करोना वायरस एक ऐसा वायरस है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है, लेकिन अमीर अभी भी सोच रहें है की कहाँ से पैसा भर लूं, यह उनका सोच गलत है या सही? ...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सर मैं इस बात को कहता हूं कि उनकी एक गलत बात है गलत गलत बात है क्योंकि इस वक्त के समय में हर इंसान के पास इतना पैसा नहीं बड़े जिम्मेदार कंपनियों को भी यह रिक्वेस्ट करता हूं कि जो भी उनके कंपनी में रोजगार करने वाले व्यक्ति हैं जो भी मजदूर हैं उनको पेमेंट दे ताकि वह जहां पर हैं वह चैन से कंफर्म दो वक्त की रोटी खा सकें थोड़ी बहुत अपना इलाज करा सकेगा थोड़ी बहुत समय के चलते या कुछ बदलते हुए थोड़ा बहुत सर दर्द करता है बुखार होता है कुछ भी ऐसा तो वहा काम इसके लिए कर सके तो हमेशा पैसे के पीछे नहीं भागना चाहिए कभी बुरे वक्त में इंसानियत के नाते अपना फर्ज निभाना चाहिए

bilkul sir main is baat ko kahata hoon ki unki ek galat baat hai galat galat baat hai kyonki is waqt ke samay me har insaan ke paas itna paisa nahi bade zimmedar companion ko bhi yah request karta hoon ki jo bhi unke company me rojgar karne waale vyakti hain jo bhi majdur hain unko payment de taki vaah jaha par hain vaah chain se confirm do waqt ki roti kha sake thodi bahut apna ilaj kara sakega thodi bahut samay ke chalte ya kuch badalte hue thoda bahut sir dard karta hai bukhar hota hai kuch bhi aisa toh vaha kaam iske liye kar sake toh hamesha paise ke peeche nahi bhaagna chahiye kabhi bure waqt me insaniyat ke naate apna farz nibhana chahiye

बिल्कुल सर मैं इस बात को कहता हूं कि उनकी एक गलत बात है गलत गलत बात है क्योंकि इस वक्त के

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  1396
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Akash Mishra

Yoga Expert | Author | Naturopathist | Acupressure Specialist |

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चेक कर लूंगा मेरे से जो गरीब आदमी है मेरा भी तकलीफ देना लेकिन अभी भी सोचने की बात है कि जो मानसिकता के लोग हैं उनकी मानसिकता किसी भी स्थिति में बदलती रही है परिवर्तित बीमारी की स्थिति हो या ना हो वह समस्या जो है उनके दिमाग में हमेशा रहती तुझे लोगों की मनाही है उसको परिवर्तित करना थोड़ा सा मुश्किल

check kar lunga mere se jo garib aadmi hai mera bhi takleef dena lekin abhi bhi sochne ki baat hai ki jo mansikta ke log hain unki mansikta kisi bhi sthiti me badalti rahi hai parivartit bimari ki sthiti ho ya na ho vaah samasya jo hai unke dimag me hamesha rehti tujhe logo ki manaahi hai usko parivartit karna thoda sa mushkil

चेक कर लूंगा मेरे से जो गरीब आदमी है मेरा भी तकलीफ देना लेकिन अभी भी सोचने की बात है कि जो

Romanized Version
Likes  225  Dislikes    views  4130
WhatsApp_icon
user
2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो नमस्कार मैं मनीष कुमार है जैसे कि आपका प्रश्न है कि कोरोनावायरस एक ऐसा भारत से जो गरीब और अमीर आदमी सबके लिए खतरनाक है लेकिन अमीर आदमी पर भी सोच रहा है कि मैं कैसे पैसा कमा लूं या पैसे के बारे में सोच रहा है यह ठीक है कि नहीं बताना चाहता हूं कि प्रकार से ठीक है क्योंकि इंसान को किसी प्रकार से नशा कर दिया लत लग चुकी है उसको उसकी की आवश्यकता होती है सुदामा देश में बता दो जितने भी नशे वाले आदमी हैं देखिए बंद है लेकिन पर भी जो है कि आदमी कुछ ना कुछ कोशिश करके पी रहा है क्योंकि रहा है आओ से खतरा भी है कि कहीं वह लिटिया नहीं तू अभी कोई पेशेंट आज है उसमें छुआछूत से किसी किसी भी प्रकार से हार जाएगी वहां पर सकता है तुम्हारी कोरोनावायरस जैसी दो बीमार हो सकता लेकिन तब पर भी अपने आप को सुरक्षित करते हुए जो है तो चाह रहा है लेकिन अनजाने में शायद आ जाए तो यही कही बातें भी आदमी का जिस्म की लत लग जाती है समझ गया तो उसको पाने की चाहत हमेशा रहती है क्योंकि इस समय जो है कि लॉक डाउन होने की संभावना में सभी चीजें जो हर प्रकार से रोक दी गई हैं जिससे कि वह अपने लत के कारण या नशे के कारण जो अपने आप को रोक नहीं पा रहा है लेकिन यह ठीक नहीं है और थोड़ा जीवन पहले का है कहा जाता है कि जल है तो जीवन है पहले अपना जीवन परिचय बताएं उसके बाद हमारा जमानत लगा रहेगा बने रहिए लाइफ से फॉलो करते रहिए मनीष कौन हो रहा मैं यह कहना चाहता हूं कि आप जो है थोड़ा सा परेशानी को जलते हुए पैसे के पीछे हमारे क्या पैसे के पीछे भागोगे तो कोरोनावायरस आपके पीछे भागेगा जिससे कि आप बीमार भी हो सकते हैं आपका जीवन भी नष्ट हो सकता है जिसकी पुराना स्टोर करना चाहता हूं आप भी समझ गए होंगे

hello namaskar main manish kumar hai jaise ki aapka prashna hai ki coronavirus ek aisa bharat se jo garib aur amir aadmi sabke liye khataranaak hai lekin amir aadmi par bhi soch raha hai ki main kaise paisa kama loon ya paise ke bare me soch raha hai yah theek hai ki nahi batana chahta hoon ki prakar se theek hai kyonki insaan ko kisi prakar se nasha kar diya lat lag chuki hai usko uski ki avashyakta hoti hai sudama desh me bata do jitne bhi nashe waale aadmi hain dekhiye band hai lekin par bhi jo hai ki aadmi kuch na kuch koshish karke p raha hai kyonki raha hai aao se khatra bhi hai ki kahin vaah litiya nahi tu abhi koi patient aaj hai usme chuachut se kisi kisi bhi prakar se haar jayegi wahan par sakta hai tumhari coronavirus jaisi do bimar ho sakta lekin tab par bhi apne aap ko surakshit karte hue jo hai toh chah raha hai lekin anjaane me shayad aa jaaye toh yahi kahi batein bhi aadmi ka jism ki lat lag jaati hai samajh gaya toh usko paane ki chahat hamesha rehti hai kyonki is samay jo hai ki lock down hone ki sambhavna me sabhi cheezen jo har prakar se rok di gayi hain jisse ki vaah apne lat ke karan ya nashe ke karan jo apne aap ko rok nahi paa raha hai lekin yah theek nahi hai aur thoda jeevan pehle ka hai kaha jata hai ki jal hai toh jeevan hai pehle apna jeevan parichay bataye uske baad hamara jamanat laga rahega bane rahiye life se follow karte rahiye manish kaun ho raha main yah kehna chahta hoon ki aap jo hai thoda sa pareshani ko jalte hue paise ke peeche hamare kya paise ke peeche bhagoge toh coronavirus aapke peeche bhagega jisse ki aap bimar bhi ho sakte hain aapka jeevan bhi nasht ho sakta hai jiski purana store karna chahta hoon aap bhi samajh gaye honge

हेलो नमस्कार मैं मनीष कुमार है जैसे कि आपका प्रश्न है कि कोरोनावायरस एक ऐसा भारत से जो गरी

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  484
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामनवमी की आकृति के बिल्कुल गलत है इंसान जो कहते हैं इंसान की नीयत कभी नहीं बनती जो जैसी नियत का होता है वह भी सोचता है इस टाइम लोग बार सोचना बेचारे गरीब है किसी की सहायता करें हम लोग खाली बैठे हुए हैं तो कम से कम यह देख सकती और अपने देश की महामारी जल्दी से जल्दी जाए जो यह जो बेचारे परेशान है उनको यह नहीं पता इस चीज का वह कभी सोचते नहीं है केवल पैसा कमाना उनका भी है ऐसे लोगों से बहुत ही बुरा है जब पैसे को सब कुछ समझते आदमी को कुछ इसलिए मैं तो यह क्या किया जाते टाइम में लोग एक दूसरे के काम आए एक दूसरे का हालचाल पूछे और पैसा कमाने के चक्कर में ना पड़ें आपके पास नहीं आना

ramnavami ki akriti ke bilkul galat hai insaan jo kehte hain insaan ki niyat kabhi nahi banti jo jaisi niyat ka hota hai vaah bhi sochta hai is time log baar sochna bechare garib hai kisi ki sahayta kare hum log khaali baithe hue hain toh kam se kam yah dekh sakti aur apne desh ki mahamari jaldi se jaldi jaaye jo yah jo bechare pareshan hai unko yah nahi pata is cheez ka vaah kabhi sochte nahi hai keval paisa kamana unka bhi hai aise logo se bahut hi bura hai jab paise ko sab kuch samajhte aadmi ko kuch isliye main toh yah kya kiya jaate time me log ek dusre ke kaam aaye ek dusre ka halchal pooche aur paisa kamane ke chakkar me na paden aapke paas nahi aana

