भारत में जाति होना चाहिए या नहीं अगर हाँ तो क्यों इससे क्या होगा?...


play
user

Pandit Prem

शायर, पुस्तक संपादक

1:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों देखिए भारत में जातिवाद और बहुत सारे संप्रदाय या धर्म कहते हैं उनकी वजह से ही भारत की उन्नति रुकी हुई और भारत कभी तरक्की नहीं कर पाएगा जब तक जातिवाद है मेरे ख्याल से तो जातिवाद बिल्कुल खत्म हो जाना चाहिए बल्कि धर्म बाद भी खत्म हो जाना चाहिए हर इंसान बराबर है उसमें एक ही सोच का फर्क हो सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम कोई भी तमगा ओढ़ के फ्रेम और हम इंसान नहीं रह जाएंगे जातिवाद में क्या होता है एक दूसरे से भेदभाव लोग करने लगते हैं एक दूसरे से दूरी बनाकर रखते हैं एक दूसरे से सरोकार कम रखते हैं और इस नाते भी एक दूसरे का कहीं ना कहीं बुरा भी करने की कोशिश करते कुछ लोग और ऐसी स्थिति में फिर वह देश की और दूसरी चीजें भूल जाते हैं वह फिर उसी उन्हीं चीजों में उलझ जाते हैं इससे देश का हित कभी नहीं हो सकता संगठित नहीं हो पाते कभी कोई जरूरत पड़े तो सरकार को ही हो अगर बुरा कर रही है तो संगठित उसके खिलाफ नहीं हो पाएंगे कभी भी किसी एक व्यक्ति पर अत्याचार होगा तो दूसरी जाति का या दूसरे को अपनी दो जाति मारने वाला व्यक्ति उसके हित में खड़ा नहीं होगा जल्दी बहुत कम लोगों के जो इंसानियत समझ कर खड़े हो जाते तो ऐसे में जातिवाद तो बिल्कुल खत्म हो जाने चाहिए इसका कोई स्थान नहीं होना चाहिए जातिवाद से भारत ने हमेशा से दुख झेले भारत में हमेशा से कमियां रही है परेशानी आ रही है और डेढ़ हजार साल से ज्यादा समय गुलाम रहा है और अब भी जबकि अपने देशों के लोग शासन कर रहे तब भी गुलामों की तरह ही है यह सब जातिवाद की वजह से धर्म बात की वजह से सब खत्म होना चाहिए धन्यवाद

namaskar doston dekhiye bharat me jaatiwad aur bahut saare sampraday ya dharm kehte hain unki wajah se hi bharat ki unnati ruki hui aur bharat kabhi tarakki nahi kar payega jab tak jaatiwad hai mere khayal se toh jaatiwad bilkul khatam ho jana chahiye balki dharm baad bhi khatam ho jana chahiye har insaan barabar hai usme ek hi soch ka fark ho sakta hai lekin iska matlab yah nahi ki hum koi bhi tamaga odh ke frame aur hum insaan nahi reh jaenge jaatiwad me kya hota hai ek dusre se bhedbhav log karne lagte hain ek dusre se doori banakar rakhte hain ek dusre se sarokar kam rakhte hain aur is naate bhi ek dusre ka kahin na kahin bura bhi karne ki koshish karte kuch log aur aisi sthiti me phir vaah desh ki aur dusri cheezen bhool jaate hain vaah phir usi unhi chijon me ulajh jaate hain isse desh ka hit kabhi nahi ho sakta sangathit nahi ho paate kabhi koi zarurat pade toh sarkar ko hi ho agar bura kar rahi hai toh sangathit uske khilaf nahi ho payenge kabhi bhi kisi ek vyakti par atyachar hoga toh dusri jati ka ya dusre ko apni do jati maarne vala vyakti uske hit me khada nahi hoga jaldi bahut kam logo ke jo insaniyat samajh kar khade ho jaate toh aise me jaatiwad toh bilkul khatam ho jaane chahiye iska koi sthan nahi hona chahiye jaatiwad se bharat ne hamesha se dukh jhele bharat me hamesha se kamiyan rahi hai pareshani aa rahi hai aur dedh hazaar saal se zyada samay gulam raha hai aur ab bhi jabki apne deshon ke log shasan kar rahe tab bhi gulamon ki tarah hi hai yah sab jaatiwad ki wajah se dharm baat ki wajah se sab khatam hona chahiye dhanyavad

नमस्कार दोस्तों देखिए भारत में जातिवाद और बहुत सारे संप्रदाय या धर्म कहते हैं उनकी वजह से

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  2455
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!