ek example ke taur par bataunga na vigyani sansadhano ko hote hain jaise sunlight jaise ki solar plate aap charge karte hue use karte ho aur phir dusre din phir se charge karke phir se use use kar sakte ho yah navikarniya sansadhan ka navikarniya sansadhan me jaise ki koyla ho gaya koyla se aaj bijli band ke koyla kar ek baar chal jayegi toh phir vaah mujhe prapt nahi honge ki anveekaraneeya sansadhan ab aapka question yah ki divari urja ke sansadhan aate hain javari urja basically navikarniya sansadhan me aate hain kyonki yah samudra me uthane waale laharon ke karan motihari anytime hote rehte hain par kuch samay antaral par thank you

हाय फ्रेंड गुड मॉर्निंग आपके द्वारा काफी बढ़िया क्वेश्चन किया गया पर मैं यह बता दो कि संसा

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  234
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!