रामनवमी की आकृति के बिल्कुल गलत है इंसान जो कहते हैं इंसान की नीयत कभी नहीं बनती जो जैसी न

Romanized Version
Likes  438  Dislikes    views  3230
WhatsApp_icon
user

RAJEEV KUMAR

Sexologist What:-9934026007

2:00
Play

Likes  203  Dislikes    views  1429
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

6:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं इसका आंसर आपको विश्व के संबंध में नहीं अपितु भारत के संबंध में ज्यादा जाना चाहूंगा क्योंकि मैं भारत से कनेक्टेड हूं भारत का ही चाहता हूं भारतीयों का चाहता हूं मेरी भावना मेरे देश में ही सीमित है मैं विश्व की बंदूक में कंपनी रखता हूं सिर्फ भारत को ही चाहता हूं क्योंकि मेरा देश भारत में बहुत उन्नति हो भारत माता के जाएगी मेरी भावना है जो हम भारतीयों का लोभ लालच स्वार्थ खुदगर्जी हमेशा से विश्वविख्यात चाहिए हम लोग इसके कारण से मुगलों के गुलाम बनी हर आक्रमणकारी से हारते रहे अंग्रेजों से उम्र 200 साल गुलाम रहे क्योंकि हम लोगों में स्वाद खुदगर्जी लालच इस कदर भरा हुआ है इसकी खातिर कुछ भी कर जाते हैं कितनी सीमा से आगे पीछे कर सकते हैं कि आज के समय में हमारे व्यापारी और व्यवसाई कर रहे हैं आप देख रहे हैं आप इसको यह ना कहीं के अमीर व्यापारी कर रहे हैं अमीर व्यापारी तो खैर नहीं रहेगी और राजनीति और भी ज्यादा गंदी है जो पूरी राजनीति भ्रष्टाचार सॉन्ग गोरी खुदगर्जी से भरी हुई है लालच से भरी हुई है यह व्यापारी जनों के पास में माल का स्टॉक था वे लोग इस कोरोना वायरस की विपत्ति के समय देशभक्ति तो यह कहती है कि उन लोगों को उन भारतीयों की सहायता करनी चाहिए थी और ब्लैक मार्केटिंग नहीं करनी चाहिए जब मुनाफा नहीं कमाना चाहिए अपितु अन्य भारतीयों के लिए सहायता उपलब्ध कराएं सामान उपलब्ध कराएं यह देश भक्ति का भाव होता लेकिन यह उल्टा कर रहे हैं क्योंकि इनका स्वागत दर्जी इस समय उनकी सिर पर चढ़कर के बोल रहा की पराकाष्ठा पर आ गए हैं ₹20 का माल 40 पर कर ₹50 का बेचने में भी शर्म नहीं आ रही है क्योंकि इनकी मान्यता मर चुकी है क्योंकि इनकी आत्मा मर चुकी है यह संशोधन के लिए यहां तक इनका चरित्र गिर गया है कि शायद इनको आप पड़ जाए तेरी पतंग इतने गंदे कर्म पर होता है आप यह में आते हैं सभी अपनी ऐसे हैं सभी अमीर नहीं है सभी अमृत तो आप यदि ऐसा होता तो अजीम प्रेमजी ने काफी ग्यारस 25 करोड़ दिए हैं टाटा साहब ने 15 चक्का करोड़ दिए हैं अंबानी साहब ने 100 करोड़ से ऊपर दिया है और बहुत कुछ बता ही नहीं रहे हैं आप देख रहे हैं कि हर व्यक्ति जो पासपोर्ट लक्ष्मीपति है वह दान कर रहा है बिल्कुल लेकिन तू लक्ष्मी के दांत हैं जिनको इस भौतिक संपत्ति से ज्यादा लगा है बे नीचता की पराकाष्ठा पर आकर के एक पैसा बिना सुल्तान कर रहे हैं बल्कि इस कोरोना वायरस की विपत्ति का लाभ उठाने के लिए महंगाई वृद्धि में सहायक हो रहे हैं यह निष्ठा की पराकाष्ठा है ऐसे इंसानों को आप इंसान नहीं कह सकते यह राक्षस प्रवृत्ति के हैं ऐसे लोगों के रूप में आज भी रावण कल तहसील रामसर जिंदा है जो मानव का शोषण करने में लगे हुए हैं जो मानव का खून पीने में विश्वास रखते हैं आप सोचें तो हमारे राजनीतिज्ञों देश की राजनीति गैसे हैं जिनके पास पांच पांच से 900 पीढ़ियों के लिए सौ सौ पांच पांच से पीढ़ियों के लिए खाने के लिए पैसा है जिनके पास आप सोचिए कि महारानी विक्टोरिया से ज्यादा पैसा है ऐसे घर आने हैं लेकिन एक पैसा सौदान करा लीजिए और भातार देखिए कि भड़काने के लिए वह हमेशा तैयार सत्ता के लालची पर है क्या आज भी उनको कमाने की फ्रॉक में है आप भी इस विपत्ति में भिगो कमाने के लिए फ्रॉक में है और सब डूबे हुए हैं और दंगाई भाषण देते हैं तंग आकर आते हैं क्योंकि हमारे देश के संविधान की जगह है वो इतने कमजोर हैं इतनी लचर है कि पकड़ नहीं पाते हैं मुझे इस बात का होता है कि अंगाई करने वाले को तो आप पकड़ लेते हो क्योंकि वह कमजोर है वह गरीब है लेकिन जो ऐसे खुदगर्ज स्वार्थ की ड्रेस चेंज दंडापुर कहते हैं जो धर्म अम्माजी भाषण देते हैं नोटों की गंदी राजनीति करते हैं ऐसी खुदगर्जी लेटेस्ट को पकड़ने के लिए कोई नियम कानून नहीं है हमारा दुर्भाग्य एक देश में दो दोनों चलते हैं यह हमारा दुर्भाग्य किसी दिन कोई न कोई तो कि हमारे देश की जो सकती है वह संसद में नहीं है कभी सांसद हमारे जीतेंगे पर ऐसे गंदे कानूनों को बदलेंगे लक्षण कमजोर कानूनों को पात लेंगे और तुम देख लेना ऐसे खुदगर्ज स्वार्थी यह लीडरशिप पारी के व्यवसाई निश्चित रूप से पकड़े जाएंगे कोई ना कोई तो माई का लाल ऐसा चलेगा कोई ना कोई तो किसी न किसी के बैठेंगे को सरस्वती मां किसी ना किसी को तो सब बुद्धि प्रदान करेगी वैसे खुदगर्ज स्वार्थी तो देश के नागरिकों का शोषण करने वाले हैं इनको सजाएं प्राप्त होंगी कि कर्मों के फल प्राप्त होंगे

