बवासीर का आयुर्वेदिक इलाज दवाई क्या-क्या है?...


user

Dr. M.P. Yadav

Ayurvedic Doctor. Master in Anorectal Surgery (Piles) क्षारसूत्र विधि विशेषज्ञ

7:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड आप ने प्रश्न किया है कि बवासीर का आयुर्वेदिक इलाज दवाई क्या क्या होती है तो इलाज और दवाई से पहले सर्वप्रथम को समझना पड़ेगा कि बवासीर की अवस्थाएं और प्रकार कितने होते हैं तो इन अवस्थाओं और प्रकार के आधार पर इनकी दवाई और इनका इलाज अलग अलग होता है तो सर्वप्रथम मैं आपको बताना चाहूंगा कि बवासीर दो प्रकार का होता है एक आंतरिक बवासीर और एक व्हाय वास ए एन ए की इंटरनल पाइल्स और एक्सटर्नल पाइल्स तो सब पता हमको इन के लक्षणों को समझना पड़ेगा आपने सामान्य जनमानस की भाषा में सुनो सुना होगा जिसको भी बीमारी है कोई दिक्कत है कि मुझे खूनी बवासीर है और कोई कहता है कि मुझे बादी बवासीर है बादी बवासीर में जालिम खून नहीं आता है और मस्ती बाहर आते हैं उसी को एक्सटर्नल पाइल्स कहा जाता है अजय खूनी बवासीर ऐसे मत दे अंदर होते हैं बस से बाहर से दिखाई नहीं देते हैं इसमें खून ज्यादा आता है और दर्द कम होता है जबकि बादी बवासीर में इसकी स्टर्नल पाइल्स होते हैं उसमें दर्द ज्यादा होता है और गलत नहीं आता है बहुत हल्का फुल्का आता है तो इन दोनों बीमारियों का अलग-अलग इलाज है तुझे इंटरनल पाइल्स होते हैं उसमें कुछ खान प्रियंका बदलाव करके कुछ आपकी लाइफ स्टाइल मोडिफिकेशन करके और कुछ दवाएं दे करके उसको ठीक किया जा सकता है जबकि एक्सटर्नल जो पास है उसमें समानता ऑपरेशन करना पड़ता है आयुर्वेद में बहुत ही प्रमाणिक और सिद्ध चिकित्सा के लिए है सर्जरी किस किस तारीख से चालू चिकित्सा पाते हैं उसमें चार कर्म और छार सूत्र विधि है इन विधियों द्वारा आप भी बीमारी से हंड्रेड परसेंट मुक्ति पा सकते हैं और थोड़ा एडवांस यदि हम बातें करते हैं तो इस बीमारी को जो भाषा की मालिश को चार अवस्थाओं में बांटा गया है फर्स्ट डिग्री से 10 डिग्री 3 डिग्री 4 डिग्री 1 डिग्री क्या है समझना पड़ेगा फर्स्ट और सेकंड होते हैं रहते हैं बाहर नहीं आते हैं MP3 डिग्री में क्या होता है कि मस्ती बाहर आते हैं लेट्रिन को लेट्रिन के समय लेकिन उसके बाद भी मैं पेशेंट मैनुअली उसको अंदर डालता है तो अंदर चले जाते हैं लेकिन यकीन के साथ के बार आया था और चौथी और तहसील में मस्त बाहर आ जाते हैं और मनु जो मरीज है वंदना से डालता है तो भी नहीं जाता है नहीं वह बाहर ही रहते हैं तो पहली और दूसरी अवस्था है उसका जो इलाज है उसका अलग ट्रीटमेंट है तीसरे की चौथी अवस्था है उसका इलाज जो है अलग तरीके से होता है तीसरी और चौथी अवस्था उसमें गाली ऑपरेशन किया जाता है छात्र मोर्चा सूचित किया जाता है जो पहली और दूसरी अवस्थाएं हैं उसमें सिर्फ और सिर्फ झारखंड करना पड़ता है और कुछ खान पीन का रहन सहन का और दवाएं दी जाती हैं इसके अलावा एक ट्रीटमेंट होता है रबड़ बैंड उसके दो बच्चे हैं पेट के को उस बैंक के द्वारा लाए गेट कर दिया जाता है एक नई टेक्निक आई जो