क्या नोटेबंदी सही हैं?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन नोटबंदी जो हुई थी तू नरेंद्र मोदी जी द्वारा कराई गई थी वह एक सही स्टेप तो था लेकिन उसको जिस तरीके से इंप्लीमेंट किया गया वह गलत था गलत कैसे पहली बात तो यह थी कि देखिए नोट बंदी हुई उसके बाद बैंक में प्रॉपर पैसा नहीं था ना ही नोट्स नहीं अवेलेबल थे सही प्रोपोर्शन में और लोगों को एटीएम के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लगानी पड़ रही थी और काफी सारे टीवी खा लेते तो काफी नुकसान हुआ लोगों को काफी परेशानी हुई और जो लोग प्राइवेट हॉस्पिटल्स गवर्नमेंट हॉस्पिटल्स में थे उनको बहुत दिक्कतें हुई हॉस्पिटल्स ने मना कर दिया पुरानी करेंसी लेने के लिए उस समय लोगों को बहुत दिक्कत हुई हालांकि गवर्नमेंट ने ऐसा बोला कि आप गवर्नमेंट हॉस्पिटल्स में पुराने नोट दे सकते हैं लेकिन प्राइवेट हॉस्पिटल्स को लेने को रेडी ही नहीं थे तो वहां दिक्कत आई साथ के साथ काफी सारे गरीब मजदूरों का नुकसान हुआ उसके क्या कहते हैं काफी सारे घोटाले हुए कब सारे घोटाले में देखने को मिलेगी गलत तरीके से नोटों को बदल वाया जा रहा है और काफी लोग गिरफ्तार भी हुए थे और नोटबंदी इसलिए की गई थी कि ताकि ब्लैक मनी पकड़ा जाए लेकिन जब अभी आरबीआई की रिपोर्ट आई है कुछ समय पहले तो पता चला है कि 99.8% से ज्यादा पैसा बहन को भी वापस आ चुका है तू जो ब्लैक मनी था वह कहां पकड़ा गया तू ही दिखाता है कि यह सही तरीके से इंप्लीमेंट नहीं किया गया बैकअप सही से नहीं रखा गया जिसमें जनता को भी परेशानी हुई और साथ के साथ काफी करप्शन भी हुआ तो मुझे लगता है कि नोटबंदी का फायदा नहीं हो पाया

lekin notebandi jo hui thi tu narendra modi ji dwara karai gayi thi vaah ek sahi step toh tha lekin usko jis tarike se implement kiya gaya vaah galat tha galat kaise pehli baat toh yah thi ki dekhiye note bandi hui uske baad bank mein proper paisa nahi tha na hi notes nahi available the sahi proporshan mein aur logo ko atm ke bahar lambi lambi linen lagani pad rahi thi aur kaafi saare TV kha lete toh kaafi nuksan hua logo ko kaafi pareshani hui aur jo log private hospitals government hospitals mein the unko bahut dikkaten hui hospitals ne mana kar diya purani currency lene ke liye us samay logo ko bahut dikkat hui halaki government ne aisa bola ki aap government hospitals mein purane note de sakte hain lekin private hospitals ko lene ko ready hi nahi the toh wahan dikkat I saath ke saath kaafi saare garib majduro ka nuksan hua uske kya kehte hain kaafi saare ghotale hue kab saare ghotale mein dekhne ko milegi galat tarike se noton ko badal vaya ja raha hai aur kaafi log giraftar bhi hue the aur notebandi isliye ki gayi thi ki taki black money pakada jaaye lekin jab abhi RBI ki report I hai kuch samay pehle toh pata chala hai ki 99 8 se zyada paisa behen ko bhi wapas aa chuka hai tu jo black money tha vaah kahaan pakada gaya tu hi dikhaata hai ki yah sahi tarike se implement nahi kiya gaya backup sahi se nahi rakha gaya jisme janta ko bhi pareshani hui aur saath ke saath kaafi corruption bhi hua toh mujhe lagta hai ki notebandi ka fayda nahi ho paya

लेकिन नोटबंदी जो हुई थी तू नरेंद्र मोदी जी द्वारा कराई गई थी वह एक सही स्टेप तो था लेकिन उ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  7
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
samprabhuta ke prakar ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!