main iska answer aapko vishwa ke sambandh me nahi apitu bharat ke sambandh me zyada jana chahunga kyonki main bharat se connected hoon bharat ka hi chahta hoon bharatiyon ka chahta hoon meri bhavna mere desh me hi simit hai main vishwa ki bandook me company rakhta hoon sirf bharat ko hi chahta hoon kyonki mera desh bharat me bahut unnati ho bharat mata ke jayegi meri bhavna hai jo hum bharatiyon ka lobh lalach swarth khudagarji hamesha se vishvavikhyaat chahiye hum log iske karan se mugalon ke gulam bani har aakramanakari se harte rahe angrejo se umar 200 saal gulam rahe kyonki hum logo me swaad khudagarji lalach is kadar bhara hua hai iski khatir kuch bhi kar jaate hain kitni seema se aage peeche kar sakte hain ki aaj ke samay me hamare vyapaari aur vyavasai kar rahe hain aap dekh rahe hain aap isko yah na kahin ke amir vyapaari kar rahe hain amir vyapaari toh khair nahi rahegi aur raajneeti aur bhi zyada gandi hai jo puri raajneeti bhrashtachar song gori khudagarji se bhari hui hai lalach se bhari hui hai yah vyapaari jano ke paas me maal ka stock tha ve log is corona virus ki vipatti ke samay deshbhakti toh yah kehti hai ki un logo ko un bharatiyon ki sahayta karni chahiye thi aur black marketing nahi karni chahiye jab munafa nahi kamana chahiye apitu anya bharatiyon ke liye sahayta uplabdh karaye saamaan uplabdh karaye yah desh bhakti ka bhav hota lekin yah ulta kar rahe hain kyonki inka swaagat darji is samay unki sir par chadhakar ke bol raha ki parakashtha par aa gaye hain Rs ka maal 40 par kar Rs ka bechne me bhi sharm nahi aa rahi hai kyonki inki manyata mar chuki hai kyonki inki aatma mar chuki hai yah sanshodhan ke liye yahan tak inka charitra gir gaya hai ki shayad inko aap pad jaaye teri patang itne gande karm par hota hai aap yah me aate hain sabhi apni aise hain sabhi amir nahi hai sabhi amrit toh aap yadi aisa hota toh ajeem premji ne kaafi gyara 25 crore diye hain tata saheb ne 15 chakka crore diye hain ambani saheb ne 100 crore se upar diya hai aur bahut kuch bata hi nahi rahe hain aap dekh rahe hain ki har vyakti jo passport lakshmipati hai vaah daan kar raha hai bilkul lekin tu laxmi ke dant hain jinako is bhautik sampatti se zyada laga hai be nichta ki parakashtha par aakar ke ek paisa bina sultan kar rahe hain balki is corona virus ki vipatti ka labh uthane ke liye mahangai vriddhi me sahayak ho rahe hain yah nishtha ki parakashtha hai aise insano ko aap insaan nahi keh sakte yah rakshas pravritti ke hain aise logo ke roop me aaj bhi ravan kal tehsil ramsar zinda hai jo manav ka shoshan karne me lage hue hain jo manav ka khoon peene me vishwas rakhte hain aap sochen toh hamare rajaneetigyon desh ki raajneeti gaise hain jinke paas paanch paanch se 900 peedhiyon ke liye sau sau paanch paanch se peedhiyon ke liye khane ke liye paisa hai jinke paas aap sochiye ki maharani Victoria se zyada paisa hai aise ghar aane hain lekin ek paisa saudan kara lijiye aur bhatar dekhiye ki bhadkaane ke liye vaah hamesha taiyar satta ke lalchi par hai kya aaj bhi unko kamane ki frock me hai aap bhi is vipatti me bhigo kamane ke liye frock me hai aur sab doobe hue hain aur dangaii bhashan dete hain tang aakar aate hain kyonki hamare desh ke samvidhan ki jagah hai vo itne kamjor hain itni lachar hai ki pakad nahi paate hain mujhe is baat ka hota hai ki ANGAI karne waale ko toh aap pakad lete ho kyonki vaah kamjor hai vaah garib hai lekin jo aise khudagarj swarth ki dress change dandapur kehte hain jo dharm ammaji bhashan dete hain noton ki gandi raajneeti karte hain aisi khudagarji latest ko pakadane ke liye koi niyam kanoon nahi hai hamara durbhagya ek desh me do dono chalte hain yah hamara durbhagya kisi din koi na koi toh ki hamare desh ki jo sakti hai vaah sansad me nahi hai kabhi saansad hamare jitenge par aise gande kanuno ko badalenge lakshan kamjor kanuno ko pat lenge aur tum dekh lena aise khudagarj swaarthi yah leadership paari ke vyavasai nishchit roop se pakde jaenge koi na koi toh my ka laal aisa chalega koi na koi toh kisi na kisi ke baitheange ko saraswati maa kisi na kisi ko toh sab buddhi pradan karegi waise khudagarj swaarthi toh desh ke nagriko ka shoshan karne waale hain inko sajayen prapt hongi ki karmon ke fal prapt honge

मैं इसका आंसर आपको विश्व के संबंध में नहीं अपितु भारत के संबंध में ज्यादा जाना चाहूंगा क्य

Romanized Version
Likes  303  Dislikes    views  12220
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे आपने सही सवाल पूछा है कि मालदार लोग ऐसे हैं जो अपना मतलब पैसे को बढ़ाना चाहते हैं या भरना चाहते या गरीबों को लूट रहे हैं ऐसे में आपके सवाल का तात्पर्य यह भी कुछ लोग ऐसे होते हैं कि जो यह सोचते हैं कि वह उन्हें हमेशा दुनिया में रहना है और पैसा ही यानी दौलत ही उनके लिए सब कुछ है इस को इकट्ठा कर लो चाहे जहां से आ जाए चाहे जिस तरीके से आ जाए किसी का हक मार के आया या किसी को लूट कर आए कुछ लोग ऐसी प्रवृत्ति के होते हैं ऐसी सोच के होते हैं ऐसे लोगों में मानव जाति के प्रति सेवा का भाव नहीं होता है तो जिसमें मानव के प्रति सेवा भावना हो वह हकीकत में मानव जैसा बिल्कुल तो यह बहुत गलत बात है जो लोग अपना दूसरों से सामान के पैसे बढ़ाकर अपना घर भर रहे लूट रहे हैं लोगों को ज्यादा पैसे में सामान दे बहुत ही बहुत ही गलत काम है जबकि ऐसे वक्त में बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो लोगों को दान दे रहे हैं लोगों को खाने पीने को दे रहे हैं उनकी मदद भी कर रहे हैं थैंक यू

likhe aapne sahi sawaal poocha hai ki maldar log aise hain jo apna matlab paise ko badhana chahte hain ya bharna chahte ya garibon ko loot rahe hain aise me aapke sawaal ka tatparya yah bhi kuch log aise hote hain ki jo yah sochte hain ki vaah unhe hamesha duniya me rehna hai aur paisa hi yani daulat hi unke liye sab kuch hai is ko ikattha kar lo chahen jaha se aa jaaye chahen jis tarike se aa jaaye kisi ka haq maar ke aaya ya kisi ko loot kar aaye kuch log aisi pravritti ke hote hain aisi soch ke hote hain aise logo me manav jati ke prati seva ka bhav nahi hota hai toh jisme manav ke prati seva bhavna ho vaah haqiqat me manav jaisa bilkul toh yah bahut galat baat hai jo log apna dusro se saamaan ke paise badhakar apna ghar bhar rahe loot rahe hain logo ko zyada paise me saamaan de bahut hi bahut hi galat kaam hai jabki aise waqt me bahut se log aise bhi hain jo logo ko daan de rahe hain logo ko khane peene ko de rahe hain unki madad bhi kar rahe hain thank you

लिखे आपने सही सवाल पूछा है कि मालदार लोग ऐसे हैं जो अपना मतलब पैसे को बढ़ाना चाहते हैं या

Romanized Version
Likes  206  Dislikes    views  1795
WhatsApp_icon
user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो आप को मेरा नमस्कार आप का सवाल है और घर से कैसा भारत है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है लेकिन अमीर अभी भी सोच रहा है कि कहां से पैसा भरना है उसका सोच गलत है या सही एकदम गलत सोच है अभी अगर इस दौर में यह बीमारी यह भारत इसे * भारत के नाम से जाना जाता है एक खतरनाक बीमारी में पैसा कमा कर भर लूं यह सोच नहीं होना चाहिए कम से कम इस अवस्था में अमीर आदमी ने उनको भी अपना घर में रहकर अपना जीवन को बचा के दूसरों को जीवन देखें देश सेवा किया जा सकता घर के अंदर में रहकर अब यही लव दांत का पालन स्टेशन से घर में रहकर मात्र यूज़ करके देश सेवा करके इस महान देश भागवत से पूर्व किस तरह से लगाया जाए ऐसा होना चाहिए कि कुछ पैसा भर लूं कुछ कमा लूं यह सोच गलत है बल्कि महा गलत है धन्यवाद

sabse pehle toh aap ko mera namaskar aap ka sawaal hai aur ghar se kaisa bharat hai jo garib aadmi amir aadmi sab ke liye khataranaak hai lekin amir abhi bhi soch raha hai ki kaha se paisa bharna hai uska soch galat hai ya sahi ekdam galat soch hai abhi agar is daur me yah bimari yah bharat ise bharat ke naam se jana jata hai ek khataranaak bimari me paisa kama kar bhar loon yah soch nahi hona chahiye kam se kam is avastha me amir aadmi ne unko bhi apna ghar me rahkar apna jeevan ko bacha ke dusro ko jeevan dekhen desh seva kiya ja sakta ghar ke andar me rahkar ab yahi love dant ka palan station se ghar me rahkar matra use karke desh seva karke is mahaan desh bhagwat se purv kis tarah se lagaya jaaye aisa hona chahiye ki kuch paisa bhar loon kuch kama loon yah soch galat hai balki maha galat hai dhanyavad

सबसे पहले तो आप को मेरा नमस्कार आप का सवाल है और घर से कैसा भारत है जो गरीब आदमी अमीर आदम

