कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले?...


user

Ashish Pandey

Astrologer

5:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जी जय श्री राम हमारे सभी को कल आपके मित्रों को हमारा प्यार भरा नमस्कार हमारा सबसे निवेदन यह प्रार्थना करना है कर रहे हैं हम सब कर रहे हमारे हर देशवासी इस नियम को इस कठिन परिस्थितियों को ऐसे कठिनाइयों को बड़े ही जिम्मेदारी पूर्वक हम सब निभाते चले आ रहे हैं और आगे भी निभा ना ही है क्योंकि परिस्थिति को संभालना किसी के हाथ मिली कठिनाइयों से हमें लड़ना यहीं पर स्थिति को संभालने के बराबर माना जाता है आप जैसे इस समय की हालात से विश्व में कोरोनावायरस महामारी कोविड-19 कहे या प्राकृतिक आपदा महामारी का नाम दिया गया और अगर हम इसे यह मानें कि एक कठिन परिस्थिति है तो कठिन परिस्थिति नहीं है यह किसी एक परिवार के लिए कठिन ही नहीं इस समय हर देशवासी कठिन परिस्थितियों से जूझ रहे चाहे गरीब हो चाहे अमीर हो चाहे बड़ा हो चाहे वह छोटा शब्द इस बात की चिंता में है यह कठिन परिस्थिति को रोना जैसी महामारी हम से कितना दूर चली जाए इसी बात को लेकर के हम सब यह चाह रहे हैं कि ऐसे कठिन समय से हम निकले कैसे निकला कैसे जा सकता है काम सुबह निकल ही रहे घर में जरूर बैठे हैं लेकिन इस कठिन परिस्थिति से निकालने का एक हमारा सबसे बड़ा उद्देश्य भी है और यहां पर श्रीमान ने जो प्रश्न किया है बड़े ही प्यारे प्रश्न है इनके धोनी इस समय की बात को नहीं पूछा है आज के समय को देख कर के निर्णय प्रश्न नहीं किया है क्योंकि आज आज के समय को देखकर क्या करें पर ट्रस्ट बिल्कुल भी नहीं आ करो ना जो से महामारी को देखते हुए प्रश्न है ही नहीं अगर हम तर्क करें तो हमारी जो क्षमता कह रही जो भी लिखिए कठिन परिस्थिति कठिनाई कई प्रकार की होती हैं हालात सही नहीं है पैसे रुपए कमाए नहीं इनकम नहीं है बच्चों की पढ़ाई बच्चों की दवा परिवार का खर्च यह कठिन परिस्थिति होता है और जिन्होंने प्रश्न किया है यही प्रश्न किया है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले अभी की परिस्थिति को तो ऊपर वाला शो करें और परिवार की परिस्थिति को संभालना स्वयं की जिम्मेदारी है अगर हम उस योग्य नहीं है सवारी योग्य नहीं है उसका बिल पे नहीं है लेकिन अगर हम यह सोच रहे हैं इस बात की चिंता कर रहे हैं क्यों कैसे संभाले तो यह सबसे बड़ी जिम्मेदारी है कैसे संभाले वीडियो भी हमारे मन में यह बात सोच में आ जा रही है पर दिमाग में अगर यह बात आ गई है तो संभालने वाला प्रभु ऊपर वाला है हम सिर्फ अपने कर्म को करते रहे कठिन समय या फिर कठिन परिस्थिति खुद-ब-खुद निकल जाएगी बस धरे रखे साहस रखें और अपने काम को विशेष रूप से जो बन सके उसे करें अपने अनुसार से जो भी चीजें हो रही है क्या होने वाली है या हो सकती है चित्र कोई नहीं जान सकता आप परिवार को सदा रुला के उस परिवार के सदस्य की जिम्मेदारी होती है जिसने परिवार को लेकर के चलना सिखा कर परिवार की परिस्थिति को देखकर के बाद प्रश्न किया हुआ है आपने तो विषय है या फिर अभी के कठिन परिस्थिति महामारी को देखकर यह प्रश्न किया है तो यह भी सब हम सब जानते हैं कि परिवार के हालात में परिवार रिक्त स्थान पर है एक जगह पर है कहीं विशेष आवागमन नहीं है कहीं कोई किसी प्रकार की बात नहीं है कभी कभी किसी बात की चिंता नहीं होगी लेकिन अगर हम तेरे बिन सेवक मेरी से ऐसे जीवन से जूझ रहे हैं इसके लिए प्रश्न है कैसे संभाले तुझे भी आपका सोचना बिल्कुल सही आपने सोचा और पश्चिम मत रखें अपने काम को करते रहे परिवार आपका खुद ब खुद सुन लेगा पति को सब लेकर जाना छोटा बालक करता है उड़ता है फिर गिरता फिर उठ जा फिर किस जाकर उठता ऐसे रिश्ते होते हो चलना सीख जाता है वैसे ही परिस्थिति भी परिस्थिति भी हमारी प्राकृतिक रूप से परिवर्तन होकर के विकास के तथ्यों के चलाना शुरु हो जाएगा हमारी बात आप लोग सुन पा रहे हैं कृष्ण जी का भजन छोटी मुंह बड़ी बात नमस्कार जय श्री राम

namaskar ji jai shri ram hamare sabhi ko kal aapke mitron ko hamara pyar bhara namaskar hamara sabse nivedan yah prarthna karna hai kar rahe hain hum sab kar rahe hamare har deshvasi is niyam ko is kathin paristhitiyon ko aise kathinaiyon ko bade hi jimmedari purvak hum sab nibhate chale aa rahe hain aur aage bhi nibha na hi hai kyonki paristhiti ko sambhaalna kisi ke hath mili kathinaiyon se hamein ladana yahin par sthiti ko sambhalne ke barabar mana jata hai aap jaise is samay ki haalaat se vishwa me coronavirus mahamari kovid 19 kahe ya prakirtik aapda mahamari ka naam diya gaya aur agar hum ise yah manen ki ek kathin paristhiti hai toh kathin paristhiti nahi hai yah kisi ek parivar ke liye kathin hi nahi is samay har deshvasi kathin paristhitiyon se joojh rahe chahen garib ho chahen amir ho chahen bada ho chahen vaah chota shabd is baat ki chinta me hai yah kathin paristhiti ko rona jaisi mahamari hum se kitna dur chali jaaye isi baat ko lekar ke hum sab yah chah rahe hain ki aise kathin samay se hum nikle kaise nikala kaise ja sakta hai kaam subah nikal hi rahe ghar me zaroor baithe hain lekin is kathin paristhiti se nikalne ka ek hamara sabse bada uddeshya bhi hai aur yahan par shriman ne jo prashna kiya hai bade hi pyare prashna hai inke dhoni is samay ki baat ko nahi poocha hai aaj ke samay ko dekh kar ke nirnay prashna nahi kiya hai kyonki aaj aaj ke samay ko dekhkar kya kare par trust bilkul bhi nahi aa karo na jo se mahamari ko dekhte hue prashna hai hi nahi agar hum tark kare toh hamari jo kshamta keh rahi jo bhi likhiye kathin paristhiti kathinai kai prakar ki hoti hain haalaat sahi nahi hai paise rupaye kamaye nahi income nahi hai baccho ki padhai baccho ki dawa parivar ka kharch yah kathin paristhiti hota hai aur jinhone prashna kiya hai yahi prashna kiya hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale abhi ki paristhiti ko toh upar vala show kare aur parivar ki paristhiti ko sambhaalna swayam ki jimmedari hai agar hum us yogya nahi hai sawari yogya nahi hai uska bill pe nahi hai lekin agar hum yah soch rahe hain is baat ki chinta kar rahe hain kyon kaise sambhale toh yah sabse badi jimmedari hai kaise sambhale video bhi hamare man me yah baat soch me aa ja rahi hai par dimag me agar yah baat aa gayi hai toh sambhalne vala prabhu upar vala hai hum sirf apne karm ko karte rahe kathin samay ya phir kathin paristhiti khud bsp khud nikal jayegi bus dhare rakhe saahas rakhen aur apne kaam ko vishesh roop se jo ban sake use kare apne anusaar se jo bhi cheezen ho rahi hai kya hone wali hai ya ho sakti hai chitra koi nahi jaan sakta aap parivar ko sada rula ke us parivar ke sadasya ki jimmedari hoti hai jisne parivar ko lekar ke chalna sikha kar parivar ki paristhiti ko dekhkar ke baad prashna kiya hua hai aapne toh vishay hai ya phir abhi ke kathin paristhiti mahamari ko dekhkar yah prashna kiya hai toh yah bhi sab hum sab jante hain ki parivar ke haalaat me parivar rikt sthan par hai ek jagah par hai kahin vishesh aavagaman nahi hai kahin koi kisi prakar ki baat nahi hai kabhi kabhi kisi baat ki chinta nahi hogi lekin agar hum tere bin sevak meri se aise jeevan se joojh rahe hain iske liye prashna hai kaise sambhale tujhe bhi aapka sochna bilkul sahi aapne socha aur paschim mat rakhen apne kaam ko karte rahe parivar aapka khud bsp khud sun lega pati ko sab lekar jana chota balak karta hai udta hai phir girta phir uth ja phir kis jaakar uthata aise rishte hote ho chalna seekh jata hai waise hi paristhiti bhi paristhiti bhi hamari prakirtik roop se parivartan hokar ke vikas ke tathyon ke chalana shuru ho jaega hamari baat aap log sun paa rahe hain krishna ji ka bhajan choti mooh badi baat namaskar jai shri ram

नमस्कार जी जय श्री राम हमारे सभी को कल आपके मित्रों को हमारा प्यार भरा नमस्कार हमारा सबसे

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  702
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Harsh Goyal

Chemical Engineer

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को समझदारी से और धैर्य से समान एक चीज हमें हमेशा याद रखनी चाहिए कि संसार में सब कुछ बदल रहा है जो आज है वह कल नहीं रहेगा यह परिस्थिति में बदल जाएगी

kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale kathin paristhiti me apne parivar ko samajhdari se aur dhairya se saman ek cheez hamein hamesha yaad rakhni chahiye ki sansar me sab kuch badal raha hai jo aaj hai vaah kal nahi rahega yah paristhiti me badal jayegi

कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को समझदारी से

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी पूजा कठिन परिस्थितियों के परिवार को कैसे संभाले मित्रा आसान तरीके में तो सभी संभालते हैं परिवार को संभालना सही संभालना यही है कठिन परिस्थितियां तो देखें आप जहां रहते हैं वहां सरकार आपकी मदद कर रही है तो नंबर खोजें तो उससे आपका मदद मांग सकते सरकारी नुमाइंदे जो है वह खाने-पीने की सामग्री मुहैया करा रहे हैं राशन पानी भी मिल रहा है बना हुआ खाना भी लोग पहुंचे एनजीओस एक फोन आप अपने क्षेत्र में रह करके देख ने अपने सेक्रेटरी का अपने प्रधान से मिलने या फिर अपने तहसीलदार एसडीएम का दूसरा यह है कि थोड़ा घर के खर्चे पर चेक कम करके और घर की जोड़ी जवाब खुजी है उसका उपयोग करें मात्र महीने 15 दिन की बात है जरूरी तो नहीं 14 15 तक खुल जाएगा 15 दिन और मानकर चलें कितनी देर की अप्रैल के साथ-साथ इस संकट की विदाई हो जाएगी तो मित्र 1520 दिन और नव दुर्गे में 9 दिन का व्रत रखते हैं मुस्लिम से जो है वह एक टाइम खाना खाकर की किस दिन का व्रत रखते हैं तो थोड़ा सा हौसला बनाए रखें अभी तो मान की चर्बी से 1 दिन की परेशानी हो सकती है और की

aapki puja kathin paristhitiyon ke parivar ko kaise sambhale mitra aasaan tarike me toh sabhi sambhalate hain parivar ko sambhaalna sahi sambhaalna yahi hai kathin paristhiyaann toh dekhen aap jaha rehte hain wahan sarkar aapki madad kar rahi hai toh number khojen toh usse aapka madad maang sakte sarkari numainde jo hai vaah khane peene ki samagri muhaiya kara rahe hain raashan paani bhi mil raha hai bana hua khana bhi log pahuche enajios ek phone aap apne kshetra me reh karke dekh ne apne secretary ka apne pradhan se milne ya phir apne tahseeldar sdm ka doosra yah hai ki thoda ghar ke kharche par check kam karke aur ghar ki jodi jawab khuji hai uska upyog kare matra mahine 15 din ki baat hai zaroori toh nahi 14 15 tak khul jaega 15 din aur maankar chalen kitni der ki april ke saath saath is sankat ki vidai ho jayegi toh mitra 1520 din aur nav durge me 9 din ka vrat rakhte hain muslim se jo hai vaah ek time khana khakar ki kis din ka vrat rakhte hain toh thoda sa hausla banaye rakhen abhi toh maan ki charbi se 1 din ki pareshani ho sakti hai aur ki

आपकी पूजा कठिन परिस्थितियों के परिवार को कैसे संभाले मित्रा आसान तरीके में तो सभी संभालते

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  1108
WhatsApp_icon
user

Sachidanand Joshi

Naturopath Yoga Trainer

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थितियां कोई होती ही नहीं है परिस्थितियां बदलती रहती है आती रहती है जाती खुशी गम आते रहते हैं जाते रहते हैं तो जो संगठित होकर परिवार के साथ बैठकर समस्याओं का समाधान निकालते हैं और छोटी छोटी समस्या या बड़ी समस्या को हल्के हल्के तरीके से हल करना चालू कर देते हैं तो वह परिवार भी कामयाब होता है और समस्या उसके अंदर कोई नहीं रहती है समस्या नहीं आएगी तो परिवार किस बात का है और हम किस बात के हैं और आप किस बात पर समस्या होगी जभी तो समाधान होगा जब समस्या ही नहीं होगी तो समझ जान क्या होगा अगर आपके पास उदाहरण के तौर पर आपको भूख लगेगी जभी तो आप भोजन करेंगे और आपको भूख आपके परिवार को भूख लगेगी अभी तो आप कमाने जाएंगे तो जब समस्या होगी जभी तो उसका समाधान होगा तो जब समस्या होगी तो उसके समाधान भी होंगे समाधान कैसे होंगे सही दिशा में सही विचारों को लेकर उसका समाधान परिवार के साथ बैठकर परिस्थितियों का अवलोकन करें समस्या को समझें और उसका निवारण करें बस यही आप करेंगे तो कठिन से कठिन परिस्थितियों में परिवार को आप संभाल पाएंगे और आगे बढ़ पाएंगे मैं सच्चिदानंद जोशी योगाचार्य उन्नत रुपए

kathin paristhitiyon me apne parivar ko kaise sambhale kathin paristhiyaann koi hoti hi nahi hai paristhiyaann badalti rehti hai aati rehti hai jaati khushi gum aate rehte hain jaate rehte hain toh jo sangathit hokar parivar ke saath baithkar samasyaon ka samadhan nikalate hain aur choti choti samasya ya badi samasya ko halke halke tarike se hal karna chaalu kar dete hain toh vaah parivar bhi kamyab hota hai aur samasya uske andar koi nahi rehti hai samasya nahi aayegi toh parivar kis baat ka hai aur hum kis baat ke hain aur aap kis baat par samasya hogi jab bhi toh samadhan hoga jab samasya hi nahi hogi toh samajh jaan kya hoga agar aapke paas udaharan ke taur par aapko bhukh lagegi jab bhi toh aap bhojan karenge aur aapko bhukh aapke parivar ko bhukh lagegi abhi toh aap kamane jaenge toh jab samasya hogi jab bhi toh uska samadhan hoga toh jab samasya hogi toh uske samadhan bhi honge samadhan kaise honge sahi disha me sahi vicharon ko lekar uska samadhan parivar ke saath baithkar paristhitiyon ka avalokan kare samasya ko samajhe aur uska nivaran kare bus yahi aap karenge toh kathin se kathin paristhitiyon me parivar ko aap sambhaal payenge aur aage badh payenge main sacchidanand joshi yogacharya unnat rupaye

कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थितियां कोई होती ही नहीं है परि

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1321
WhatsApp_icon
user

RAJKUMAR

Sharp Astrology

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्यारे दोस्त आप का सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले यहां पर मैं यह कहूंगा कि कई लोग कठिन परिस्थिति में क्या करते हैं इतना सोचते इतना सोचते इतना सोचते हैं कि अपने दिमाग को शौचालय बना देते लेकिन यहां पर सोचने की जरूरत नहीं होती तो यहां पर आपको क्या करना है धैर्य रखना है बेरिया और अपने मन को एकदम सात्विक बना देना है और साथ में विवेक और ज्ञान से चलना है सोचने से नहीं चलना ज्ञान से जमुना यह समझ लीजिएगा मैं जो कह रहा हूं हम तो किसान तो आपके परिवार के ऊपर आप तो सब आपको यह कहना है कि आप दोनों में प्यार करते हो ना और सब काम होगा सब को सब कुछ मिलेगा लेकिन कुछ टाइम में हमारे साथ चैलेंज ईसाई है और हम यह चैलेंज इसको तोड़ेंगे तू हमारे साथ चलो साथ में मुकाबला करते हैं और कुछ कर दिखाते हैं घर से निकला हूं जब मुझे परिवार का भी सपोर्ट मिला है तो हमें बहुत सॉन्ग तरीके से बाहर निकला हूं और पूरा परिवार भी बाहर निकला है लेकिन जब परिवार का 23 सब्जियों की अगर विस्तृत हो जाता है यानी कि अलग-अलग चाल चलने लगते हैं तो कुछ गड़बड़ भी हो जाती है तेरे यहां पर जो मेन कैप्टन होता है घर का जिसका अपनी जिम्मेदारी होती है वह ज्यादातर और आपका निकाले और शांति से ट्रेन से विवेक बुद्धि से या हमसे सोच सोच कर दिमाग को शौचालय नहीं बनाना है और रास्ता भी निकलेगा यह रास्ता निकलेगा यह चमत्कार ही होता है

pyare dost aap ka sawaal hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale yahan par main yah kahunga ki kai log kathin paristhiti me kya karte hain itna sochte itna sochte itna sochte hain ki apne dimag ko shauchalay bana dete lekin yahan par sochne ki zarurat nahi hoti toh yahan par aapko kya karna hai dhairya rakhna hai beriya aur apne man ko ekdam Satvik bana dena hai aur saath me vivek aur gyaan se chalna hai sochne se nahi chalna gyaan se jamuna yah samajh lijiega main jo keh raha hoon hum toh kisan toh aapke parivar ke upar aap toh sab aapko yah kehna hai ki aap dono me pyar karte ho na aur sab kaam hoga sab ko sab kuch milega lekin kuch time me hamare saath challenge isai hai aur hum yah challenge isko todenge tu hamare saath chalo saath me muqabla karte hain aur kuch kar dikhate hain ghar se nikala hoon jab mujhe parivar ka bhi support mila hai toh hamein bahut song tarike se bahar nikala hoon aur pura parivar bhi bahar nikala hai lekin jab parivar ka 23 sabjiyon ki agar vistrit ho jata hai yani ki alag alag chaal chalne lagte hain toh kuch gadbad bhi ho jaati hai tere yahan par jo main captain hota hai ghar ka jiska apni jimmedari hoti hai vaah jyadatar aur aapka nikale aur shanti se train se vivek buddhi se ya humse soch soch kar dimag ko shauchalay nahi banana hai aur rasta bhi niklega yah rasta niklega yah chamatkar hi hota hai

प्यारे दोस्त आप का सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले यहां पर मैं यह कह

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  855
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कि आपका स्नेह कठिन परिस्थिति में अपने बाप को कैसे संभाल आपका प्रश्न बहुत उत्तम है और मैं आपकी कष्ट को समझता हूं आप का कष्ट जो है पूरे देश का कष्ट है क्योंकि परिस्थिति बहुत कठिन है यह दमदार के अंदर रहते हैं लोग दान डॉग डाउन के नियमों का पालन करते हैं तो परिवार चलाना मुश्किल है मुझे आपकी आरती की स्थित नहीं मालूम कैसी है फिर आपकी आर्थिक स्थिति खराब है तो और प्रेषित की आपके सामने हैं शासन से जो कुछ आया था मिल रही है उषा का सही आपको अपने परिवार का काम चलाना है लेकिन सरकार सबको पीना राशन दे रही तो आप उस राशन का उपयोग करें और सामाजिक संस्थाएं भी सहायता कर रही हैं उनसे अपील करें वापस आकर करेंगे और दाल रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ मैं विशेष अच्छा खाना तो नहीं मिलेगा और बाहर जाते हैं जी आप तो कानून का उल्लंघन होता है आपको पुलिस की प्रताड़ना मिलती है खुद की कठिन परिस्थिति को है इसमें आप ही सोचने की जैसे जैसे देश के करोड़ों लोग इन कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार का पालन कर रहे हैं वैसे ही आप इसके अलावा कोई विकल्प नहीं

ki aapka sneh kathin paristhiti me apne baap ko kaise sambhaal aapka prashna bahut uttam hai aur main aapki kasht ko samajhata hoon aap ka kasht jo hai poore desh ka kasht hai kyonki paristhiti bahut kathin hai yah dumdaar ke andar rehte hain log daan dog down ke niyamon ka palan karte hain toh parivar chalana mushkil hai mujhe aapki aarti ki sthit nahi maloom kaisi hai phir aapki aarthik sthiti kharab hai toh aur preshit ki aapke saamne hain shasan se jo kuch aaya tha mil rahi hai usha ka sahi aapko apne parivar ka kaam chalana hai lekin sarkar sabko peena raashan de rahi toh aap us raashan ka upyog kare aur samajik sansthayen bhi sahayta kar rahi hain unse appeal kare wapas aakar karenge aur daal roti khao prabhu ke gun gaaon main vishesh accha khana toh nahi milega aur bahar jaate hain ji aap toh kanoon ka ullanghan hota hai aapko police ki prataadana milti hai khud ki kathin paristhiti ko hai isme aap hi sochne ki jaise jaise desh ke karodo log in kathin paristhitiyon me apne parivar ka palan kar rahe hain waise hi aap iske alava koi vikalp nahi

