क्या हम देश आज़ाद होने से पहले ठीक थे या अब ठीक हैं?...


play
user

साकेत कुमार

Senior Software Developer

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अंग्रेजी में कहावत है लिविंग इन द ला ला लैंड मतलब सपनों में रहना जिन लोगों को लगता है कि आजादी से पहले भारत अच्छा था आज की तुलना में हो मानसिक रूप से विक्षिप्त है नवनीत इतिहास का ज्ञान है किताबे उनकी सबसे बड़ी दुश्मन है कोई भी मानसिक रूप से असंतुलित व्यक्ति या जानता है कि स्वतंत्र रहना और परतंत्र रहने में क्या अंतर है आप क्या कर रहे हैं सिर्फ अगरिया में बताने लगे चाहे आपको बंगले में क्यों रखूं लेकिन आप मेरे ही इशारे पर काम करेंगे तो आपको पता चल जाएगा कि जीवन में क्या अंतर आता है फिर आप ऐसा समझिए कि आज आपके पास जो आजादी है वह जमाने में नहीं थी बस यही एक अंतर काफी है यह साबित करने के लिए कि आप आज आजाद हैं आज आप स्वतंत्र हैं आप आज मजबूत हैं आप ऐसे नहीं बिहार और बंगाल का जो शोषण हुआ था अंग्रेजों के जमाने में जो 200 सालों तक लगा दिया है उस उस गंगा के मैदान ने आज तक क्षेत्र सबसे पिछड़ा है अंग्रेजों की बीवी विरासत है जो आपका पूर्वी क्षेत्र जो है सबसे उपजाऊ जमीन ए जहां पर थी आज अगर सबसे पिछड़ा है तो यह अंग्रेजों की बीवी विरासत है और आपके घर कहते हैं कि अच्छी बात है तो आगे बात आल आप हो ही नहीं सकता एप्लीकेशन का ट्रेंड कुछ न्यूज़ में लेफ़्टिस्ट करते हैं बेसिकली

dekhie angrezi mein kahaavat hai living in the la la land matlab sapno mein rehna jin logo ko lagta hai ki azadi se pehle bharat accha tha aaj ki tulna mein ho mansik roop se vikshipta hai navneet itihas ka gyaan hai kitabe unki sabse badi dushman hai koi bhi mansik roop se asantulit vyakti ya jaanta hai ki swatantra rehna aur partantra rehne mein kya antar hai aap kya kar rahe hain sirf agariya mein bata lage chahe aapko bangale mein kyon rakhun lekin aap mere hi ishare par kaam karenge toh aapko pata chal jayega ki jeevan mein kya antar aata hai phir aap aisa samajhie ki aaj aapke paas jo azadi hai wah jamane mein nahi thi bus yahi ek antar kaafi hai yeh saabit karne ke liye ki aap aaj azad hain aaj aap swatantra hain aap aaj majboot hain aap aise nahi bihar aur bengal ka jo shoshan hua tha angrejo ke jamane mein jo 200 salon tak laga diya hai us us ganga ke maidan ne aaj tak kshetra sabse pichda hai angrejo ki biwi virasat hai jo aapka purvi kshetra jo hai sabse upajau jameen a jaha par thi aaj agar sabse pichda hai toh yeh angrejo ki biwi virasat hai aur aapke ghar kehte hain ki acchi baat hai toh aage baat aal aap ho hi nahi sakta application ka trend kuch news mein leftist karte hain basically

देखिए अंग्रेजी में कहावत है लिविंग इन द ला ला लैंड मतलब सपनों में रहना जिन लोगों को लगता

Romanized Version
Likes  485  Dislikes    views  7119
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mehraj Shayyad

