राष्ट्रपति की शक्तियां एवं कार्य?...


play
user

Ramphal

Student

2:10

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राष्ट्रपति को मुख्य रूप से दो प्रकार की शक्तियां मिलती है जिसमें एक सामान्य कालीन छुट्टियां होती है एक आपातकालीन शक्तियां होती है अब आपातकाल शक्तियों का विस्तृत वर्णन चाहे तो कक्षा 12 वीं की राजनीति विज्ञान या कक्षा दसवीं की क्लास शिक्षा दसवीं क्लास सामाजिक की बुक से देख सकते हैं जिसमें राष्ट्रपति की शक्तियों का समस्त विवरण है राष्ट्रपति की कार्यों की बात करिए चार प्रकार के होते हैं विधि निर्माण संबंधी विद कानून संबंधी और न्यायिक प्रक्रिया संबंधी कार्यों संबंधी कार्य पति द्वारा किए जाते हैं वे कानून संबंधी कार्य में जिसमें वह प्रधानमंत्री महान्यायवादी मुख्य न्यायधीश आदि की नियुक्ति करता है तथा वह तीनों सेनाओं का प्रधान सेनापति होता है हम आपातकालीन शक्तियों का वर्णन करें तो उसके पास तीन प्रकार की आपातकालीन शक्तियां होती हैं संकट भारी आवरण या देश में विद्रोह की स्थिति में अनुच्छेद 352 लगाया जाता है इस संबंधी नहीं होने पर वित्तीय संकट काल होने पर 356 लगाया जाता है तथा किसी राज्य किस राज्य में मां का शासन तंत्र असफल हो जाता है तो वहां अनुच्छेद 360 लगाया जाता है इस प्रकार राष्ट्रपति को तीन पावरफुल शक्तियां होती हैं 352 356 360 जिसे आपातकाल के समय उपयोग में लिया जाता है लेकिन राष्ट्रपति की सामान्य कालीन संख्या भी होते हैं जिसे वह हमेशा प्रयोग करता रहता है राष्ट्रपति को एक विशेष ए का विशेषाधिकार प्राप्त होता है जिसे भी तो दारी विशेषाधिकार कहते हैं वह प्रस्ताव पारित होने पर ही प्रयोग करता है उसका

rashtrapati ko mukhya roop se do prakar ki shaktiyan milti hai jisme ek samanya kaleen chhutiyan hoti hai ek aapatkalin shaktiyan hoti hai ab aapatkal shaktiyon ka vistrit varnan chahen toh kaksha 12 vi ki raajneeti vigyan ya kaksha dasavi ki class shiksha dasavi class samajik ki book se dekh sakte hain jisme rashtrapati ki shaktiyon ka samast vivran hai rashtrapati ki karyo ki baat kariye char prakar ke hote hain vidhi nirmaan sambandhi with kanoon sambandhi aur nyayik prakriya sambandhi karyo sambandhi karya pati dwara kiye jaate hain ve kanoon sambandhi karya me jisme vaah pradhanmantri mahanyayvadi mukhya nyayadhish aadi ki niyukti karta hai tatha vaah tatvo senaoon ka pradhan senapati hota hai hum aapatkalin shaktiyon ka varnan kare toh uske paas teen prakar ki aapatkalin shaktiyan hoti hain sankat bhari aavaran ya desh me vidroh ki sthiti me anuched 352 lagaya jata hai is sambandhi nahi hone par vittiy sankat kaal hone par 356 lagaya jata hai tatha kisi rajya kis rajya me maa ka shasan tantra asafal ho jata hai toh wahan anuched 360 lagaya jata hai is prakar rashtrapati ko teen powerful shaktiyan hoti hain 352 356 360 jise aapatkal ke samay upyog me liya jata hai lekin rashtrapati ki samanya kaleen sankhya bhi hote hain jise vaah hamesha prayog karta rehta hai rashtrapati ko ek vishesh a ka visheshadhikar prapt hota hai jise bhi toh dari visheshadhikar kehte hain vaah prastaav paarit hone par hi prayog karta hai uska

राष्ट्रपति को मुख्य रूप से दो प्रकार की शक्तियां मिलती है जिसमें एक सामान्य कालीन छुट्टिया

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  103
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!