Romanized Version
Likes  357  Dislikes    views  3615
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आज का सवाल है कोरोनावायरस एक ऐसा वायरस है जो गरीब अमीर सभी के लिए खतरनाक है लेकिन अमीर अभी भी सोच रहे हैं कि कहां से पैसा भर ले तो दोस्तों क्या कहा जाए ऐसे लोगों के लिए जिनके दुनिया अपने आप से शुरू होकर अपने आप पर ही खत्म हो जाती है जहां एक ओर देश की सारी अर्थव्यवस्था है इस समय तक पढ़ी है शेरों की रफ्तार पूरी तरह से थमी हुई है ऐसे में भी कुछ लोग अगर अपने लालच और अपने स्वार्थों से ऊपर नहीं उठ पा रहे हैं तो निश्चित रूप से मानवता खतरे में है इंसानियत खतरे में है क्योंकि दोस्त एक अच्छा इंसान वही होता है जो मुश्किल हालात में बाकी मानवता का साथ दें सरकार की गाइडलाइंस को फॉलो करें क्योंकि दोस्तों हर कोई लगा हुआ है इसको भी 19 की भयंकर बीमारी से खुद को और अपने परिवार वालों को बचाने के लिए लेकिन ऐसे में भी अगर कुछ लोग अपने लालच को अपने स्वार्थ को तवज्जो देते हैं या अहमियत देते हैं तो मुझे लगता है कि वह एक अच्छे इंसान कहलाने के भी लायक नहीं है और दोस्तों जब हम एक अच्छे इंसान ही नहीं होते तो फिर जीवन की बात बाकी भूमिकाओं का भी हम ठीक से निर्वहन नहीं कर पाएंगे धन्यवाद

namaskar doston aaj ka sawaal hai coronavirus ek aisa virus hai jo garib amir sabhi ke liye khataranaak hai lekin amir abhi bhi soch rahe hain ki kaha se paisa bhar le toh doston kya kaha jaaye aise logo ke liye jinke duniya apne aap se shuru hokar apne aap par hi khatam ho jaati hai jaha ek aur desh ki saari arthavyavastha hai is samay tak padhi hai sheron ki raftaar puri tarah se thami hui hai aise me bhi kuch log agar apne lalach aur apne swarthon se upar nahi uth paa rahe hain toh nishchit roop se manavta khatre me hai insaniyat khatre me hai kyonki dost ek accha insaan wahi hota hai jo mushkil haalaat me baki manavta ka saath de sarkar ki gaidalains ko follow kare kyonki doston har koi laga hua hai isko bhi 19 ki bhayankar bimari se khud ko aur apne parivar walon ko bachane ke liye lekin aise me bhi agar kuch log apne lalach ko apne swarth ko tavajjo dete hain ya ahamiyat dete hain toh mujhe lagta hai ki vaah ek acche insaan kahlane ke bhi layak nahi hai aur doston jab hum ek acche insaan hi nahi hote toh phir jeevan ki baat baki bhoomikaon ka bhi hum theek se nirvahan nahi kar payenge dhanyavad

नमस्कार दोस्तों आज का सवाल है कोरोनावायरस एक ऐसा वायरस है जो गरीब अमीर सभी के लिए खतरनाक ह

Romanized Version
Likes  88  Dislikes    views  1745
WhatsApp_icon
user

Kankan Sarmah

Psychologist

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें दोस्तों कोरोनावायरस डीजे सनी की कॉमेडी 19 के लिए कोई अमीर नहीं होता एक गरीब नहीं होते राजा नहीं होता कोई पैदा नहीं होता है उसके लिए सब एक है यह एक हमारी जिंदगी का सीन है कि भले ही हम अपने ही खेत में नीतियां इंसानियत के नाम पर अपने आपको हम दूसरों से अलग मानते हैं या दूसरों से अलग रखने की कोशिश करते हैं यह स्टेटस मेंटेन करने की कोशिश करते हैं लेकिन प्रकृति के नियमों के अनुसार हम सब एक ही है हमारे अंदर ना कोई गरीब है ना कोई अमीर है तो यह जो नॉलेज पर यह सब सीखे यह हमारे लिए बहुत इंपोर्टेंट है और हमें सीखना भी चाहिए जब नेचर के सामने हम अपने आप को विभाजित करेंगे कि यह अमीर है या गरीब है तो कोई फायदा होने वाला नहीं है हमें एकजुट रहना है एक दूसरे को शहर क्या करना है और आप जितने लोगों को मदद करेंगे सहायता करेंगे उतना ही आपकी उम्र लंबी होगी और उतना ही शोहरत आपको हासिल होगा और उतना ही अमीर आप बनेंगे क्योंकि कुछ चीजें कभी ऐसे भी होते हैं क्या आपके पास करोड़ों रुपया है लेकिन प्यार नहीं है करोड़ों रुपया है लेकिन सुख नहीं है और कुछ लोग ऐसे होते जिनके पास हजारिया ₹100 भी नहीं होते हैं लेकिन उनके पास बहुत सारी अच्छी खासी जिंदगी है कोई टेंशन नहीं है और लंबी उम्र जी सकते हैं और दूसरों को अच्छा सीख सिखा कर सकते हैं मुंह से अच्छी जुबान निकलती है कोई गलत भी नहीं होता है तो हम आपसे यही गुजारिश करते हैं कि प्रकृति के खिलाफ भेदभाव ना करें हम इंसान के हिसाब से इस प्रकृति के आधार पर बस एक ही है धन्यवाद

dekhen doston coronavirus DJ sunny ki comedy 19 ke liye koi amir nahi hota ek garib nahi hote raja nahi hota koi paida nahi hota hai uske liye sab ek hai yah ek hamari zindagi ka seen hai ki bhale hi hum apne hi khet me nitiyan insaniyat ke naam par apne aapko hum dusro se alag maante hain ya dusro se alag rakhne ki koshish karte hain yah status maintain karne ki koshish karte hain lekin prakriti ke niyamon ke anusaar hum sab ek hi hai hamare andar na koi garib hai na koi amir hai toh yah jo knowledge par yah sab sikhe yah hamare liye bahut important hai aur hamein sikhna bhi chahiye jab nature ke saamne hum apne aap ko vibhajit karenge ki yah amir hai ya garib hai toh koi fayda hone vala nahi hai hamein ekjut rehna hai ek dusre ko shehar kya karna hai aur aap jitne logo ko madad karenge sahayta karenge utana hi aapki umar lambi hogi aur utana hi shoharat aapko hasil hoga aur utana hi amir aap banenge kyonki kuch cheezen kabhi aise bhi hote hain kya aapke paas karodo rupya hai lekin pyar nahi hai karodo rupya hai lekin sukh nahi hai aur kuch log aise hote jinke paas hajariya Rs bhi nahi hote hain lekin unke paas bahut saari achi khasee zindagi hai koi tension nahi hai aur lambi umar ji sakte hain aur dusro ko accha seekh sikha kar sakte hain mooh se achi jubaan nikalti hai koi galat bhi nahi hota hai toh hum aapse yahi gujarish karte hain ki prakriti ke khilaf bhedbhav na kare hum insaan ke hisab se is prakriti ke aadhar par bus ek hi hai dhanyavad

देखें दोस्तों कोरोनावायरस डीजे सनी की कॉमेडी 19 के लिए कोई अमीर नहीं होता एक गरीब नहीं होत

Romanized Version
Likes  631  Dislikes    views  5214
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

3:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पीके कोरोनावायरस ने अमीर गरीब छोटे बड़े विदेशी देसी सबको बराबर कर दिया पूरे विश्व को कोरोनावायरस ने एकता के सूत्र में बांध दिया है और सबको एक बात का एहसास करा दिया है कि आप ना तो हिंदू होना तो मुस्लिम होना तो सीखो ना तो इस आई हो आप इंसान हो और यह वायरस चाहे अमीर हो आप चाहे गरीब हो चाहे बढ़िया एक्सरसाइज करने वाले हो चाहे कोई भी हो या आपको प्रभावित कर सकता है और आपकी जिंदगी भी खत्म कर सकता है जो लोग अभी भी अपनी झोली भरने के बारे में बहुत ज्यादा सोच रहे हैं उनकी सोच बहुत गंदी है आप लोग ऐसा बिल्कुल मत सोचिए देखिए यह जिंदगी बहुत ही महत्वपूर्ण है यह समय आपस में मदद करने की है जो लोग एक दूसरे गरीब व्यक्ति का मदद कर सकते हैं उसका मदद करिए उसके घर खाने पीने का व्यवस्था करिए अनाज राशन भेजिए और इस टाइम बिल्कुल भी ज्यादा गलत मत सोचिए मैं जहां रहता हूं हमारे बगल में एक आटा वाले थे तो वह 40 ₹50 मांगा आटा शुरू में बेचना स्टार्ट किए थे मात्र 2 3 केजी बैठे होंगे तब तक किसी ने कंप्लेंट कर दिया और पुलिस पकड़ कर ले गई और ₹10000 का जुर्माना लगा 50 ₹100 कमाए होंगे ₹10 जुड़वा चुन जुर्माना देना पड़ा उन्हें तो ऐसा ही होता है जो गलत करता है ₹100 किसी से गलत तरीके से लेगा वह और ₹1000 का इनकम से देना पड़ता है तो बिल्कुल ऐसा नहीं करना चाहिए और अभी तो भारत को रोना से जूझ रहा है तो इस कंडीशन में अगर हम पीएम फंड में अगर कुछ पैसा डाल डाल सकते हैं तो हमें डालना चाहिए जिसके पास ₹50 और ₹50 उसे अकाउंट में डाले जिसके पास 1000000 का उदास लाख के अकाउंट में डालें जो गरीबों के खाने पीने की व्यवस्था कर सकता गरीबों के खाने पीने की व्यवस्था करें और 510 गरीब परिवार को सभी अमीर परिवार के लोग और जो अमीर किसान है वह उनके घर अनाज अनाज भिजवाए उनके घर सब्जियों की खरीद के भिजवाए ताकि वह लोग भूखे ना सोए उनके घर भी जो बच्चे हैं वो रात में दिन में खाना खा कर पेट भर के और अपने घर पर रह सके सभी लोग हम लोग घर पर रहेंगे जब तक सरकार हमें पूरी तरह से छूट नहीं देती है तब तक हम घर पर रहेंगे घर पर हैं हम लोग तो सिर्फ हैं घर से बाहर हैं कौन सेव नहीं है अगर हम घर से बाहर निकलते हैं तो उनसे नहीं है आरोप भी सेतु एप्स ब्लू डाउनलोड कर लीजिए आरोग्य से तू है बाप को यह बताएगा कि आप सुरक्षित हो कि नहीं हो और आप सामने वाले से बात कर रहे हो अगला पॉजिटिव है कि नेगेटिव है यह सारी जानकारी आरोग्य सेतु एप देगा तो कोरोनावायरस ने पूरे विश्व के इंसानियत को एक कर दिया है हम सभी लोग पहले इंसान हैं सभी लोगों को एक दूसरे का दर्द समझना है हमें अपने जिंदगी की रक्षा करनी है और दूसरे व्यक्ति को भूखा भी नहीं सोना सोने देना है हमें उसके खाने-पीने का इंतजाम करना है इस सोच के माध्यम से हम लोग को रोना से जब लड़ेंगे तो अंत में रोना हारेगा भारत जीतेगा धन्यवाद

