महाभारत युद्ध की कौन सी कृष्ण ने अपनी हथियार उठाने की प्रतिज्ञा तोड़ी?...


play
user

Likes  9  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है महाभारत के युद्ध में श्रीकृष्ण ने अपने हथियार उठाने की प्रतिज्ञा तोड़ी थी बिल्कुल तोड़ी थी लेकिन उन्होंने उठाया था जब गुरु द्रोण का तीर उनके अर्जुन पर आ रहा था तो यह बात तो हम अच्छे से जानते हैं कि भले ही चला कितना ही मार का हो बने चेला अपने गुरु से कितना ही आगे हो अपने गुरु से नहीं जीत सकता इसलिए भगवान स्वयं भगवान को प्रकट होना पड़ा वहां पर अर्जुन के बचाव के लिए तो कृष्ण भगवान ने एक पहिया का यूज किया था जो राष्ट्र के पहिए होते थे ना औरतों के रथ के व्रत के प्रयोग को उठाकर और उसको सुदर्शन की तरह इस्तेमाल किया था उनके गुरु द्रोण के शस्त्र को निर्वस्त्र करने के लिए तब तब हम यह कह सकते हैं कि उन्होंने प्रतिज्ञा तोड़ी थी लेकिन खुद खुद का अपना तो अच्छी है वह कोई पूरी महाभारत में नहीं किया तो एक जगह थी जहां पर उन्होंने अर्जुन के बचाव में वह पहिया उठाकर और सुदर्शन चक्र की तरह घूम आते हुए गुरु द्रोण की तरफ फेंका था बाकी है उस वक्त करो कौरव पक्ष ने प्रश्न उठाया था कि आप ने हथियार उठा अपने प्रतिज्ञा तोड़ी है और कृष्ण भगवान ने अपनी सफाई दी कि मैंने हथियार नहीं उठाया मैं मेरे मैं सोचती हूं और साथ ही धर्म निभा रहा था मैं मेरे मेरे रथ के ऊपर जो भी योद्धा उपस्थित है उसका बचाव करना मेरा धर्म है और मैंने वह बचाव करने के लिए उठा है बाकी मैंने मेरे ससुरे एक भी प्रकट नहीं की है लेकिन हम यह मान सकते हैं कि उन्होंने यह कहा था कि मैं बिल्कुल भी शस्त्र उठाना वीडियो कृष्ण भगवान इससे यह सिद्ध होता है कि धर्म के लिए नियम पढ़ने जा सकते हैं लेकिन उनके लिए नियम नहीं पढ़ते जा सकते क्योंकि धर्म नियम पलटते हैं तभी तो धर्म होता है लेकिन गलत चीजों के लिए नियम पलते जाते हैं तो वह समाज को हानि पहुंचाने वाले होते हैं उसकी चीजों के लिए कोई नियम पलता जा रहा है तो वह समाज को एक नई दिशा आगे बढ़ाने के लिए लिया जाता है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai mahabharat ke yudh me shrikrishna ne apne hathiyar uthane ki pratigya todi thi bilkul todi thi lekin unhone uthaya tha jab guru drone ka teer unke arjun par aa raha tha toh yah baat toh hum acche se jante hain ki bhale hi chala kitna hi maar ka ho bane chela apne guru se kitna hi aage ho apne guru se nahi jeet sakta isliye bhagwan swayam bhagwan ko prakat hona pada wahan par arjun ke bachav ke liye toh krishna bhagwan ne ek pahiya ka use kiya tha jo rashtra ke pahiye hote the na auraton ke rath ke vrat ke prayog ko uthaakar aur usko sudarshan ki tarah istemal kiya tha unke guru drone ke shastra ko nirvastra karne ke liye tab tab hum yah keh sakte hain ki unhone pratigya todi thi lekin khud khud ka apna toh achi hai vaah koi puri mahabharat me nahi kiya toh ek jagah thi jaha par unhone arjun ke bachav me vaah pahiya uthaakar aur sudarshan chakra ki tarah ghum aate hue guru drone ki taraf fenkaa tha baki hai us waqt karo kaurav paksh ne prashna uthaya tha ki aap ne hathiyar utha apne pratigya todi hai aur krishna bhagwan ne apni safaai di ki maine hathiyar nahi uthaya main mere main sochti hoon aur saath hi dharm nibha raha tha main mere mere rath ke upar jo bhi yodha upasthit hai uska bachav karna mera dharm hai aur maine vaah bachav karne ke liye utha hai baki maine mere sasure ek bhi prakat nahi ki hai lekin hum yah maan sakte hain ki unhone yah kaha tha ki main bilkul bhi shastra uthana video krishna bhagwan isse yah siddh hota hai ki dharm ke liye niyam padhne ja sakte hain lekin unke liye niyam nahi padhte ja sakte kyonki dharm niyam paltate hain tabhi toh dharm hota hai lekin galat chijon ke liye niyam palate jaate hain toh vaah samaj ko hani pahunchane waale hote hain uski chijon ke liye koi niyam palta ja raha hai toh vaah samaj ko ek nayi disha aage badhane ke liye liya jata hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है महाभारत के युद्ध में श्रीकृष्ण ने अपने हथियार उठाने की प्रतिज्ञा तो

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!