क्या मोदीजी पर राहुल गांधी द्वारा बेवजह का आरोप प्रत्यारोप करना उचित है?...


user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोदी जी और राहुल जी दोनों ही हमारे देश की दो महत्वपूर्ण बड़ी पार्टी की नेता है और राजनीति में इस तरह के आरोप प्रत्यारोप लगाना आम बात है आज मोदी जी सत्ता में है प्रधानमंत्री के पद पर हैं और 2019 के चुनाव आने वाले हैं इसलिए अगर राहुल जी ऐसा कुछ करते हैं तो मुझे नहीं लगता है कि यह कुछ गलत है कोई भी विपक्षी पार्टी इसी तरह के हथकंडे अपनाती है और इसी तरह से आरोप-प्रत्यारोप लगाती है मुझे यह लगता है कि अगर राहुल गांधी आरोपों की जगह सच में कुछ खास मुद्दे उठाते कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर सरकार को कटघरे में खड़ा करते तू आज कांग्रेस एक मजबूत पक्ष के रूप में खड़ी होती और जनता कांग्रेस पर विश्वास करती लेकिन चार-पांच सालों में कांग्रेस ने सिर्फ और सिर्फ आरोप लगाए हैं उन्होंने किसी भी समस्या को जनता की गंभीरता से नहीं लिया है उसके लिए पूरा एकजुट होकर और मजबूती से विपक्ष को खड़ा नहीं किया है कि सरकार को उसका जवाब देना पड़े तुम मुझे लगता है उन्हें आरोपों के बजाय आलोचना करनी चाहिए और उन समस्याओं के लिए सरकार को देखना चाहिए जो जनता को परेशान कर रही है ताकि जनता को समझ में आता कि हां उसने विपक्ष को भी वोट देकर सही किया है और विपक्ष उसके हित के बारे में सोच रहा है उसकी समस्याओं के बारे में सोच रहा है लेकिन यहां राहुल जी से मोदी जी पर आरोप लगाते हैं वह भी पार्टी को अनजिप नहीं करते हैं उनका निशाना सिर्फ मोदी जी होता है क्योंकि कहीं ना कहीं सभी में यह है कि मोदी की लोकप्रियता उन्हें फिर से प्रधानमंत्री

modi ji aur rahul ji dono hi hamare desh ki do mahatvapurna badi party ki neta hai aur raajneeti mein is tarah ke aarop pratyarop lagana aam baat hai aaj modi ji satta mein hai pradhanmantri ke pad par hain aur 2019 ke chunav aane waale hain isliye agar rahul ji aisa kuch karte hain toh mujhe nahi lagta hai ki yah kuch galat hai koi bhi vipakshi party isi tarah ke hathkande apanati hai aur isi tarah se aarop pratyarop lagati hai mujhe yah lagta hai ki agar rahul gandhi aaropon ki jagah sach mein kuch khaas mudde uthate kuch mahatvapurna muddon par sarkar ko katghare mein khada karte tu aaj congress ek majboot paksh ke roop mein khadi hoti aur janta congress par vishwas karti lekin char paanch salon mein congress ne sirf aur sirf aarop lagaye hain unhone kisi bhi samasya ko janta ki gambhirta se nahi liya hai uske liye pura ekjut hokar aur majbuti se vipaksh ko khada nahi kiya hai ki sarkar ko uska jawab dena pade tum mujhe lagta hai unhe aaropon ke bajay aalochana karni chahiye aur un samasyaon ke liye sarkar ko dekhna chahiye jo janta ko pareshan kar rahi hai taki janta ko samajh mein aata ki haan usne vipaksh ko bhi vote dekar sahi kiya hai aur vipaksh uske hit ke bare mein soch raha hai uski samasyaon ke bare mein soch raha hai lekin yahan rahul ji se modi ji par aarop lagate hain vaah bhi party ko anajip nahi karte hain unka nishana sirf modi ji hota hai kyonki kahin na kahin sabhi mein yah hai ki modi ki lokpriyata unhe phir se pradhanmantri

मोदी जी और राहुल जी दोनों ही हमारे देश की दो महत्वपूर्ण बड़ी पार्टी की नेता है और राजनीति

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!