pk coronavirus ne amir garib chote bade videshi desi sabko barabar kar diya poore vishwa ko coronavirus ne ekta ke sutra me bandh diya hai aur sabko ek baat ka ehsaas kara diya hai ki aap na toh hindu hona toh muslim hona toh sikho na toh is I ho aap insaan ho aur yah virus chahen amir ho aap chahen garib ho chahen badhiya exercise karne waale ho chahen koi bhi ho ya aapko prabhavit kar sakta hai aur aapki zindagi bhi khatam kar sakta hai jo log abhi bhi apni jholee bharne ke bare me bahut zyada soch rahe hain unki soch bahut gandi hai aap log aisa bilkul mat sochiye dekhiye yah zindagi bahut hi mahatvapurna hai yah samay aapas me madad karne ki hai jo log ek dusre garib vyakti ka madad kar sakte hain uska madad kariye uske ghar khane peene ka vyavastha kariye anaaj raashan bhejiye aur is time bilkul bhi zyada galat mat sochiye main jaha rehta hoon hamare bagal me ek atta waale the toh vaah 40 Rs manga atta shuru me bechna start kiye the matra 2 3 KG baithe honge tab tak kisi ne complaint kar diya aur police pakad kar le gayi aur Rs ka jurmana laga 50 Rs kamaye honge Rs judwa chun jurmana dena pada unhe toh aisa hi hota hai jo galat karta hai Rs kisi se galat tarike se lega vaah aur Rs ka income se dena padta hai toh bilkul aisa nahi karna chahiye aur abhi toh bharat ko rona se joojh raha hai toh is condition me agar hum pm fund me agar kuch paisa daal daal sakte hain toh hamein dalna chahiye jiske paas Rs aur Rs use account me dale jiske paas 1000000 ka udaas lakh ke account me Daalein jo garibon ke khane peene ki vyavastha kar sakta garibon ke khane peene ki vyavastha kare aur 510 garib parivar ko sabhi amir parivar ke log aur jo amir kisan hai vaah unke ghar anaaj anaaj bhijvaye unke ghar sabjiyon ki kharid ke bhijvaye taki vaah log bhukhe na soye unke ghar bhi jo bacche hain vo raat me din me khana kha kar pet bhar ke aur apne ghar par reh sake sabhi log hum log ghar par rahenge jab tak sarkar hamein puri tarah se chhut nahi deti hai tab tak hum ghar par rahenge ghar par hain hum log toh sirf hain ghar se bahar hain kaun save nahi hai agar hum ghar se bahar nikalte hain toh unse nahi hai aarop bhi setu apps blue download kar lijiye aarogya se tu hai baap ko yah batayega ki aap surakshit ho ki nahi ho aur aap saamne waale se baat kar rahe ho agla positive hai ki Negative hai yah saari jaankari aarogya setu app dega toh coronavirus ne poore vishwa ke insaniyat ko ek kar diya hai hum sabhi log pehle insaan hain sabhi logo ko ek dusre ka dard samajhna hai hamein apne zindagi ki raksha karni hai aur dusre vyakti ko bhukha bhi nahi sona sone dena hai hamein uske khane peene ka intajam karna hai is soch ke madhyam se hum log ko rona se jab ladenge toh ant me rona harega bharat jitega dhanyavad

पीके कोरोनावायरस ने अमीर गरीब छोटे बड़े विदेशी देसी सबको बराबर कर दिया पूरे विश्व को कोरोन

Romanized Version
Likes  303  Dislikes    views  4845
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है कोरोनावायरस एक वायरस है जो गरीब आदमी और अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है लेकिन अभी अभी भी सोच रहे हैं कि कहां से पैसा भर लूं यह उनका सोचना सही है कैसा है कि जो गरीब या अमीर का जो आपने आपका कहना ठीक है बट सारे अन्य लोग भी ऐसा नहीं है बहुत सारे अमीर लोग हैं जरा भारत में देखो पैसे रतन टाटा हो गए अनिल अंबानी और भी बड़े-बड़े इंडस्ट्री में बॉलीवुड में आप अमिताभ बच्चन चले गए सलमान खान शाहरुख खान और अक्षय कुमार सभी लोग एक जैसे नहीं होते हैं कुछ हद तक मतलब भारत में मतलब जैसे दुकानदार लोग हैं मतलब सामान पर ज्यादा रेट ले रहे हैं मतलब जरूरत से ज्यादा तो कई लोग गिरफ्तार भी हो रहे हैं डीएम बगैरा नबी पैसे लोगे हमारी भी जिम्मेदारी बनती है देश के नाते कि ऐसे लोगों को उजागर करें अगर कोई आपको पता है तो इंफॉर्मेशन डीएम व एसपी को दें जिससे कि जो गरीब लोग हैं उनका शोषण ना हो तो हम लोगों मतलब देखना पड़ेगा ठीक है जब तक हम लोग कोरोना वायरस के खिलाफ एकजुट होकर नहीं लड़ेंगे ठीक है तब तक कोरोनावायरस में टाइम ज्यादा लग सकता है प्रॉब्लम बढ़ सकती है बैटरी आई है जो भारत सरकार की गाइडलाइन है उनको फॉलो करते हैं ठीक है हाथ धोते रहें और घर में रहे थे और जो भी मरने के प्रोग्राम है आपको लग रहा है कहीं गलत हो रहा है तो उसकी सूचना आप कहीं पास में दें इस तरीके से हमको रोने की जंग लड़ पाएंगे ठीक है सभी लोग एक जैसे नहीं होते हैं बहुत लोगों ने घर के बड़े बड़े बिजनेसमैन जिसकी भी जितना एयरपोर्ट है उन्होंने अपने हिसाब से सब कांटेक्ट करें

aapka question hai coronavirus ek virus hai jo garib aadmi aur amir aadmi sab ke liye khataranaak hai lekin abhi abhi bhi soch rahe hain ki kaha se paisa bhar loon yah unka sochna sahi hai kaisa hai ki jo garib ya amir ka jo aapne aapka kehna theek hai but saare anya log bhi aisa nahi hai bahut saare amir log hain zara bharat me dekho paise ratan tata ho gaye anil ambani aur bhi bade bade industry me bollywood me aap amitabh bachchan chale gaye salman khan shahrukh khan aur akshay kumar sabhi log ek jaise nahi hote hain kuch had tak matlab bharat me matlab jaise dukaandar log hain matlab saamaan par zyada rate le rahe hain matlab zarurat se zyada toh kai log giraftar bhi ho rahe hain dm bagaira nabi paise loge hamari bhi jimmedari banti hai desh ke naate ki aise logo ko ujagar kare agar koi aapko pata hai toh information dm va SP ko de jisse ki jo garib log hain unka shoshan na ho toh hum logo matlab dekhna padega theek hai jab tak hum log corona virus ke khilaf ekjut hokar nahi ladenge theek hai tab tak coronavirus me time zyada lag sakta hai problem badh sakti hai battery I hai jo bharat sarkar ki guideline hai unko follow karte hain theek hai hath dhote rahein aur ghar me rahe the aur jo bhi marne ke program hai aapko lag raha hai kahin galat ho raha hai toh uski soochna aap kahin paas me de is tarike se hamko rone ki jung lad payenge theek hai sabhi log ek jaise nahi hote hain bahut logo ne ghar ke bade bade bussinessmen jiski bhi jitna airport hai unhone apne hisab se sab Contact kare

आपका क्वेश्चन है कोरोनावायरस एक वायरस है जो गरीब आदमी और अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है लेक