उमेदवार ढोलक की गई है उसे कहते हैं पाकिस्तान आफ हिमालयन मेडिकल तो भी सस्ता है और पेनलेस है इफेक्टिव है तो भी आजकल मैं अपने मरीजों में कर रहा हूं काफी अच्छा उसका रिजल्ट आ रहा है तो मेरा आपको और मेरे सभी सुनने वालों को यह सलाह है कि जब भी गुदा मार्ग में कोई तकलीफ हो तो उसे सिर्फ बाबा से नहीं मानना चाहिए बवासीर के अलावा भी कई सारी बीमारियां जसीडीह से मिलती-जुलती बीमारी होती है फिसल हिसार में क्या होता है कि लैट्रिन के रास्ते में कट लग जाता है लैट्रिन काला होने का कट हो जाता है क्लियर हो जाता कर सकते हैं सीधा टाइप हो जाता है जब भी मनुष्य चिंता करता तो उसमें पेन बहुत तेज होता है आसानी दर्द होता है उसमें दर्द होता कि आधे घंटे तक हमेशा बना रहता है या किसी दूसरी मारी भगंदर होती है भगंदर में क्या होता है कि एक ट्यूबलाइट स्ट्रक्चर बन जाती है पैदल स्क्रीन सेवर करनाल के अंदर ओपनिंग होता है अंदर एक बाहर होता है कर्नल और इंटरनल ओपनिंग करते हैं या प्राइमरी ओपनिंग हो सेकेंडरी ओपनिंग भी करते हैं तो उसमें जो शिविर सहयोग से साले चिकित्सालय ने कि उसका सर्जरी करना पड़ता है उसमें से जो बेस्ट हर्बल ट्रीटमेंट तब प्राइस सहित समय रीसेंट एजेंट समय में वह सूत्र है और एक सलाह देना चाहूंगा कि जब भी आपको गुदा मार्ग बीमारी हो तो उसमें शर्मा शर्माना नहीं है पहली बार दूसरी बात घबराना नहीं है डरना नहीं है उसको आप किसी क्वालिफाइड डॉक्टर एक्सपर्ट डॉक्टर जो उसके थी कि डॉक्टर हूं उसको आप दिखाइए और दवाई तभी लीजिए जब वह आपको एग्जामिन करते हैं कम से कम ताल बेताल एग्जामिनेशन करना जरूरी है तभी वह बता पाते हैं कि आपको वास्तव में कौन सी बीमारी है इसलिए मैं बता रहा हूं क्योंकि हमारे पास कुछ ऐसे मरीज आते हैं जो 1 महीने से 2 महीने से 4 महीने से 6:00 बजे दवाई ले रहे हैं लेकिन उनको आराम नहीं रहा और कुछ लोग तो कभी-कभी ऑपरेशन भी कर जाते हैं और यहां तक सुनने मिलता है कि छमाही दवाई करने के बाद भी कोई डॉक्टर उनको देखा नहीं जाता है मतलब कि वह इंटरेस्ट नहीं लेते हैं देखने के लिए कुछ मरीज खुद अपना शर्म की वजह से नहीं दिखाना चाहते हैं डर की वजह से नहीं दिखाना चाहते हैं तो उसमें गंभीर समस्या देखने को मिली मुझे कम से कम रीमिक्स सॉन्ग मरीज देखता हूं तो उसमें एक दो महीने से आ जाते हैं जिनको रहता है गोदाम आर का कैंसर है ध्यान देने वाली बात है है बीमारी कैंसर की जाता है गुदा मार्ग कैंसर दवाई बवासीर की चल रही होती है और वह बीमारी तो दफ्तर के सामने हमारी के सामने 6 महीने से आई है लेकिन वह कुत्ता पहले से शुरुआत रही हो तो फिर भी का वस्था में मारी पता चल जाता है तो उसका इलाज करना आसान हो जाता है क्योंकि आप जानते हैं कैंसर बीमारी हमेशा फटती रहती है फैलती रहती है तो मेरा आपको और मेरे और सभी सुनने वालों गुमराह चला है कि कोई भी उमरिया से गुलाम आरती होती है तो आप ना शरमाया ना घबराए इसको जरूर से जरूर दिखाएं और ऐसे ही डॉक्टर को दिखाएं जो बता देता है आपको बताता कि हां आपको बीमारी है उसी से दवा लीजिए धन्यवाद

