जब मन्दिर में नामज अदा होगी । और मस्जिद में शंख नाद होगा । तभी झगड़ा खत्म होगा ।मेरा मनना तो यही है ।आप अपनी राय दे?...


user

Adbhut

Sex Guru, Spiritual leader, Philosopher, Motivational speaker

3:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसी पर लिखा था मैंने आओ मंदिर में नमाज पढ़े दरगाह ऊपर भजन गाए गुरुद्वारे की मून बच्चियों से गिरजाघर उनके चला गया लेकिन जब तक इस दुनिया में धर्मांधता है थर्माकोल के अंधापन है तब तक यह समस्या हल नहीं हो सकते और यह धर्मांधता आज की तो है नहीं यारों साल पुरानी मान्यता और विश्वास के आधार पर धर्म खड़ा है और इंसानियत क्या है अनुभव और विचार के आधार पर खड़ा तो लोग इतने ज्यादा ब्रेनवाश हो जाते हैं धर्म के नाम पर के बम ब्लास्ट कर देते हैं गोली मार देते यार मॉब लिंचिंग कर लेते हैं यह एक सच्चाई है हमारे समाज की दिशा में स्वीकार ना पड़ेगा इस दुनिया में जब तक धर्मांधता है तब तक आप कुछ भी कर लीजिए दूसरी चीज जानते क्या हो रहा है धर्म के नाम पर राजनीति कितनी हो रही है हमारे यहां लोग राजनीति को इतना ज्यादा सीरियस लेने लगे हैं कि जिसकी कोई इंतहा नहीं है बीजेपी मंदिर के नाम पर राजनीति करते करते सत्ता में आए लोग सब कुछ दिन और कर सकते हैं राजनीति को इग्नोर कर पा रहे हो वैसी हैदराबाद वाले वह मस्जिद के नाम की राजनीति कर रहे हैं कश्मीर में फारुख अब्दुल्ला और महबूबा मुक्ति इनकी सारी राजनीति का जो केंद्र है वह है अलगाववाद जो हमारे देश के सबसे बड़ा खतरा है और यह अलगाववाद इसके पीछे कौन है इसके पीछे बैठे हुए ब्रेनवाश मुसलमान नौजवान लड़के हैं अभी यह जो गरीब मुसलमान लड़के हैं उन्हें बेवकूफ बनाकर अलगाववाद में मिला देंगे उनसे कहेंगे जाओ तुम बम छोड़ो और इनके दो बच्चे हैं वह ऑक्सफोर्ड और कैंब्रिज में जाकर पढ़ाई करेंगे तो यही धर्मांधता है इस धर्मांधता से हमें बाहर एजुकेशन ही निकाल सकती है हमें तक निकाल सकता में विचार निकाल सकता है आप मान्यता और विश्वास की जो खड़ी हुई यह प्रतिमा है तो जब बाहर निकलेंगे अलग कुछ सोचने की कोशिश करेंगे अब तभी धर्मांधता से बच पाएंगे अन्यथा आपको यह जो भीड़ है अगर आप कुछ नया सोचने की कोशिश करेंगे कि फिर आपको अपने साथ किसकी ले कर चली जाएगी क्योंकि अब करेंगे कि मैं अकेला कुछ अलग बात बोलूंगा तो लोग मेरी बात सुनेंगे नहीं उल्टा मुझे मारेंगे तो अपने ही साथ साथ कई लोगों को जा करना पड़ेगा इस समूह को मजबूत करना पड़ेगा इसका मतलब यह नहीं कि आप को अनार की हो जा रहा है आपको नास्तिक हो जाना है मासिक नहीं हो जाना है ईश्वर को महसूस करना वह अलग बात है लेकिन फरमान रोजाना अलग बात है तो हमें इस जागरूकता को और मजबूत करना है इस संदेश को और मजबूत करना है इस समूह को बहुत बड़ा करना पड़ेगा ताकि लोग सवाल ना उठा सके आपका तक इतना मजबूत होना चाहिए धन्यवाद

isi par likha tha maine aao mandir me namaz padhe dargah upar bhajan gaayen gurudware ki moon bachiyo se girjaghar unke chala gaya lekin jab tak is duniya me dharmandhata hai thermocol ke andhapan hai tab tak yah samasya hal nahi ho sakte aur yah dharmandhata aaj ki toh hai nahi yaaron saal purani manyata aur vishwas ke aadhar par dharm khada hai aur insaniyat kya hai anubhav aur vichar ke aadhar par khada toh log itne zyada brainwash ho jaate hain dharm ke naam par ke bomb blast kar dete hain goli maar dete yaar mob lynching kar lete hain yah ek sacchai hai hamare samaj ki disha me sweekar na padega is duniya me jab tak dharmandhata hai tab tak aap kuch bhi kar lijiye dusri cheez jante kya ho raha hai dharm ke naam par raajneeti kitni ho rahi hai hamare yahan log raajneeti ko itna zyada serious lene lage hain ki jiski koi intaha nahi hai bjp mandir ke naam par raajneeti karte karte satta me aaye log sab kuch din aur kar sakte hain raajneeti ko ignore kar paa rahe ho vaisi hyderabad waale vaah masjid ke naam ki raajneeti kar rahe hain kashmir me farukh abdullah aur mahbuba mukti inki saari raajneeti ka jo kendra hai vaah hai alagaavavaad jo hamare desh ke sabse bada khatra hai aur yah alagaavavaad iske peeche kaun hai iske peeche baithe hue brainwash musalman naujawan ladke hain abhi yah jo garib musalman ladke hain unhe bewakoof banakar alagaavavaad me mila denge unse kahenge jao tum bomb chodo aur inke do bacche hain vaah oxford aur Cambridge me jaakar padhai karenge toh yahi dharmandhata hai is dharmandhata se hamein bahar education hi nikaal sakti hai hamein tak nikaal sakta me vichar nikaal sakta hai aap manyata aur vishwas ki jo khadi hui yah pratima hai toh jab bahar nikalenge alag kuch sochne ki koshish karenge ab tabhi dharmandhata se bach payenge anyatha aapko yah jo bheed hai agar aap kuch naya sochne ki koshish karenge ki phir aapko apne saath kiski le kar chali jayegi kyonki ab karenge ki main akela kuch alag baat boloonga toh log meri baat sunenge nahi ulta mujhe marenge toh apne hi saath saath kai logo ko ja karna padega is samuh ko majboot karna padega iska matlab yah nahi ki aap ko anaar ki ho ja raha hai aapko nastik ho jana hai maasik nahi ho jana hai ishwar ko mehsus karna vaah alag baat hai lekin farman rojana alag baat hai toh hamein is jagrukta ko aur majboot karna hai is sandesh ko aur majboot karna hai is samuh ko bahut bada karna padega taki log sawaal na utha sake aapka tak itna majboot hona chahiye dhanyavad

इसी पर लिखा था मैंने आओ मंदिर में नमाज पढ़े दरगाह ऊपर भजन गाए गुरुद्वारे की मून बच्चियों स

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  721
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!