क्या ज्योतिष विद्या द्वारा दिए हुए उपचार काम करते हैं?...


user
7:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इरादे संत में संत श्री भद्राचार्य जम्मू से आपका प्रश्न है कि क्या ज्योतिष विद्या द्वारा दिए हुए उपचार काम करते हैं देखो पहली बात कि ज्योतिष क्या है नक्षत्र ग्रह सूर्य चंद्रमा यो इनके इनको द्वारा जो है यह ज्योतिष कहा जाता है ज्योतिष विद्या बहुत ही ठीक है और जो ज्योतिष का गणित जॉब फॉर लेते हैं एकदम घटित होता है हमारे जीवन में जितना भी जीवन में प्रभाव होता है बुक होता है शुभ होता है यह कभी ऐसे संकट आते हैं काश आते हैं वह सभी नव ग्रहों का प्रभाव होता है क्योंकि नफरत पर ग्रहों का प्रभाव हमारे जो जीवन पर पड़ता है अगर हम उन 90 का अगर प्रभाव बुरा हो तो हम अगर उनका कुछ उपाय करें उपाय करने से क्या होता है कि ग्रहों की स्थिति थोड़ी अच्छी हो जाते हैं और जो दुष्ट गए होते हैं हमारा प्रभाव जीवन का बुरा करते हैं वह अच्छा करना आरंभ करते हैं तो युद्ध का आरंभ हुआ था कि रावण का पिता हुए महेश्वर महेश्वर में भगवान सूर्य का बहुत तप किया और एक सौ साल तक करने के बाद पूरे भगवान प्रकट हुए तो सूर्य भगवान ने कहा मैसूर आप आप जो है मांगू क्या वर चाहिए तो मैसूर ने कहा कि मुझे ज्योतिष का ज्ञान चाहिए यह भूमंडल का ज्ञान चाहिए सूर्य और चंद्रमा जो तारे हैं ग्रह है नाम इनके बारे में मुझे ज्ञान चाहिए तो उन्होंने आशीर्वाद दिया और सूर्य भगवान ने एक अपना अंश रूप देकर और क्या हुआ उसको पूरी तरह का यह सौरमंडल है भूमंडल है जो धरती है नवग्रह है इनके बारे में पूरा ज्ञान दिया ज्योतिष ज्ञान जैसे लोगों ने मान अभिमान लंका से आता है लगो दे माल हम भारत में रहते हैं तो लोगों ने मान होता है समान होता है वह लंका से होता है तो जितनी भी दलित की गणना होती है तो सभी लंका से होते हैं तो सूर्य जैसा प्रदर्शन देखता है क्योंकि और देवी देवता कोई मिले या नहीं मिले हमें दर्शन मिलते हैं किसी और के नहीं मिले लेकिन सूर्य भगवान के दर्शन हमेशा मिलते हैं चंद्रमा के मिलते हैं या से मंगल ग्रह भी ढूंढ लिया है तू जैसे ग्रहों की आज के सारे संसार के जो विज्ञानिक है जी नवग्रह को पता चला है लेकिन इन्हें ढूंढा कि से हमारे ऋषि-मुनियों ने ढूंढा है इन्हें पता लाया है तो बहुत बहुत ही घटित होता है जैसे हमारे हम ही ज्योतिषाचार्य की हुई है हमारे पास जब कोई कुंडली लेकर आता है कोटडा ले कर आता है हम उसको उपाय दिखाते हैं अभी थोड़े ही दिन की बात है एक शादीशुदा जोड़ा था उन्होंने 5 वर्ष हुआ विवाह किए उनके घर में को रुला देती वह दोनों मेरे पास पड़ा लेकर आए तो मैंने जब दोनों की कुंडली देखी तो दोनों की कुंडली में जो लड़की की कुंडली में था मंगल खराब था लड़का मंगली था लड़की मांगलिक नहीं थी मैंने सीधा-सीधा उनको कह दिया कि आपकी बनती नहीं है आपके घर में बच्चा नहीं है क्योंकि मंडल जो है सप्तम भाव में विराजमान था और उसको कोई काट नहीं रहा था तो मंगल जो होता है वही होता है अगर मंगल खराब हो किसी का जाने कि अगर कोई मैसेज नहीं हो मैंने पूछा आपने शादी कैसे की अरे मैंने अपनी मर्जी से ई-मेल नहीं किया लेकिन उनके घर में दोस्ती हो रही है एक दो बच्चा नहीं है दूसरा आपस में बनती नहीं है यू ठीक है और बहुत ही अच्छी तरह का उपाय उपचार मैंने उनको उपाय उपचार बताया हमने कहा कि आप ऐसा करो कि मंगलवार को वह करो और हमारे पास अभी एकदम ठीक हो गई है तो गर्भवती हो गई है कहने का मतलब है कि बहुत ऐसे के सर हमारे पास बहुत कपड़े आते हैं 1 महीने में कम से कम दो हजार तेरह जाते हैं उनको सरल उपाय बताते हैं ऐसा होता है क्यों होता है उनका चला जाता है तो हमारा यूपी शास्त्र जो है बिल्कुल फलित है कम से कम 6 महीने की साल की पहले की बात है एक साल हो गया होगा 1 साल की पहली की बात है तो जम्मू का एक लड़का और एक लड़की का परिवार अकेली में रहता था वह दोनों मेरे पास कपड़े लेकर आने लगे गुरु जी ऐसी बात है कि हमने ने शादी करनी है तो देखो टुकड़ा मेल होता है मैंने उनको जब भी कपड़ा नहीं मिल रहा है मैंने कहा आप शादी नहीं करो क्योंकि आपका कैमरा मैचिंग नहीं कराया आपकी कुंडली योर मेल नहीं हो रही है और आपकी मित्रता नहीं आपकी तो आपकी ही