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1554
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने काम करने वाली ठीक है सा वायरस है जो गरीब आदमियों की शक्ति देना लेकिन अमीर आदमी अभी भी सोचने की कहां से पैसा इकट्ठा कर इनकी सोच सही है अमीरा इंसान अपना जमीर बेच चुका होता है जमीर बेचकर तो अमीर होता है गरीब इंसान जमीर को जिंदा रखता है इसलिए वह गरीब रहता है चीजों के दाम दुगनी कर देना चीजों की कमी क्यों बताते हुए साजन ना जुटाना निश्चित ही यह हो गई है कि बीजेपी के दो तीन राज्यों में उनके जो कार्य करता है वह सरकारी राशन को प्राइवेट दुकानों में बेच रहे हैं महंगे दामों के और गरीबी का माहौल बना रहे हैं यह बीजेपी की सरकार और बीजेपी के कार्यकर्ता हैं लुकिंग कारपेट पैसेज नहीं बढ़ता उन्हें यह नहीं पता कि कल वह जिंदा बचेंगे नहीं बचेंगे लेकिन जितना पैसा भर सकते हैं शायद मैंने जो कि उनको शान द्वारा मौका नहीं मिलेगा तो कुछ घातक लोगों के लिए तो कोरोनावायरस एक बिजनेस भरा मौका आ गया पैसा कमाने का और लोगों को के धन को लूटने का

apne kaam karne wali theek hai sa virus hai jo garib adamiyo ki shakti dena lekin amir aadmi abhi bhi sochne ki kaha se paisa ikattha kar inki soch sahi hai amira insaan apna jamir bech chuka hota hai jamir bechkar toh amir hota hai garib insaan jamir ko zinda rakhta hai isliye vaah garib rehta hai chijon ke daam dugni kar dena chijon ki kami kyon batatey hue sajan na jutana nishchit hi yah ho gayi hai ki bjp ke do teen rajyo me unke jo karya karta hai vaah sarkari raashan ko private dukaano me bech rahe hain mehnge daamo ke aur garibi ka maahaul bana rahe hain yah bjp ki sarkar aur bjp ke karyakarta hain looking carpet passage nahi badhta unhe yah nahi pata ki kal vaah zinda bachenge nahi bachenge lekin jitna paisa bhar sakte hain shayad maine jo ki unko shan dwara mauka nahi milega toh kuch ghatak logo ke liye toh coronavirus ek business bhara mauka aa gaya paisa kamane ka aur logo ko ke dhan ko lutane ka

अपने काम करने वाली ठीक है सा वायरस है जो गरीब आदमियों की शक्ति देना लेकिन अमीर आदमी अभी भी

Romanized Version
Likes  441  Dislikes    views  5555
WhatsApp_icon
user

Sandeep Shahi

Career Advisor @ Motivational Person

1:47
Play

Likes  66  Dislikes    views  769
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एप्टेक रोना भारत एक ऐसा देश है जो गरीब आदमी अमीर आदमी तक के लिए खतरनाक है लेकिन अभी भी आ रहे हैं उसके लिए क्या कृपा करके यह पुराना वायरस के संक्रमण काल में देश की सेवा की है उसमें आप देख सकते हैं अक्षय कुमार ने किया है टाटा कंपनी के मीरा ने किया है पतंजलि ने किया है बहुत सारे सपोर्ट किया है जो समर्थ स्वामी समर्थ महान होते हुए भी वह संग्रहण में पंचम विश्वास न करके सेवा उत्थान में विश्वास किए हैं ऐसे निवारण सामान्य सोच या चंदन स्टील दिन के अंदर ऐसे दूसरे लोग इस समिति ने देश की सेवा कर दिया

eptek rona bharat ek aisa desh hai jo garib aadmi amir aadmi tak ke liye khataranaak hai lekin abhi bhi aa rahe hain uske liye kya kripa karke yah purana virus ke sankraman kaal me desh ki seva ki hai usme aap dekh sakte hain akshay kumar ne kiya hai tata company ke meera ne kiya hai patanjali ne kiya hai bahut saare support kiya hai jo samarth swami samarth mahaan hote hue bhi vaah sangrahan me pancham vishwas na karke seva utthan me vishwas kiye hain aise nivaran samanya soch ya chandan steel din ke andar aise dusre log is samiti ne desh ki seva kar diya

एप्टेक रोना भारत एक ऐसा देश है जो गरीब आदमी अमीर आदमी तक के लिए खतरनाक है लेकिन अभी भी आ र

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  1690
WhatsApp_icon
user

Dr.Amit Agrahari

Alopathic Ayurvedic Unani Doctor

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रीमान जी आज जो भी लोग इस तरह से कर रहे हैं जो भी लोग इस तरह से सोच रहे हैं इस तरह से वह समाज में उनके नाम का गलत संदेश जा रहा है वह गलत भी कर रहा है पाप कर रहे हैं क्योंकि जहां तक महामारी की बात है हर आदमी परेशान है क्या वह अमीर हो या गरीब हो और हर आदमी इंसान ही इंसान के इंसान की मदद करता है और मदद करना भी चाहिए ऐसा नहीं कर रहे हैं तो भगवान जाने ऊपर भगवान भी है और पुराना खाता कहीं भी चपेट में आ गए फिर उनका क्या होगा खुदा तक यह सोच है फिर भी महंगाई तो है चारों तरफ सरकार उसको कुछ कर भी नहीं पा रही है फिर भी अगर शिकायत की जा रही है तो सरकार को व्हाट्सएप पर रोक लगा रही है अगर आपको लगता है कि कोई इस तरह से कर रहा है तो आप इसकी शिकायत करिए 115 पर या 01123 9746 पर कॉल करिए बताइए उनको इस तरह से तो कहीं ना कहीं आपकी मदद होगी

shriman ji aaj jo bhi log is tarah se kar rahe hain jo bhi log is tarah se soch rahe hain is tarah se vaah samaj me unke naam ka galat sandesh ja raha hai vaah galat bhi kar raha hai paap kar rahe hain kyonki jaha tak mahamari ki baat hai har aadmi pareshan hai kya vaah amir ho ya garib ho aur har aadmi insaan hi insaan ke insaan ki madad karta hai aur madad karna bhi chahiye aisa nahi kar rahe hain toh bhagwan jaane upar bhagwan bhi hai aur purana khaata kahin bhi chapet me aa gaye phir unka kya hoga khuda tak yah soch hai phir bhi mahangai toh hai charo taraf sarkar usko kuch kar bhi nahi paa rahi hai phir bhi agar shikayat ki ja rahi hai toh sarkar ko whatsapp par rok laga rahi hai agar aapko lagta hai ki koi is tarah se kar raha hai toh aap iski shikayat kariye 115 par ya 01123 9746 par call kariye bataiye unko is tarah se toh kahin na kahin aapki madad hogi

श्रीमान जी आज जो भी लोग इस तरह से कर रहे हैं जो भी लोग इस तरह से सोच रहे हैं इस तरह से वह

Romanized Version
Likes  329  Dislikes    views  4619
WhatsApp_icon
user

Dr. Aman Kumar Giri

Dentist, Motivator

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आपका सवाल करो ना वायरस से ऐसा वायरस है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है लेकिन हमें अभी भी सोच रहे हैं कि कहां से पैसा भर लूंगा यह उनका सोच गलत है ऐसा जो सोचते हैं या ऐसा जो करते हैं अभी जो सिचुएशन है पूरी दुनिया के लिए एक हमारे देश के लिए नहीं पूरा दुनिया के लिए वह बहुत ही अत्यंत दुखदाई है एक महामारी है जो पूरी दुनिया को अपनी लपेट में ले चुका है ऐसी स्थिति में हम अमीर गरीब जाता सब भूलकर एक इकट्ठा होकर इस महामारी से लड़ना है इसलिए ऐसा जो भी सोच रहा है वह गलत सोच रहा है

hello aapka sawaal karo na virus se aisa virus hai jo garib aadmi amir aadmi sab ke liye khataranaak hai lekin hamein abhi bhi soch rahe hain ki kaha se paisa bhar lunga yah unka soch galat hai aisa jo sochte hain ya aisa jo karte hain abhi jo situation hai puri duniya ke liye ek hamare desh ke liye nahi pura duniya ke liye vaah bahut hi atyant dukhdai hai ek mahamari hai jo puri duniya ko apni lapet me le chuka hai aisi sthiti me hum amir garib jata sab bhulkar ek ikattha hokar is mahamari se ladana hai isliye aisa jo bhi soch raha hai vaah galat soch raha hai

हेलो आपका सवाल करो ना वायरस से ऐसा वायरस है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक है लेक

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  704
WhatsApp_icon
user

Ankit Laur

Yoga Instructor

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गलत गलत होता है चाहे वो किसी भी स्तर पर हो अगर वह गलत भावना से किया गया काम है तो हमारे अपने ऊपर भी चाहे कितना भी अमीर आदमी दोनों ने पहले भी पर्यावरण में बदलाव किसने कर रहे हैं सारे तक बड़े बड़े आदमी हैं ज्यादातर तो पूरन की फैक्ट्री स्टेबलाइजर के कारण यहां सभी पोलूशन वाटर पोलूशन जिसके कारण जो भी हमारा सिस्टम गड़बड़ा जाता पोलूशन ऑफ पॉपुलेशन इन सत्ता में बैठे हैं और जो कॉर्पोरेट है तो उन्हें आगे का इन फ्यूचर दिखता है हम क्या करने वाले हैं टाइम तक पड़ेगा अरविंद नजरअंदाज कर जाते हैं और अभी भी ऐसा ही होता है तो अभी उन्हें कोरोनावायरस तो है के वायरस किसी को भी लग सकता है इसीलिए इतनी प्रभावी रूप से सब चीजें बंद करवाई गई हैं इस वन में भी मेहंदी वीडियो प्रयोग और गरीबों का इंसान हो रहा है पर हमें अभी भी कहीं घाटे में नहीं है तो अभी भी वही काम कर रहे हैं तो भावना जिसकी भावना जैसी रहेगी वह वैसा ही पाएगा गरीब एक बार तो करो ना लगने से बच जाए और वह अंदर से बहुत कमजोर हो गया हमें क्योंकि वह झूठ का साथ दे रहे गलत का साथ दे रहा है और एक दिन उसे इस चीज का भरना पड़ेगा

galat galat hota hai chahen vo kisi bhi sthar par ho agar vaah galat bhavna se kiya gaya kaam hai toh hamare apne upar bhi chahen kitna bhi amir aadmi dono ne pehle bhi paryavaran me badlav kisne kar rahe hain saare tak bade bade aadmi hain jyadatar toh purane ki factory Stabilizer ke karan yahan sabhi pollution water pollution jiske karan jo bhi hamara system gadbada jata pollution of population in satta me baithe hain aur jo corporate hai toh unhe aage ka in future dikhta hai hum kya karne waale hain time tak padega arvind najarandaj kar jaate hain aur abhi bhi aisa hi hota hai toh abhi unhe coronavirus toh hai ke virus kisi ko bhi lag sakta hai isliye itni prabhavi roop se sab cheezen band karwai gayi hain is van me bhi mehendi video prayog aur garibon ka insaan ho raha hai par hamein abhi bhi kahin ghate me nahi hai toh abhi bhi wahi kaam kar rahe hain toh bhavna jiski bhavna jaisi rahegi vaah waisa hi payega garib ek baar toh karo na lagne se bach jaaye aur vaah andar se bahut kamjor ho gaya hamein kyonki vaah jhuth ka saath de rahe galat ka saath de raha hai aur ek din use is cheez ka bharna padega

