योग क्या है?...


user

kuldeep mod

Yoga Instructor

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग का अर्थ होता है जुड़ना आत्मा को परमात्मा के साथ जोड़ना यह योग कहलाता है दूसरा बहुत से ऋषि-मुनियों ने बहुत से विद्वानों ने योग के अलग-अलग परिभाषा दी है जिनमें श्रीमद्भगवद्गीता में परिभाषा आती है कुछ लोग आता है दूसरे अध्याय का 48 वां श्लोक योगिता कुरु कर्माणि संगम केंदुआ धनंजय सिद्धि सिद्धि और समूह पुथरा समत्वम योगा उच्चतर भगवान श्री कृष्ण को शास्त्र विहित कर्म कर्म को आसक्ति से रहित होकर के कर्म पर अनासक्त कर्म कर और जो व्यक्ति की समान अवस्था में रहता है समर्थ व्यवस्था में रहता है उसी कोई योगी का वेतन समान अवस्था में रहना ही योग कहलाता है दूसरा महेशी पतंग योग की परिभाषा देते हैं महर्षि पतंजलि करते हैं कि योगश्चित्त वृत्ति निरोध मतलब अपने चित्त की वृत्तियों का निरोध कर लेना ही योग चित्र को बाहरी विषयों से हटाकर अंतर्मुखी कल नहीं योग कहलाता शिव संहिता नागरिक संहिता में योग की परिभाषा होती है शिव शक्ति का मिलन ही योग है गायत्री परिवार के संस्थापक और युग ऋषि पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य का कहना है कि योग जीवन जीने की एक कला है इस प्रकार अलग-अलग विद्वानों ने योग की परिभाषा को अलग-अलग रूप से योग को परिभाषित किया है

yog ka arth hota hai judna aatma ko paramatma ke saath jodna yah yog kehlata hai doosra bahut se rishi muniyon ne bahut se vidvaano ne yog ke alag alag paribhasha di hai jinmein shrimadbhagavadgita me paribhasha aati hai kuch log aata hai dusre adhyay ka 48 va shlok yogita kuru karmani sangam kenduaa dhananjay siddhi siddhi aur samuh puthra samatwam yoga uchatar bhagwan shri krishna ko shastra vihit karm karm ko aasakti se rahit hokar ke karm par anasakt karm kar aur jo vyakti ki saman avastha me rehta hai samarth vyavastha me rehta hai usi koi yogi ka vetan saman avastha me rehna hi yog kehlata hai doosra maheshi patang yog ki paribhasha dete hain maharshi patanjali karte hain ki yogashchitt vriti nirodh matlab apne chitt ki vrittiyon ka nirodh kar lena hi yog chitra ko bahri vishyon se hatakar antarmukhi kal nahi yog kehlata shiv sanhita nagarik sanhita me yog ki paribhasha hoti hai shiv shakti ka milan hi yog hai gayatri parivar ke sansthapak aur yug rishi pandit shriram sharma aacharya ka kehna hai ki yog jeevan jeene ki ek kala hai is prakar alag alag vidvaano ne yog ki paribhasha ko alag alag roop se yog ko paribhashit kiya hai

योग का अर्थ होता है जुड़ना आत्मा को परमात्मा के साथ जोड़ना यह योग कहलाता है दूसरा बहुत से

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  114
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!