कोआर्डिनेशन और कॉरपोरेशन में क्या अंतर है...


play
user
2:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोआर्डिनेशन का मतलब होता है समन्वय या तालमेल तथा कॉरपोरेशन का मतलब होता है सहयोग यानी कि आपसी सहयोग और यह दोनों ही एक सामूहिक कार्य की भूमिका है दोनों ही सामूहिक कार्य के लिए आवश्यक होते हैं लेकिन सहयोग में जरूरी नहीं है कि यह भूमिका समय और परिस्थिति के अनुरूप जबकि समन्वय में यह आवश्यक तत्व होते हैं समन्वय किसी काम को करने के लिए टीम वर्क को करने के लिए उनके सदस्यों के बीच आपसी तालमेल का होना समन्वय का होना कोआर्डिनेशन का होना जरूरी होता है विभिन्न तरह के लोगों और उनके विचारों को आपस में तालमेल बिठाकर ही किसी भी 3 वर्षों की जा सकता है यह लंबे समय तक चलने वाली एक प्रक्रिया है जबकि सहयोग एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को करता है सहयोग में कुछ ही समय के लिए सहयोग की प्रक्रिया होती यह दीर्घावधि तक लंबे समय तक चलने वाली प्रक्रिया नहीं है सहयोग से यह जरूरी नहीं है कि हम जबरदस्ती या फिर दबाव देकर किसी से सहयोग ले सहयोग अपनी मर्जी से किया जाता है सहयोग जैसे कि हम कोई आजकल करुणा वायरस का जो प्रकोप है तो भारत में हाइड्रॉक्सीप्रोपिल दवा देकर अमेरिका का सहयोग किया यह एक तरह का सहयोग है जबकि कोआर्डिनेशन में जब किसी का मन करता तो कई विचारधारा के व्यक्ति एक साथ मिलकर किसी काम को 3 बार को करते हैं और उन सब में तालमेल बैठाकर किसी काम को संपादित करना ही कोआर्डिनेशन कहलाता है

coordination ka matlab hota hai samanvay ya talmel tatha corporation ka matlab hota hai sahyog yani ki aapasi sahyog aur yah dono hi ek samuhik karya ki bhumika hai dono hi samuhik karya ke liye aavashyak hote hain lekin sahyog me zaroori nahi hai ki yah bhumika samay aur paristhiti ke anurup jabki samanvay me yah aavashyak tatva hote hain samanvay kisi kaam ko karne ke liye team work ko karne ke liye unke sadasyon ke beech aapasi talmel ka hona samanvay ka hona coordination ka hona zaroori hota hai vibhinn tarah ke logo aur unke vicharon ko aapas me talmel bithakar hi kisi bhi 3 varshon ki ja sakta hai yah lambe samay tak chalne wali ek prakriya hai jabki sahyog ek vyakti dusre vyakti ko karta hai sahyog me kuch hi samay ke liye sahyog ki prakriya hoti yah dirghavadhi tak lambe samay tak chalne wali prakriya nahi hai sahyog se yah zaroori nahi hai ki hum jabardasti ya phir dabaav dekar kisi se sahyog le sahyog apni marji se kiya jata hai sahyog jaise ki hum koi aajkal corona virus ka jo prakop hai toh bharat me haidraksipropil dawa dekar america ka sahyog kiya yah ek tarah ka sahyog hai jabki coordination me jab kisi ka man karta toh kai vichardhara ke vyakti ek saath milkar kisi kaam ko 3 baar ko karte hain aur un sab me talmel baithakar kisi kaam ko sanpadit karna hi coordination kehlata hai

कोआर्डिनेशन का मतलब होता है समन्वय या तालमेल तथा कॉरपोरेशन का मतलब होता है सहयोग यानी कि आ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  184
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!