कि आपका स्नेह कठिन परिस्थिति में अपने बाप को कैसे संभाल आपका प्रश्न बहुत उत्तम है और मैं

Romanized Version
Likes  244  Dislikes    views  3011
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह परिवार को संभालने के लिए काफी कठिन परिश्रम संभालना कठिन हो जाता बच्चे पढ़ते लिखते नहीं घर परिवार को चलाना होता है लड़कों की शादी करनी पड़ती है आय कम होती है संतरे की विषम परिस्थितियां आ जाती है लेकिन कोशिश की कि अपने आय के हिसाब से 90 कीजिए बच्चों में असंतोष पैदा कीजिए दूसरों को देख कर के हम सालों ने अधिक से अधिक पर चल रही है इसके लिए सामाजिक संस्था ने ड्यूटी पर हूं आप फोन नंबर है आपके पास मुख्यमंत्री को फोन कीजिए वहां से व्यवस्था कर रखी है इसको

yah parivar ko sambhalne ke liye kaafi kathin parishram sambhaalna kathin ho jata bacche padhte likhte nahi ghar parivar ko chalana hota hai ladko ki shaadi karni padti hai aay kam hoti hai santre ki visham paristhiyaann aa jaati hai lekin koshish ki ki apne aay ke hisab se 90 kijiye baccho me asantosh paida kijiye dusro ko dekh kar ke hum salon ne adhik se adhik par chal rahi hai iske liye samajik sanstha ne duty par hoon aap phone number hai aapke paas mukhyamantri ko phone kijiye wahan se vyavastha kar rakhi hai isko

यह परिवार को संभालने के लिए काफी कठिन परिश्रम संभालना कठिन हो जाता बच्चे पढ़ते लिखते नहीं

Romanized Version
Likes  167  Dislikes    views  1688
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सीता कठिन परिस्थितियों में परिवार को संभालना ही है कि मुख्य रेस्पॉन्सिव फैंसी हेयर बन जाने की आशंका तो आपको लगता है और कोशिश करते हैं लेकिन टाइम भी है कि जिम्मेदारियों को निभाना बहुत कठिन है फैमिली हेड को कितनी ही बार अपनी आंखों का त्याग करना बार-बार अपने मनोभावों को छुपाना पड़ता है सबके खाने के बाद बुखार आता है सब पहनाने के बाद बनता है उसको पूर्ण करने के बाद ही कहीं वो अपने बारे में सब पता है हम भी आज कई बार तो जीते जीते भी मरे हुए किस तरह रहता है क्योंकि इसकी परिस्थितियां उसे मजबूर कर देती हैं एक मकान का पूरा करता है जब दूसरा तैयार हो जाता है दूसरे व्यक्ति का तैयार हो जाता है इस तरह पूरा जीवन उसका संघर्ष गुजर जाता है एमबी है सबको सवाल ना कि उसकी योग्यता है और बेटी है वह सभी को संतुष्ट करने का प्रयास करता है लेकिन दुर्भाग्य इस जमाने का तरीका आता है क्योंकि कुछ आर्थिक परेशानी होती है हर आदमी तो डाटा बड़ा है नहीं इतना बड़ा नहीं है ब्राह्मण परिवारों में थोड़ा ज्यादा कठिन परिस्थिति है

sita kathin paristhitiyon me parivar ko sambhaalna hi hai ki mukhya respansiv fancy hair ban jaane ki ashanka toh aapko lagta hai aur koshish karte hain lekin time bhi hai ki jimmedariyon ko nibhana bahut kathin hai family head ko kitni hi baar apni aakhon ka tyag karna baar baar apne manobhavon ko chupana padta hai sabke khane ke baad bukhar aata hai sab pahnane ke baad banta hai usko purn karne ke baad hi kahin vo apne bare me sab pata hai hum bhi aaj kai baar toh jeete jeete bhi mare hue kis tarah rehta hai kyonki iski paristhiyaann use majboor kar deti hain ek makan ka pura karta hai jab doosra taiyar ho jata hai dusre vyakti ka taiyar ho jata hai is tarah pura jeevan uska sangharsh gujar jata hai MB hai sabko sawaal na ki uski yogyata hai aur beti hai vaah sabhi ko santusht karne ka prayas karta hai lekin durbhagya is jamane ka tarika aata hai kyonki kuch aarthik pareshani hoti hai har aadmi toh data bada hai nahi itna bada nahi hai brahman parivaron me thoda zyada kathin paristhiti hai

सीता कठिन परिस्थितियों में परिवार को संभालना ही है कि मुख्य रेस्पॉन्सिव फैंसी हेयर बन जाने

Romanized Version
Likes  370  Dislikes    views  3129
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

3:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार कठिन परिस्थितियों में परिवार को कैसे संबंधित कठिन परिस्थितियों में ही आपके हर लेवल की परीक्षा होती है मानसी का स्तर पर शायरी के स्तर पर सामाजिक स्तर पर आपके मेधा कि आपके धीरज की सच्ची की परीक्षा होती है और जो परिवार में लीडर हैं यह परिवार के हुआ है परिवार के शुभचिंतक उनको परिवार को संभालना भारत के पूरे भारत हमारा है उसका एक यूनिट एक इकाई संभालने के बाद जब हम हर परिवार के लोग अपने परिवार को अलग-अलग परिवारों को संभाल लेते हैं मेरा देश संभल जाता है और कठिनाई में ही लोगों को हौसले की जरूरत होती है लोगों की साहस की जरूरत होती है लोगों की एकता की जरूरत होती है लोगों के सहयोग की जरूरत होती है तो हमको अपने परिवार को कठिन स्थिति में संभल मानसिक संबल देना चाहिए और एक दूसरे का हाथ पकड़कर उनको स्थितियों से बचने ही आगे निकलने की कोशिश इस वक्त हम उसी दौर से गुजरने पूरे वर्ल्ड में पूरे दुनिया में पूरी दुनिया में 15 लाख से ज्यादा यह ऑफिशियल आकर खड़ा है और आपकी शक्ल समय एक प्रेस नहीं होता है उसे बहुत सारे कारण हैं जिसकी वजह से उसकी कुरेशी में अब फाइंड नहीं है प्रॉब्लम जाता है फिर भी यह कुरेशी क्या तभी एक भयावह स्थिति है अमेरिका और इटली और स्पेन जैसे देशों की सूची से गुजर रहे हैं और इस वक्त भारत भी बहुत ही चुनौतीपूर्ण स्थितियों से पूजा था इस चुनौती को देश के प्रधानमंत्री ने जिस तरह से लिया है उसकी तारीफ सारी दुनिया में हो रही यह किसी की आलोचना समर्थन के कारण नहीं होता आप किसी वजह से आप फिर किसी कारण से आप एक पक्षी है पूर्वा पूर्ण स्थिति में आप किसी की आलोचना करते हैं आसान करते हैं आपके कर देने से सारी दुनिया में उस आदमी का पक्ष और विपक्ष नहीं बनता सारी दुनिया में उसका पक्ष विपक्ष अपने कारण योग्यता के कारण उसके साथ के कारण उसके निर्णय क्षमता के हमारे देश को हमारे परिवार के समर्थन की बात अगर हम अपना परिवार संभाल लेंगे अपने परिवार परिवार में को रहना कोरोनावायरस की बीमारी घुसने नहीं देंगे तो हम आने वाले दिन में विश्व गुरु होने की पूरी चुनौती को अपने कंधे पर ले सकते हैं और मेरा विश्वास है कि इस कठिन स्थिति में हम अपने परिवार को और अपने देश मजबूती से संभाल लेंगे शुक्रिया शुभकामनाएं

namaskar kathin paristhitiyon me parivar ko kaise sambandhit kathin paristhitiyon me hi aapke har level ki pariksha hoti hai mansi ka sthar par shaayari ke sthar par samajik sthar par aapke megha ki aapke dheeraj ki sachi ki pariksha hoti hai aur jo parivar me leader hain yah parivar ke hua hai parivar ke shubhchintak unko parivar ko sambhaalna bharat ke poore bharat hamara hai uska ek unit ek ikai sambhalne ke baad jab hum har parivar ke log apne parivar ko alag alag parivaron ko sambhaal lete hain mera desh sambhal jata hai aur kathinai me hi logo ko hausale ki zarurat hoti hai logo ki saahas ki zarurat hoti hai logo ki ekta ki zarurat hoti hai logo ke sahyog ki zarurat hoti hai toh hamko apne parivar ko kathin sthiti me sambhal mansik sambal dena chahiye aur ek dusre ka hath pakadakar unko sthitiyo se bachne hi aage nikalne ki koshish is waqt hum usi daur se guzarne poore world me poore duniya me puri duniya me 15 lakh se zyada yah official aakar khada hai aur aapki shakl samay ek press nahi hota hai use bahut saare karan hain jiski wajah se uski kureshi me ab find nahi hai problem jata hai phir bhi yah kureshi kya tabhi ek bhyavah sthiti hai america aur italy aur Spain jaise deshon ki suchi se gujar rahe hain aur is waqt bharat bhi bahut hi chunautipurn sthitiyo se puja tha is chunauti ko desh ke pradhanmantri ne jis tarah se liya hai uski tareef saari duniya me ho rahi yah kisi ki aalochana samarthan ke karan nahi hota aap kisi wajah se aap phir kisi karan se aap ek pakshi hai purwa purn sthiti me aap kisi ki aalochana karte hain aasaan karte hain aapke kar dene se saari duniya me us aadmi ka paksh aur vipaksh nahi banta saari duniya me uska paksh vipaksh apne karan yogyata ke karan uske saath ke karan uske nirnay kshamta ke hamare desh ko hamare parivar ke samarthan ki baat agar hum apna parivar sambhaal lenge apne parivar parivar me ko rehna coronavirus ki bimari ghusne nahi denge toh hum aane waale din me vishwa guru hone ki puri chunauti ko apne kandhe par le sakte hain aur mera vishwas hai ki is kathin sthiti me hum apne parivar ko aur apne desh majbuti se sambhaal lenge shukriya subhkamnaayain

नमस्कार कठिन परिस्थितियों में परिवार को कैसे संबंधित कठिन परिस्थितियों में ही आपके हर लेवल

