क्या एक मुसलमान और एक हिन्दू दोस्त साथ में बैठकर खाना खा सकते है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:37

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश मैरिज मेरे हमसफर एक मुसलमान हिंदू दोनों दोस्त साथ बैठकर चला सकते हैं हिंदू में कोई ऐसा धर्म भेदभाव नहीं होना दोस्त बिल्कुल नहीं होना चाहिए क्योंकि जो खाना है ना इनका खाना नॉन वेज होता है और हिंदू का खाना भेज होता है सिर्फ खाने का अंतर है यदि वह हट यदि ऐनक मैंने देखा है वह कभी भी गोश्त वगैरह नहीं खाते तो उनके जन्माष्टमी नहीं बनते तो वो एक हिंदू से भी अच्छा है और बहुत से हिंदू जो हैं और देखते हैं कि वहां उनके घरों में ठोकर खाते हैं दारू दारू पीते हैं तो बहुत मुसलमान से बदतर है इसलिए मेरे विचार से दोस्ती के अंतर्गत किए जो खाना है यह कभी नहीं आना चाहिए और सवाल इस बात का है कि वह इस पर किस तक है उनका इंसेंट दोनों का किस तरह का है यदि दोनों का रेन सेन नॉनवेज का है तो दोनों एक साथ खाते और यदि दोनों का ही बीज खाना शास्त्र है दोनों बीच आराम से रह सकते तो दोस्ती के बीच में हिंदू और मुसलमान के धर्म जाति यादी नहीं आने चाहिए क्योंकि यह धर्म जाति ही दवा एडिशन का कारण है दो दिलों को नहीं देते तो विचारों को नहीं बनने देते आज के दर्शन का कारण भी धर्म और जाती है इसलिए मेरे विचार से दोनों साथ बैठकर आराम से खा सकते हैं वह खाना चाहिए

yash marriage mere humsafar ek musalman hindu dono dost saath baithkar chala sakte hain hindu mein koi aisa dharam bhedbhav nahi hona dost bilkul nahi hona chahiye kyonki jo khana hai na inka khana non wage hota hai aur hindu ka khana bhej hota hai sirf khane ka antar hai yadi vaah hut yadi ainak maine dekha hai vaah kabhi bhi gosht vagairah nahi khate toh unke janmashtmi nahi bante toh vo ek hindu se bhi accha hai aur bahut se hindu jo hain aur dekhte hain ki wahan unke gharon mein thokar khate hain daaru daaru peete hain toh bahut musalman se badataar hai isliye mere vichar se dosti ke antargat kiye jo khana hai yah kabhi nahi aana chahiye aur sawaal is baat ka hai ki vaah is par kis tak hai unka insent dono ka kis tarah ka hai yadi dono ka rain sen nonveg ka hai toh dono ek saath khate aur yadi dono ka hi beej khana shastra hai dono beech aaram se reh sakte toh dosti ke beech mein hindu aur musalman ke dharam jati yadi nahi aane chahiye kyonki yah dharam jati hi dawa edition ka karan hai do dilon ko nahi dete toh vicharon ko nahi banne dete aaj ke darshan ka karan bhi dharam aur jaati hai isliye mere vichar se dono saath baithkar aaram se kha sakte hain vaah khana chahiye

यश मैरिज मेरे हमसफर एक मुसलमान हिंदू दोनों दोस्त साथ बैठकर चला सकते हैं हिंदू में कोई ऐसा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मुसलमान औरत के साथ में बैठकर खाना खा सकते हैं हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सब आपस में भाई-भाई कहा भी है मगर मुसलमान तलाक आ जाते हैं इसलिए हिंदू को सोच समझकर दोस्ती करनी चाहिए

ek musalman aurat ke saath mein baithkar khana kha sakte hain hindu muslim sikh isai sab aapas mein bhai bhai kaha bhi hai magar musalman talak aa jaate hain isliye hindu ko soch samajhkar dosti karni chahiye

एक मुसलमान औरत के साथ में बैठकर खाना खा सकते हैं हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सब आपस में भाई-भाई

