स्वतंत्रता से आप क्या समझते हो?...


play
user

Rohit Yadav

Marketeer

1:32

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी पत्नी पुत्री की होती बल्कि और वह आपको मिले आप आराम से अपनी पसंद का दिल टूट कर सकते हैं आप आराम से बैठ कर सकता पहुंचने पर कोई पाबंदी नहीं है आप कुछ बोलना चाह एक मिनट तक बोल सकते हैं ऐसा नहीं है कि नहीं बोलने का मतलब यह आप किसी ने विरोध जताना चाह विरोध जता सकते लेकिन मर्यादित भाषा में नहीं है क्या आपका उससे विरोल आपने उसे गाली गलोज करना प्रारंभ कर दिया तो आप भी कानून के दायरे में अंदर कर दिया था लेकिन आपको आराम से घूमने फिरने की आजादी आप चाहे नहीं मेरे देश में मुझे वहां जाना जा सकता कि नहीं किसी के घर में जबरदस्त सोच रहे हैं उस पर किसी की रोक नहीं है तो वह लिबर्टी फ्रीडम ही होती है कि आप आ जाती है अब जाइए जहां जाना चाहती और को परेशान नहीं करूंगी आपको अपना धर्म मानने की आजादी है लेकिन इसका मतलब यह नहीं आप दूसरे धर्म में जाकर उंगली करोगे आपको पूजा पाठ करने की आजादी लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप किसी दूसरे और परेशान करोगे अपनी जाकर आपको कोई घूमने फिरने की आजादी इसका मतलब ही नहीं आप किसी के भी घर में घुस जाओगे आपको कोई इंसान पसंद है उससे शादी करनी है लेकिन इसका मतलब जबरदस्ती करोगे इस तरीके की आपको आराम जो आप कार्य करना चाहिए उसकी छूट है लेकिन एक मर्यादित आचरण में कानून के दायरे में रहकर

meri patni putri ki hoti balki aur vaah aapko mile aap aaram se apni pasand ka dil toot kar sakte hain aap aaram se baith kar sakta pahuchne par koi pabandi nahi hai aap kuch bolna chah ek minute tak bol sakte hain aisa nahi hai ki nahi bolne ka matlab yah aap kisi ne virodh jatana chah virodh jata sakte lekin maryadit bhasha me nahi hai kya aapka usse virol aapne use gaali galoj karna prarambh kar diya toh aap bhi kanoon ke daayre me andar kar diya tha lekin aapko aaram se ghoomne phirne ki azadi aap chahen nahi mere desh me mujhe wahan jana ja sakta ki nahi kisi ke ghar me jabardast soch rahe hain us par kisi ki rok nahi hai toh vaah liberty freedom hi hoti hai ki aap aa jaati hai ab jaiye jaha jana chahti aur ko pareshan nahi karungi aapko apna dharm manne ki azadi hai lekin iska matlab yah nahi aap dusre dharm me jaakar ungli karoge aapko puja path karne ki azadi lekin iska matlab yah nahi ki aap kisi dusre aur pareshan karoge apni jaakar aapko koi ghoomne phirne ki azadi iska matlab hi nahi aap kisi ke bhi ghar me ghus jaoge aapko koi insaan pasand hai usse shaadi karni hai lekin iska matlab jabardasti karoge is tarike ki aapko aaram jo aap karya karna chahiye uski chhut hai lekin ek maryadit aacharan me kanoon ke daayre me rahkar

मेरी पत्नी पुत्री की होती बल्कि और वह आपको मिले आप आराम से अपनी पसंद का दिल टूट कर सकते है

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!