हमारे देश में जातिवाद क्यों है?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में जातिवाद इसलिए है कि हम यह बता सके यह जता सके कि हम किस से ऊपर और किस के नीचे हैं जबकि ऐसा कुछ नहीं है वर्ण व्यवस्था में कर्मों के हिसाब से बांटा गया विभक्त किया गया लेकिन अब जातिवाद समाप्त होने की सोच हम जितना भी पैदा करने लेकिन अब जातिवाद के बंधन में और हम बंधे रहना चाहते हैं और इसके कारण हो सकते हैं कि मजबूत कदम जो है वह है आम जनता के लिए आरक्षण का लाभ ताकि जाति से आरक्षण मिल रहा है जाति आधार पर हो कि आर्थिक आधार पर आरक्षण का ही नहीं यह जातिवाद संभाग भी नहीं हो सकती दूसरा क्या है कि जातिवाद से नेताओं को फायदा जाति विशेष से नेता अगर संख्या बहुत संख्या में है तो जा ई आधार पर ही वह चुना जाता है तो कुल मिलाकर जातिवाद अभी मलाई देने लायक हो गई है उनके लिए जिनको आरक्षण चाहिए उनके लिए जिनको जाति आधार पर वोट से ही उनके लिए उन राजनीतिक दलों के लिए इन्हें जातीय आधार पर ही अपनी सरकार बनती दिख रही है तो आप समझ सकते हैं कि इस परिवेश में जातिवाद क्यों नहीं रहेगा और क्यों समाप्त होगा जबकि होना यह चाहिए कि साफ-सफाई सोच और जीवन स्तर के हिसाब से हम किसी को अपनी नजर में कटे करायची करें लेकिन हम जाति आधार पर करते हैं परिणाम यही है कि देश विकासशील की श्रेणी में तो जाता है लेकिन कभी विकसित नहीं हो पाता अभिशाप ही है एक और इस अभिशाप की गंगा में डूब डूब कर नेता और पार्टियां खासकर के और केवल आरक्षण के लिए जीने वाले लोग डुबकी लगा रहे हैं

hamare desh me jaatiwad isliye hai ki hum yah bata sake yah jata sake ki hum kis se upar aur kis ke niche hain jabki aisa kuch nahi hai varn vyavastha me karmon ke hisab se baata gaya vibhakt kiya gaya lekin ab jaatiwad samapt hone ki soch hum jitna bhi paida karne lekin ab jaatiwad ke bandhan me aur hum bandhe rehna chahte hain aur iske karan ho sakte hain ki majboot kadam jo hai vaah hai aam janta ke liye aarakshan ka labh taki jati se aarakshan mil raha hai jati aadhar par ho ki aarthik aadhar par aarakshan ka hi nahi yah jaatiwad sambhag bhi nahi ho sakti doosra kya hai ki jaatiwad se netaon ko fayda jati vishesh se neta agar sankhya bahut sankhya me hai toh ja E aadhar par hi vaah chuna jata hai toh kul milakar jaatiwad abhi malai dene layak ho gayi hai unke liye jinako aarakshan chahiye unke liye jinako jati aadhar par vote se hi unke liye un raajnitik dalon ke liye inhen jatiye aadhar par hi apni sarkar banti dikh rahi hai toh aap samajh sakte hain ki is parivesh me jaatiwad kyon nahi rahega aur kyon samapt hoga jabki hona yah chahiye ki saaf safaai soch aur jeevan sthar ke hisab se hum kisi ko apni nazar me kate karayachi kare lekin hum jati aadhar par karte hain parinam yahi hai ki desh vikasshil ki shreni me toh jata hai lekin kabhi viksit nahi ho pata abhishap hi hai ek aur is abhishap ki ganga me doob doob kar neta aur partyian khaskar ke aur keval aarakshan ke liye jeene waale log dubki laga rahe hain

हमारे देश में जातिवाद इसलिए है कि हम यह बता सके यह जता सके कि हम किस से ऊपर और किस के नीचे

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  88
KooApp_icon
WhatsApp_icon
26 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!