जब अपना कोई इस कदर नाराज हो जाए कि ज़िंदगी में वापस आना न चा है मगर उसका होना ज़िंदगी के लिए बहुत ज़रूरी हो, तो उसे मनाये कैसे?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिखी मनुष्य का जीवन बहुत ही अनप्रिडिक्टेबल है जब भी हम कुछ सोचते हैं वह हो जाए ऐसा जरूरी नहीं है अचानक से हमारे सामने कई बार ऐसी परिस्थितियां जाती है जिनके बारे में हमने कभी सोचा भी नहीं होता है लेकिन आप जीवन के बिना अधूरा है और आपके बिना उसके बिना जिंदगी की कल्पना नहीं कर सकते हैं और उसे पूरी शिद्दत से बनाना चाहते हैं तो मुझे लगता है आपको हर कोशिश करनी चाहिए क्योंकि आपका अपना सुख आपके अपने मन की शांति बहुत जरूरी है अगर आप उस व्यक्ति के नाराज होने से अक्षांश और तनाव में है तो आपको जरूर कोशिश करनी चाहिए सबसे पहले आप लोगों के बीच में जो बात हुई है उसे गहराई से समझने की कोशिश कीजिए उस बजे को जो आप लोगों के बीच में अनबन हुई है और इससे बड़ी नहीं कर पा रहे हैं उनसे बात करने की कोशिश कीजिए अपना पक्ष उनके सामने रखने का पूरा प्रयत्न कीजिए अगर कहीं भी आपको लगता है कि आपकी थोड़ी सी भी गलती है तुमसे माफी मांगी माफी मांगने से कोई छोटा नहीं हो जाता है और अगर माफी मांगने का एक रिश्ता सुधर जाता है जो आप चाहते हैं तो आपको जरूरी कदम उठाना चाहिए और हर कोशिश कीजिए जिससे आप उन तक पहुंच सके उन लोगों से मिले जो उनकी करीब हैं उन लोगों को समझाइए जो भी सकते हैं किसी भी तरह से अपनी बात अपनी भावनाएं

dikhi manushya ka jeevan bahut hi anapridiktebal hai jab bhi hum kuch sochte hain vaah ho jaaye aisa zaroori nahi hai achanak se hamare saamne kai baar aisi paristhiyaann jaati hai jinke bare mein humne kabhi socha bhi nahi hota hai lekin aap jeevan ke bina adhura hai aur aapke bina uske bina zindagi ki kalpana nahi kar sakte hain aur use puri shiddat se banana chahte hain toh mujhe lagta hai aapko har koshish karni chahiye kyonki aapka apna sukh aapke apne man ki shanti bahut zaroori hai agar aap us vyakti ke naaraj hone se akshansh aur tanaav mein hai toh aapko zaroor koshish karni chahiye sabse pehle aap logon ke beech mein jo baat hui hai use gehrai se samjhne ki koshish kijiye us baje ko jo aap logon ke beech mein anaban hui hai aur isse badi nahi kar paa rahe hain unse baat karne ki koshish kijiye apna paksh unke saamne rakhne ka pura prayatn kijiye agar kahin bhi aapko lagta hai ki aapki thodi si bhi galti hai tumse maafi maangi maafi mangne se koi chota nahi ho jata hai aur agar maafi mangne ka ek rishta sudhar jata hai jo aap chahte hain toh aapko zaroori kadam uthaana chahiye aur har koshish kijiye jisse aap un tak pahunch sake un logon se mile jo unki kareeb hain un logon ko samjhaiye jo bhi sakte hain kisi bhi tarah se apni baat apni bhavnaayen

दिखी मनुष्य का जीवन बहुत ही अनप्रिडिक्टेबल है जब भी हम कुछ सोचते हैं वह हो जाए ऐसा जरूरी न

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!