हड़प्पा सभ्यता के प्रमुख स्थलों के नाम?...


user

Naresh Kumar

writer, GK Expert, Career Counselor

3:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हड़प्पा सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक की हड़प्पा सभ्यता का नाम हड़प्पा सभ्यता इसलिए पड़ा क्योंकि हड़प्पा हड़प्पा सभ्यता का पहला खोजा गया स्थान था इसी के साथ हड़प्पा सभ्यता को सिंधु घाटी की सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि हड़प्पा सभ्यता के दो मैक्सिमम थे या फिर केंद्र थे उस सिंधु नदी के किनारे ही बचे हुए थे आपने प्रश्न पूछा है हड़प्पा सभ्यता के प्रमुख स्थलों की तड़प सभ्यता के प्रमुख स्थल हड़प्पा मोहनजोदड़ो समुद्रो कालीबंगा लोथल रंगपुर आलमगीरपुर धोलावीरा संकुल मिताथल बनावली आदित्य और अगर बात करें हम हड़प्पा और मोहनजोदड़ो की तो जो हड़प्पा था वह रावी नदी के किनारे बसा हुआ था और तो हड़प्पा शहर था उसकी खोज की थी दयाराम कहानी ने 1921 में और मोहनजोदड़ो की खोज किसने की थी मोहनजोदड़ो की खोज की थी राखल दास बनर्जी ने 1922 में बात करें चंदू की तो चंद्रो की खोज एमजी मनु अवतार ने 1931 को किस और अगर हम बात करें किसकी कालीबंगा की तो काली बंधन की खोज की थी बीबी लाल ने और कालीबंगा में मिली है काले रंग की चूड़ियां लोथल जो एक प्रमुख नगर है यात्रियों के प्रमुख स्थल है हड़प्पा सभ्यता का तो यह पता है कहां पर यह बढ़ता है गुजरात में किसकी खोज की थी एस एन राव ने 1955 में लोकसभा में चूड़ियां पत्थर आभूषण और मिट्टी के बर्तन मिले हैं बात करें रंगपुर की तो रंगपुर की खोज 1957 में की थी एसआर राव ने और यहां से हमें क्या मिला है यहां से हमें आभूषण भवन के भवन के बचे हुए अवशेष और बर्तन मिले हैं कहां से रंगपुर से आलमगीरपुर की बात करें तो आलमगीरपुर पड़ता है उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में और इसकी खोज की थी वाई डी शर्मा ने 1958 में और यहां से भी हमें आभूषण बर्तन और मूर्तियां मिली हैं बात करें धोलावीरा की तो धोलावीरा भी पड़ता है गुजरात में और इसकी खोज की थी rs.20 ने 1991 में अगस्त अनघोल की बात करें तो संगोलगी हड़प्पा सभ्यता का एक प्रमुख स्थल था और इसकी लोकेशन है वह कहां है वह पंजाब के लुधियाना में ठीक है और मिताथल की बात की जाए तो मिटा चल पड़ता है कहां मिताथल पड़ता है हरियाणा में और इसकी खोज जो है वह कितने की थी सूरजभान ने 1968 में बनावली की बात करें तो बनावली से हमें जूते हुए खेतों के अवशेष मिले हैं और इसकी जो खोज है इसकी खोज की गई थी आरएक्सलिस्ट के द्वारा 1973 में और यहां से हमें मोरे मूर्ति और आभूषण इत्यादि पुरातात्विक स्रोत मिले हैं और यह काफी इंर्पोटेंट सोर्सेस है हड़प्पा सभ्यता को जानने के लिए हड़प्पा सभ्यता के कुछ महत्वपूर्ण स्थल इसके अलावा भी काफी स्थल हैं जैसे राखीगढ़ी हो गया कोर्ट दीदी हो गया बड़गांव हो गया जो हड़प्पा सभ्यता के प्रमुख संत

hadappa sabhyata vishwa ki prachintam sabhyatao me se ek ki hadappa sabhyata ka naam hadappa sabhyata isliye pada kyonki hadappa hadappa sabhyata ka pehla khoja gaya sthan tha isi ke saath hadappa sabhyata ko sindhu ghati ki sabhyata ke naam se bhi jana jata hai kyonki hadappa sabhyata ke do maximum the ya phir kendra the us sindhu nadi ke kinare hi bache hue the aapne prashna poocha hai hadappa sabhyata ke pramukh sthalon ki tadap sabhyata ke pramukh sthal hadappa mohenjodaro samudro kalibanga lothal rangpur alamagirpur dholavira sankul mitathal banavali aditya aur agar baat kare hum hadappa aur mohenjodaro ki toh jo hadappa tha vaah raavi nadi ke kinare basa hua tha aur toh hadappa shehar tha uski khoj ki thi dayaram kahani ne 1921 me aur mohenjodaro ki khoj kisne ki thi mohenjodaro ki khoj ki thi rakhal das banerjee ne 1922 me baat kare chandu ki toh chandro ki khoj mg manu avatar ne 1931 ko kis aur agar hum baat kare kiski kalibanga ki toh kali bandhan ki khoj ki thi bb laal ne aur kalibanga me mili hai kaale rang ki churian lothal jo ek pramukh nagar hai yatriyon ke pramukh sthal hai hadappa sabhyata ka toh yah pata hai kaha par yah badhta hai gujarat me kiski khoj ki thi S N rav ne 1955 me lok sabha me churian patthar aabhusan aur mitti ke bartan mile hain baat kare rangpur ki toh rangpur ki khoj 1957 me ki thi SR rav ne aur yahan se hamein kya mila hai yahan se hamein aabhusan bhawan ke bhawan ke bache hue avshesh aur bartan mile hain kaha se rangpur se alamagirpur ki baat kare toh alamagirpur padta hai uttar pradesh ke meerut jile me aur iski khoj ki thi why d sharma ne 1958 me aur yahan se bhi hamein aabhusan bartan aur murtiya mili hain baat kare dholavira ki toh dholavira bhi padta hai gujarat me aur iski khoj ki thi rs 20 ne 1991 me august anaghol ki baat kare toh sangolagi hadappa sabhyata ka ek pramukh sthal tha aur iski location hai vaah kaha hai vaah punjab ke ludhiyana me theek hai aur mitathal ki baat ki jaaye toh mita chal padta hai kaha mitathal padta hai haryana me aur iski khoj jo hai vaah kitne ki thi surajabhan ne 1968 me banavali ki baat kare toh banavali se hamein joote hue kheton ke avshesh mile hain aur iski jo khoj hai iski khoj ki gayi thi araeksalist ke dwara 1973 me aur yahan se hamein more murti aur aabhusan ityadi puratatvik srot mile hain aur yah kaafi important sources hai hadappa sabhyata ko jaanne ke liye hadappa sabhyata ke kuch mahatvapurna sthal iske alava bhi kaafi sthal hain jaise rakhigadhi ho gaya court didi ho gaya baragaon ho gaya jo hadappa sabhyata ke pramukh sant

हड़प्पा सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक की हड़प्पा सभ्यता का नाम हड़प्पा सभ्य

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  242
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!