गलत गलत होता है चाहे वो किसी भी स्तर पर हो अगर वह गलत भावना से किया गया काम है तो हमारे अप

Romanized Version
Likes  282  Dislikes    views  2138
WhatsApp_icon
play
user

Likes  137  Dislikes    views  3111
WhatsApp_icon
user

Raj Yadav

Veterinary Doctor

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोने की शायरी इंग्लिश के लिए लेकिन अभी भी सोच रहे हैं कि कहां से पेशावर लेने की सोच रहे थे बचपन

rone ki shaayari english ke liye lekin abhi bhi soch rahe hain ki kaha se peshawar lene ki soch rahe the bachpan

रोने की शायरी इंग्लिश के लिए लेकिन अभी भी सोच रहे हैं कि कहां से पेशावर लेने की सोच रहे थे

Romanized Version
Likes  509  Dislikes    views  1911
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitramahesh

Ayurvedic Doctors

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न ही सही नहीं है आप क्या कर ले कर के बैठे हैं कि गरीब की यह करेगा और अमित वह करेगा गवर्नमेंट भारत सरकार सभी लोगों को प्रयोग दवाई दिलवा रही है एलोपैथिक के तौर पर और आयुर्वेद के अनुसार आपको कोरोनावायरस की शिपमेंट करने वाले पूरे इंडिया में और पूरे वर्ल्ड में हम एकमात्र आयुर्वेदाचार्य है और आप बचने के लिए आर्य समाज अरविंद हॉस्पिटल से डॉट कॉम वेबसाइट के हमारे वीडियो को पढ़िए और हमारा संपर्क कीजिए

aapka prashna hi sahi nahi hai aap kya kar le kar ke baithe hain ki garib ki yah karega aur amit vaah karega government bharat sarkar sabhi logo ko prayog dawai dilwa rahi hai allopathic ke taur par aur ayurveda ke anusaar aapko coronavirus ki shipment karne waale poore india me aur poore world me hum ekmatra ayurvedacharya hai aur aap bachne ke liye arya samaj arvind hospital se dot com website ke hamare video ko padhiye aur hamara sampark kijiye

आपका प्रश्न ही सही नहीं है आप क्या कर ले कर के बैठे हैं कि गरीब की यह करेगा और अमित वह करे

Romanized Version
Likes  131  Dislikes    views  1289
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर आदमी अपना कर्म करे भाइयों से करने दीजिए करो ना वायरस कुछ ऐसा नहीं है आया है चला जाएगा अगर मान के चलिए तो बहुत बड़ा भूचाल आ गया होता अर्थ क्विक आ गया होता सब कुछ नष्ट होता तो क्या होता है यह तो कुछ भी नहीं है थोड़ा सा है लेकिन अगर हम अपने आप से अच्छी तरह से मैनेज करके अच्छी बढ़ाकर 1 विचारों का एक अच्छा भंडार भर की अपने अंदर उसको रोक पाए तो ऐसा हो पाएगा कि सब ठीक होगा घर में रहे सुरक्षित है

har aadmi apna karm kare bhaiyo se karne dijiye karo na virus kuch aisa nahi hai aaya hai chala jaega agar maan ke chaliye toh bahut bada bhuchal aa gaya hota arth quick aa gaya hota sab kuch nasht hota toh kya hota hai yah toh kuch bhi nahi hai thoda sa hai lekin agar hum apne aap se achi tarah se manage karke achi badhakar 1 vicharon ka ek accha bhandar bhar ki apne andar usko rok paye toh aisa ho payega ki sab theek hoga ghar me rahe surakshit hai

हर आदमी अपना कर्म करे भाइयों से करने दीजिए करो ना वायरस कुछ ऐसा नहीं है आया है चला जाएगा अ

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  1712
WhatsApp_icon
user

Yogendra Sharma

Motivational Speaker | Career Coach | Business Coach | Marketing & Management Expert's

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर क्लियर कोट स्प्रे ट्रेन स्टेशन के बारे में खतरनाक बेच रहे हैं मार्केट में महंगी चीजें मिल रही है और उसके पैसे वाले लोग तो है पैसा बना रहे हैं लेकिन कोरोनावायरस तो सभी के लिए समान है वह अमीर और गरीब को नहीं देखता और किसी को भी संक्रमित कर सकता है लेकिन फिर भी लोगों को पैसा कमाने की लगी हुई है देश में इतनी बड़ी आपदा यह देश की बड़ी समस्या से जूझ रहा है

hello friends yogendra sharma Motivational speaker clear coat spray train station ke bare me khataranaak bech rahe hain market me mehengi cheezen mil rahi hai aur uske paise waale log toh hai paisa bana rahe hain lekin coronavirus toh sabhi ke liye saman hai vaah amir aur garib ko nahi dekhta aur kisi ko bhi sankrameet kar sakta hai lekin phir bhi logo ko paisa kamane ki lagi hui hai desh me itni badi aapda yah desh ki badi samasya se joojh raha hai

हेलो फ्रेंड्स योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर क्लियर कोट स्प्रे ट्रेन स्टेशन के बारे में ख

Romanized Version
Likes  569  Dislikes    views  5865
WhatsApp_icon
user

Rahul Jangra

Health and Fitness Expert, Yoga Teacher

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो अभी भी नहीं समझ सका जिंदगी के मायने क्या हैं तो वह लाइट में शायद ही कभी समझ सके आप तो काफी लोगों को एक वायरस नहीं काफी लोगों को उसकी इंसान के का औकात याद दिलाती है कि असली में वैल्यू क्या है और बहुत सारे जो ऐसा सोचते थे पैसा पैसे पैसे के पीछे भाग रहे थे वह सारे ऐसे लोगों को रिलाइज भी हुआ है कि बाकी में जिंदगी में इन सब चीजों का इतने मायने नहीं है जितना होने दिया था अब लोगों के घरों में बंद है बड़ी-बड़ी गाड़ियां चीजें अशोक राम सब कुछ बंद है और घरों में ही है वैसे ही आम जिंदगी जी रहे हैं जैसे वह लोग तो काफी लोगों को समझ में आए हैं और मुझे बहुत अच्छा लगा कि लो मोरल वैल्यू असल जिंदगी क्या है कुछ घर में रहकर समझ में आई है क्योंकि शायद ही किसी की लाइफ में ऐसा टाइम आए हो कि उसको पूरा दिन घर पर रहना पड़े करने के लिए कोई बहुत अच्छा कुछ लोगों के लिए बहुत अच्छा एक्सप्लेंस रहा है जो लोग अभी भी समान समय नहीं पा रहे शायद ही वह जिंदगी में कभी समझ पाएंगे इस चीज को

dekhiye jo abhi bhi nahi samajh saka zindagi ke maayne kya hain toh vaah light me shayad hi kabhi samajh sake aap toh kaafi logo ko ek virus nahi kaafi logo ko uski insaan ke ka aukat yaad dilati hai ki asli me value kya hai aur bahut saare jo aisa sochte the paisa paise paise ke peeche bhag rahe the vaah saare aise logo ko rilaij bhi hua hai ki baki me zindagi me in sab chijon ka itne maayne nahi hai jitna hone diya tha ab logo ke gharon me band hai badi badi gadiyan cheezen ashok ram sab kuch band hai aur gharon me hi hai waise hi aam zindagi ji rahe hain jaise vaah log toh kaafi logo ko samajh me aaye hain aur mujhe bahut accha laga ki lo moral value asal zindagi kya hai kuch ghar me rahkar samajh me I hai kyonki shayad hi kisi ki life me aisa time aaye ho ki usko pura din ghar par rehna pade karne ke liye koi bahut accha kuch logo ke liye bahut accha eksaplens raha hai jo log abhi bhi saman samay nahi paa rahe shayad hi vaah zindagi me kabhi samajh payenge is cheez ko

देखिए जो अभी भी नहीं समझ सका जिंदगी के मायने क्या हैं तो वह लाइट में शायद ही कभी समझ सके आ