Romanized Version
Likes  318  Dislikes    views  2397
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परिवार को संभालने के लिए जरूरी होता है और अपने परिवार को मोटिवेट करते रहना से बैठे रहेंगे निराश बैठे रहेंगे अपने को भी खुशियां नहीं दे पाएंगे कि सबसे पहले तो खुद को शांत करें अपनी सोच के साथ में आपको खुशियां बांटते

parivar ko sambhalne ke liye zaroori hota hai aur apne parivar ko motivate karte rehna se baithe rahenge nirash baithe rahenge apne ko bhi khushiya nahi de payenge ki sabse pehle toh khud ko shaant kare apni soch ke saath me aapko khushiya bantate

परिवार को संभालने के लिए जरूरी होता है और अपने परिवार को मोटिवेट करते रहना से बैठे रहेंगे

Romanized Version
Likes  551  Dislikes    views  6163
WhatsApp_icon
user

Aniel K Kumar Imprints

NLP Master Life Coach, Motivational Speaker

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को कैसे संभाले ऐसी परिस्थितियां हो तो मैं आपसे ही सूचित करना चाहूंगा आप अपने कंधों का रिस्पांस बलटी लिए अपने परिवार की मैं हूं मैं आपके लिए सब कुछ ठीक कर लूंगा आप अपने आप दिखाइए में बनाए रखें और अपने परिवार को संगठित रखें जब परिवार संगठित होगा तो भी बात है कि सारी चीजें द्वारा लौट के आई और हार्ड वर्क करने वालों के लिए सब कुछ पॉसिबल है जो आप मेहनत करने लगोगे जब आप काम पर निकलोगे तो सारी चीजें आपके जीवन के अनुसार आपके परिवार के अनुसार परिस्थितियों को फोकस मिल लेते आएंगे उसी चीज आपको फोकस करना होगा उनके समाधान पढ़ना की परिस्थितियों व परिस्थिति हमेशा ग्रह फोकस करते हो फिर से बड़ी होती चली जाएगी तो आपको एक चीज निजात पा लेंगे 11 एआई आपकी guru.com पर जाकर अपना प्रोजेक्ट कर सकते हैं ऑनलाइन ऑफलाइन होते रहते हैं उनके और हमारे सिवा और किसी सोशल मीडिया से भी आप हमारे साथ अटैच हो सकते हैं जय हिंद जय भारत आपका दिन शुभ रहे

namaskar aapka sawaal kathin paristhitiyon me apne parivar ko kaise sambhale aisi paristhiyaann ho toh main aapse hi suchit karna chahunga aap apne kandhon ka response balati liye apne parivar ki main hoon main aapke liye sab kuch theek kar lunga aap apne aap dikhaiye me banaye rakhen aur apne parivar ko sangathit rakhen jab parivar sangathit hoga toh bhi baat hai ki saari cheezen dwara lot ke I aur hard work karne walon ke liye sab kuch possible hai jo aap mehnat karne lagoge jab aap kaam par nikloge toh saari cheezen aapke jeevan ke anusaar aapke parivar ke anusaar paristhitiyon ko focus mil lete aayenge usi cheez aapko focus karna hoga unke samadhan padhna ki paristhitiyon va paristhiti hamesha grah focus karte ho phir se badi hoti chali jayegi toh aapko ek cheez nijat paa lenge 11 AI aapki guru com par jaakar apna project kar sakte hain online offline hote rehte hain unke aur hamare siva aur kisi social media se bhi aap hamare saath attach ho sakte hain jai hind jai bharat aapka din shubha rahe

नमस्कार आपका सवाल कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को कैसे संभाले ऐसी परिस्थितियां हो तो

Romanized Version
Likes  133  Dislikes    views  2111
WhatsApp_icon
user
7:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल एक जवाब सही दिया जा सकता है जब जवाब देने वाले को पिया लेकिन हम आम कठिन परिस्थितियों को मानकर चलें एकांकी कोई भी प्रतिष्ठित परिवार को कैसे कोरोनावायरस तेजी से बढ़ रहा है हर तरफ बढ़ रहा है अपने परिवार को परिवार को आप इस पर किसी को हो सकता है कमबख्त जो है आपके पति भरोसा बहुत बड़ी बात होगी लगेगा कि हमारे पास आने वाले खतरों के रूप में सबसे पहले तो आपको एक एहसास दिलाएं कि आप उनके लिए कोरोनावायरस और अपने परिवार को भी ताकि हम तो सारे लोग कर रहे हैं बहुत जल्दी घर पर है अब घर पर बाहर निकलने वाला यह पिछली बार की बात कि आपकी बहुत कम आते हैं और अपने परिवार का पालन तो अभी आदर्श रहता हूं की मदद लेनी चाहिए परिवार को किसी भी व्यक्ति को हर संभव मदद उपलब्ध करवाई जाती जाते हैं इसलिए लोगों से अपील की जा रही है आप आपकी स्क्रीन पर आ जाएंगे अभी हम लोग के जीवन काल में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ था कि एकता 3री बस रेल सेवाएं स्थगित कर दी जाए और कॉलिंग बंद की दुकान वगैरा सब कुछ बंद कर इस बात को लेकर हर व्यक्ति की मदद की जाएगी जरूरतमंदों और ऐसा करने के लिए हो सकता है कि पहले आप उस वक्त उसके बाद अगर आप कोई काम करते हैं तो फिर बढ़िया काम होंगे या वही पुराना काम तेजी भी कहा गया है कि जो भी काम कामगार है फैक्ट्री कोई और दुकान नौकरी रखेगा

sawaal ek jawab sahi diya ja sakta hai jab jawab dene waale ko piya lekin hum aam kathin paristhitiyon ko maankar chalen ekanki koi bhi pratishthit parivar ko kaise coronavirus teji se badh raha hai har taraf badh raha hai apne parivar ko parivar ko aap is par kisi ko ho sakta hai kamabakht jo hai aapke pati bharosa bahut badi baat hogi lagega ki hamare paas aane waale khataron ke roop me sabse pehle toh aapko ek ehsaas dilaye ki aap unke liye coronavirus aur apne parivar ko bhi taki hum toh saare log kar rahe hain bahut jaldi ghar par hai ab ghar par bahar nikalne vala yah pichali baar ki baat ki aapki bahut kam aate hain aur apne parivar ka palan toh abhi adarsh rehta hoon ki madad leni chahiye parivar ko kisi bhi vyakti ko har sambhav madad uplabdh karwai jaati jaate hain isliye logo se appeal ki ja rahi hai aap aapki screen par aa jaenge abhi hum log ke jeevan kaal me pehle kabhi aisa nahi hua tha ki ekta ri bus rail sevayen sthagit kar di jaaye aur Calling band ki dukaan vagera sab kuch band kar is baat ko lekar har vyakti ki madad ki jayegi jarooratmandon aur aisa karne ke liye ho sakta hai ki pehle aap us waqt uske baad agar aap koi kaam karte hain toh phir badhiya kaam honge ya wahi purana kaam teji bhi kaha gaya hai ki jo bhi kaam kamagar hai factory koi aur dukaan naukri rakhega

सवाल एक जवाब सही दिया जा सकता है जब जवाब देने वाले को पिया लेकिन हम आम कठिन परिस्थितियों

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1283
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले देखिए अगर परिवार एकजुट हो जाए सब मिलकर इस पर सोचें अगर यह प्रॉब्लम परिवार से जुड़ी हुई है या परिवार के अंदर है तो आप एक साथ मिलकर बैठकर सोच कर इसका सलूशन या इसका कोई हल ढूंढ सकते हैं लेकिन अगर अनामिका लिया कोई पैसों को लेकर फर्नेंस और प्रॉब्लम है तो फिर इसके लिए आप बाहर से हेल्प ले सकते हैं क्योंकि कठिन परिस्थितियां कई तरह से और कई वजह से आती है तो आप थोड़ा सा स्पष्ट हो कर कर यह बताएं कि क्या है पार्टिकुलरली किस क्षेत्र में जीवन के आपकी यह प्रॉब्लम है जिससे कि आप अपने फैमिली बीच में आ रही है फिर आपको इस पर राय दी जा सकती लेकिन सबसे अच्छा सलूशन घर परिवार लोग क्या के साथ होता है मतलब सब साथ बैठकर सोचे एकजुट हो और एक साथ मिलकर इसका सामना करें तो अपने आप कोई ना कोई सलूशन जरूर निकल आता है धन्यवाद

aapka sawaal hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale dekhiye agar parivar ekjut ho jaaye sab milkar is par sochen agar yah problem parivar se judi hui hai ya parivar ke andar hai toh aap ek saath milkar baithkar soch kar iska salution ya iska koi hal dhundh sakte hain lekin agar anamika liya koi paison ko lekar farnens aur problem hai toh phir iske liye aap bahar se help le sakte hain kyonki kathin paristhiyaann kai tarah se aur kai wajah se aati hai toh aap thoda sa spasht ho kar kar yah bataye ki kya hai partikularali kis kshetra me jeevan ke aapki yah problem hai jisse ki aap apne family beech me aa rahi hai phir aapko is par rai di ja sakti lekin sabse accha salution ghar parivar log kya ke saath hota hai matlab sab saath baithkar soche ekjut ho aur ek saath milkar iska samana kare toh apne aap koi na koi salution zaroor nikal aata hai dhanyavad

आपका सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले देखिए अगर परिवार एकजुट हो जाए स

