विश्वास कैसे किया जाए और किस पर किया जाए भगवान या इंसान पर?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किस पर विश्वास करें इंसान पर विश्वास करें या भगवान पर विश्वास करें सबसे पहले तो यह क्षमता विकसित करनी पड़ेगी कि विश्वास वास्तव में इस पर करना चाहिए और कैसे करना चाहिए और क्यों करना चाहिए यदि यह क्षमता अपने अंदर नहीं है तो ऐसा व्यक्ति जीवन भर कनफ्यूजन में जीता रहेगा और सदैव उसका निर्णय भी उसी प्रकार का प्रमाण पत्र है हमारे अंदर हमारे शरीर के अंदर चेतना है एक बजा है उसी उर्जा होती चेतना के कारण हमारा अस्तित्व शक्ति चेतना के हम चर्चा कर रहे हैं वही ब्राह्मण है वही ईश्वर शिव ब्रह्म की उपासना सभी कर दी सबके अंदर सब के भीतर यह भ्रम विमान अहम् ब्रह्मास्मि सत्यापित करने का आदि आदि गुरु जगत राज जगत गुरु में कार्य सबसे पहले तो अपने खुद का सम्मान करना अपने ऊपर विश्वास करना सीखें अपने अंदर जिसके कारण हमारे शरीर का अस्तित्व है जिसके कारण हमारा व्यक्तित्व का निर्माण है उसके ऊपर गरम विश्वास नहीं करें उसे समझने का प्रयास नहीं करेंगे तो हमारे अंदर यह तो बता ही कभी विकसित नहीं हो पाई तो मुझे किसी पर विश्वास करना है किस पर नहीं करना इसकी शुरुआत सबसे पहले अपने आप से करने की आवश्यकता है और जब आप स्वयं अपनी अंतरात्मा पर भरोसा करें कि उसका सम्मान करें तो निश्चित रुप से हर उस विषय पर व्यक्ति पर आपको निर्णय लेने में आसानी हो जाएगी तो विश्वास करने योग्य नेता हमेशा भ्रम की स्थिति में जीवन चलता रहेगा

kis par vishwas kare insaan par vishwas kare ya bhagwan par vishwas kare sabse pehle toh yah kshamta viksit karni padegi ki vishwas vaastav mein is par karna chahiye aur kaise karna chahiye aur kyon karna chahiye yadi yah kshamta apne andar nahi hai toh aisa vyakti jeevan bhar confusion mein jita rahega aur sadaiv uska nirnay bhi usi prakar ka pramaan patra hai hamare andar hamare sharir ke andar chetna hai ek baja hai usi urja hoti chetna ke karan hamara astitva shakti chetna ke hum charcha kar rahe hain wahi brahman hai wahi ishwar shiv Brahma ki upasana sabhi kar di sabke andar sab ke bheetar yah bharam Vimaan aham brahmasmi satyapit karne ka aadi aadi guru jagat raj jagat guru mein karya sabse pehle toh apne khud ka sammaan karna apne upar vishwas karna sikhe apne andar jiske karan hamare sharir ka astitva hai jiske karan hamara vyaktitva ka nirmaan hai uske upar garam vishwas nahi kare use samjhne ka prayas nahi karenge toh hamare andar yah toh bata hi kabhi viksit nahi ho payi toh mujhe kisi par vishwas karna hai kis par nahi karna iski shuruat sabse pehle apne aap se karne ki avashyakta hai aur jab aap swayam apni antaraatma par bharosa kare ki uska sammaan kare toh nishchit roop se har us vishay par vyakti par aapko nirnay lene mein aasani ho jayegi toh vishwas karne yogya neta hamesha bharam ki sthiti mein jeevan chalta rahega

किस पर विश्वास करें इंसान पर विश्वास करें या भगवान पर विश्वास करें सबसे पहले तो यह क्षमता

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  526
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kaise kiya jaye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!