Romanized Version
Likes  293  Dislikes    views  2818
WhatsApp_icon
user

Hemant Yadav

Yoga Instructor

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो एकदम सत्य है कि कोरोनावायरस गरीबी अमीरी जात पात जाति धर्म नहीं देखता है लेकिन आप का सवाल है अमीर अभी भी सोच रहा है कहां से पैसा भर यह सही है क्या नहीं उनकी सोच उनके ही पास रखिए और अपनी सोच तो यह होना चाहिए करवाना से कैसे बचें और बचा है इसी में पूरा ध्यान लगा होना चाहिए और ठीक होगा

yah toh ekdam satya hai ki coronavirus garibi amiri jaat pat jati dharm nahi dekhta hai lekin aap ka sawaal hai amir abhi bhi soch raha hai kaha se paisa bhar yah sahi hai kya nahi unki soch unke hi paas rakhiye aur apni soch toh yah hona chahiye karwana se kaise bache aur bacha hai isi me pura dhyan laga hona chahiye aur theek hoga

यह तो एकदम सत्य है कि कोरोनावायरस गरीबी अमीरी जात पात जाति धर्म नहीं देखता है लेकिन आप का

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  2114
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:24
Play

Likes  586  Dislikes    views  4905
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टी मनुष्य का जिला सिरसा होता है काफी हद तक पर डिपेंड करता है किस तरह सदन पूजा करता क्योंकि मनुष्य की प्रकृति है जग में क्या लेकर जाओगे एक अच्छा ऐसा बिल्कुल नहीं चालू करते हैं तो आपके जीवन में खुशहाली और जीवन में जो आप एग्जांपल दीजिए हमारे और उन कार्यक्रमों समझ पाते तो निश्चित रूप से हम अमीर और गरीब के बीच का जो आई है इसको खासियत

T manushya ka jila sirsa hota hai kaafi had tak par depend karta hai kis tarah sadan puja karta kyonki manushya ki prakriti hai jag me kya lekar jaoge ek accha aisa bilkul nahi chaalu karte hain toh aapke jeevan me khushahali aur jeevan me jo aap example dijiye hamare aur un karyakramon samajh paate toh nishchit roop se hum amir aur garib ke beech ka jo I hai isko khasiyat

टी मनुष्य का जिला सिरसा होता है काफी हद तक पर डिपेंड करता है किस तरह सदन पूजा करता क्योंकि

Romanized Version
Likes  458  Dislikes    views  4526
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि करो ना वायरस एक ऐसा वायरस है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक भी सोच रहा शामिल होंगे जो अभी भी दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में भी लूटने की फितरत है लोगों की लूटपाट करने की भ्रष्ट लोग हैं भाग्यशाली दुर्भाग्य है इस देश का कि जहां लोगों के इमोशन आया और बीमारी में भी शोषण करते हैं आप क्या कर सकते हैं आप इसके शिकार बनने से बच्चा और उम्मीद है कि आप ऐसा नहीं करेंगे

aapka prashna hai ki karo na virus ek aisa virus hai jo garib aadmi amir aadmi sab ke liye khataranaak bhi soch raha shaamil honge jo abhi bhi durbhagyapurn sthiti me bhi lutane ki phitarat hai logo ki lutpat karne ki bhrasht log hain bhagyashali durbhagya hai is desh ka ki jaha logo ke emotion aaya aur bimari me bhi shoshan karte hain aap kya kar sakte hain aap iske shikaar banne se baccha aur ummid hai ki aap aisa nahi karenge

आपका प्रश्न है कि करो ना वायरस एक ऐसा वायरस है जो गरीब आदमी अमीर आदमी सब के लिए खतरनाक भी

Romanized Version
Likes  507  Dislikes    views  4727
WhatsApp_icon
user

Sujatha Sharma

Psychologist & Social Worker

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए करो ना वायरस एक ऐसे रूप में हम सबके सामने आया है जहां पर अमीर और गरीब दोनों बराबर आ गए हैं जिनके पास बहुत पैसा है वह भी आज घर में बैठे हैं और जिनके पास नहीं है वह भी घर में बैठे हैं और दोनों को ही एक रूप में इस बीमारी ने लाकर खड़ा कर दिया है और यह इंसान को सोचने का समय दिया है कि इस वक्त पर पैसा भी जो है वह बहुत काम आने वाला नहीं है सामान्य रूप से धन जीवन के लिए आवश्यक है लेकिन इस वक्त पर आप कितना भी पैसा देकर अपने जीवन को लौटा नहीं सकते हैं तो इसलिए हमें उतना ही संख्या करना चाहिए जितना कि हमारे जीवन के लिए आवश्यक है और उससे ज्यादा अधिक धन संचय करना हो गया बहुत सारी मटेरियल चीजों इकट्ठा करना वह सारी चीजें जो है वह पृथ्वी पर एक उसी के कारण स्थिति पर एक बहुत बोझ भी बन गया था एक बहुत बाहर भी हो गया था जो कि इंसान को यह सोचने का समय मिला है कि हम ट्रेवल लाइट बहुत ही हल्का होकर अपना जीवन व्यतीत करें

dekhiye karo na virus ek aise roop me hum sabke saamne aaya hai jaha par amir aur garib dono barabar aa gaye hain jinke paas bahut paisa hai vaah bhi aaj ghar me baithe hain aur jinke paas nahi hai vaah bhi ghar me baithe hain aur dono ko hi ek roop me is bimari ne lakar khada kar diya hai aur yah insaan ko sochne ka samay diya hai ki is waqt par paisa bhi jo hai vaah bahut kaam aane vala nahi hai samanya roop se dhan jeevan ke liye aavashyak hai lekin is waqt par aap kitna bhi paisa dekar apne jeevan ko lauta nahi sakte hain toh isliye hamein utana hi sankhya karna chahiye jitna ki hamare jeevan ke liye aavashyak hai aur usse zyada adhik dhan sanchaya karna ho gaya bahut saari material chijon ikattha karna vaah saari cheezen jo hai vaah prithvi par ek usi ke karan sthiti par ek bahut bojh bhi ban gaya tha ek bahut bahar bhi ho gaya tha jo ki insaan ko yah sochne ka samay mila hai ki hum travel light bahut hi halka hokar apna jeevan vyatit kare

देखिए करो ना वायरस एक ऐसे रूप में हम सबके सामने आया है जहां पर अमीर और गरीब दोनों बराबर आ

Romanized Version
Likes  406  Dislikes    views  3541
WhatsApp_icon
user

Bk Ashok Pandit

आध्यात्मिक गुरु

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने इस प्रश्न में बताया कि आमिर अपनी सोच रहे हैं कि कहां से पैसा भर लो देखो अभी आने वाला समय ऐसा आएगा जिसमें पैसा किसी भी काम में नहीं आ सकता है सरकमस्टेंस ऐसा बन जाए गरीब अमीर सब समान हो जाएंगे आप प्रकृति के हैं या आपको धरती क्योंकि यह समय ही ऐसा हरे को यह शिक्षा देना चाहता है कि यहां पर किसी प्रकार के भेदभाव ना रखें जीवन जीने के लिए सप्ताह समान अधिकार है लेकिन अपने स्वार्थ अल कालीन इच्छाओं के कारण तो हर एक का भरा हुआ है चाहे गरीब है अमीर है लेकिन अधिक अमीर लोग पेट नहीं पेटी भरने के लिए लगे हुए हैं एक इच्छा पूर्ण होता है दूसरी इच्छा इच्छा पता लग चुका है और इसलिए इच्छा कभी खत्म नहीं होती है और पेटी कभी भर्ती नहीं है इसलिए समय ऐसा अभी समय में फंसे शिक्षा दिया है और आने वाला समय भी और शिक्षा देंगे के लोग चाय गरीब है अमीर हैं जो वास्तविकता से दूर हो चुका है अपने वास्तविकता को अपनाने के लिए मजबूर हो जाएंगे ऐसी मेरी मान्यता है धन्यवाद

aapne is prashna me bataya ki aamir apni soch rahe hain ki kaha se paisa bhar lo dekho abhi aane vala samay aisa aayega jisme paisa kisi bhi kaam me nahi aa sakta hai sarakamastens aisa ban jaaye garib amir sab saman ho jaenge aap prakriti ke hain ya aapko dharti kyonki yah samay hi aisa hare ko yah shiksha dena chahta hai ki yahan par kisi prakar ke bhedbhav na rakhen jeevan jeene ke liye saptah saman adhikaar hai lekin apne swarth al kaleen ikchao ke karan toh har ek ka bhara hua hai chahen garib hai amir hai lekin adhik amir log pet nahi peti bharne ke liye lage hue hain ek iccha purn hota hai dusri iccha iccha pata lag chuka hai aur isliye iccha kabhi khatam nahi hoti hai aur peti kabhi bharti nahi hai isliye samay aisa abhi samay me fanse shiksha diya hai aur aane vala samay bhi aur shiksha denge ke log chai garib hai amir hain jo vastavikta se dur ho chuka hai apne vastavikta ko apnane ke liye majboor ho jaenge aisi meri manyata hai dhanyavad

आपने इस प्रश्न में बताया कि आमिर अपनी सोच रहे हैं कि कहां से पैसा भर लो देखो अभी आने वाला

Romanized Version
Likes  129  Dislikes    views  1128
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!