भगवान शंकर का पिता कौन था?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान शंकर का पिता कौन है भगवान शंकर का पिता स्वयं कहते हैं वह स्वयंभू हैं अपने आप इनका जन्म हुआ है यह शक्ति है और उस शक्ति को स्वयं उत्पन्न हुई है संसार में हीलियम को स्वयंभू नाम लिया जाता है उनका पिता कौन है जो बताना असंभव है

bhagwan shankar ka pita kaun hai bhagwan shankar ka pita swayam kehte hain vaah sayambhu hain apne aap inka janam hua hai yah shakti hai aur us shakti ko swayam utpann hui hai sansar me helium ko sayambhu naam liya jata hai unka pita kaun hai jo batana asambhav hai

भगवान शंकर का पिता कौन है भगवान शंकर का पिता स्वयं कहते हैं वह स्वयंभू हैं अपने आप इनका जन

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  326
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान शंकर का पिता कौन है भगवान शंकर का पिता किसे कहते हैं ज्योति निरंजन और हर पुरुष भी कहते हैं भागवत गीता में ब्रह्म भी कहते हैं और अपना नाम भी भागवत गीता में बताया है मैं बड़ा हुआ महाकाल हूं यह बोला है यही इनका पीता है भगवान शंकर का हम प्रमाण भी बताते हैं कि अध्याय 14 गीता के अध्याय 14 इस लोक 4 में गीता ज्ञान देने वाला कह रहे हैं कि है अर्जुन नाना प्रकार की सब योनियों में जितनी मूर्तियां अर्थात शरीर धारी प्राणी उत्पन्न होते हैं मतलब जितना भी शरीर धारी प्राणी यह संसार में उत्पन्न हुआ है जन्म लिया है 5959 माता प्रकृति है यानी दुर्गा माता है वही गरबा का स्थान हां हां और उस गर्भम mi20 जानने वाला ना पीता हूं बीज स्थापन करने वाला मन पीता हूं यह बोला है और बोला है है अर्जुन सद्गुण रजोगुण और तमोगुण यह प्रकृति से उत्पन्न हुए हैं प्रकृति मतलब दुर्गा माता ने इसको जन्म दिए हैं और सद्गुण राजगुरु क्या है इसको हम और प्रमाण बताते हैं मार्कंडेय पुराण में बताया है कि सद्गुण राजदूत कौन है श्री मार्कंडेय पुराण सच्ची प्रमोटर टाइप गीता प्रेस गोरखपुर से प्रकाशित के 123 123 पृष्ठ पर कहां है कि है कि का हल्की राजगोर ब्रह्माजी सद्गुण विष्णु जी और तमोगुण तमकुर शंकर जी यह ब्रह्म की प्रधान शक्तियां हैं यही तीन देवता है यही तीन गुण है तो यह सद्गुण रजोगुण ब्रह्मा विष्णु शंकर है यह एक परमान हो गया और दूसरा प्रमाण भी बताते हैं श्री देवी महापुराण संस्कृत संस्कृत व हिंदी अनुवाद श्री खेतेश्वर प्रेस मुंबई से प्रकाशित में तीसरे स्कंध में अध्याय 5 श्लोक 8 में लिखा है कि शंकर भगवान बोले हे माता है यदि आप हम पर डालो हम तो मुझे तमोगुण ब्रह्मा रजोगुण तथा विष्णु सतोगुण युक्ता क्यों किया आप सुनिए सद्गुण रजोगुण और तमोगुण कौन हैं आप खुद फैसला कर सकते हैं खुद देख सकती हूं इस पर इस फरमान को कि सद्गुरु रजोगुण तमोगुण ब्रह्मा विष्णु शंकर है और काल निरंजन भगवान ज्योति निरंजन भगवान शंकर भगवान का पिता है हम प्रमाण सहित बता रहे हैं आप खुद खोल कर देख सकते हैं समझ सकते हैं अपने वेदों को

bhagwan shankar ka pita kaun hai bhagwan shankar ka pita kise kehte hain jyoti niranjan aur har purush bhi kehte hain bhagwat geeta me Brahma bhi kehte hain aur apna naam bhi bhagwat geeta me bataya hai main bada hua mahakal hoon yah bola hai yahi inka pita hai bhagwan shankar ka hum pramaan bhi batatey hain ki adhyay 14 geeta ke adhyay 14 is lok 4 me geeta gyaan dene vala keh rahe hain ki hai arjun nana prakar ki sab yoniyon me jitni murtiya arthat sharir dhari prani utpann hote hain matlab jitna bhi sharir dhari prani yah sansar me utpann hua hai janam liya hai 5959 mata prakriti hai yani durga mata hai wahi garba ka sthan haan haan aur us garbham mi20 jaanne vala na pita hoon beej sthapan karne vala man pita hoon yah bola hai aur bola hai hai arjun sadgun rajogun aur tamogun yah prakriti se utpann hue hain prakriti matlab durga mata ne isko janam diye hain aur sadgun raajguru kya hai isko hum aur pramaan batatey hain markandey puran me bataya hai ki sadgun rajdut kaun hai shri markandey puran sachi promoter type geeta press gorakhpur se prakashit ke 123 123 prishth par kaha hai ki hai ki ka halki rajgor brahmaji sadgun vishnu ji aur tamogun tamkur shankar ji yah Brahma ki pradhan shaktiyan hain yahi teen devta hai yahi teen gun hai toh yah sadgun rajogun brahma vishnu shankar hai yah ek pramaan ho gaya aur doosra pramaan bhi batatey hain shri devi mahapuran sanskrit sanskrit va hindi anuvad shri kheteshwar press mumbai se prakashit me teesre skandha me adhyay 5 shlok 8 me likha hai ki shankar bhagwan bole hai mata hai yadi aap hum par dalo hum toh mujhe tamogun brahma rajogun tatha vishnu satogun yukta kyon kiya aap suniye sadgun rajogun aur tamogun kaun hain aap khud faisla kar sakte hain khud dekh sakti hoon is par is farman ko ki sadguru rajogun tamogun brahma vishnu shankar hai aur kaal niranjan bhagwan jyoti niranjan bhagwan shankar bhagwan ka pita hai hum pramaan sahit bata rahe hain aap khud khol kar dekh sakte hain samajh sakte hain apne vedo ko

भगवान शंकर का पिता कौन है भगवान शंकर का पिता किसे कहते हैं ज्योति निरंजन और हर पुरुष भी कह

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  221
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!