प्राकृतिक बहुत द्वैतवाद क्या है?...


play
user

Deepak

Student

2:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के भारत के भूगोल के मार्ग भारत भूगोल के मूल सिद्धांत के अनुसार प्रकृति में द्वैतवाद का अर्थ है कि आरंभ में आरंभ में मानव के प्राकृतिक करण पर जोर दिया जाता था जिसमें मनुष्य के सभी क्रियाकलापों कृति द्वारा निर्धारित होते थे और इस प्रकार की विचारधारा के अनुसार मनुष्य निष्क्रिय था और पृथ्वी सक्रिय थी इसके पश्चात कुछ समय बीतने जैसे-जैसे समय बीतता गया प्रकृति ने अवसर प्रदान किए और मनुष्य ने अफसरों का प्रयोग करके वस्तुओं व सेवाओं का उपयोग करके निर्माण अपने आवश्यकतानुसार बदलाव किए जिसे मानव की प्रकृति पर विजय के रूप में देखा जाता है और इसी को प्रकृति का मानवीकरण कहा जाता है इस प्रकार भूगोल में या फिर प्राकृतिक में अद्वैतवाद अर्थात दो विचारधाराएं आई पर्यावरणीय निश्चयवाद और संभावना बाद जिसे मानव्य जिन्हें हम मानव का प्रकृति करण और प्रकृति का मानवीकरण के नाम से जाना जाता है परंतु इसके पश्चात दोनों विचारधाराओं को अंत करते हुए ऑस्ट्रेलिया के भूगोलवेत्ता ग्रिफिथ टेलर ने एक नई विचारधारा है अर्थात नव निश्चयवाद का प्रतिपादन किया इस विचारधारा के अंतर्गत सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर जोर दिया गया यह विचारधारा पर्यावरणीय निश्चयवाद और प्रकृति का मानवीकरण या मानव का प्रस्तुतीकरण दोनों विचारधारा का अंत करते हुए दोनों का मेल करते हुए एक नई विचारधारा बनाई जिसमें प्रकृति को विशेष ध्यान दिया गया और मानव विकास पर भी विशेष ध्यान दिया गया इसी को मानव प्रकृति का द्वैतवाद कहा जाता है बताइए यही बेतवा का अंत में धन्यवाद

bharat ke bharat ke bhugol ke marg bharat bhugol ke mul siddhant ke anusaar prakriti me dwaitvad ka arth hai ki aarambh me aarambh me manav ke prakirtik karan par jor diya jata tha jisme manushya ke sabhi kriyaklapon kriti dwara nirdharit hote the aur is prakar ki vichardhara ke anusaar manushya nishkriya tha aur prithvi sakriy thi iske pashchat kuch samay beetane jaise jaise samay bitta gaya prakriti ne avsar pradan kiye aur manushya ne afsaron ka prayog karke vastuon va sewaon ka upyog karke nirmaan apne aavashyakataanusaar badlav kiye jise manav ki prakriti par vijay ke roop me dekha jata hai aur isi ko prakriti ka manavikaran kaha jata hai is prakar bhugol me ya phir prakirtik me adwaitvad arthat do vichardharaen I paryavaraniye nishchayvad aur sambhavna baad jise manavya jinhen hum manav ka prakriti karan aur prakriti ka manavikaran ke naam se jana jata hai parantu iske pashchat dono vichardharaon ko ant karte hue austrailia ke bhugolvetta griffith Tailor ne ek nayi vichardhara hai arthat nav nishchayvad ka pratipadan kiya is vichardhara ke antargat sustainable development par jor diya gaya yah vichardhara paryavaraniye nishchayvad aur prakriti ka manavikaran ya manav ka prastutikaran dono vichardhara ka ant karte hue dono ka male karte hue ek nayi vichardhara banai jisme prakriti ko vishesh dhyan diya gaya aur manav vikas par bhi vishesh dhyan diya gaya isi ko manav prakriti ka dwaitvad kaha jata hai bataiye yahi betavaa ka ant me dhanyavad

भारत के भारत के भूगोल के मार्ग भारत भूगोल के मूल सिद्धांत के अनुसार प्रकृति में द्वैतवाद क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  95
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!