Romanized Version
Likes  505  Dislikes    views  4234
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले अभी कठिन परिस्थिति तो है ही है अभिषेक कठिन क्या आएगी कि हम बाहर जाएं पुराना से संक्रमित हो जाए और नियम का उल्लंघन करने के लिए हमें पुलिस के डंडे खाने पड़े या तो जेल की हवा खानी पड़े अगर में रहे तो परिवार को संभालना है और कोई प्रवृत्ति भी नहीं है और अपने आपको मानसिक हालत में और हर एक तरह से अपने एक और परिवार को संभालना है इसलिए ऐसी कठिन परिस्थिति में हमें अपने परिवार को संभालने के लिए जो भी हमसे बंद पड़े वह करना चाहिए अगर हमारे पास संसाधन नहीं खाने पीने को नहीं है तो हेल्पलाइन की मदद लेकर हमें खाना मंगवा लेना चाहिए कोई शर्म नहीं करनी चाहिए क्योंकि मोदी जी ने कहा है जान है तो जहान है और ध्यान को बचाना है और पोषण हमें अगर पाना है तो भोजन जरूरी है हम यह सोचे संकोच करें तो संकोच बिल्कुल नहीं करना है और जितना हो अपने घर की बचत को इस समय हमें खर्च करना ही पड़ेगा और अपने आपको अपने परिवार को बचाना पड़ेगा ताकि भंग तो हम बाद में भी कमा लेंगे जिंदा रहे तो कमा लेंगे इसलिए अपने परिवार की रक्षा करना हर एक मनुष्य का हर एक परिवार के सदस्य का धर्म होता है जो परिवार का मुखिया होता है उसे अपने परिवार को पोषण देने के लिए बस प्रेस में करनी चाहिए अपने आप को ही पढ़ना है और अपने परिवार को भी पढ़ना है जो भी बचत है उसका इस समय सदुपयोग करिए और सरकार की जो मदद मिलती है वह लीजिए और अपने आपको अपने परिवार को संभाली है मानसिक रूप से और सभी रूप से परिवार को संभालना ही इस समय सुरेश मुखिया का घर का मुखिया का धर्म है धन्यवाद

kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale abhi kathin paristhiti toh hai hi hai abhishek kathin kya aayegi ki hum bahar jayen purana se sankrameet ho jaaye aur niyam ka ullanghan karne ke liye hamein police ke dande khane pade ya toh jail ki hawa khaani pade agar me rahe toh parivar ko sambhaalna hai aur koi pravritti bhi nahi hai aur apne aapko mansik halat me aur har ek tarah se apne ek aur parivar ko sambhaalna hai isliye aisi kathin paristhiti me hamein apne parivar ko sambhalne ke liye jo bhi humse band pade vaah karna chahiye agar hamare paas sansadhan nahi khane peene ko nahi hai toh helpline ki madad lekar hamein khana mangwa lena chahiye koi sharm nahi karni chahiye kyonki modi ji ne kaha hai jaan hai toh jahaan hai aur dhyan ko bachaana hai aur poshan hamein agar paana hai toh bhojan zaroori hai hum yah soche sankoch kare toh sankoch bilkul nahi karna hai aur jitna ho apne ghar ki bachat ko is samay hamein kharch karna hi padega aur apne aapko apne parivar ko bachaana padega taki bhang toh hum baad me bhi kama lenge zinda rahe toh kama lenge isliye apne parivar ki raksha karna har ek manushya ka har ek parivar ke sadasya ka dharm hota hai jo parivar ka mukhiya hota hai use apne parivar ko poshan dene ke liye bus press me karni chahiye apne aap ko hi padhna hai aur apne parivar ko bhi padhna hai jo bhi bachat hai uska is samay sadupyog kariye aur sarkar ki jo madad milti hai vaah lijiye aur apne aapko apne parivar ko sambhali hai mansik roop se aur sabhi roop se parivar ko sambhaalna hi is samay suresh mukhiya ka ghar ka mukhiya ka dharm hai dhanyavad

कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले अभी कठिन परिस्थिति तो है ही है अभिषेक कठिन क

Romanized Version
Likes  366  Dislikes    views  20736
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

2:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पब्लिक में अपने परिवार को कैसे संभाले मैं आपको चार लाइन सुनाता हूं कहीं धनवान है कितना दाम है कहीं ना हो जीवन में यह जीवन है कहीं ना कहीं तो कोई हंसे हंसे कोई जीता जब भी उसे प्यार कहते हैं इलाकों में आपको घबराना नहीं है और स्थितियां विश्वास रखिए भी आपकी आएंगी इस दिशा में प्रयास जारी रखिए रखिए आएगी

public me apne parivar ko kaise sambhale main aapko char line sunata hoon kahin dhanwan hai kitna daam hai kahin na ho jeevan me yah jeevan hai kahin na kahin toh koi hanse hanse koi jita jab bhi use pyar kehte hain ilako me aapko ghabrana nahi hai aur sthitiyan vishwas rakhiye bhi aapki aayengi is disha me prayas jaari rakhiye rakhiye aayegi

पब्लिक में अपने परिवार को कैसे संभाले मैं आपको चार लाइन सुनाता हूं कहीं धनवान है कितना दा

Romanized Version
Likes  285  Dislikes    views  2772
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कठिन परिस्थितियों में कैसे पम्मा व अपने परिवार को संभाले इसका सही उपाय अपने मां-बाप से पूछिए अपने मां-बाप से पूछिए वही आप उस बात का जवाब देंगे

kathin paristhitiyon me kaise pamma va apne parivar ko sambhale iska sahi upay apne maa baap se puchiye apne maa baap se puchiye wahi aap us baat ka jawab denge

कठिन परिस्थितियों में कैसे पम्मा व अपने परिवार को संभाले इसका सही उपाय अपने मां-बाप से पूछ

Romanized Version
Likes  118  Dislikes    views  2355
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बुरी परिस्थितियों में अपने परिवार का सहारा कैसे बनाएं उन्हें कैसे संभाल है बस उन कठिन परिसर में एक चीज आप याद रखें कि या बुरा वक्त गुजर जाएगा और खुद पर अडिग रहे खुद पर विश्वास रखें आप हर मुसीबत से लड़ सकते हो यू कैन डू एवरीथिंग आप सब कुछ कर सकते हो छोटे विश्वास रखो

ek buri paristhitiyon me apne parivar ka sahara kaise banaye unhe kaise sambhaal hai bus un kathin parisar me ek cheez aap yaad rakhen ki ya bura waqt gujar jaega aur khud par adig rahe khud par vishwas rakhen aap har musibat se lad sakte ho you can do everything aap sab kuch kar sakte ho chote vishwas rakho

एक बुरी परिस्थितियों में अपने परिवार का सहारा कैसे बनाएं उन्हें कैसे संभाल है बस उन कठिन प

Romanized Version
Likes  322  Dislikes    views  2819
WhatsApp_icon
user

Anjana Baliga

Counselor

4:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को सबसे पहले अपना मनोबल ठीक कीजिए आप आप यह सोचे कि मैं एक अच्छा योद्धा हूं कुशल योद्धा हो और यह कठिन परिस्थितियां क्या है यह भी कुछ समय बाद निकल जाएंगी सबसे पहले जीवन की सच्चाई को जानने हर समस्या जब भी आती है तो वह कठिन नहीं है समस्या बहुत आसान होती है उसका आपको सलूशन ढूंढना है समाधान ढूंढने की कोशिश कीजिए कठिनाई कोई भी नहीं है आप यह देखिए अगर मैं आपको रोज आइसक्रीम खाने को दूं तो क्या आप रोज आइसक्रीम खाएंगे नहीं जीवन भी इसी तरह है जीवन में सदा सुख नहीं रहता समय बड़ा प्रबल और बलवान होता है दूसरा मैं आपको यह बताऊंगी जब हम जीवन में स्कूल में जाते हैं तो हमें परीक्षाओं का अभ्यास कराया जाता 3 घंटे की परीक्षा जो होती है हम उसको उत्तीर्ण कर लेते हैं इसी तरह जीवन भी जो घड़ी कठिन होती है वही परीक्षा की घड़ी है तो जैसे 3 घंटे में चाहते हैं परीक्षा में वैसे सोच लीजिए यह परिस्थिति भी बीत जाएगी अब इसमें जरूर है कि थोड़ा समय लंबा लग रहा है 3 घंटे के बजाय 3 दिन हो सकते हैं 3 महीने हो सकते 3 हफ्ते हो सकते हैं परंतु आप यह बात हमेशा समझे यह परेशानी हमेशा नहीं रहेगी तो अपने सबसे बड़े ईस्ट प्रभु की और प्रार्थना कीजिए और सुबह या रात को सोने से पहले ध्यान करके सोइए आप ध्यान करके सोएंगे तो आपकी परिस्थिति अपने प्रभु यीशु प्रभु को बताइए कि मेरी यह समस्या है तो जब आप किसी पूजा पाठ मंत्र जाप करके शांत मन से सोचेंगे तो आपको इस परिस्थिति का समाधान भी मिलेगा जब आप उस निराकार प्रभु परमेश्वर से इस तरह बात करते हैं तो परमेश्वर प्रभु आपकी अंतरात्मा द्वारा अंतर की आवाज से आपको जरूर इस समस्या का समाधान दे और हमेशा सोचे मैं एक योद्धा हूं इस पर घर का मुखिया हो तो युद्ध कभी हार मानता है नहीं मानता तो अपने आप को योद्धा की तरह देखें कि आप हर परिस्थिति में विजई हो रहे हैं जब आप देखते जीवन में कितनी भी परिस्थितियां हैं वह हर एक में बिजी हो रहे हैं तो आपसे परिस्थितियां भी डरने लगेंगे परिस्थितियों से हावी मत होइए आप कुछ भी जीत सकते हैं तो हमेशा सोचे कि मैं तो हर चीज में बिजी होता हूं जब आप इस तरह का मैसेज या कमांड अपने मन को देते हैं तो मन भी सोचता है यार यह तो बहुत बलवान व्यक्ति है इसमें बहुत ही हिम्मत है तू जब आप हिम्मत से उस परिस्थिति का समाधान ढूंढने तो समाधान भी मिलेगा पैसा कमाना मनोबल बढ़ाना कि सब आसपास ही है आपके कहीं नहीं गया है बस आपको अंदर टोटल ने की जरूरत है सब कुछ आपके अंदर है आपके अंदर वह हसीन क्षमताएं हैं जो एक व्यक्ति को उन्नत बना सकता है बस आप ढूंढा नहीं चाहता कि आपको किसी ने नहीं बताया कि वह ढूंढा कैसे जाता है बस अंतर्ध्यान हो जाइए और उस प्रभु से राम जाइए वहीं प्रभु आपको इसके अंतरात्मा के द्वारा इसका जवाब देगा किस परिस्थिति का समाधान क्या है आसपास के लोगों से चला लीजिए जो आपके बुजुर्ग हैं उनसे बात करिए तो परिस्थितियां तो निकल जाएंगी समय बड़ा बलवान है और अगर इसमें आप कुत्ते हो गए तो सोचे आप के धरती पर आपका जीवन का मकसद सफल हो गया धरती पर जीवन जीने का मतलब यही है कि हम कितनी परीक्षाओं को पार करके अपने जीवन को जीते हैं जैसे तैसे परीक्षाएं पार हो जाती हम उतने ही बलवान होते चले आते हैं हम एक लीडर योद्धा की तरह बनने लगते हैं आप ही किसी बुजुर्ग से पूछा उसने अपने जीवन को कैसे बताएगा उसने परिस्थितियों में क्या किया आप अपने दादा दादी उनसे भी सलाह ले सकते हैं कि वह इस परिस्थिति में होते तो क्या करते अपने गुरुजन के बारे में सोचिए अगर उनसे परामर्श लेते तो वह क्या कहते इस परिस्थिति में से निकलने के लिए एक अच्छे दोस्त आप को क्या सलाह देता इस परिस्थिति में होते बस 1 मिनट के लिए ध्यान लगाइए और सोचिए आपको दोस्त क्या चला दे रहा है आपके दादा-दादी आपको क्या चला दे रहे हैं एक गुरु आपको क्या परामर्श दे रहा है जैसे इन तीन लोगों को आप लेकर आते इस समस्या का समाधान आपके सामने आ जाता है एक गहरी सांस लीजिए और शांत मन से बैठकर इन तीनों प्रश्नों के उत्तर को सूचित परिस्थिति कोई भी हो सामना आपको करना है और अब मेरे को पता है कि आप का मनोबल बहुत ही अच्छा है और आप एक निडर योद्धा की तरह हर परिस्थिति को पार करने धन्यवाद गॉड ब्लेस यू

