ग्लूकोस के आंशिक ऑक्सीजन?...


play
user

Dr. Anand Tripathi

M.B.B.S , M.D( Physician )in S.S hospital's

1:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

200 सजीव कोशिकाओं के भोजन में ऑक्सीकरण के फल स्वरुप ऊर्जा उत्पन्न होने की क्रिया को कोशिश रोशन करते हैं कि टशन है जो ऑक्सीजन की उपस्थिति या अनुपस्थित दोनों अवस्था में संपन्न हो सकती है बिल्कुल का फार्मूला होता है दोस्तों से सेक्स क्रिया जो ऑक्सीकरण अभिक्रिया होती हमारे शरीर में जब वह हमारे शरीर के लिए कोई जंग रहित भोज्य पदार्थ के रूप में होता है जब हम सांस लेते हैं तो अफ्रीकन गए साथी है और एक्शन करता है इस क्रिया में मुक्त होने वाली ऊर्जा को एटीपी एडिनोसिन त्रिफास्फेट नामक जैव अणु में संग्रहित करके रख दिया जाता है जिसका उपयोग सजीव अपनी विभिन्न क्रियाओं में करते हैं उसकी भोज्य पदार्थ के रूप में गुरुकुल जमीन और चित्र तथा वसीय अम्ल का प्रयोग हमारे शरीर का आता है जिनको शिक्षित करने के लिए ऑक्सीजन का परमाणु इलेक्ट्रॉन ग्रहण करने का काम करता है दोस्तों कोशिकीय श्वसन और स्वास्थ्य क्रिया में अभिनय संबंध है एवं यह दोनों क्रिया एक दूसरे के पूरक हैं एवं शोषण करते हैं तो शरीर ऑक्सीजन गैस को लेता है और कार्बन डाइऑक्साइड गैस को निकालता है या नहीं आंख सीजन और कार्बन डाई गैस कार्बन डाइऑक्साइड गैस का आदान-प्रदान होता है ऑक्सीजन गैस सोशल अंगूर से विष्णु द्वारा रक्त में प्रवेश कर जाती हैं और पूरे शरीर की एक कोशिका को ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करती हैं

200 sajeev koshikaaon ke bhojan me oxykaran ke fal swarup urja utpann hone ki kriya ko koshish roshan karte hain ki tashan hai jo oxygen ki upasthitee ya anupasthit dono avastha me sampann ho sakti hai bilkul ka formula hota hai doston se sex kriya jo oxykaran abhikriya hoti hamare sharir me jab vaah hamare sharir ke liye koi jung rahit bhojya padarth ke roop me hota hai jab hum saans lete hain toh african gaye sathi hai aur action karta hai is kriya me mukt hone wali urja ko atp edinosin trifasfet namak jaiv anu me sangrahit karke rakh diya jata hai jiska upyog sajeev apni vibhinn kriyaon me karte hain uski bhojya padarth ke roop me gurukul jameen aur chitra tatha vasiya amal ka prayog hamare sharir ka aata hai jinako shikshit karne ke liye oxygen ka parmanu electron grahan karne ka kaam karta hai doston koshikiya shwasan aur swasthya kriya me abhinay sambandh hai evam yah dono kriya ek dusre ke purak hain evam shoshan karte hain toh sharir oxygen gas ko leta hai aur carbon dioxide gas ko nikalata hai ya nahi aankh season aur carbon dye gas carbon dioxide gas ka aadaan pradan hota hai oxygen gas social angoor se vishnu dwara rakt me pravesh kar jaati hain aur poore sharir ki ek koshika ko oxygen pahunchane ka kaam karti hain

200 सजीव कोशिकाओं के भोजन में ऑक्सीकरण के फल स्वरुप ऊर्जा उत्पन्न होने की क्रिया को कोशिश

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!