कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले?...


user

RAJKUMAR

Sharp Astrology

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्यारे दोस्त आप का सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले यहां पर मैं यह कहूंगा कि कई लोग कठिन परिस्थिति में क्या करते हैं इतना सोचते इतना सोचते इतना सोचते हैं कि अपने दिमाग को शौचालय बना देते लेकिन यहां पर सोचने की जरूरत नहीं होती तो यहां पर आपको क्या करना है धैर्य रखना है बेरिया और अपने मन को एकदम सात्विक बना देना है और साथ में विवेक और ज्ञान से चलना है सोचने से नहीं चलना ज्ञान से जमुना यह समझ लीजिएगा मैं जो कह रहा हूं हम तो किसान तो आपके परिवार के ऊपर आप तो सब आपको यह कहना है कि आप दोनों में प्यार करते हो ना और सब काम होगा सब को सब कुछ मिलेगा लेकिन कुछ टाइम में हमारे साथ चैलेंज ईसाई है और हम यह चैलेंज इसको तोड़ेंगे तू हमारे साथ चलो साथ में मुकाबला करते हैं और कुछ कर दिखाते हैं घर से निकला हूं जब मुझे परिवार का भी सपोर्ट मिला है तो हमें बहुत सॉन्ग तरीके से बाहर निकला हूं और पूरा परिवार भी बाहर निकला है लेकिन जब परिवार का 23 सब्जियों की अगर विस्तृत हो जाता है यानी कि अलग-अलग चाल चलने लगते हैं तो कुछ गड़बड़ भी हो जाती है तेरे यहां पर जो मेन कैप्टन होता है घर का जिसका अपनी जिम्मेदारी होती है वह ज्यादातर और आपका निकाले और शांति से ट्रेन से विवेक बुद्धि से या हमसे सोच सोच कर दिमाग को शौचालय नहीं बनाना है और रास्ता भी निकलेगा यह रास्ता निकलेगा यह चमत्कार ही होता है

pyare dost aap ka sawaal hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale yahan par main yah kahunga ki kai log kathin paristhiti me kya karte hain itna sochte itna sochte itna sochte hain ki apne dimag ko shauchalay bana dete lekin yahan par sochne ki zarurat nahi hoti toh yahan par aapko kya karna hai dhairya rakhna hai beriya aur apne man ko ekdam Satvik bana dena hai aur saath me vivek aur gyaan se chalna hai sochne se nahi chalna gyaan se jamuna yah samajh lijiega main jo keh raha hoon hum toh kisan toh aapke parivar ke upar aap toh sab aapko yah kehna hai ki aap dono me pyar karte ho na aur sab kaam hoga sab ko sab kuch milega lekin kuch time me hamare saath challenge isai hai aur hum yah challenge isko todenge tu hamare saath chalo saath me muqabla karte hain aur kuch kar dikhate hain ghar se nikala hoon jab mujhe parivar ka bhi support mila hai toh hamein bahut song tarike se bahar nikala hoon aur pura parivar bhi bahar nikala hai lekin jab parivar ka 23 sabjiyon ki agar vistrit ho jata hai yani ki alag alag chaal chalne lagte hain toh kuch gadbad bhi ho jaati hai tere yahan par jo main captain hota hai ghar ka jiska apni jimmedari hoti hai vaah jyadatar aur aapka nikale aur shanti se train se vivek buddhi se ya humse soch soch kar dimag ko shauchalay nahi banana hai aur rasta bhi niklega yah rasta niklega yah chamatkar hi hota hai

प्यारे दोस्त आप का सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले यहां पर मैं यह कह

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  5437
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!