रास्ते मित्रता नहीं है तो आप शादी मत कीजिए आपका जो ग्रह खराब है अभी तो क्या करें आप ऐसा कीजिए करो चलता नहीं है उन्होंने अपनी मर्जी से विवाह कर लिया के महीने के बाद जब फिर से जम्मू में आए तो मेरे पास आश्रम में आए तो कहने लगे गुरुजी गुरुजी शादी तो हो गई अब अभी हमने तलाक देना है तो कहने लगे अभी हमने तलाक लेना है उसको कुंडली मैचिंग नहीं हो रही है आप शादी नहीं करोगे या नहीं ज्योतिष को उन्होंने नहीं माना उन्होंने उनको छोड़ दिया तो शादी हो गई अभी तलाक का चक्कर पड़ गया उन्होंने कुछ नहीं लेकर देखी उन्होंने तलाक किया तो अलग हो गए जो भी ज्योतिषशास्त्र है कुंडली शास्त्र बिल्कुल घटित होता है और सबसे हिंदू सनातन धर्म विज्ञान आज ढूंढने नवग्रह को हमारे तो सौरमंडल के एक-एक नक्षत्र का पता है हमारे ऋषि-मुनियों में वेदों में ज्योतिष शास्त्र वेद शास्त्र में लिखा हुआ है सूर्य कांड में हमें सब कुछ पता है हमारे वेद पुराणों में सब कुछ लीजिएगा जिले का एक एक तारा एक भूमंडल का नक्षत्र कहां है कितनी गति होती है कितने दिन में पढ़ते हैं सब कैसे पता होता ग्रह कब लगना है लेकिन 1 साल 2 साल पहले बता देता है कि उस दिन नहीं मालूम होता है हमारे पास होते हैं इसलिए सबसे बड़ा यह है और इसका उपचार हम जो करते हैं और फायदा होता है अरुण उपाय में जो कांड है जो विद्वान पंडित हमें वर्क ना लगाते हैं हमसे हम को लूट पाते हैं इस ज्योतिष शास्त्र के द्वारा उनके बच्चे लेकिन सभी ऐसे पंडित विद्वान नहीं है जो हम को लूटते हैं फिर भी जो अच्छा पंडित हो ज्योतिष शास्त्र को जानता हूं जिसने ज्योतिष पड़ी हो उनके पास जाना चाहिए और और का उपचार हमें करना चाहिए

Irade sant me sant shri bhadracharya jammu se aapka prashna hai ki kya jyotish vidya dwara diye hue upchaar kaam karte hain dekho pehli baat ki jyotish kya hai nakshtra grah surya chandrama yo inke inko dwara jo hai yah jyotish kaha jata hai jyotish vidya bahut hi theek hai aur jo jyotish ka ganit job for lete hain ekdam ghatit hota hai hamare jeevan me jitna bhi jeevan me prabhav hota hai book hota hai shubha hota hai yah kabhi aise sankat aate hain kash aate hain vaah sabhi nav grahon ka prabhav hota hai kyonki nafrat par grahon ka prabhav hamare jo jeevan par padta hai agar hum un 90 ka agar prabhav bura ho toh hum agar unka kuch upay kare upay karne se kya hota hai ki grahon ki sthiti thodi achi ho jaate hain aur jo dusht gaye hote hain hamara prabhav jeevan ka bura karte hain vaah accha karna aarambh karte hain toh yudh ka aarambh hua tha ki ravan ka pita hue maheswar maheswar me bhagwan surya ka bahut tap kiya aur ek sau saal tak karne ke baad poore bhagwan prakat hue toh surya bhagwan ne kaha mysore aap aap jo hai maangu kya var chahiye toh mysore ne kaha ki mujhe jyotish ka gyaan chahiye yah bhumandal ka gyaan chahiye surya aur chandrama jo taare hain grah hai naam inke bare me mujhe gyaan chahiye toh unhone ashirvaad diya aur surya bhagwan ne ek apna ansh roop dekar aur kya hua usko puri tarah ka yah saurmandal hai bhumandal hai jo dharti hai navgrah hai inke bare me pura gyaan diya jyotish gyaan jaise logo ne maan abhimaan lanka se aata hai lago de maal hum bharat me rehte hain toh logo ne maan hota hai saman hota hai vaah lanka se hota hai toh jitni bhi dalit ki ganana hoti hai toh sabhi lanka se hote hain toh surya jaisa pradarshan dekhta hai kyonki aur devi devta koi mile ya nahi mile hamein darshan milte hain kisi aur ke nahi mile lekin surya bhagwan ke darshan hamesha milte hain chandrama ke milte hain ya se mangal grah bhi dhundh liya hai tu jaise grahon ki aaj ke saare sansar ke jo vigyanik hai ji navgrah ko pata chala hai lekin inhen dhundha ki se hamare rishi muniyon ne dhundha hai inhen pata laya hai toh bahut bahut hi ghatit hota hai jaise hamare hum hi jyotishacharya ki hui hai