क्या सरकार को अमृतसर में ट्रेन कि पटरियो के पास रावण जलाने की इजाजत देनी चाहिए थी?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:47
Play

Likes  73  Dislikes    views  2231
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बड़ा विमान हादसा हुआ था इसमें सरकार का कोई लेना देना नहीं है यह लोग वहां पर चलाते थे और जो स्थान रेलवे पटरियों के नजदीक के लोगों की गलती थी रावण जलाने के लिए रेलवे की पटरी पर खड़े होकर देख रहे थे और उसके बाद में आवेदन देखने के कार्यक्रम में मत बोल रहे कि उन्होंने ट्रेन आने की आवाज तक नहीं सुनी और जिसके कारण मौत हो गई तथा तो जनता का था जो कि जानबूझकर के बिना सोचे समझे ट्रेन पटरी पर खड़ी है

ek bada Vimaan hadsa hua tha isme sarkar ka koi lena dena nahi hai yah log wahan par chalte the aur jo sthan railway patriyon ke nazdeek ke logo ki galti thi ravan jalane ke liye railway ki patri par khade hokar dekh rahe the aur uske baad mein avedan dekhne ke karyakram mein mat bol rahe ki unhone train aane ki awaaz tak nahi suni aur jiske karan maut ho gayi tatha toh janta ka tha jo ki janbujhkar ke bina soche samjhe train patri par khadi hai

एक बड़ा विमान हादसा हुआ था इसमें सरकार का कोई लेना देना नहीं है यह लोग वहां पर चलाते थे और

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  1801
WhatsApp_icon
user

BOB

Teacher

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाश वाले क्या सरकार को अमृतसर में ट्रेन की पट्टियों के पास रावण जलाने की जल देना चाहिए या नहीं जलाने की जाए तो यह सही नहीं पाते कई लोग मारे गए थे और सरकार को भी एलबम चलाओ सारी जगह होती है बहुत सारे मैदान होते हैं ना तो कहीं और चलते वहां नहीं देना चाहिए

akash waale kya sarkar ko amritsar me train ki pattiyon ke paas ravan jalane ki jal dena chahiye ya nahi jalane ki jaaye toh yah sahi nahi paate kai log maare gaye the aur sarkar ko bhi elabam chalao saari jagah hoti hai bahut saare maidan hote hain na toh kahin aur chalte wahan nahi dena chahiye

आकाश वाले क्या सरकार को अमृतसर में ट्रेन की पट्टियों के पास रावण जलाने की जल देना चाहिए या

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  446
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दी कि कल जो दशहरा पर हादसा हुआ है अमृतसर में वह काफी दुख दायक है और जहां तक बात करें कि इस हादसे इस घटना के पीछे कौन जिम्मेदार है तु लगता है कि कहीं ना कहीं पुलिस प्रशासन को जिम्मेदार है देखिए कहां जा रहा है कि जो भी दशहरा की जो कमेटी होती है उन्होंने परमिशन ली थी पुलिस प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने भी परमिशन दे दी थी दशहरा बनाने के लिए यह बात साबित हो चुकी है तू कहने का मतलब यह है कि पुलिस प्रशासन ने इस बात की मंजूरी कैसे दे दी कि इतने छोटे से मैदान में दैनिक दशहरा के रावण का आयोजन किया जा सकता है पहली बार दूसरी बात इतनी छोटे मैदान में क्या कहते आपको बताओ नवजोत सिंह सिद्धू की वाइफ ने भाषण दिया था तो अब ऐसी बातें भीड़ तो मरेगी तो यह कैसे लागू किया गया और अगली बात यह है कि ना ही कोई मां पर सिक्योरिटी थी खास नहीं सही तरीके से आयोजन किया गया था यह दिखाता है कि हमारा कहीं ना कहीं सिस्टम खराब है और अगर सिस्टम अपना जिम्मेदारी सही से उठाता तो शायद वहां पर दशहरा के प्रोग्राम की आयोजन के लिए परमिशन ही नहीं देता तो इस पर जांच पड़ताल की जानी चाहिए हालांकि जांच की बात की जा चुकी है ऑलरेडी तो काफी दुख की बात है और इसके पीछे जो जिम्मेदार मुझे लगता है वह अथॉरिटी अथॉरिटीज लगती है जिन्होंने परमिशन दे दी थी यह दशहरा मनाने के लिए उस छोटे से मैदान में जो कि धोबी घाट मैदान के नाम से जाना जाता है

di ki kal jo dussehra par hadsa hua hai amritsar mein vaah kaafi dukh dayak hai aur jaha tak baat kare ki is haadse is ghatna ke peeche kaun zimmedar hai tu lagta hai ki kahin na kahin police prashasan ko zimmedar hai dekhiye kahaan ja raha hai ki jo bhi dussehra ki jo committee hoti hai unhone permission li thi police prashasan aur police prashasan ne bhi permission de di thi dussehra banane ke liye yah baat saabit ho chuki hai tu kehne ka matlab yah hai ki police prashasan ne is baat ki manjuri kaise de di ki itne chote se maidan mein dainik dussehra ke ravan ka aayojan kiya ja sakta hai pehli baar dusri baat itni chote maidan mein kya kehte aapko batao navjot Singh sidhu ki wife ne bhashan diya tha toh ab aisi batein bheed toh maregi toh yah kaise laagu kiya gaya aur agli baat yah hai ki na hi koi maa par Security thi khaas nahi sahi tarike se aayojan kiya gaya tha yah dikhaata hai ki hamara kahin na kahin system kharab hai aur agar system apna jimmedari sahi se uthaata toh shayad wahan par dussehra ke program ki aayojan ke liye permission hi nahi deta toh is par jaanch padatal ki jani chahiye halaki jaanch ki baat ki ja chuki hai already toh kaafi dukh ki baat hai aur iske peeche jo zimmedar mujhe lagta hai vaah authority atharitij lagti hai jinhone permission de di thi yah dussehra manne ke liye us chote se maidan mein jo ki dhobi ghat maidan ke naam se jana jata hai

दी कि कल जो दशहरा पर हादसा हुआ है अमृतसर में वह काफी दुख दायक है और जहां तक बात करें कि इस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  277
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टिकट जैसा कि कल अमृतसर में जो ट्रेन हादसा हुआ और पशुओं के पास रावण जलाने का जो है आमीन यही कारण था क्योंकि आप रावण जब चल रहा होता है तो फिर पटाखे फूटते हैं और बहुत ही तेजी का आवाज होता ही बनाते दिखाओ वीडियो जो वायरल हो तो सब लोग वीडियो बनाने में मशरूम की आवाज इतनी तेज थी कि आवाज भी किसी को पता नहीं चला रहा था कल जीवन 619 ऑफिस नहीं आ चुके हैं और 14 लोग घायल हैं आने की इजाजत नहीं दी

ticket jaisa ki kal amritsar mein jo train hadsa hua aur pashuo ke paas ravan jalane ka jo hai amin yahi karan tha kyonki aap ravan jab chal raha hota hai toh phir patakhe phutate hain aur bahut hi teji ka awaaz hota hi banate dikhaao video jo viral ho toh sab log video banane mein mushroom ki awaaz itni tez thi ki awaaz bhi kisi ko pata nahi chala raha tha kal jeevan 619 office nahi aa chuke hain aur 14 log ghayal hain aane ki ijajat nahi di

टिकट जैसा कि कल अमृतसर में जो ट्रेन हादसा हुआ और पशुओं के पास रावण जलाने का जो है आमीन यही

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  252
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!