अपना नाम भूलने वाले वैज्ञानिक कौन थे?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

1:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

थॉमस अल्वा एडिसन ही वह वैज्ञानिक है जो अपना नाम भूल गए थे पर यहां मैं उस वाक्य की भी चर्चा करूंगी जब भी अपना नाम भूल गए थे दरअसल फर्स्ट वर्ल्ड वॉर के बाद अनाज की किल्लत दुनिया भर में हो गई थी तब पहली बार राशन कार्ड पर अनाज दिए जाने का चलन शुरू हुआ और सबको अपना नाम राशन कार्ड के लिए रजिस्टर करवाना था कतार लगी हुई थी कतार में एडमिशन भी खड़े थे धीरे-धीरे कतार छोटी होती गई और आखिरकार एडिशन उस टेबल के सामने पहुंच गए जहां उन्हें अपना नाम सरकारी रजिस्टर में दर्ज दर्ज करवाना अधिकारी ने उनका नाम लेकर पूछा थॉमस अल्वा एडीसन एडिशन अपने आजू-बाजू देखने लगे कि कौन है अल्वा एडीसन फिर उन्होंने अपने पीछे खड़े आदमी से पूछ लिया कौन है अल्वा एडीसन उस आदमी ने जवाब दिया आप ही तो है थोड़ी देर बगलें झांकने के बाद उन्होंने कहा कि अगर आप कहती हैं तो मैं मान लेता हूं दरअसल 50 सालों में मेरा नाम किसी ने नहीं लिया मेरे माता-पिता तो बचपन में ही गुजर कहती जो सहयोगी और छात्र है पर मुझे प्रोफेसर के नाम से अधिक बुलाते हैं अपना नाम सुने बहुत समय हो गया इसलिए मैं तो अपना नाम भूल ही बैठा था

thomas alwa edison hi vaah vaigyanik hai jo apna naam bhool gaye the par yahan main us vakya ki bhi charcha karungi jab bhi apna naam bhool gaye the darasal first world war ke baad anaaj ki killat duniya bhar mein ho gayi thi tab pehli baar raashan card par anaaj diye jaane ka chalan shuru hua aur sabko apna naam raashan card ke liye register karwana tha katar lagi hui thi katar mein admission bhi khade the dhire dhire katar choti hoti gayi aur aakhirkaar edition us table ke saamne pohch gaye jaha unhe apna naam sarkari register mein darj darj karwana adhikari ne unka naam lekar poocha thomas alwa edisan edition apne aju baju dekhne lage ki kaun hai alwa edisan phir unhone apne peeche khade aadmi se puch liya kaun hai alwa edisan us aadmi ne jawab diya aap hi toh hai thodi der baglen jhankane ke baad unhone kaha ki agar aap kehti hai toh main maan leta hoon darasal 50 salon mein mera naam kisi ne nahi liya mere mata pita toh bachpan mein hi gujar kehti jo sahyogi aur chatra hai par mujhe professor ke naam se adhik bulate hai apna naam sune bahut samay ho gaya isliye main toh apna naam bhool hi baitha tha

थॉमस अल्वा एडिसन ही वह वैज्ञानिक है जो अपना नाम भूल गए थे पर यहां मैं उस वाक्य की भी चर्चा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  7  Dislikes    views  273
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
duniya ka sabse bada vaigyanik kaun hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!