hamare paas jab koi kundali lekar aata hai kotda le kar aata hai hum usko upay dikhate hain abhi thode hi din ki baat hai ek shaadishuda joda tha unhone 5 varsh hua vivah kiye unke ghar me ko rula deti vaah dono mere paas pada lekar aaye toh maine jab dono ki kundali dekhi toh dono ki kundali me jo ladki ki kundali me tha mangal kharab tha ladka mangali tha ladki manglik nahi thi maine seedha seedha unko keh diya ki aapki banti nahi hai aapke ghar me baccha nahi hai kyonki mandal jo hai saptam bhav me viraajamaan tha aur usko koi kaat nahi raha tha toh mangal jo hota hai wahi hota hai agar mangal kharab ho kisi ka jaane ki agar koi massage nahi ho maine poocha aapne shaadi kaise ki are maine apni marji se E male nahi kiya lekin unke ghar me dosti ho rahi hai ek do baccha nahi hai doosra aapas me banti nahi hai you theek hai aur bahut hi achi tarah ka upay upchaar maine unko upay upchaar bataya humne kaha ki aap aisa karo ki mangalwaar ko vaah karo aur hamare paas abhi ekdam theek ho gayi hai toh garbhwati ho gayi hai kehne ka matlab hai ki bahut aise ke sir hamare paas bahut kapde aate hain 1 mahine me kam se kam do hazaar terah jaate hain unko saral upay batatey hain aisa hota hai kyon hota hai unka chala jata hai toh hamara up shastra jo hai bilkul falit hai kam se kam 6 mahine ki saal ki pehle ki baat hai ek saal ho gaya hoga 1 saal ki pehli ki baat hai toh jammu ka ek ladka aur ek ladki ka parivar akeli me rehta tha vaah dono mere paas kapde lekar aane lage guru ji aisi baat hai ki humne ne shaadi karni hai toh dekho tukda male hota hai maine unko jab bhi kapda nahi mil raha hai maine kaha aap shaadi nahi karo kyonki aapka camera matching nahi karaya aapki kundali your male nahi ho rahi hai aur aapki mitrata nahi aapki toh aapki hi raste mitrata nahi hai toh aap shaadi mat kijiye aapka jo grah kharab hai abhi toh kya kare aap aisa kijiye karo chalta nahi hai unhone apni marji se vivah kar liya ke mahine ke baad jab phir se jammu me aaye toh mere paas ashram me aaye toh kehne lage guruji guruji shaadi toh ho gayi ab abhi humne talak dena hai toh kehne lage abhi humne talak lena hai usko kundali matching nahi ho rahi hai aap shaadi nahi karoge ya nahi jyotish ko unhone nahi mana unhone unko chhod diya toh shaadi ho gayi abhi talak ka chakkar pad gaya unhone kuch nahi lekar dekhi unhone talak kiya toh alag ho gaye jo bhi jyotishashastra hai kundali shastra bilkul ghatit hota hai aur sabse hindu sanatan dharm vigyan aaj dhundhne navgrah ko hamare toh saurmandal ke ek ek nakshtra ka pata hai hamare rishi muniyon me vedo me jyotish shastra ved shastra me likha hua hai surya kaand me hamein sab kuch pata hai hamare ved purano me sab kuch lijiega jile ka ek ek tara ek bhumandal ka nakshtra kaha hai kitni gati hoti hai kitne din me padhte hain sab kaise pata hota grah kab lagna hai lekin 1 saal 2 saal pehle bata deta hai ki us din nahi maloom hota hai hamare paas hote hain isliye sabse bada yah hai aur iska upchaar hum jo karte hain aur fayda hota hai arun upay me jo kaand hai jo vidhwaan pandit hamein work na lagate hain humse hum ko loot paate hain is jyotish shastra ke dwara unke bacche lekin sabhi aise pandit vidhwaan nahi hai jo hum ko lootate hain phir bhi jo accha pandit ho jyotish shastra ko jaanta hoon jisne jyotish padi ho unke paas jana chahiye aur aur ka upchaar hamein karna chahiye

इरादे संत में संत श्री भद्राचार्य जम्मू से आपका प्रश्न है कि क्या ज्योतिष विद्या द्वारा दि

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  76
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!