kathin paristhitiyon me apne parivar ko sabse pehle apna manobal theek kijiye aap aap yah soche ki main ek accha yodha hoon kushal yodha ho aur yah kathin paristhiyaann kya hai yah bhi kuch samay baad nikal jayegi sabse pehle jeevan ki sacchai ko jaanne har samasya jab bhi aati hai toh vaah kathin nahi hai samasya bahut aasaan hoti hai uska aapko salution dhundhana hai samadhan dhundhne ki koshish kijiye kathinai koi bhi nahi hai aap yah dekhiye agar main aapko roj icecream khane ko doon toh kya aap roj icecream khayenge nahi jeevan bhi isi tarah hai jeevan me sada sukh nahi rehta samay bada prabal aur balwan hota hai doosra main aapko yah bataungi jab hum jeevan me school me jaate hain toh hamein parikshao ka abhyas karaya jata 3 ghante ki pariksha jo hoti hai hum usko uttirna kar lete hain isi tarah jeevan bhi jo ghadi kathin hoti hai wahi pariksha ki ghadi hai toh jaise 3 ghante me chahte hain pariksha me waise soch lijiye yah paristhiti bhi beet jayegi ab isme zaroor hai ki thoda samay lamba lag raha hai 3 ghante ke bajay 3 din ho sakte hain 3 mahine ho sakte 3 hafte ho sakte hain parantu aap yah baat hamesha samjhe yah pareshani hamesha nahi rahegi toh apne sabse bade east prabhu ki aur prarthna kijiye aur subah ya raat ko sone se pehle dhyan karke soiye aap dhyan karke soenge toh aapki paristhiti apne prabhu yeshu prabhu ko bataiye ki meri yah samasya hai toh jab aap kisi puja path mantra jaap karke shaant man se sochenge toh aapko is paristhiti ka samadhan bhi milega jab aap us nirakaar prabhu parmeshwar se is tarah baat karte hain toh parmeshwar prabhu aapki antaraatma dwara antar ki awaaz se aapko zaroor is samasya ka samadhan de aur hamesha soche main ek yodha hoon is par ghar ka mukhiya ho toh yudh kabhi haar maanta hai nahi maanta toh apne aap ko yodha ki tarah dekhen ki aap har paristhiti me vijayi ho rahe hain jab aap dekhte jeevan me kitni bhi paristhiyaann hain vaah har ek me busy ho rahe hain toh aapse paristhiyaann bhi darane lagenge paristhitiyon se haavi mat hoiye aap kuch bhi jeet sakte hain toh hamesha soche ki main toh har cheez me busy hota hoon jab aap is tarah ka massage ya command apne man ko dete hain toh man bhi sochta hai yaar yah toh bahut balwan vyakti hai isme bahut hi himmat hai tu jab aap himmat se us paristhiti ka samadhan dhundhne toh samadhan bhi milega paisa kamana manobal badhana ki sab aaspass hi hai aapke kahin nahi gaya hai bus aapko andar total ne ki zarurat hai sab kuch aapke andar hai aapke andar vaah Haseen kshamataen hain jo ek vyakti ko unnat bana sakta hai bus aap dhundha nahi chahta ki aapko kisi ne nahi bataya ki vaah dhundha kaise jata hai bus antardhyan ho jaiye aur us prabhu se ram jaiye wahi prabhu aapko iske antaraatma ke dwara iska jawab dega kis paristhiti ka samadhan kya hai aaspass ke logo se chala lijiye jo aapke bujurg hain unse baat kariye toh paristhiyaann toh nikal jayegi samay bada balwan hai aur agar isme aap kutte ho gaye toh soche aap ke dharti par aapka jeevan ka maksad safal ho gaya dharti par jeevan jeene ka matlab yahi hai ki hum kitni parikshao ko par karke apne jeevan ko jeete hain jaise taise parikshaen par ho jaati hum utne hi balwan hote chale aate hain hum ek leader yodha ki tarah banne lagte hain aap hi kisi bujurg se poocha usne apne jeevan ko kaise batayega usne paristhitiyon me kya kiya aap apne dada dadi unse bhi salah le sakte hain ki vaah is paristhiti me hote toh kya karte apne gurujan ke bare me sochiye agar unse paramarsh lete toh vaah kya kehte is paristhiti me se nikalne ke liye ek acche dost aap ko kya salah deta is paristhiti me hote bus 1 minute ke liye dhyan lagaaiye aur sochiye aapko dost kya chala de raha hai aapke dada dadi aapko kya chala de rahe hain ek guru aapko kya paramarsh de raha hai jaise in teen logo ko aap lekar aate is samasya ka samadhan aapke saamne aa jata hai ek gehri saans lijiye aur shaant man se baithkar in tatvo prashnon ke uttar ko suchit paristhiti koi bhi ho samana aapko karna hai aur ab mere ko pata hai ki aap ka manobal bahut hi accha hai aur aap ek nidar yodha ki tarah har paristhiti ko par karne dhanyavad god bless you

कठिन परिस्थितियों में अपने परिवार को सबसे पहले अपना मनोबल ठीक कीजिए आप आप यह सोचे कि मैं ए

Romanized Version
Likes  369  Dislikes    views  4349
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत अच्छा आपका प्रश्न है जब कठिन परिस्थितियां होती है दर्शन असली हमारी पुरुषार्थ की परीक्षा ही तब है उसमें धैर्य के साथ और जो हमारे पास संसाधन है उन संसाधनों को सही ढंग से उपयोग करके उस परमात्मा पर विश्वास करके उसकी कृपा उसको महसूस करते हुए हम कठिन परिस्थितियों से बाहर निकल जाएंगे और हमारा परिवार जो है पुनः मुख्यधारा में आ जाएगा

bahut accha aapka prashna hai jab kathin paristhiyaann hoti hai darshan asli hamari purusharth ki pariksha hi tab hai usme dhairya ke saath aur jo hamare paas sansadhan hai un sansadhano ko sahi dhang se upyog karke us paramatma par vishwas karke uski kripa usko mehsus karte hue hum kathin paristhitiyon se bahar nikal jaenge aur hamara parivar jo hai punh mukhyadhara me aa jaega

बहुत अच्छा आपका प्रश्न है जब कठिन परिस्थितियां होती है दर्शन असली हमारी पुरुषार्थ की परीक्

Romanized Version
Likes  294  Dislikes    views  3416
WhatsApp_icon
user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया कि कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थिति में परिवार को संभालने के लिए बहुत जरूरी होता है कि सबसे पहले आप अपने आप को संभाले यह ध्यान रखें अगर आप आरामदायक पोजीशन में होंगे आप अपने आप को संतुलित अवस्था में बनाए रख पाएंगे तो आप अपने परिवार को बहुत अच्छे से संभाल सकते हैं इसलिए कभी भी जब जीवन में चुनौती आए परेशानियां समस्या आए तो सबसे पहले आपको यह कोशिश करना चाहिए कि आप अपने आप को संभाल ले अपनी सोच को सकारात्मक रखें अपने आत्मविश्वास को मजबूत बनाए रखें अपने जीवन में अपने हौसले को मजबूत बनाए रखें अगर आप अपने आप को संतुलित बना पाते हैं तब आप अपने जीवन की कठिन से कठिन परिस्थिति में भी अपने परिवार की रक्षा कर पाएंगे और उनकी मदद कर पाएंगे क्योंकि जितना अधिक आप अपने जीवन में सकारात्मक रहेंगे जीवन में हौसला रहेगा उम्मीद रहेगी उतना ही आप अपने कठिन परिस्थिति से निकलने में आपको मदद मिलेगी और शायद आप भी होगा कम है प्ले धन्यवाद

apne prashna kiya ki kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale kathin paristhiti me parivar ko sambhalne ke liye bahut zaroori hota hai ki sabse pehle aap apne aap ko sambhale yah dhyan rakhen agar aap aaramadayak position me honge aap apne aap ko santulit avastha me banaye rakh payenge toh aap apne parivar ko bahut acche se sambhaal sakte hain isliye kabhi bhi jab jeevan me chunauti aaye pareshaniya samasya aaye toh sabse pehle aapko yah koshish karna chahiye ki aap apne aap ko sambhaal le apni soch ko sakaratmak rakhen apne aatmvishvaas ko majboot banaye rakhen apne jeevan me apne hausale ko majboot banaye rakhen agar aap apne aap ko santulit bana paate hain tab aap apne jeevan ki kathin se kathin paristhiti me bhi apne parivar ki raksha kar payenge aur unki madad kar payenge kyonki jitna adhik aap apne jeevan me sakaratmak rahenge jeevan me hausla rahega ummid rahegi utana hi aap apne kathin paristhiti se nikalne me aapko madad milegi aur shayad aap bhi hoga kam hai play dhanyavad

अपने प्रश्न किया कि कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले कठिन परिस्थिति में परिवा

Romanized Version
Likes  261  Dislikes    views  2176
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  87  Dislikes    views  1897
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कपिल शर्मा परिवार को इस मंत्र की जय

kapil sharma parivar ko is mantra ki jai

कपिल शर्मा परिवार को इस मंत्र की जय

Romanized Version
Likes  483  Dislikes    views  3625
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे समझाएं सबसे पहली बात यह कि कठिन परिस्थिति में पोस्ट मत कोई है विवेक मेरे शांति बनाए रखें और उस समय निकल जाएगा बीकानेर आटा समय और जो भी परिवार का मुखिया है या जो भी परिवार का ज्यादा समझदार व्यक्ति समझदार व्यक्ति परिवार की बागडोर कठिन परिस्थिति

prashna hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise samjhaye sabse pehli baat yah ki kathin paristhiti me post mat koi hai vivek mere shanti banaye rakhen aur us samay nikal jaega bikaner atta samay aur jo bhi parivar ka mukhiya hai ya jo bhi parivar ka zyada samajhdar vyakti samajhdar vyakti parivar ki baghdor kathin paristhiti

प्रश्न है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे समझाएं सबसे पहली बात यह कि कठिन परिस्थिति

Romanized Version
Likes  587  Dislikes    views  3376
WhatsApp_icon
user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

6:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले मेरा आपको नमस्कार आपका सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले बहुत सुंदर सवाल है और मुझे लगता है कि इस सवाल का जवाब कई ऐसे इंसान को प्रेरित करेगा जो अपने परिवार के लिए चिंतित दिखे अगर जिंदगी में कभी भी कोई इंसान सफलता का छोटी को प्राप्त किया चाहिए पहले टारगेट टारगेट अचीव करने के लिए पूरी तरह से आपको विश्वास कि मैं उस सफलता को छोटी को छू लूंगा इमानदारी बड़ों का आशीर्वाद प्रबल इच्छाशक्ति तभी सफलता छोटी को प्राप्त करता है और कब कभी कोई इंसान का घर वैसे इंसान कभी और कभी ऐसा परिस्थिति हो तो उसका पोजीशन खराब हो जाए उसका बिजनेस डाउन हो ऐसा प्रकृति आ जाए जो परिस्थिति दे वरना उसके लिए लगता है कि संभव नहीं है उस समय जो मनोबल के साथ सफलता का छोटी को छूने के लिए जो जो तरकीब को अपना था इस विकेट पर टीम इस कठिन परिस्थिति में सभी को अपनाना चाहिए जो सफलता को छूने के लिए जो जो उसका चाबी था उसका मूल मंत्र था उसका उत्तम स्थिति को मैं संभाल के जो मेरा परिस्थिति अच्छा था मैं उस सफलता को फिर से प्राप्त करूंगा बल्कि उससे और आगे बढ़ेंगे लड़ने से पहले हारना नहीं लड़ने से पहले हारना नहीं और विकट परिस्थिति में खराब परिस्थिति में डरना नहीं मैं आपका जो सोच है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को संभालना भी आप ही के हाथ में अगर परिस्थिति तो कभी कोई जानता है दुर्घटना हुआ एक्सीडेंट दुर्घटना बहुत खराब हो सकता है उस परिस्थिति में सबसे पहला जो चीज नहीं करना है वह है घबराना नहीं और डरना नहीं और अपने आप को छोटा नहीं समझ रहा है नेगेटिव थॉट्स नहीं लाना है और इसका जमीन सलूशन है आपको विश्वास भरपुरा को विश्वास निडर यह स्थिति को संभालने के लिए इच्छाशक्ति की मैच प्रसिद्ध से भर लूंगा अगर इच्छाशक्ति प्रबल हो तो सफलता कदम चूमती है अन्यथा विफलता ही हाथ लगता है मैं भी चाहता हूं कोई व्यक्ति आय एग्जाम का घड़ी परीक्षा घड़ी होता है क्या मैं इस परिस्थिति में भी अपने आप को निकाल पाया जैसे अभी हमें महान देश भारत बस ऐसे प्रसिद्ध गुजर रहा है चाइना के द्वारा तैयार किया गया जानबूझकर स्कोर भारत के महान देश भारत के साथ साथ पूरा दुनिया त्रस्त है ऐसे तांडव चल रहा है इसका इस विकट परिस्थितियों ने इसके पहले कभी आया वर्ल्ड वॉर किस में भी नहीं आए लेकिन एक चीज देखने लायक है समझने लायक है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी उनका सोच शक्ति देश प्रेम भारत के नागरिकों के प्रति समर्पित भावना अपने जीवन को पढ़कर दिए इस पर से निकालने के लिए इस महान देश भारतवर्ष को साथ ही देश के नागरिकों को किस तरह से स्वस्थ करके फिर नया सवेरा दिखाई जाए देश भारतवर्ष को इनका इच्छाशक्ति प्रबल के साथ-साथ पूरे दिन का साथ काम करें मुझे विश्वास है कोरोनावायरस जीतेगा ऐसा ही होगा आप हम उनसे शिक्षा देना चाहिए उनका अपना प्रेरणा बनाना प्रेरणा का स्त्रोत बनाना चाहिए हमारा महान देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ऐसे इंसान देश प्रेमी कर्मठ दूरदर्शी लीडर एक ऐसे कर्म जोगी उनसे प्रेरणा लेंगे सीखेंगे टिकट कठिन परिस्थिति में अपना देश को किस तरह से निकाला जाए और हम लोगों को अपना परिवार को किस तरह से निकाला जाए और मुझे विश्वास है यह संभव है मोदी है तो मुमकिन है धन्यवाद

sabse pehle mera aapko namaskar aapka sawaal hai kathin paristhiti me apne parivar ko kaise sambhale bahut sundar sawaal hai aur mujhe lagta hai ki is sawaal ka jawab kai aise insaan ko prerit karega jo apne parivar ke liye chintit dikhe agar zindagi me kabhi bhi koi insaan safalta ka choti ko prapt kiya chahiye pehle target target achieve karne ke liye puri tarah se aapko vishwas ki main us safalta ko choti ko chu lunga imaandari badon ka ashirvaad prabal ichchhaashakti tabhi safalta choti ko prapt karta hai aur kab kabhi koi insaan ka ghar waise insaan kabhi aur kabhi aisa paristhiti ho toh uska position kharab ho jaaye uska business down ho aisa prakriti aa jaaye jo paristhiti de varna uske liye lagta hai ki sambhav nahi hai us samay jo manobal ke saath safalta ka choti ko chune ke liye jo jo tarkib ko apna tha is wicket par team is kathin paristhiti me sabhi ko apnana chahiye jo safalta ko chune ke liye jo jo uska chabi tha uska mul mantra tha uska uttam sthiti ko main sambhaal ke jo mera paristhiti accha tha main us safalta ko phir se prapt karunga balki usse aur aage badhenge ladane se pehle harana nahi ladane se pehle harana nahi aur vikat paristhiti me kharab paristhiti me darna nahi main aapka jo soch hai kathin paristhiti me apne parivar ko sambhaalna bhi aap hi ke hath me agar paristhiti toh kabhi koi jaanta hai durghatna hua accident durghatna bahut kharab ho sakta hai us paristhiti me sabse pehla jo cheez nahi karna hai vaah hai ghabrana nahi aur darna nahi aur apne aap ko chota nahi samajh raha hai Negative thoughts nahi lana hai aur iska jameen salution hai aapko vishwas bharpura ko vishwas nidar yah sthiti ko sambhalne ke liye ichchhaashakti ki match prasiddh se bhar lunga agar ichchhaashakti prabal ho toh safalta kadam chumti hai anyatha vifalta hi hath lagta hai main bhi chahta hoon koi vyakti aay exam ka ghadi pariksha ghadi hota hai kya main is paristhiti me bhi apne aap ko nikaal paya jaise abhi hamein mahaan desh bharat bus aise prasiddh gujar raha hai china ke dwara taiyar kiya gaya janbujhkar score bharat ke mahaan desh bharat ke saath saath pura duniya trast hai aise tandav chal raha hai iska is vikat paristhitiyon ne iske pehle kabhi aaya world war kis me bhi nahi aaye lekin ek cheez dekhne layak hai samjhne layak hai pradhanmantri narendra modi ji unka soch shakti desh prem bharat ke nagriko ke prati samarpit bhavna apne jeevan ko padhakar diye is par se nikalne ke liye is mahaan desh bharatvarsh ko saath hi desh ke nagriko ko kis tarah se swasth karke phir naya savera dikhai jaaye desh bharatvarsh ko inka ichchhaashakti prabal ke saath saath poore din ka saath kaam kare mujhe vishwas hai coronavirus jitega aisa hi hoga aap hum unse shiksha dena chahiye unka apna prerna banana prerna ka satrot banana chahiye hamara mahaan desh ke pradhanmantri narendra modi ko aise insaan desh premi karmath doordarshi leader ek aise karm jogi unse prerna lenge sikhenge ticket kathin paristhiti me apna desh ko kis tarah se nikaala jaaye aur hum logo ko apna parivar ko kis tarah se nikaala jaaye aur mujhe vishwas hai yah sambhav hai modi hai toh mumkin hai dhanyavad

सबसे पहले मेरा आपको नमस्कार आपका सवाल है कठिन परिस्थिति में अपने परिवार को कैसे संभाले बहु

Romanized Version
Likes  379  Dislikes    views  4731
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परिवार को संभालना पड़ेगा जैसे ही होगा इनकम नहीं हो रहा है मैं बहुत सारी चीजों से समझौता करना पड़ेगा करना पड़ेगा और करेंगे बल्कि मिठास में कुछ भी आप जैसे जैसे भी परिवार के सदस्यों पर भी सवाल तो ज्यादा बेहतर होगा और इसके बाद लगभग 1 अमरीकी सैनिक लेकर आने की संभावना

parivar ko sambhaalna padega jaise hi hoga income nahi ho raha hai main bahut saari chijon se samjhauta karna padega karna padega aur karenge balki mithaas me kuch bhi aap jaise jaise bhi parivar ke sadasyon par bhi sawaal toh zyada behtar hoga aur iske baad lagbhag 1 amariki sainik lekar aane ki sambhavna

परिवार को संभालना पड़ेगा जैसे ही होगा इनकम नहीं हो रहा है मैं बहुत सारी चीजों से समझौता कर

Romanized Version
Likes  438  Dislikes    views  18606
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खनन क्षेत्र में अपने परिवार को पैसे कमाने ऐसी स्थिति में हमें देखो कितना आपके पास साधन और कितना जो भी आपको काटना है उस समय को अपराधियों को समानुपात में देकर उसे चने अति आवश्यक हो तो प्रयोग करें और शक ना हो तो से बचाएं और इसी दौरान आने वाले समय के लिए आज के शासन की जुटाने की कोशिश करें प्रयास करें और कोशिश करें कि आने वाला समय जो है वह आपके लिए लाभकारी हो और आप कितना अधिक प्यार कर सकते हैं हाय प्राची का उसमें आपकी समस्या का हल हो सकता है और निश्चित रूप से करना पड़ेगा क्योंकि बच्चों का सामना करने के आगे झुकना नहीं है उसके आगे हार नहीं मानी खड़े हो बढ़ो और एक दूसरे के साथ मिलकर चलो निश्चित रूप से पर्चियां आपका साथ देंगे और जो संघर्ष के सामने बुरे समय में संघर्ष किया उसके लिए मुसीबत से निकलना आसान होता है जो हमला किया वह मुसीबत का शिकार हो जा

khanan kshetra me apne parivar ko paise kamane aisi sthiti me hamein dekho kitna aapke paas sadhan aur kitna jo bhi aapko kaatna hai us samay ko apradhiyon ko samanupaat me dekar use chane ati aavashyak ho toh prayog kare aur shak na ho toh se bachaen aur isi dauran aane waale samay ke liye aaj ke shasan ki jutane ki koshish kare prayas kare aur koshish kare ki aane vala samay jo hai vaah aapke liye labhakari ho aur aap kitna adhik pyar kar sakte hain hi PRACHI ka usme aapki samasya ka hal ho sakta hai aur nishchit roop se karna padega kyonki baccho ka samana karne ke aage jhukna nahi hai uske aage haar nahi maani khade ho badho aur ek dusre ke saath milkar chalo nishchit roop se parchiyan aapka saath denge aur jo sangharsh ke saamne bure samay me sangharsh kiya uske liye musibat se nikalna aasaan hota hai jo hamla kiya vaah musibat ka shikaar ho ja

