जब्ब हम्म गुस्से में होते हैं तो हम कुछ भी बोल जाते हैं लेकिन जब्ब हमारा गुस्सा ख़तम हो जाता है तो हम्म उस बात को सुधरना चाहते हैं लेकिन किसी से कुछ कहह नहीं पते है ऐसा क्यों होता है?...


play
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

1:36

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा जब गुस्से में होते तो जो मन में आता बोलना के बाद में सोचें पर आते हैं सुनना चाहते हैं लेकिन किसी के सामने कह नहीं पाते हैं ऐसा क्यों जिस इंसान के पास गुप्ता होटल किस समय बुद्धि गुस्से में जलकर राख हो जाती है जो मन में आता है वह कहता है जो मन में आता है वह करता है अपन आगे होता है उसके पास सोचो समझ नहीं होता परिणाम स्वरुप वह इंसान जो है अपना आपा खो देता है लेकिन थोड़ी देर बाद उसे अपनी गलती का एहसास होता कि मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए वह मानता है लेकिन अपने मन को नहीं समझा पाता अपने मन के सामने बात नहीं रह पाता जिसके कारण उसे गलती मानने में कोई जमीन आपसे कुछ चंद निकल गया आपके करती हुई उस गलती को मान लेने में कोई इंसान छोटा नहीं हो जाता बड़प्पन बेटा उसका और बड़प्पन के अंतर्गत कुछ इंसान को हमेशा एक दूसरे का लाइट बंद करना चाहिए और गति होने वाला मांग लेना चाहिए क्योंकि क्षमा मांगने से इंसान के अंदर सुधरने का प्रायश्चित करने का मौका

aapne kaha jab gusse me hote toh jo man me aata bolna ke baad me sochen par aate hain sunana chahte hain lekin kisi ke saamne keh nahi paate hain aisa kyon jis insaan ke paas gupta hotel kis samay buddhi gusse me jalkar raakh ho jaati hai jo man me aata hai vaah kahata hai jo man me aata hai vaah karta hai apan aage hota hai uske paas socho samajh nahi hota parinam swarup vaah insaan jo hai apna aapa kho deta hai lekin thodi der baad use apni galti ka ehsaas hota ki mujhe aisa nahi karna chahiye mujhe aisa nahi karna chahiye vaah maanta hai lekin apne man ko nahi samjha pata apne man ke saamne baat nahi reh pata jiske karan use galti manne me koi jameen aapse kuch chand nikal gaya aapke karti hui us galti ko maan lene me koi insaan chota nahi ho jata badappan beta uska aur badappan ke antargat kuch insaan ko hamesha ek dusre ka light band karna chahiye aur gati hone vala maang lena chahiye kyonki kshama mangne se insaan ke andar sudharne ka prayashchit karne ka mauka

आपने कहा जब गुस्से में होते तो जो मन में आता बोलना के बाद में सोचें पर आते हैं सुनना चाहते

Romanized Version
Likes  407  Dislikes    views  5133
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!