भागवत गीता में कुल कितने श्लोक हैं?...


user
0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रीमद्भागवत गीता में कुल 700 श्लोक है

shrimadbhagavat geeta me kul 700 shlok hai

श्रीमद्भागवत गीता में कुल 700 श्लोक है

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pravin Pathak (Pawangaurang Das)

Account Manager/Priest

0:22
Play

Likes  18  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

rsr

IAS Officer

0:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता में कुल 700 श्लोक हैं

bhagwat geeta me kul 700 shlok hain

भगवत गीता में कुल 700 श्लोक हैं

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user
1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रीमद भगवत गीता में कुल 700 लोग हैं यह 18 अध्यायों में विभक्त है मैं श्री वेदव्यास को श्रीमद भगवत गीता का लेखक माना जाता है श्रीमद भगवत गीता किंकर्तव्यविमूढ़ अर्जुन को कुरुक्षेत्र भूमि में दिया गया एक प्रमुख धार्मिक प्रवचन है इसे ही भारतीय चिंतन परंपरा में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है और दार्शनिक दृष्टि से भी इसको प्रस्थानत्रई में एक प्रमुख स्थान दिया गया है अर्जुन एक प्रतीक मात्र है यहां पर समस्त मानव जाति का प्रतिनिधित्व करता है मानवीय जीवन में कर्तव्य के मार्ग की ओर उन्मुख होने पर कई बार जब के समक्ष द्वंदात्मक परिस्थितियां उत्पन्न होती हैं इन परिस्थितियों में मनुष्य कौन से मार्ग का अनुसरण करें जो धर्म पर आधारित हो जो मानव हितार्थ हो जो स्वार्थ से प्रेरित नहीं हो कर प्रार्थी प्रेरित हो भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से मानव मन समस्याओं का समाधान गीता के माध्यम से किया है धन्यवाद

srimad bhagwat geeta me kul 700 log hain yah 18 adhyaayon me vibhakt hai main shri vedvyas ko srimad bhagwat geeta ka lekhak mana jata hai srimad bhagwat geeta kinkartavyavimudh arjun ko kurukshetra bhoomi me diya gaya ek pramukh dharmik pravachan hai ise hi bharatiya chintan parampara me mahatvapurna sthan diya gaya hai aur darshnik drishti se bhi isko prasthanatrai me ek pramukh sthan diya gaya hai arjun ek prateek matra hai yahan par samast manav jati ka pratinidhitva karta hai manviya jeevan me kartavya ke marg ki aur unmukh hone par kai baar jab ke samaksh dwandatmak paristhiyaann utpann hoti hain in paristhitiyon me manushya kaun se marg ka anusaran kare jo dharm par aadharit ho jo manav hitarth ho jo swarth se prerit nahi ho kar prarthi prerit ho bhagwan shri krishna ne arjun ke madhyam se manav man samasyaon ka samadhan geeta ke madhyam se kiya hai dhanyavad

श्रीमद भगवत गीता में कुल 700 लोग हैं यह 18 अध्यायों में विभक्त है मैं श्री वेदव्यास को श्र

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भागवत गीता में कुल 700 श्लोक हैं

bhagwat geeta me kul 700 shlok hain

भागवत गीता में कुल 700 श्लोक हैं

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!