खनन क्षेत्र में अपने परिवार को पैसे कमाने ऐसी स्थिति में हमें देखो कितना आपके पास साधन और

Romanized Version
Likes  369  Dislikes    views  4434
WhatsApp_icon
user

Rajesh Kumar Pandey

Career Counsellor

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं जब भी संभल जाते तो सिर्फ आपका एजेंसी आपका साथ देता है और कुछ नहीं तो आप बड़े हैं समझदार हैं जैसी परिस्थिति है आप समझ जाओगे उस समय आप अपने फैमिली को समझा कर रख सकते हैं और सब को खुश रखें और अपने फैमिली को भी समय के साथ इतना दूर रहते हैं यह क्या कब आ रहा है और उसका सामना करना चाहिए जब पांडवों को भी दिखाना पड़ा महाभारत ऐसा और गिर गई थी अब देख रहे हैं कि महाभारत हो गया कितनी लाशें के सामने तो हमारी कटनी कुछ नहीं है

nahi jab bhi sambhal jaate toh sirf aapka agency aapka saath deta hai aur kuch nahi toh aap bade hain samajhdar hain jaisi paristhiti hai aap samajh jaoge us samay aap apne family ko samjha kar rakh sakte hain aur sab ko khush rakhen aur apne family ko bhi samay ke saath itna dur rehte hain yah kya kab aa raha hai aur uska samana karna chahiye jab pandavon ko bhi dikhana pada mahabharat aisa aur gir gayi thi ab dekh rahe hain ki mahabharat ho gaya kitni lashen ke saamne toh hamari katni kuch nahi hai

नहीं जब भी संभल जाते तो सिर्फ आपका एजेंसी आपका साथ देता है और कुछ नहीं तो आप बड़े हैं समझद

Romanized Version
Likes  167  Dislikes    views  2257
WhatsApp_icon
user

Er Pankaj Rai

International Motivational speaker · Counsellor · Writer. Trainer

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां अगर आप अपने परिवार के मुखिया हैं तो सबसे पहले किसी भी तरह की नकारात्मक बातें अपने परिवार में ना करें जितना ज्यादा से ज्यादा प्रसन्न रहें ह से मुस्कुराए हल्का वातावरण रखें टेंशन या तनाव ना तो स्वयं लेना अपने परिवार के लोगों को दें घर में सभी को मोटिवेट करें और मोटिवेट करने के लिए जरूरी है आप स्वयं भी मोटिवेटेड हैं या नहीं तो अगर आप किसी भी परिस्थिति में जो अभी चेंज हो रहा है उस चीज के साथ आप परिवर्तनशील है उस चेंज की गति के साथ आप आगे बढ़ रहे हैं तो इस कठिन परिस्थिति का आप बहुत हंसते हंसते और मुस्कुराहट के साथ सामना कर सकते हैं तो सबसे महत्वपूर्ण बात है कि आप कूल है कि नहीं आप शांत है कि नहीं इसकी औसत में भी इस मुश्किल परिस्थिति में भी अगर आप शांत हैं शीतल है स्थिर है तो निश्चित तौर पर कठिन परिस्थिति में ना केवल स्वयं आप प्रेरित रहेंगे बल्कि पूरे परिवार को भी प्रेरित करेंगे थैंक यू

ji haan agar aap apne parivar ke mukhiya hain toh sabse pehle kisi bhi tarah ki nakaratmak batein apne parivar me na kare jitna zyada se zyada prasann rahein h se muskuraye halka vatavaran rakhen tension ya tanaav na toh swayam lena apne parivar ke logo ko de ghar me sabhi ko motivate kare aur motivate karne ke liye zaroori hai aap swayam bhi motivated hain ya nahi toh agar aap kisi bhi paristhiti me jo abhi change ho raha hai us cheez ke saath aap parivartanshil hai us change ki gati ke saath aap aage badh rahe hain toh is kathin paristhiti ka aap bahut hansate hansate aur muskurahat ke saath samana kar sakte hain toh sabse mahatvapurna baat hai ki aap cool hai ki nahi aap shaant hai ki nahi iski ausat me bhi is mushkil paristhiti me bhi agar aap shaant hain shital hai sthir hai toh nishchit taur par kathin paristhiti me na keval swayam aap prerit rahenge balki poore parivar ko bhi prerit karenge thank you

जी हां अगर आप अपने परिवार के मुखिया हैं तो सबसे पहले किसी भी तरह की नकारात्मक बातें अपने प

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  832
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इस वक्त बहुत ही कठिन परिस्थितियों से देश बदल रहा है इससे ज्यादा कठिन परिस्थितियां और क्या हो सकती हैं यह सब के काम धंधे बिल्कुल चौपट है सब लोग अपने घरों में बैठे हैं हालांकि लोग डाउन के दौरान यह जरूरी भी है कि सब अपने-अपने घरों में रहें घरों से नहीं निकले अभी कोरोना वायरस से लगा जा सकता है तो देखिए सबसे पहले तो ऐसा करें जो फिजूलखर्ची हम को बंद करें और बच्चों को समझाएं कि इस वक्त आमदनी तो बिल्कुल बंद है जितना हमारे पास में घर में हमारे गुंजाइश है हम उसके हिसाब से ही चर्चा करें कम से कम खर्चे में अपना दुलारा करें और नौजवानों को घर से निकलना ना दे चुके पुलिस के डंडे मारने के लिए वह पूछ के बाद में पहले दो चार डंडे जोड़ देती है सिर्फ एक आदमी ही आवश्यकता का सामान लेने के लिए निकले घर से बाहर और नियमों का पालन करें थैंक यू

dekhiye is waqt bahut hi kathin paristhitiyon se desh badal raha hai isse zyada kathin paristhiyaann aur kya ho sakti hain yah sab ke kaam dhande bilkul chowpat hai sab log apne gharon me baithe hain halaki log down ke dauran yah zaroori bhi hai ki sab apne apne gharon me rahein gharon se nahi nikle abhi corona virus se laga ja sakta hai toh dekhiye sabse pehle toh aisa kare jo fijulakharchi hum ko band kare aur baccho ko samjhaye ki is waqt aamdani toh bilkul band hai jitna hamare paas me ghar me hamare gunjaiesh hai hum uske hisab se hi charcha kare kam se kam kharche me apna dulara kare aur naujavanon ko ghar se nikalna na de chuke police ke dande maarne ke liye vaah puch ke baad me pehle do char dande jod deti hai sirf ek aadmi hi avashyakta ka saamaan lene ke liye nikle ghar se bahar aur niyamon ka palan kare thank you

देखिए इस वक्त बहुत ही कठिन परिस्थितियों से देश बदल रहा है इससे ज्यादा कठिन परिस्थितियां और

Romanized Version
Likes  220  Dislikes    views  1189
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक प्रश्न है कठिन परिस्थिति में अपनी परिवार को कैसे संभाले देखिए कठिन परिस्थिति में परिवार को संभालने के लिए सबसे पहले आपको जिम्मेदारी बखूबी तरीके से निभानी होगी क्योंकि इस समय बेसिक महामारी को देखते हुए वाकई में सभी के लिए कठिन परिस्थितियां उत्पन्न हो गई है ऐसी परिस्थिति में कुछ चीजों से समझौता करना होगा अपने खर्चों को कम करना होगा और स्वास्थ्य का भी केयर करना होगा स्वास्थ्य का भी ध्यान देना होगा क्योंकि यह विश्वास तो सही रहेगा तो इस परिस्थिति में जो भी घाटा हो रहा है वह कुछ ही दिनों में रिकवर हो जाएगा ऐसी परिस्थिति में परिवार को साथ लेकर के चलने की आवश्यकता है परिवार के लोगों के साथ सहानुभूति के साथ रहे उनको हर चीजों के बारे में समझाते हुए किसी भी तरीके से मैनेजमेंट को देखते हुए दोस्तों का मित्रों का आदर लोगों की सहायता से आपको परिवार को चलाना होगा और सरकार की तरफ से भी प्रयास किए जा रहे हैं कि कोई भी भूखा ना सोने पाए ऐसी स्थिति में यदि आप काफी ज्यादा पुअर फैमिली से काफी अदा गरीब फैमिली से बिलॉन्ग करते हैं तो सरकार द्वारा भी आपकी मदद की जाएगी कुछ निजी संस्थाएं हैं जिनके द्वारा आपकी मदद की जाएगी यदि आपको मदद नहीं मिल पा रही है तो उस परिस्थिति में आप प्रकाशन के नंबरों पर कॉल करके उसे सहायता मांग सकते हैं और प्रशासन द्वारा आपकी मदद की जाएगी इस विषम परिस्थिति में सबसे ज्यादा जरूरी है कि कुछ चीजों से समझौते करने ही पड़ेंगे उम्मीद करता हूं आप संतुष्ट होंगे जवाब से धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

ek prashna hai kathin paristhiti me apni parivar ko kaise sambhale dekhiye kathin paristhiti me parivar ko sambhalne ke liye sabse pehle aapko jimmedari bakhubi tarike se nibhani hogi kyonki is samay basic mahamari ko dekhte hue vaakai me sabhi ke liye kathin paristhiyaann utpann ho gayi hai aisi paristhiti me kuch chijon se samjhauta karna hoga apne kharchon ko kam karna hoga aur swasthya ka bhi care karna hoga swasthya ka bhi dhyan dena hoga kyonki yah vishwas toh sahi rahega toh is paristhiti me jo bhi ghata ho raha hai vaah kuch hi dino me recover ho jaega aisi paristhiti me parivar ko saath lekar ke chalne ki avashyakta hai parivar ke logo ke saath sahanubhuti ke saath rahe unko har chijon ke bare me smajhate hue kisi bhi tarike se management ko dekhte hue doston ka mitron ka aadar logo ki sahayta se aapko parivar ko chalana hoga aur sarkar ki taraf se bhi prayas kiye ja rahe hain ki koi bhi bhukha na sone paye aisi sthiti me yadi aap kaafi zyada poor family se kaafi ada garib family se Belong karte hain toh sarkar dwara bhi aapki madad ki jayegi kuch niji sansthayen hain jinke dwara aapki madad ki jayegi yadi aapko madad nahi mil paa rahi hai toh us paristhiti me aap prakashan ke numberon par call karke use sahayta maang sakte hain aur prashasan dwara aapki madad ki jayegi is visham paristhiti me sabse zyada zaroori hai ki kuch chijon se samjhaute karne hi padenge ummid karta hoon aap santusht honge jawab se dhanyavad aapka din shubha ho

एक प्रश्न है कठिन परिस्थिति में अपनी परिवार को कैसे संभाले देखिए कठिन परिस्थिति में परिवार

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1022
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!