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1585
WhatsApp_icon
user

smart king

Student

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो जिस तरह अपने घर के साथ में मिलकर बैठकर खाना खाती हो कि नहीं खा सकते मेरा एक दोस्त है कोई

dekho jis tarah apne ghar ke saath me milkar baithkar khana khati ho ki nahi kha sakte mera ek dost hai koi

देखो जिस तरह अपने घर के साथ में मिलकर बैठकर खाना खाती हो कि नहीं खा सकते मेरा एक दोस्त है

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  600
WhatsApp_icon
user
0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें कोई खास दिक्कत नहीं है ऐसा नहीं है कि कोई खाना नहीं कर सकता कोई जो है प्रकाश लेकिन एक जोश शाकाहार लोग हैं और कोई अगर मांसाहार है उन दोनों कुछ भी आपस में देख सरकार से जवाब को भोजन करने में काफी दिक्कत होगी और अगर दोनों साथ में हैं और दोनों ही प्रकार के जो है भोजन को आते हैं और खाते पूजन को स्वीकार कर रहे हैं पूर्व महापौर मन से आज दोनों सात्विक और इसमें कोई बुराई नहीं है थैंक यू धन्यवाद

isme koi khas dikkat nahi hai aisa nahi hai ki koi khana nahi kar sakta koi jo hai prakash lekin ek josh shaakaahaar log hain aur koi agar mansahaari hai un dono kuch bhi aapas me dekh sarkar se jawab ko bhojan karne me kaafi dikkat hogi aur agar dono saath me hain aur dono hi prakar ke jo hai bhojan ko aate hain aur khate pujan ko sweekar kar rahe hain purv mahapaur man se aaj dono Satvik aur isme koi burayi nahi hai thank you dhanyavad

इसमें कोई खास दिक्कत नहीं है ऐसा नहीं है कि कोई खाना नहीं कर सकता कोई जो है प्रकाश लेकिन ए

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  580
WhatsApp_icon
user
4:06
Play

Likes  73  Dislikes    views  1437
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं मानता हूं कि बिल्कुल सारे जगह पर हिंदू और मुसलमान ने इतनी एकता नहीं है उतना एक साथ जैसे कि जो धर्म है एक साथ बैठ कर दो श्रम खाना नहीं खा सकते बहुत सा जगह पहुंचा है लेकिन फिर से समय पर डायलॉग जो एजुकेटेड हो रहे हैं बहुत सारे जगह पर ऐसे हैं जहां पर भाईचारा विपुल है और लोग बैठकर खाना खाते हैं विज्ञापन मेरे ही बहुत सारे गांव है वहां पर अब अभी भी जो होली हो या एवं पोषण दशहरा हो उसमें लोग आते हैं मुसलमान भी हमारे यहां पर भी हमारी फैमिली में बहुत सारे मुसलमान दोस्त है तो हमारी फैमिली में आते तो आपसे खाना भी खाते हैं ऐसा बिल्कुल नहीं बोल सकते कि हर जगह पैसा नहीं है कि हिंदू मुसलमान जो खाना नहीं खाते ऐसा जगह पर जो कि बिल्कुल भाई चारा से हिंदू मुसलमान एक साथ रहते हैं

main manata hoon ki bilkul saare jagah par hindu aur musalman ne itni ekta nahi hai utana ek saath jaise ki jo dharam hai ek saath baith kar do shram khana nahi kha sakte bahut sa jagah pahuncha hai lekin phir se samay par dialogue jo educated ho rahe hain bahut saare jagah par aise hain jahan par bhaichara vipul hai aur log baithkar khana khate hain vigyapan mere hi bahut saare gaon hai wahan par ab abhi bhi jo holi ho ya evam poshan dussehra ho usmein log aate hain musalman bhi hamare yahan par bhi hamari family mein bahut saare musalman dost hai toh hamari family mein aate toh aapse khana bhi khate hain aisa bilkul nahi bol sakte ki har jagah paisa nahi hai ki hindu musalman jo khana nahi khate aisa jagah par jo ki bilkul bhai chara se hindu musalman ek saath rehte hain

मैं मानता हूं कि बिल्कुल सारे जगह पर हिंदू और मुसलमान ने इतनी एकता नहीं है उतना एक साथ जैस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  229
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!