Learner,listener,speaker

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह कोई पूरी तरह से नहीं बता सकता कि हम आजाद होने से पहले ठीक थी आप ठीक है अगर आप बड़े बुजुर्गों से पूछेंगे कि आज देश आजाद होने से पहले जब गुलाम था तो कैसी हालत में था तो उनकी राय अलग होगी क्योंकि हम हम पर वर्तमान समय में जी रहे हैं हम नहीं बता सकते कि पुराने जमाने का हालत कैसे थे लेकिन अब की हालत में पुराने जमाने की तुलना में ठीक नहीं है क्योंकि अब के समय में भी अंग्रेजों की जो अंग्रेजों की जो नीति थी अलग अलग करने की हिंदू मुसलमानों की वह अभी भी उत्पन्न हो रही है से कई जगह पर हिंदू मुसलमान एक दूसरे को देखना नहीं चाहते एक दूसरे की बुराई करते हैं और कई जगह पर जाति भेदभाव उत्पन्न उत्पन्न है इस तरह से कह सकते हैं कि हमारा देश आजाद होने से पहले ठीक है ठीक पूरी तरह से ठीक नहीं है और आजाद होने के बाद भी

dekhiye yah koi puri tarah se nahi bata sakta ki hum azad hone se pehle theek thi aap theek hai agar aap bade bujurgon se puchenge ki aaj desh azad hone se pehle jab gulam tha toh kaisi halat mein tha toh unki rai alag hogi kyonki hum hum par vartaman samay mein ji rahe hain hum nahi bata sakte ki purane jamane ka halat kaise the lekin ab ki halat mein purane jamane ki tulna mein theek nahi hai kyonki ab ke samay mein bhi angrejo ki jo angrejo ki jo niti thi alag alag karne ki hindu musalmanon ki vaah abhi bhi utpann ho rahi hai se kai jagah par hindu muslim ek dusre ko dekhna nahi chahte ek dusre ki burayi karte hain aur kai jagah par jati bhedbhav utpann utpann hai is tarah se keh sakte hain ki hamara desh azad hone se pehle theek hai theek puri tarah se theek nahi hai aur azad hone ke baad bhi

देखिए यह कोई पूरी तरह से नहीं बता सकता कि हम आजाद होने से पहले ठीक थी आप ठीक है अगर आप बड़

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  271
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस पर हर व्यक्ति की राय अलग अलग है कुछ लोगों का मानना है कि आज के हालात अच्छे हैं कुछ लोगों का मानना है कुछ समय के हालात अच्छे थे मेरा मानना है तो मैं भी मुझे भी लगता है कि उस समय ज्यादा अच्छी स्थिति थी और उस समय जो निर्माणाधीन बिल्डिंग सोती थी जो फूल होते थे वह इतनी मजबूती से बनाए जाते थे आज भी टिके हुए आज भी देखिए अंग्रेजों के बनाए हुए फूल आज भी चल रहे लेकिन आजकल हमारे यहां के आर्किटेक्ट द्वारा बनाए गए फूल पता नहीं कब गिर जाए कितने लोगों की मौत हो जाए कोई नहीं जानता आप इसके जो एग्जांपल से आप देखिए कुछ दिन पहले ही एक घटना गोरखपुर में उस में 15 लोगों की मौत हो जाती है कुछ दिन पहले कोलकाता में भी खुलकर गया था तो दिखाता है कि हमारे देश में अभी भी आप ज्यादा भ्रष्टाचार भ्रष्टाचार नहीं था

is par har vyakti ki rai alag alag hai kuch logo ka manana hai ki aaj ke haalaat acche hain kuch logo ka manana hai kuch samay ke haalaat acche the mera manana hai toh main bhi mujhe bhi lagta hai ki us samay zyada achi sthiti thi aur us samay jo nirmanadheen building soti thi jo fool hote the vaah itni majbuti se banaye jaate the aaj bhi tike hue aaj bhi dekhiye angrejo ke banaye hue fool aaj bhi chal rahe lekin aajkal hamare yahan ke architect dwara banaye gaye fool pata nahi kab gir jaaye kitne logo ki maut ho jaaye koi nahi jaanta aap iske jo example se aap dekhiye kuch din pehle hi ek ghatna gorakhpur mein us mein 15 logo ki maut ho jaati hai kuch din pehle kolkata mein bhi khulkar gaya tha toh dikhaata hai ki hamare desh mein abhi bhi aap zyada bhrashtachar bhrashtachar nahi tha

इस पर हर व्यक्ति की राय अलग अलग है कुछ लोगों का मानना है कि आज के हालात अच्छे हैं कुछ लोगो

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  265
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!