hello friend aap ne prashna kiya hai ki bawasir ka ayurvedic ilaj dawai kya kya hoti hai toh ilaj aur dawai se pehle sarvapratham ko samajhna padega ki bawasir ki avasthae aur prakar kitne hote hain toh in avasthaon aur prakar ke aadhar par inki dawai aur inka ilaj alag alag hota hai toh sarvapratham main aapko batana chahunga ki bawasir do prakar ka hota hai ek aantarik bawasir aur ek why was a N a ki internal piles aur external piles toh sab pata hamko in ke lakshano ko samajhna padega aapne samanya janmanas ki bhasha me suno suna hoga jisko bhi bimari hai koi dikkat hai ki mujhe khuni bawasir hai aur koi kahata hai ki mujhe badi bawasir hai badi bawasir me jalim khoon nahi aata hai aur masti bahar aate hain usi ko external piles kaha jata hai ajay khuni bawasir aise mat de andar hote hain bus se bahar se dikhai nahi dete hain isme khoon zyada aata hai aur dard kam hota hai jabki badi bawasir me iski sternal piles hote hain usme dard zyada hota hai aur galat nahi aata hai bahut halka fulka aata hai toh in dono bimariyon ka alag alag ilaj hai tujhe internal piles hote hain usme kuch khan priyanka badlav karke kuch aapki life style modifikeshan karke aur kuch davayain de karke usko theek kiya ja sakta hai jabki external jo paas hai usme samanata operation karna padta hai ayurveda me bahut hi pramanik aur siddh chikitsa ke liye hai surgery kis kis tarikh se chaalu chikitsa paate hain usme char karm aur chhaar sutra vidhi hai in vidhiyon dwara aap bhi bimari se hundred percent mukti paa sakte hain aur thoda advance yadi hum batein karte hain toh is bimari ko jo bhasha ki maalish ko char avasthaon me baata gaya hai first degree se 10 degree 3 degree 4 degree 1 degree kya hai samajhna padega first aur second hote hain rehte hain bahar nahi aate hain MP3 degree me kya hota hai ki masti bahar aate hain latrine ko latrine ke samay lekin uske baad bhi main patient mainuali usko andar dalta hai toh andar chale jaate hain lekin yakin ke saath ke baar aaya tha aur chauthi aur tehsil me mast bahar aa jaate hain aur manu jo marij hai vandana se dalta hai toh bhi nahi jata hai nahi vaah bahar hi rehte hain toh pehli aur dusri avastha hai uska jo ilaj hai uska alag treatment hai teesre ki chauthi avastha hai uska ilaj jo hai alag tarike se hota hai teesri aur chauthi avastha usme gaali operation kiya jata hai chatra morcha suchit kiya jata hai jo pehli aur dusri avasthae hain usme sirf aur sirf jharkhand karna padta hai aur kuch khan pin ka rahan sahan ka aur davayain di jaati hain iske alava ek treatment hota hai rubber band uske do bacche hain pet ke ko us bank ke dwara laye gate kar diya jata hai ek nayi technique I jo ummedwaar dholak ki gayi hai use kehte hain pakistan of himalayan medical toh bhi sasta hai aur painless hai effective hai toh bhi aajkal main apne marizon me kar raha hoon kaafi accha uska result aa raha hai toh mera aapko aur mere sabhi sunne walon ko yah salah hai ki jab bhi guda marg me koi takleef ho toh use sirf baba se nahi manana chahiye bawasir ke alava bhi kai saari bimariyan jasidih se milti julti bimari hoti hai fisal hisar me kya hota hai ki latrine ke raste me cut lag jata hai latrine kaala hone ka cut ho jata hai clear ho jata kar sakte hain seedha type ho jata hai jab bhi manushya chinta karta toh usme pen bahut tez hota hai aasani dard hota hai usme dard hota ki aadhe ghante tak hamesha bana rehta hai ya kisi dusri mari bhagandar hoti hai bhagandar me kya hota hai ki ek tubelight structure ban jaati hai paidal screen sevar karnal ke andar Opening hota hai andar ek bahar hota hai colonel aur internal Opening karte hain ya primary Opening ho secondary Opening bhi karte hain toh usme jo shivir sahyog se saale chikitsaalay ne ki uska surgery karna padta hai usme se jo best herbal treatment tab price sahit samay recent agent samay me vaah sutra hai aur ek salah dena chahunga ki jab bhi aapko guda marg bimari ho toh usme sharma sharmaana nahi hai pehli baar dusri baat ghabrana nahi hai darna nahi hai usko aap kisi qualified doctor expert doctor jo uske thi ki doctor hoon usko aap dikhaiye aur dawai tabhi lijiye jab vaah aapko egjamin karte hain kam se kam taal betal examination karna zaroori hai tabhi vaah bata paate hain ki aapko vaastav me kaun si bimari hai isliye main bata raha hoon kyonki hamare paas kuch aise marij aate hain jo 1 mahine se 2 mahine se 4 mahine se 6 00 baje dawai le rahe hain lekin unko aaram nahi raha aur kuch log toh kabhi kabhi operation bhi kar jaate hain aur yahan tak sunne milta hai ki chamahi dawai karne ke baad bhi koi doctor unko dekha nahi jata hai matlab ki vaah interest nahi lete hain dekhne ke liye kuch marij khud apna sharm ki wajah se nahi dikhana chahte hain dar ki wajah se nahi dikhana chahte hain toh usme gambhir samasya dekhne ko mili mujhe kam se kam remix song marij dekhta hoon toh usme ek do mahine se aa jaate hain jinako rehta hai godaam R ka cancer hai dhyan dene wali baat hai hai bimari cancer ki jata hai guda marg cancer dawai bawasir ki chal rahi hoti hai aur vaah bimari toh daftaar ke saamne hamari ke saamne 6 mahine se I hai lekin vaah kutta pehle se shuruat rahi ho toh phir bhi ka vastha me mari pata chal jata hai toh uska ilaj karna aasaan ho jata hai kyonki aap jante hain cancer bimari hamesha fatati rehti hai failati rehti hai toh mera aapko aur mere aur sabhi sunne walon gumrah chala hai ki koi bhi Umaria se gulam aarti hoti hai toh aap na sharmaya na ghabraye isko zaroor se zaroor dikhaen aur aise hi doctor ko dikhaen jo bata deta hai aapko batata ki haan aapko bimari hai usi se dawa lijiye dhanyavad

हेलो फ्रेंड आप ने प्रश्न किया है कि बवासीर का आयुर्वेदिक इलाज दवाई क्या क्या होती है तो इल

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  622
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!